सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

परिधि शर्मा की कहानी "एक साधारण आदमी की मौत"



  • कहानी "एक साधारण आदमी की मौत"  में छत्तीसगढ़ के जनजीवन का जीवंत चित्रण है।आज भी वहां की बड़ी आबादी सब्जियों के लघु व्यापार में संलग्न है और इस लघु व्यापार में संलग्न लोग जो मुख्यतः श्रमिक वर्ग से आते हैं, वहां से गुजरने वाली लोकल पैसेंजर गाड़ियों का उपयोग करते हैं।ये लोकल गाड़ियां ऐसे श्रमिक वर्ग के लिए जीवन रेखा की तरह हैं जिसमें कोई संभ्रांत आदमी कभी बैठ जाए तो वह इन श्रमिकों के प्रति तिरस्कार का भाव व्यक्त करने से नहीं रह पाता। कहानी में वर्गभेद को लेकर एक महीन सी रेखा लेखिका ने खींचने की कोशिश करी है। 
  • मूलतः व्यक्ति अपने बचपन या किशोरावस्था में मानवीय संवेदनाओं से परिपूर्ण रहता है। इस कहानी में प्रशांत नामक युवक के चरित्र से भी लगता है कि कभी वह भी अपने बचपन और अपनी किशोरावस्था में मानवीय संवेदनाओं से परिपूर्ण रहा होगा पर जैसे-जैसे जीवन में वह आगे बढ़ता है, नौकरी करने के उपरांत  सुख सुविधाओं से लैस होकर अपना जीवन जीने लगता है तो दूसरों के प्रति सोचने समझने , उनकी चिंता करने के लिए उसके जीवन में कोई जगह नहीं है। जीवन की आपाधापी में वह खुद में ही सिमट कर अपना जीवन जीने लगता है। फिर अचानक माखन कुमार बारीक नामक एक साधारण से आदमी की मृत्यु के बाद , जिसका संबंध उसके बचपन और उसकी किशोरावस्था से है और जो उसके स्कूल के दिनों में उसके स्कूल का माली भी था , उसके भीतर लगभग सुप्त हो चुकी संवेदना अचानक उसे भीतर से कचोटने लगती है। अपनी नौकरी में व्यस्त रहते हुए भी बार-बार माखन कुमार बारिक की मौत उसे बेचैन करती है।इस बहाने यह कहानी मनुष्य के भीतर मरती हुई संवेदना के पुनर स्थापन की बात करती है।  
  • सुख सुविधा से जीवन यापन करने वाले व्यक्ति के मन में भी दूसरों के प्रति संवेदना जैसे मानवीय मूल्यों के प्रति एक आस्था होनी चाहिए , इस कहानी को पढ़ने के बाद हमारे भीतर इस तरह के विचार उत्पन्न होते हैं। कहानी की भाषा और शिल्प की बनावट सहज होते हुए भी कलात्मकता और सम्प्रेषण से परिपूर्ण है।


कहानी :  एक साधारण आदमी की मौत

【परिधि शर्मा】

----------------------------------------

शाम को देखकर लग रहा था कि अब ढली तब ढली। प्रमोद ने खिड़की से बाहर झांक कर देखा तो पाया कि ट्रेन किसी नदी के ऊपर बने पुल पर से गुजर रही थी। एक बार के लिए उसे लगा कि वह रोप वे में बैठा है। धड़ धड़ की आवाज अचानक बेहद तेज हो गई। नीचे लगभग सूख चली नदी थी जो जल प्रदूषण का अच्छा खासा प्रदर्शन कर रही थी। धड़ धड़ की आवाज कुछ ही पलों बाद नार्मल हो गई । वह रोप वे से उतर कर दोबारा ट्रेन में आ बैठा । सफर कुछ लंबा था इसलिए थोड़ा बहुत समय काटने के लिए वह चलते-चलते स्टेशन से अखबार खरीद लाया था । अखबार के एक पन्ने पर उसकी नजर गई। कोई लोकल न्यूज़ था। पन्ने के एक कोने में थोड़ी जगह घेरे हुए । खबर के साथ एक तस्वीर लगी थी जिससे वृद्ध दंपति की मुस्कुराती आंखें बाहर झांक रही थीं। दोनों सावधान की मुद्रा में खड़े थे। बूढ़े ने कमर से घुटनों तक सफेद मटमैली धोती पहन रखी थी और उसका पेट कुछ अंदर को धंस गया था । बुढ़िया ने एक भूरी सूती साड़ी लपेट रखी थी। वही छत्तीसगढ़िया स्टाइल में ।काफी खुश नजर आ रहे थे दोनों । तस्वीर के ऊपर काले काले अक्षरों में लिखा था "जंगली हाथियों के चंगुल से बाल-बाल बचे पति-पत्नी।" दोनों पति-पत्नी के चेहरे से संतोष साफ झलक रहा था । उनके ठीक पीछे हाथियों द्वारा ढहा दी गई उनकी झोपड़ी के टूटे-फूटे अंश थे। उनका घर टूट चुका था फिर भी वे खुश थे क्योंकि वे बच गए थे और उनका फोटो खींचा जा रहा था । 


"किसी पत्रकार की करामात होगी"- वह मन ही मन मुस्कुराया। 

तभी उसे याद आया कि जाते-जाते मां उससे कुछ कह रही थी पर ट्रेन चलने लगी थी और शोरगुल में वह सुन नहीं पाया था। क्या कह रही होगी मां? होगा कुछ। मां का तो काम ही यही है। जब देखो कुछ ना कुछ हिदायत देती रहती है। खाना ठीक से खाना---- फलाना-- ढिकाना । ये औरतों को तो लगता है बस रोना धोना और चिंता करना ही आता है और अचानक उसे  उसी के बिल्डिंग की अंजू याद आ गई जिससे पंजा लड़ाओ  प्रतियोगिता में वह दो बार हार चुका था और सबके सामने उसकी फट गई थी। साली अंजू मोटी पता नहीं कितना खाती है, सांड कहीं की! वह खीझ सा गया। 


तभी ट्रेन रुकी। बिलासपुर स्टेशन था। ट्रेन रुक रुक कर रुकी। एक दो तीन  और ये लगा ढक्कास ! चार झटके खा कर रुकी ट्रेन। और उसके रुकते ही यात्रियों का एक झुंड उस में घुसा। आखिर कौन थे ये यात्री? आखिर थे कौन? कोई मंत्री नहीं, कोई फिल्म वाले नहीं, कोई डाकुओं का गैंग नहीं बल्कि ये वे यात्री थे जो हर रोज सब्जी मंडी में सब्जियां बेचते थे । सबसे पहले एक बुढ़िया अंदर घुसी। हरी सूती साड़ी में लिपटी एक बुढ़िया। वही छत्तीसगढ़िया देहाती स्टाइल । और वह घुसी तो अपने साथ एक नीम के फूलों से भरी बोरी अंदर घसीटते हुए, जिसके छिद्रों से कुछ सफेद फूल बाहर झांक रहे थे। उस बुढ़िया के पीछे पीछे दो और औरतें अंदर घुसीं और सीधे प्रमोद के सामने वाली सीट पर विराजमान हो गयीं। उनके पीछे पीछे एक आदमी घुसा। लूंगी को घुटनों तक मोड़कर पहने इस आदमी की आंखें नींद के मारे लाल थीं। वह आते ही प्रमोद के बगल में बैठ गया। धम्म! उसके पीछे पीछे और भी लोग आए जो उन्हीं की मंडली के जान पड़ रहे थे । और देखते देखते पूरे डिब्बे में बदबू फैल गई। पसीने की गंध की। श्रमिकों के गंध की। अचानक से एक साथ आ घुसने वाले इन रोज के यात्रियों के गंध की। कुछ समय बाद ट्रेन चलने लगी। छुक छुक छुक। रेलगाड़ी। छुक छुक। डिब्बे की शांति दुम दबाकर कहीं भाग गई थी। उसकी जगह औरतों की तेज आवाजों ने ले ली थी। शुद्ध छत्तीसगढ़िया देहाती औरतें। धुर देहाती भाषा वाली। डिब्बे में संसद भवन जैसा वातावरण छा गया। इस बीच सामने बैठी औरत ने अपने झोले से कुछ निकाला। ब्रेड का एक पैकेट और फिर एक प्लेट। और फिर दो टमाटर और एक हरी मिर्च और नमक के एक पैकेट से थोड़ा नमक। प्रमोद ने कनखियों से देखा। टमाटरों को नमक के साथ प्लेट में मसल दिया गया। मिर्च का भी यही हश्र हुआ। उसे बड़ा अजीब सा लगा जब उसने दो औरतों को टमाटर के झोल में डुबो डुबोकर ब्रेड खाते देखा । उनकी बगल में बैठी एक बुढ़िया ककड़ी खा रही थी। 

"कहां आ फंसे यार"- सांस लेने के लिए वह खिड़की के बाहर देखने लगा । ठंडी ठंडी हवा चल रही थी। उसकी आंख लगने लगी। वह सोने ही वाला था कि ट्रेन रुकने लगी। एक दो तीन  और ये  लगा ढक्कास ! वह झुंझलाता हुआ सीधे बैठ गया । "अच्छी भली तो चल रही थी अब क्या हो गया?" कोई स्टेशन तो नहीं है यहां कि इस ड्राइवर ससुरे को ट्रेन रोकने की पड़ी है । आखिर यह थी तो भारत की लोकल छाप पैसेंजर ट्रेन । वह मन ही मन खुद को कोस्टा रहा। थोड़ा जल्दी आता तो एक्सप्रेस में बैठकर आता। अब घिसट घिसट कर चलना तो पड़ेगा ही। 


बाहर हल्ला मचा था। पता चला जंजीर खींच दी गई थी। वजह  यह थी कि  किसी आदमी ने चलती ट्रेन से छलांग लगा दी थी और उसकी लाश खून से लथपथ होकर बगल की पटरी पर पड़ी थी। काफी समय भी लग सकता था । आखिर वह पुलिस केस था । पुलिस केस है, यही सोचकर वह अपनी जगह से टस से मस भी ना हुआ। उसे लेना देना भी क्या था? पुलिस उम्मीद से पहले आ गई। मामला आनन-फानन में निपटाया गया और ट्रेन चल पड़ी। प्रमोद को तो जल्दी से घर पहुंचना था । कौन मरा कौन जिया इससे उसका क्या वास्ता! वह काफी परेशान हो गया । एक तो इन सब्जी वालों ने डिब्बे में घुसकर सारा माहौल खराब कर दिया था, ऊपर से ट्रेन थी कि जल्दी चलने का नाम ही नहीं ले रही थी। 


खैर किसी तरह मर मर के पहुंच ही गए.. अरे वहीं जहां पहुंचना था। रात के करीब 10:30 बजने को आए थे। मेन गेट अंदर से बंद था। उसने बाहर से खटखटाया। टनटन। मानो उसने कोई सवाल पूछा। अंदर से फौरन जवाब आया - भौं भौं! झबरीले काले बालों वाला विदेशी नस्ल का जेरी जो कि सभी का चहेता था अचानक सतर्क हो गया था । कुछ ही देर में चौकीदार ने आकर गेट खोल दिया और वह अपने कमरे की तरफ ऐसे लपका मानो उसे अभी अभी पता चला था कि कमरे में चोर घुस आए हैं । खैर कमरे में कोई चोर ओर नहीं था ।एवरीथिंग वास एज सेफ एज इट यूज्ड टू बी । 


खाना वह स्टेशन के हॉटेल से खाकर आया था। जूते उतार कर सीधे पलंग में जा धंसा। ना मुंह धोना ना हाथ। उसके बाद उठा तो सीधे अगली सुबह ।वह भी कुछ देर से। 


जल्दी-जल्दी दफ्तर पहुंचना था। ये ब्रश किया ।ये नहाया धोया। ये कपड़े पहने और हो गए तैयार । नाश्ता तो खैर बाहर भी किया जा सकता था तो फटाफट भग लिए मियां ऑफिस को ।


ऑफिस में फिर से वही जाने पहचाने चेहरे, जाना पहचाना काम, जानी पहचानी दिनचर्या ! सामने बैठा मेहता न्यूज़पेपर पलट रहा था। दुआ सलाम करके वह भी आ गया। गप्पेबाजी चालू हो गई ।अखबार का लोकल पन्ना पलटते ही उसे जानी पहचानी सी खबर मिल गई। किसी युवक ने चलती ट्रेन से कूद कर खुदकुशी कर ली थी । कोई पचास साल का बुड्ढा था या कहो जवान था। अज्ञात कारणों से उसने खुदकुशी की थी ।उसका नाम पढ़ कर एक बार तो उसे याद ही नहीं आया फिर अचानक लगा कि शायद वह उसे जानता है । "माखन कुमार बारिक" थोड़ा अजीब सा नाम था । वह शायद हंसा भी करता था इस नाम पर कभी। धीरे-धीरे याद आता गया । जब वह मां मरियम की प्रतिमा के बगल में उगाए गेंदे के फूल चुरा रहा था उसे इसी माखन कुमार बारिक ने पकड़ लिया था और फिर छोड़ भी दिया था और उसे फूल चुराने की इजाजत भी दे दी थी । हालांकि चर्च के आगे पीछे ढेरों खूबसूरत फूल सलीके से लगे हुए थे पर वे सभी फूल चर्च को घेरकर खड़ी बाउंड्री के उस पार से भी बड़ी आसानी से देखे जा सकते थे और चर्च के सामने बनी मां मरियम की बगल के पीले पीले गेंदे अपेक्षाकृत छिपे हुए थे। पर फिर भी बदकिस्मती से वह पकड़ा गया था और उसे पकड़ा था स्कूल के माली माखन कुमार बारिक ने । पर शुकर था कि वह माली भला निकला। वरना सिस्टर के पास, अरे वही उनके स्कूल की प्रिंसिपल मैडम , उसके पास ले जाने पर मार मार के वह उसकी चमड़ी लाल कर देती। सुना था कि वह नशेड़ी भी थी। उसके बारे में स्कूल के बच्चे यह खुसर फुसर भी करते रहते कि वह खरगोश का मांस खाती थी। उनके स्कूल के पार्क में फुदक रहे सफेद सफेद खरगोश जो कि बाहर से मंगाए जाते थे अचानक कैसे गायब हो जाते ? इसका राज वह खूब जानती होगी। वैसे थी वह बड़ी खूंखार ! किसी बच्चे को मारना होगा तो अच्छी खासी छड़ी मंगवाती और अच्छी खासी से उसका मतलब होता कि वह छढ़ी मजबूत तो हो पर कांटेदार भी हो। बड़ी सनकी थी वह बुड्ढी। 


उस खड़ूस औरत का ख्याल आते ही वह एक बार के लिए डर गया। एक बार के लिए ही सही। पर डर तो गया। पता नहीं किस तरह की औरत थी वह, हर किसी से नफरत करती थी इसलिए हर किसी को नापसंद भी थी। उस माखन कुमार बारिक को भी जो प्रायः उससे बिना वजह डांट खाता रहता। गेंदे तोड़ने से उसने प्रमोद को संभवतः इसलिए मना नहीं किया होगा क्योंकि शायद वह उस बुढ़िया से बदला लेना चाहता था और वह अच्छी तरह से जानता था कि उस औरत के पास ले जाने पर वह प्रमोद की क्या हजामत बनाती। 


खैर उसी दिन से माखन कुमार से उसकी अच्छी खासी दोस्ती हो गई थी। पर उस दोस्ती को तो एक जमाना बीत गया था। विद्यालय छोड़े तो उसे कई वर्ष बीत चुके थे और अब तो वह डिग्री लेकर अच्छी नौकरी भी करने लगा था । 


माखन कुमार शराब पीता हो, ऐसा उसने कभी सुना नहीं था। दिल का भी वह काफी अच्छा था ।बागवानी भी बड़ी अच्छी कर लेता था पर उसने आत्महत्या कैसे कर ली? भगवान जाने क्या हुआ होगा? अखबार में तो कुछ खास बताया नहीं गया था और वह खुद जाकर तहकीकात करे इसकी कोई गुंजाइश नहीं थी । उसकी रोजमर्रा की जिंदगी में क्या कम समस्याएं हैं जो वह उस माखन कुमार की खैर ले । फिर पुलिस के पचड़े में पड़ गया तो? पर एक प्रश्न फिर भी था जो उसके मन में उथल-पुथल मचा रहा था । आखिर उसने आत्महत्या क्यों की होगी? मेहता के आसपास और लोग भी जमा हो गए थे ।बड़े साहब को आता देख सब अपने-अपने काम में लगने लगे। वह भी फटाक से उठकर अपने काम में लग गया। 


फिर भी एक प्रश्न था उसके मन में जो उसके गले में सुई की तरह चुभ रहा था। आखिर उसने आत्महत्या क्यों की होगी? इस प्रश्न के जवाब में उसके पास आखिर था ही क्या? सिर्फ इतना ही तो कि उसे इन सब से क्या ?आखिर ऐसे कितने ही मरने वाले हैं और जब आदमी एक दिन में बदल सकता है तो इतने वर्षों में माखन कुमार भी तो बदल गया होगा।  हो सकता है कि उसने पीना शुरु कर दिया हो ---- हो सकता है कि उसने विद्यालय की नौकरी छोड़ दी हो और बेरोजगार हो गया हो---- हो सकता है उसने जुआ खेलते हुए किसी का बहुत सारा कर्ज ले लिया हो । कुछ भी हो सकता है । आखिर वह क्यों इसकी फिक्र करे? उसने विभिन्न तर्कों से खुद को कुछ हद तक संतुष्ट तो कर लिया पर कुछ तो था कि उसे इसके बावजूद भी काफी अजीब अजीब सा लग रहा था। 


शायद इसलिए क्योंकि वह उसी ट्रेन में सफर कर रहा था जिस ट्रेन से माखन कुमार ने कूदकर जान दी थी। शायद इसलिए भी कि माखन कुमार को आखरी दफा देख पाने के अवसर को वह खो आया था । शायद इसलिए भी क्योंकि माखन कुमार ने एक बार फिर उसे विद्यालय के दिन याद दिला दिए थे। शायद इसलिए भी कि वह फिर कभी विद्यालय के चर्च के सामने खड़ी मां मरियम की मूर्ति की बगल के पीले गेंदे नहीं चुरा पाएगा और फिर कभी उसे स्कूल का माली आ कर नहीं पकड़ेगा। शायद इसलिए भी कि आज उसने जिंदगी और मौत के चेहरों को जरा और करीब से देखा था । शायद इसलिए भी कि उसमें बचपन की वह कोमलता लौट आई थी जिसके बल पर वह माखन कुमार बारिक और खुद में भेदभाव नहीं कर पाता था । शायद इसलिए भी कि जीवन की आपाधापी में उसकी मर चुकी संवेदना उस वक्त पुनः जीवित हो उठी थी । 


खैर इतना सोचने का वक्त उसके पास नहीं था। उसे तो अपने काम में लग जाना था। उसी जानी पहचानी दिनचर्या को पूरा करना था । भागना था। दौड़ना था। दोस्तों मित्रों के साथ गप्पें लड़ाना था। और फिलहाल तो शाम के पांच बजे तक ऑफिस में बैठे-बैठे ढेरों काम निपटाना था। वह काम में लग तो गया पर फिर भी क्या तो था कि उसे सारा दिन काफी अजीब अजीब सा लगता रहा।

----------------------

92 , श्रीकुंज , बोईरदादर,  रायगढ़  (छत्तीसगढ़)

टिप्पणियाँ

  1. कहानी पढ़ने के बाद लगा कि माखन कुमार बारीक जैसे साधारण आदमी की मौत को लेकर हम आज कितने उदासीन होकर रह गए हैं। कथा लेखिका ने मनुष्य की उस उदासीनता को जगाने की कोशिश की है। मरती हुई संवेदना को लेकर यह कहानी संवाद करती है जो अत्यन्त महत्वपूर्ण है। इस कहानी ने भाषा, कथ्य और शिल्प के स्तर पर प्रभावित किया है।

    जवाब देंहटाएं
  2. परिधि की लिखी यह कहानी तेजी से सुप्त होती जा रही मानवीय संवेदना को कुरेदने वाली कहानी है। कहानी मार्मिकता से भरपूर है जो अपने को एकसुर में पढ़वा लेती है। कहानी का भाषा शिल्प भी उम्दा है

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च