सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ज्ञान प्रकाश विवेक, तराना परवीन, महावीर राजी और आनंद हर्षुल की कहानियों पर टिप्पणियां


◆ज्ञानप्रकाश विवेक की कहानी "बातूनी लड़की"

(कथादेश सितंबर 2023)

उसकी मृत्यु के बजाय जिंदगी को लेकर उसकी बौद्धिक चेतना और जिंदादिली अधिक देर तक स्मृति में गूंजती हैं। 

~~~~~~~~~~~~~~~~~

ज्ञान प्रकाश विवेक जी की कहानी 'शहर छोड़ते हुए' बहुत पहले दिसम्बर 2019 में मेरे सम्मुख गुजरी थी, नया ज्ञानोदय में प्रकाशित इस कहानी पर एक छोटी टिप्पणी भी मैंने तब लिखी थी।

लगभग 4 साल बाद उनकी एक नई कहानी 'बातूनी लड़की' कथादेश सितंबर 2023 अंक में अब पढ़ने को मिली। बहुत रोचक संवाद , दिल को छू लेने वाली संवेदना से लबरेज पात्र और कहानी के दृश्य अंत में जब कथानक के द्वार खोलते हैं तो मन भारी होने लग जाता है।

अंडर ग्रेजुएट की एक युवा लड़की और एक युवा ट्यूटर के बीच घूमती यह कहानी, कोर्स की किताबों से ज्यादा जिंदगी की किताबों पर ठहरकर बातें करती है। इन दोनों ही पात्रों के बीच के संवाद बहुत रोचक,बौद्धिक चेतना के साथ पाठक को तरल संवेदना की महीन डोर में बांधे रखकर अपने साथ वहां तक ले जाते हैं जहां कहानी अचानक बदलने लगती है।

लड़की को ब्रेन ट्यूमर होने की जानकारी जब होती है, तब न केवल उसके ट्यूटर को बल्कि पाठक को भी एक गहरा धक्का सा लगता है।कहानी की खूबी यह है कि

सारी घटनाएं बहुत स्वाभाविक लगती हैं।

जिंदगी से जुड़ी कई कहानियाँ बहुत त्रासद होती हैं पर उसको जीने वाले पात्र बहुत जिंदादिल होते हैं।वे छोटी सी जिंदगी को भी अपनी जिंदादिली से बहुत बड़ा बना देते हैं। बातूनी लड़की जैसे पात्र को बहुत खूबसूरती से ज्ञानप्रकाश विवेक जी ने गढ़ा है। उसकी मृत्यु के बजाय जिंदगी को लेकर उसकी बौद्धिक चेतना और जिंदादिली अधिक देर तक स्मृति में गूंजती हैं।कहानी मुझे अच्छी लगी।


◆तराना परवीन की कहानी "चिन्दियाँ"

(बया सितंबर 2023 अंक में प्रकाशित)

~~~~~~~~~~~~~~~~~

कालकी और भूरकी की कथा भर नहीं है यह , उन आम भारतीय किशोर उम्र की लड़कियों की कथा है जो एकदम संसाधन विहीन परिवारों से आती हैं। एक किशोर उम्र की लड़की के जीवन में माहवारी एक बायोलॉजिकल  घटना है जिसके कारण पहले पहल बहुत असहज स्थितियाँ निर्मित होती हैं।शहर से अपने गांव जाने के लिए सड़क पर किसी सवारी वाहन की प्रतीक्षा करते हुए  गरीब, संसाधन विहीन माता पिता की लड़कियों को जब इस माहवारी जैसी असहज कर देने वाली घटना का पहली बार सामना करना पड़े तो परिस्थिति जन्य एक चिन्दी के लिए भी तरसना पड़ सकता है।

माता पिता संग उन लड़कियों द्वारा एक ट्रक पर लिफ्ट लेकर सफ़र करते हुए जो दृश्य और संवाद इस कहानी में हैं बहुत भयावह  हैं। परिस्थितियां और वहाँ की घटनाएं ऐसी हैं कि पुरुषों का नग्न चरित्र एक शैतान की तरह आंखों के सामने दिखाई पड़ता है। एक चिन्दी के बदले शोषित लडकियों की यह कहानी आज के नग्न समाज की  सच्चाई बयाँ करती है।एक अच्छी कहानी के लिए तराना परवीन जी को बधाई।


◆महावीर राजी की  कहानी "अनाम सी खुशबू" 

अहा जिंदगी अगस्त 2023 अंक

~~~~~~~~~~~~~

कहानी में कथाकार ने स्त्रियों की उस मजबूरी की ओर ध्यान आकृष्ट किया है जो परिवार में उनकी ही जिम्मेदारी के बतौर परिभाषित कर दिया गया है। चाय बनानी हो, चाय को सर्व करना हो , पुरुष की नज़र में किचन का सारा काम औरत के जिम्मे ही है भले ही वह बीमार हो। ज्वर बुखार से पीड़ित होने की स्थिति में भी  इन कामों को उसे ही करना है।बीमार होने की स्थिति में अगर वह इन कामों को न करे तो उसका बीमार होना भी बहानेबाजी के बतौर ही देखा जाता है क्योंकि पुरुष की नजर में तो स्त्री कभी बीमार हो ही नहीं सकती। उसे तो बीमार होना ही नहीं चाहिए।  

एक स्त्री की मजबूरियों को एक अन्य स्त्री की नजर से जो कि एक काम वाली बाई है, देखने की कोशिश इस कहानी में की गई है।

कहानी में बुखार से बुरी तरह पीड़ित अपनी मालकिन के प्रति कामवाली बाई की संवेदना को  जिस तरह स्वाभाविक तौर पर उभारा गया है वह ध्यान आकर्षित करता है। संवेदना जब जागृत होती है तब अपने साथ त्याग और समर्पण को भी बहा कर लाती है। कामवाली बाई जो कि आमतौर पर आर्थिक रूप से विपन्न ही होती है  अगर  वह भी अपनी मासिक मजदूरी की रकम को मालकिन की बेहोशी की हालत में उसके इलाज पर खर्च कर दे तो यह घटना त्याग, समर्पण और संवेदना से संपृक्त घटना है। खर्च हुई रकम के वापस मिलने की संभावना भी कुहांसे से भरी हुई है क्योंकि सारी घटनाएं मालकिन की बेहोशी की हालत में घटित हुई है। यद्यपि ऐसी घटनाएं आमतौर पर आज के समय में  देखने को न भी मिलें तब भी इस तरह की घटनाओं के घटित होने की संभावना खत्म नहीं हुई है। कहानी इसी संभावना के जीवित रहने को आगे बढ़ाती है।

अपनी सुविधाओं भरी जिंदगी में मस्त होकर धनाढ्य और पितृसत्तात्मक समाज की संवेदना जहां कोमा में जा चुकी है, ऐसे में एक कामवाली बाई जैसा पात्र और इस पात्र का त्याग, उसकी संवेदना और उसका समर्पण पाठक को आश्वस्त करते हैं।

महावीर राजी की यह छोटी सी कहानी सही मायनों में मानवता और जीवन को आश्वस्त करने वाली कहानी है।


◆आनंद हर्षुल की कहानी "गन्ध"

(कथादेश अंक जुलाई 2023) 

~~~~~~~~~~~~~~~~

आनंद हर्षुल जी अपनी कहानी में भाषा को बरतने, उसको कलात्मक रूप देने में हमेशा नए तरह के प्रयोग करते देखे जाते हैं। उनकी भाषायी मौलिकता उनकी कहानियों में देखी जा सकती है। उनकी कहानियों में मन से जुड़ी अंदरूनी परतों की बुनावटें भी कुछ इस तरह आती हैं कि उन्हें पकड़ने के लिए हमारे जैसे सामान्य पाठक को, मन के विज्ञान से को-रिलेट  करते हुए उन्हें समझना पड़ता है।

कथादेश जुलाई 2023 अंक में उनकी कहानी "गन्ध" पढ़ रहा था तो लगभग इसी तरह के अनुभवों से गुजरना हुआ, जिसका जिक्र मैंने ऊपर किया है।

यह कहानी सिबू नामक एक ऐसे पात्र के इर्द-गिर्द बुनी गई है जिसकी नौकरी अपने मालिक के घर उनके छः कुत्तों की देखभाल से जुड़ी है।

गंध निरा एक अमूर्त बिषय होते हुए भी कहानी में उसे मूर्त तरीके से प्रस्तुत करने की चुनौती कथा लेखक के सामने रही होगी, पर आनंद हर्षुल जी ने बड़े सलीके से उसे पाठकों के सामने रखा है।

पृथ्वी अनगिनत गंधों से भरी हुई है । सुगंध और दुर्गंध । गन्ध के दो घटक । पर इन दो घटकों के बीच कोई सीधी स्पष्ट रेखा नहीं खींची जा सकती। किसी के लिए दुर्गंध भी सुगंध की तरह हो सकती है तो किसी के लिए सुगंध भी दुर्गंध की तरह हो सकती है। यह होना परिस्थिति जन्य है और यह जीवन और जीवन की आजीविका से जुड़ा एक गंभीर मसला है।

आनंद जी ने इस कहानी में एक बड़ी बात यह कही है कि धरती पर गन्ध भी मरते रहते हैं। जैसे सिबू के जीवन में मनुष्य देह की गंध मृत हो चुकी है। वह जहां से भी गुजरता है लोगों को उसकी देह से कुत्तों की गंध आती है।

दरअसल गन्ध मनुष्यों के मन से जुड़ा मसला है । मन में कोई धारणा बहुत सघन रूप में बैठ जाती है तो कई बार वह गन्ध का रूप ग्रहण कर लेती है।कुत्तों की सेवा करने जैसी नौकरी करने वाले सिबू के जीवन से मनुष्य देह की गन्ध को उसकी पत्नी भी महसूस नहीं कर पाती। सिबू की पत्नी के जीवन में सिबू से जुड़ी मनुष्य देह की गंध मृत होकर वह कुत्तों की गन्ध में बदल गयी है।धरती पर लोगों के जीवन से गंध किस तरह मरती रहती हैं, उसका एक मनोवैज्ञानिक चित्रण इस कहानी में मिलता है।

अंत में कोलाज के सहारे आनंद जी ने सिबू को एक कुत्ते के रूप में तब्दील करते हुए उसका चित्रण किया है। कई बार कहानी में इस तरह के प्रयोगों के माध्यम से कथ्य को संप्रेषित करने की कोशिश की जाती है। संभवतः कहानी को प्रभावी बनाने का यह एक तरीका है।

छह कुत्तों के साथ सातवें कुत्ते के रूप में सिबू के बदल जाने के बाद मनुष्य के रूप में सिबू की पहचान पूरी तरह मिट चुकी होती है। अब उसे देखकर सिबू के रूप में कोई नहीं पहचान सकता। यहां तक की उसकी पत्नी भी।

सिबू के लिए यह एक बहुत बड़ा संकट है कि देख कर  उसकी पत्नी भी उसे ना पहचान पाए। अपनी पहचान के संकट के साथ वह अपने घर की चौखट के बाहर रात दिन बैठा रहता है। उसकी ललक देख सिबू की पत्नी का ध्यान उसकी ओर जाता है। तब अचानक सिबू की पत्नी को उस सातवें कुत्ते की देह से मनुष्य की गंध आने लगती है । सिबू की देह की गंध। यह गन्ध ही उसकी पहचान में एकमात्र घटक है जिसके सहारे वह पहचाना जाता है।

मनुष्य का मन ही कुछ ऐसा है कि कोई चीज अगर जीवन में खो जाए तब हम उसे पहचान पाते हैं। उसकी गंध को पहचान पाते हैं।

इस धरती पर चीजों के गंध के मरने और जीवित होने की कहानियाँ अनवरत चलती रहती हैं जिसे इस कहानी के माध्यम से हम महसूस करते हैं।एक बात जरूर है कि यह कहानी पढ़ने के दरमियान बहुत धीरज की मांग करती है। कई बार कहानी पढ़ते समय दृश्यों, घटनाओं और मन में आते जाते विचारों के तालमेल के लिए पाठकीय धीरज भी जरूरी होता है। इसे पठनीयता की बाधा के रूप में देखने को मैं सही नहीं मानता।

कहानी को खत्म करने के बाद भी हम कहानी के विषय में बहुत देर तक सोचते रहते हैं। 

रमेश शर्मा


टिप्पणियाँ

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च