सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

'भाप के घर में शीशे की लड़की' [ डायरी संग्रह, लेखिका :बाबुषा कोहली ] गूढ़ सांकेतिकता को बूझने का एक गंभीर उद्यम -रमेश शर्मा

बाबुषा कोहली की किताब 'भाप के घर में शीशे की लड़की' पढ़ते हुए कई बार लगा कि निजी जीवन के अनुभवों को ही प्रतिछबियों में मैं देख पा रहा हूं। मेरी जगह कोई और भी पाठक होता तो संभव है उसे भी इसी किस्म के अनुभव होते। बाबुषा के पास आम जन जीवन /निजी जीवन में घटित घटनाओं को देख पाने की एक विरल दृष्टि है जो अमूमन बहुत कम लोगों के पास होती है। विजन की अद्वितीयता एक रचनाकार को दूसरे रचनाकारों से अलग रखते हुए उसे एक नई पहचान देती है । बाबुषा की इस किताब में जो कुछ भी है बहुत साधारण होते हुए भी एक असाधारण दृष्टि के साथ इस रूप में सामने आती है कि एक पाठक के रूप में हम अपने आप को अंतर संबंधित करने लगते हैं। किताब में संग्रहित गद्य में दृष्टि की अद्वितीयता के साथ-साथ जो भाषायी सौंदर्य और सूफियाना अंदाज में व्यक्त हुई गद्य का जो लालित्य है वह अप्रतिम है। एक अच्छी कवियत्री और अप्रतिम गद्य लेखिका होने के साथ-साथ बाबुषा पेशे से एक अध्यापिका भी हैं । अपने मित्रों ,अपने विद्यार्थियों के साथ समय बिताते हुए बतौर रचनाकार और अध्यापिका के रूप में उनके दैनिक जीवन के जो अनुभव हैं और उन अनुभवों से उपजी जो विचार श्रृंखलाएं हैं उस श्रृंखला को अलग-अलग खंडों में हम इस किताब में पढ़ते हैं। इन खंडों को 'सा रे ग म प' के नामकरण के साथ इस तरह लयबद्ध रूप में प्रस्तुत किया गया है कि इन्हें पढ़ते हुए विचार और भाषा के सांगीतिक अनुभवों से हम गुजरने लगते हैं.



'सा' खंड के अंतर्गत प्रार्थना शीर्षक नामक गद्य के अंश में वे लिखती हैं -

 

व्यवहार में छद्म का नाश हो /शक्ति की लोलुपता का लोप हो /विचारों का पाखंड खंड खंड हो /दार्शनिक स्वप्न दर्शी हों /पृथ्वी एक बड़े घास के मैदान में बदल जाए /बच्चों का राज हो /खेल हों

/धुन हो /झगड़े हों /कट्टीसें हों /सीखें हों /झप्पी हो /नदियां हों /पेड़ हों /पहाड़ हों परिंदे हों ।

महज नर मादा न हों /प्रेम में मुक्त स्त्री हो /प्रेम में बंधा पुरुष हो।

 

दुनिया में किसी भी कारण से उड़न छू हो सकने वाला नश्वर प्रेम तत्क्षण समाप्त हो

विकास की सभ्यता नहीं सभ्यता का विकास हो

पुलिस व फौज की आवश्यकता ना हो /सरहद ना हो /प्रकृति की सत्ता हो।

 

संविधान में कविता हो।

जीवन खोज हो ।

मृत्यु रोमांच हो।

रचनाकार की इस प्रार्थना के भीतर वैचारिक होकर उतरिए तो दुनिया को नए सिरे से सिरजने की एक दृष्टि मिलती है। आज यह दृष्टि कहीं खो गई है और यह दुनिया उस दिशा में भाग रही है जिधर अंधेरा घना होता जा रहा है ।

दैनिक जीवन की जो आम गतिविधियाँ हैं, उसके बहाने बाबुशा ने जीवन के फैक्ट्स को उसके सत्य दर्शन के साथ इस किताब में बड़ी सहजता से सामने रख दिया है | नवमी कक्षा में अंग्रेजी बिषय के बच्चों को विलियम वर्ड्सवर्थ की कविता 'अ स्लम्बर डिड माय स्प्रिट सील' पढ़ाते हुए शिक्षक और बच्चों सहित समूची कक्षा के जो गहरे अनुभव हैं , 'कविता के लोक में प्रवेश के पहले' नामक खंड में व्यक्त हुए हैं | किसी प्रिय को खो देने के बाद ही जीवन में मृत्यु का भय आता है| उसके पहले एक गहरी नींद मनुष्य की आत्मा को इस तरह बांधे रखती है कि आदमी मृत्यु जैसे सत्य को स्वीकार करने की स्थिति में ही नहीं होता |कविता के भावों को लेकर कक्षा में शिक्षिका के साथ बच्चों के जो संवाद हैं बहुत अलहदा और रोचक हैं -

करन पूछता है ,हम क्यों दुखी होते हैं, जब लोग मर जाते हैं?स्वप्न ने बताया कि अब हम दोबारा उन्हें देख नहीं सकेंगे,इसलिए|क्या हम किसी से घृणा कर सकते हैं , जब यह जान लें कि एक दिन हर कोई इस दोबारा न देखे जाने की जद में चला जाएगा?मुझे इस सवाल का मौक़ा मिल गया |ज्योति की आँखों से सितारे टूटने लगे |सबने उसकी सुबक सुनी |क्लास किसी जादू से जगमगा गयी |

आगे बाबुशा लिखती हैं -

नवमी जमात के बच्चे जीवन की सबसे बुनियादी बातें कर रहे हैं। वे अनिवार्य प्रश्नों और अस्थायित्व को समझ रहे हैं । बच्चे जीवन को आंख खोल कर देख रहे हैं । इतना कुछ घट रहा है जिसे बयान करना मुश्किल है। इतने प्रश्न आ रहे हैं , इतनी बातें हो रही हैं , जीवन पन्ने दर पन्ने खुल रहा है । खिड़की पर बैठी चिड़िया के पंख की फड़फड़ाहट और पन्नों में वर्ड्सवर्थ के श्वास की फड़फड़ाहट मिल गए हैं । शिक्षक पीछे छूट जाता है, विद्यार्थी भी छूट जाते हैं । अब केवल फड़फड़ाहट का जादू बचा है ।इस जादू में हर शै डूब गई है। इस क्षण कुछ भी निष्प्राण नहीं है। दरवाजे, खिड़की, ब्लैकबोर्ड,फ़र्श, अर्श, सबमें धड़क है ।इस क्षण की कोई तस्वीर संभव नहीं। देखने की चेष्टा करती हूं अदृश्य में रची सम्मोहक पेंटिंग को। दृश्य को देख लेना देखने की क्रिया भर है। अदृश्य को देख पाना 'देखना' है ।अपलक छूट जाती हूं। दृश्य को देखकर कविता लिखी जा सकती है। ऐसी कविताओं को पढ़ते और पढ़ाते हुए अदृश्य की उंगली पकड़ना ही होता है । कविताएं पढ़कर, लिखकर कविता पढ़ाना एकदम नहीं आ पाता। ज्ञान से अधिक असहाय संसार में कुछ नहीं।

ऐसी कविताओं में प्रवेश करने से पहले फूलों से प्रार्थना करती हूं, मुझे अपनी सुगंध का बल दें।

वुड्सवर्थ की आठ पंक्ति की इस कविता के बहाने बाबुषा जीवन दर्शन का एक समूचा संचार रख देती हैं।

इसी खंड में बच्चों के साथ कक्षा के जो अनुभव हैं उन अनुभवों में 'चल कहीं दूर निकल जाएं', 'द ज्योग्रफिक लेसन', 'एक दिन तुम जान जाओगी' , 'मेरा स्वप्न है' , 'लेन्चो बचा रहे' ...इत्यादि डायरी अंश की टिप्पणियाँ  न केवल रोचक हैं बल्कि इन्हें पढ़ते हुए भीतर से जिस पाठकीय आनंद का अनुभव होना चाहिए वैसा ही अनुभव हमें मिलता है । समूचा गद्य कोई रोचक कविता पढ़ने जैसा आनंद देने लगे तो उसकी पठनीयता यूं भी बढ़ जाती है।

सारेगामापा के 'सा' खण्ड में जहां कि संगीत का सुर लगना आरंभ होता है और आगे सुर को एक मुकम्मल गति मिलती जाती है , इस डायरी अंश के सा खण्ड में भी कुछ इसी किस्म के सुर ध्वनित होते हैं । 'वे फरवरी के दिन थे' यह अंश हमें आल्हादित कर देता है।

डायरी अंशों के रूप में दर्ज संग्रह की टिप्पणियों को लेकर प्रसिद्ध लेखक प्रियदर्शन जी कहते हैं -

'यह सच है कि बाबुषा कोहली की इन टिप्पणियों को कविता की तरह पढ़ने का मोह होता है। यह भी सच है कि इन में बहुत गहरी काव्यात्मकता है, लेकिन इस कविता में उलझे रहे तो उसके पार जाकर वह संसार नहीं देख पाएंगे जो इस गद्य का असली आविष्कार है।'

 

सचमुच इसे गद्य का अविष्कार ही कहा जाए तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं । मशहूर पाश्चात्य लेखकों की कविताओं, कहानियों, और वक्तब्यों को लेकर गद्य के माध्यम से बड़ी साफगोई और रोचकता के साथ गंभीर विमर्श की ओर पाठकों को ले जाने का जो लेखकीय उद्यम है वह किसी कारीगर की कला साधना का एहसास कराता है। पाठकों की अपनी सीमाएं हैं कि वह कला को देखकर उस पर मुग्ध हो जाए या उससे आगे जाकर उस पर चिंतन मनन करे। इस कला साधना में जीवन के गहरे राज छुपे हुए हैं जिसे देखना सबके बस की बात नहीं। फिर भी उसे देखने का आग्रह इस संग्रह की टिप्पणियों में जरूर विद्यमान है ।

 

रे खंड में 'मैं पानी की तरफ हूँ', तुम खाली समय में क्या करती हो , खिलना और लिखना इत्यादि टिप्पणियों को भी पढ़िए तो लगता है जैसे सहज रूप में हमें कोई जीवन के गहरे अर्थ में डुबो रहा है | जीवन की दिनचर्या में जिन वैचारिक दर्शनों से वाबस्ता होते हुए भी हम एक उदासीनता में अलग थलग होते हैं उनके प्रति एक राग पैदा करने की चेतनता यहाँ मौजूद है | यह राग पैदा हो तो जीवन की गाड़ी जो कि गाहे बगाहे पटरी से उतरती रहती है उसका उतरना बंद हो |  'मैं पानी की तरफ हूँ' में 'द फायर सरमन'/बुद्ध का अग्नि प्रवचन के प्रसंग में बाबुषा वह सब कुछ कह जाती हैं जो हमें जीवन में होने वाली अचेतन अवस्था की सामान्य गलतियों के प्रति सचेत करता है |

ग खंड में 'फ्रेंड्स कंट्रीमेन एंड रोमन्स', हेंसी जा चुके थे , 'छूटना' , 'बी लाइक वाटर माय फ्रेंड' इत्यादि टिप्पणियाँ भी न केवल रोचक हैं बल्कि गंभीर विमर्श के द्वार खोलती हैं | छूटना टिप्पणी में अन्तोव चेखव की कथा शर्त के जिक्र के बहाने जीवन के दो पक्ष मृत्यु दंड और एकान्तिक कारावास पर एक तुलनात्मक विमर्श है कि इनमें कौन सा पक्ष मनुष्य के लिए ज्यादा कठिन है | दोनों ही पक्षों को लेकर लोगों के जीवन में अपने अपने तर्क हो सकते हैं | पर इस टिप्पणी को पढ़िए और  गंभीरता से सोचिए तो दोनों ही पक्ष एक दूसरे पर भारी पड़ते हुए दिखाई देते हैं | जीवन में बहुत कुछ ऐसा है जो अनिर्णित है |

 

'म' खंड के अंतर्गत संग्रह के शीर्षक वाली टिप्पणी 'भाप के घर में शीशे की लड़की' पर चर्चा न हो तो बात अधूरी रह जाएगी | इस टिप्पणी में मारा नामक एक असुर का जिक्र है जिसने भगवान तथागत पर उस समय हमला किया जब सम्बोधि की पूर्व संध्या वे गहरे ध्यान में थे |

यहाँ बाबुषा सुर और असुर का जिक्र करते हुए लिखती हैं कि जो भी सुर में लीन हुआ असुर उसका सुर बिगाड़ने चला आता है | यह दुनियां की रीत ही है जहां मारा नामक असुर आदमी के जीवन में अन्दर बाहर सब तरफ विद्यमान है | वे आगे लिखती है ...तथागत ने अपने दाएं हाथ की मध्यमा से धरती को स्पर्श किया और सम्पूर्ण पृथ्वी में क्षण भर को भूडोल आ गया | मारा किसी सूखे पत्ते की भांति उड़कर अन्तरिक्ष में विलीन हो गया |बाबुषा कहती हैं यह कोई चमत्कार नहीं बल्कि दुनियां की समस्त कलाओं ,जीवन सूत्रों की तरह यह घटना भी गूढ़ सांकेतिकता का प्रतीक है किन्तु केवल उसके लिए ही जिसमें इस क्षण भंगुर जीवन के सार को बूझने की प्रचंड जिज्ञासा हो |

 

मनुष्य और उसके जीवन के सार को बूझने की उसकी प्रचंड जिज्ञासा के बीच मारा की तरह  कई असुर हैं जिनके बारे में बाबुषा इस टिप्पणी में शोधपरक जिक्र करती हैं | मनुष्य की आत्म दुर्बलता सबसे बड़ा असुर है जो उस गूढ़ सांकेतिकता तक पहुँचने में  अनगिनत रूकावटें उत्पन्न करता है |इस विमर्श के केंद्र में स्वयं को एक शीशे की लड़की से तुलना करते हुए जीवन की तुलना  एक भाप के घर से वे करती हैं जहां एक धुंधलका छाया हुआ है |

यह धुंधलका तभी छंटेगा जब एक दिन उस लड़की की आत्मिक दुर्बलताएं दूर होंगी |

तथागत मारा के इस प्रसंग के बहाने बाबुषा एक सवाल भी छोड़ जाती हैं कि संगीत, साहित्य  एवं इस तरह की तमाम कला साधनाओं के बावजूद मनुष्य आत्मिक रूप से दुर्बल क्यों रह जाता है? उसके जीवन से मारा जैसा असुर दूर क्यों नहीं हो पाता?

ये सवाल पाठकों को चिंतन मनन की दुनियां की ओर ले जाते हैं | फिर से यह कहने में मुझे कोई हर्ज नहीं कि यह संग्रह रोचक शैली और शब्दों की सांगीतिक धुनों के साथ हमें विमर्श की शोधपरक वैचारिक दुनियां की ओर ले जाता है | उस दुनियां में आनंद की अनुभूति भी है और गूढ़ सांकेतिकता को समझने बूझने का एक अवसर भी |

 

 

किताब : भाप के घर में शीशे की लड़की

लेखिका : बाबुषा कोहली

प्रकाशक : रुख पब्लिकेशन न्यू दिल्ली

मूल्य : रु.199

 

 

 

समीक्षक

रमेश शर्मा

92 , श्रीकुंज कालोनी , बोईरदादर , रायगढ़ (छत्तीसगढ़) पिन 496001

मो.7722975017

 

 

     

 

 

टिप्पणियाँ

  1. बाबुषा कोहली के डायरी संग्रह "भाप के घर में शीशे की लड़की" पर आपके द्वारा लिखी गई समीक्षा इतनी नपी तुली, संतुलित और बेहतरीन है कि किताब मंगाने की इच्छा हो रही है।इस समीक्षा में संपादकीय कुशलता झलक रही है। इसी तरह लिखते रहें। बधाई।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इन्हें भी पढ़ते चलें...

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

जीवन के उबड़ खाबड़ रास्तों की पहचान करातीं कहानियाँ

जीवन के उबड़ खाबड़ रास्तों की पहचान करातीं कहानियाँ ■सुधा ओम ढींगरा का सद्यः प्रकाशित कहानी संग्रह चलो फिर से शुरू करें ■रमेश शर्मा  -------------------------------------- सुधा ओम ढींगरा का सद्यः प्रकाशित कहानी संग्रह ‘चलो फिर से शुरू करें’ पाठकों तक पहुंचने के बाद चर्चा में है। संग्रह की कहानियाँ भारतीय अप्रवासी जीवन को जिस संवेदना और प्रतिबद्धता के साथ अभिव्यक्त करती हैं वह यहां उल्लेखनीय है। संग्रह की कहानियाँ अप्रवासी भारतीय जीवन के स्थूल और सूक्ष्म परिवेश को मूर्त और अमूर्त दोनों ही रूपों में बड़ी तरलता के साथ इस तरह प्रस्तुत करती हैं कि उनके दृश्य आंखों के सामने बनते हुए दिखाई पड़ते हैं। हमें यहां रहकर लगता है कि विदेशों में ,  खासकर अमेरिका जैसे विकसित देशों में अप्रवासी भारतीय परिवार बहुत खुश और सुखी होते हैं,  पर सुधा जी अपनी कहानियों में इस धारणा को तोड़ती हुई नजर आती हैं। वास्तव में दुनिया के किसी भी कोने में जीवन यापन करने वाले लोगों के जीवन में सुख-दुख और संघर्ष का होना अवश्य संभावित है । वे अपनी कहानियों के माध्यम से वहां के जीवन की सच्चाइयों से हमें रूबरू करवाती हैं। संग्रह

गजेंद्र रावत की कहानी : उड़न छू

गजेंद्र रावत की कहानी उड़न छू कोरोना काल के उस दहशतजदा माहौल को फिर से आंखों के सामने खींच लाती है जिसे अमूमन हम सभी अपने जीवन में घटित होते देखना नहीं चाहते। अम्मा-रुक्की का जीवन जिसमें एक दंपत्ति के सर्वहारा जीवन के बिंदास लम्हों के साथ साथ एक दहशतजदा संघर्ष भी है वह इस कहानी में दिखाई देता है। कोरोना काल में आम लोगों की पुलिस से लुका छिपी इसलिए भर नहीं होती थी कि वह मार पीट करती थी, बल्कि इसलिए भी होती थी कि वह जेब पर डाका डालने पर भी ऊतारू हो जाती थी। श्रमिक वर्ग में एक तो काम के अभाव में पैसों की तंगी , ऊपर से कहीं मेहनत से दो पैसे किसी तरह मिल जाएं तो रास्ते में पुलिस से उन पैसों को बचाकर घर तक ले आना कोरोना काल की एक बड़ी चुनौती हुआ करती थी। उस चुनौती को अम्मा ने कैसे स्वीकारा, कैसे जूतों में छिपाकर दो हजार रुपये का नोट उसका बच गया , कैसे मौका देखकर वह उड़न छू होकर घर पहुँच गया, सारी कथाएं यहां समाहित हैं।कहानी में एक लय भी है और पठनीयता भी।कहानी का अंत मन में बहुत उहापोह और कौतूहल पैदा करता है। बहरहाल पूरी कहानी का आनंद तो कहानी को पढ़कर ही लिया जा सकता है।              कहानी '

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च

आज है डॉक्टर बलदेव की जन्म जयंती: अपना विपुल साहित्य छोड़ जाने वाले डॉक्टर बलदेव की सामाजिक सरोकारिता के कारण भी लोग उन्हें याद करते हैं

आज 27 मई को डॉ बलदेव की जन्म जयंती है। भले ही उन्हें गए लगभग 6 वर्ष बीत चुके हैं पर उनका लिखा साहित्य उनकी मौजूदगी का जीवंत आभास कराता है।  संचार के विभिन्न माध्यमों के जरिये उन्हें याद किये जाने का क्रम अनवरत जारी है। उनके पाठकों , उनके चाहने वालों  की ओर से उन्हें इस तरह याद किया जाना ही उनकी जीवंत उपस्थिति को दर्शाता है। किसी लेखक की असल पूंजी उसका लिखा हुआ साहित्य ही होता है , यह साहित्य ही उसे अमर करता है। साहित्य को भूत और वर्तमान के बीच सेतु की तरह भी हम देखते हैं और इस तरह देखने से ही डॉक्टर बलदेव की मौजूदगी कभी हमारे बीच से जाती नहीं।  साहित्य का विपुल संसार छोड़ गए डॉ बलदेव न केवल एक वरिष्ठ और प्रभावशाली लेखक थे बल्कि लेखक होने के साथ-साथ उनका एक सामाजिक सरोकार भी था। लोगों के साथ उनके जीवंत संबंध भी हुआ करते थे। दीन दुखियों के प्रति उनमें दया, करुणा, प्रेम की भावना भी प्रबल हुआ करती थी । वे अपने इन गुणों को विरासत में छोड़कर भी गए हैं । उनकी स्मृति को और भी जीवंत बनाने के लिए उनके सुपुत्र बसन्त राघव और पुत्रवधु ऋतु ने पहाड़ मंदिर के निकट स्थित बृद्ध आश्रम में जाकर लगभग 60 की