सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

शिक्षा, समाज, साहित्य और बच्चा : समग्रता में देखने के लिए स्वस्थ नज़रिए की ज़रूरत【4 नवम्बर 2023, दैनिक क्रांतिकारी संकेत में प्रकाशित आलेख】

 


■समाज की नज़र से बच्चों को देखने का नज़रिया कितना सही

■हिंदी कहानियों के जरिये एक जरुरी विमर्श की कोशिश

---------------------------------------------------------------------

समाज की नजर में बच्चा कौन है ? उसे कैसा होना चाहिए ?जब इस तरह के सवालों पर बहुत गहराई में जाकर हमारा ध्यान केन्द्रित होता है तो इसका जवाब बहुत आसानी से हमें नहीं मिलता । सीधे तौर पर तो कतई नहीं कि हम किसी किताब में इसका कोई बना बनाया जवाब ढूँढ लें । आम तौर पर बच्चे की प्रतिछवि आम लोगों के मनो मष्तिष्क में जन्म से लेकर चौदह साल तक की छोटी उम्र से अंतर्संबंधित होकर ही बनती है । इसका अर्थ यह हुआ कि बच्चे का सम्बन्ध सीधे सीधे उसकी छोटी उम्र से होता है । यह धारणा आदिकाल से पुष्ट होती चली भी आ रही है । "समाज की नजर में बच्चा" को लेकर मेरा यह जो विमर्श है दरअसल आदिकाल से चली आ रही इसी धारणा को जीवन की कसौटी पर परीक्षण किए जाने के इर्द गिर्द ही केन्द्रित है । इस परीक्षण की प्रविधियां क्या हों? कि इसे  बेहतर तरीके से समझा जा सके, यह भी एक गम्भीर प्रश्न है जो हमारे साथ साथ चलता है । इस सवाल का जवाब कुछ हद तक हिंदी कहानियों में ढूंढा जा सकता है। चूंकि साहित्यिक कहानियां , साहित्य केन्द्रित सिनेमा आदि ,मनुष्य जीवन को कई सिरे से समझने बूझने की दृष्टि प्रदान करती हैं इसलिए साहित्य के माध्यम से जीवन को देखने समझने का नजरिया भी अपने आप में हमें एक बहुआयामी दिशा की ओर ले जाता है।

कोई बच्चा हमें संस्कारी लगता है , तो कोई बच्चा अपराध की शरण में जाने का हमें आभास कराता है , कोई बच्चा अपने बचपन को भलीभांति जीता है तो किसी बच्चे के जीवन में बचपन अदृश्य सा जान पड़ता है , जीवन की संघर्षमय और प्रतिकूल परिस्थितियाँ उसे समय से पहले ही वयस्क बना देती हैं । कोई बच्चा पढने में तेज जान पड़ता है तो कोई इस रेस में पिछड़ा हुआ दीखता है । इन सबके पीछे ऐसे कौन से कारण हैं जिसे समाज कभी समझने की चेष्टा नहीं करता और बच्चा और बचपन को लेकर अपनी बनी बनायी धारणा पर ही कायम रहता है।

बच्चों के ऊपर लिखी गई कतिपय हिन्दी कहानियाँ कुछ हद तक इन सवालों का जवाब ढूँढने में हमारी सहायता करती हैं । बच्चे के जन्म के बाद उसका सामना उसके परिवार से होता है जो कि समाज की इकाई है । उस परिवार के परिवेश से उसकी अन्तः क्रिया आरम्भ होकर धीरे धीरे उसके आस पड़ोस से होते हुए आगे जाकर बृहद समाज से अंतर्संबंधित होती है । बच्चे के जीवन में समाजीकरण की यह  घटना ही उसके अन्तः और बाह्य रूपाकार गढती है । बच्चे के समाजीकरण में जो प्रवृत्तियाँ कारक होती हैं लगभग वैसी ही प्रवृत्तियों को बच्चा ग्रहण करता है । उसके संस्कारी होने या अपराधी बनने में उसका समाजीकरण बड़ी भूमिका अदा करता है । शायद इसलिए माँ बाप अपने बच्चों को अच्छी संगति करने पर जोर देते हुए दिखाई देते हैं । माँ बाप द्वारा अपने बच्चों को दी गई ऎसी सलाहियत यद्यपि सतही लगती हैं क्योंकि ये सिर्फ अपने बच्चों तक ही सीमित होकर रह जाती हैं और उनमें एक सामूहिक प्रेरणा का भाव नहीं झलकता । इसका अर्थ ये कि समाज इन बातों के प्रति उदासीन रहते हुए बहुत सी बातें अपने स्तर पर निर्धारित कर लेता है और बच्चों के भाग्य से उसे जोड़ देता है कि फलां बच्चे को संस्कारी बनना था इसलिए वह संस्कारी बन गया और फलां बच्चे को अपराधी बनना था इसलिए वह अपराधी बन गया । ये बातें सच के करीब नहीं लगतीं । इन बातों में माता पिता ,परिवार , आस पड़ोस और बृहद समाज की भूलें परिलक्षित होती हैं जिस पर विचार किया जाना आवश्यक है । समाज में यह धारणा भी बहुत घर कर चुकी है कि संपन्न और अच्छे कहे जाने वाले परिवारों के बच्चे अच्छे और संस्कारी बनते हैं जबकि स्लम बस्ती के बच्चे आम तौर पर अपराधिक प्रवृत्ति के होते हैं । इन धारणाओं का कभी भी सामान्यीकरण नहीं किया जा सकता । ऎसी धारणाएं समाज में चली आ रही भूलों को उजागर करती हैं और उसे कटघरे में भी खड़ा करती हैं । इन धारणाओं की पड़ताल करती हिन्दी कहानियां बच्चे को समझने का एक बड़ा अवसर हमें देती हैं ।जयशंकर प्रसाद की कहानी छोटा जादूगर की चर्चा करें तो छोटा जादूगर के रूप में एक ऐसे बालक से हमारा सामना होता है जिसका जीवन विसंगतियों से भरा हुआ है, इसके बावजूद जीवन मूल्यों को साथ लिए वह सतत संघर्ष कर रहा है । एक तरफ देशप्रेम के लिए उसके पिता जेल में बंद हैं तो दूसरी तरफ उसकी माँ घर में बीमार है और खाट पर पड़ी पड़ी अपने आखरी दिनों की प्रतीक्षा में है । उस घर में कमाने वाला कोई नहीं है । पारिवारिक विपन्नता ने उस बच्चे को समय से पहले ही जिम्मेदार और व्यस्क बना दिया है जो अपने खिलौनों से जादू जैसा खेल दिखाकर दो पैसे जुटाता है जिससे माँ की दवाईयां और घर के खर्च का प्रबंध होता है।किसी बच्चे का समय से पहले ही व्यस्क हो जाना, जो कि अमूर्त होता है, समाज उसे कई बार देख नहीं पाता। समाज को लगता है कि बच्चों को  इस तरह के कामों में संलग्न नहीं होना चाहिए जो कि उसके बचपन को अधिक्रमित करते हैं । दरअसल जयशंकर प्रसाद छोटा जादूगर कहानी में समाज के उसी नजरिये पर ही प्रहार करते हैं जिसका नजरिया एकांगी है , जो बच्चों से यह तो चाहता है कि उसका बचपना उसकी गतिविधियों में बरकरार रहे पर समाज अपनी जिम्मेदारियों को या तो देख नहीं पाता या फिर उसे देखना ही नहीं चाहता।

बच्चा अपने परिवार , अपने आसपडोस से उपजी परिस्थितियों से जो अनुभव ग्रहण करता है, वही अनुभव उसे बच्चा बनाए रख सकता है ,वही अनुभव उसे समय से पहले वयस्क भी बना देता है। सवाल यह उठाया जा सकता है कि साहित्यिक कहानियों में प्रतिकूल परिस्थितियों के साथ एक संघर्षशील बच्चे को ही परिपक्व होता हुआ क्यों दिखाया जाता है ? क्या समस्त अनुकूल परिस्थितियों के होते कोई बच्चा मानसिक और वैचारिक स्तर पर परिपक्व नहीं हो सकता ? शायद इसका जवाब भी हिन्दी की साहित्यिक कहानियों से ही निकलकर आता  है । दरअसल जीवन का प्रतिकूल संघर्ष बच्चे के बचपन को अधिक्रमित करता है और उसे वह अनुभव देता है जो किसी अनुकूल परिस्थिति वाले बच्चे को नहीं मिल पाता । चूँकि अनुभव ही जीवन में सबसे बड़ा गुरू होता है , वही बच्चे को बच्चा रहने देता है तो वही बच्चे को छोटी उम्र में ही वयस्क और जिम्मेदार बना देता है जैसा कि जयशंकर प्रसाद की कहानी छोटा जादूगर में अपने अनुभव से वयस्क होते बच्चे को हम देखते हैं ।भीष्म साहनी की कहानी गुलेलबाज लडका में हम एक ऐसे बच्चे को देखते हैं जो साधारण श्रमिक परिवार से है और अपनी सामान्य गतिविधियों से अपराधिक और हिंसक होने का आभास देता है । वही लडका अनुकूल परिस्थितियों की संगति के साथ अपनी इस हिंसक छवि को स्वयं तोड़ता भी है । बाज से मैना के बच्चों  की सुरक्षा करते हुए उसके भीतर छुपी हुई संवेदना एकाएक हमें दिखाई देने लगती है । दरअसल समाज को इसी नजरिये को विकसित करने की आवश्यकता है जिसके जरिये किसी बच्चे की भीतरी दुनियां को ठीक ढंग से देखा जा सके । गहन संवेदना हर बच्चे में होती है , कई बार उदय प्रकाश की नेलकटर जैसी कहानी में अपनी माँ को खोते हुए बच्चे के भीतर सघन रूप में गठित होते हुए हम उस संवेदना को महसूस कर सकते हैं।उस संवेदना को देखे जाने और उसे बचाए जाने के प्रति जो एक गहन  उदासीनता है , वह जैनेन्द्र कुमार की कहानी अपना अपना भाग्य में लक्षित की जा सकती है। समाज की ओर से किसी बच्चे को उसके भाग्य के साथ जोडकर देखना भी अपनी जिम्मेदारियों से जी चुराने जैसा है । यह प्रवृत्ति सघन रूप में समाज में पसरी हुई भी दिखाई देती है जो किसी बच्चे को समग्र रूप में देखे समझे जाने में बहुत बाधक भी है।

आज जरूरत है कि समाज किसी बच्चे को उसकी समस्त अनुकूल और प्रतिकूल परिस्थितियों के साथ देखे-समझे और फिर कोई धारणा विकसित करे । कोई सुव्यवस्थित , सुविकसित और उपयुक्त धारणा ही बच्चों के बचपन को बचाए जाने के प्रति किसी ठोस पहल का आरम्भिक बिंदु है । ऎसी सुव्यवस्थित , सुविकसित धारणाएं समाज हिन्दी साहित्य की कहानियों और फिल्मों के माध्यम से ग्रहण कर सकता है । इनका प्रयोग शिक्षा के क्षेत्र में भी एक बड़े बदलाव का माध्यम बन सकता है । यह तथ्य कुछ हद तक सत्य है कि बच्चे के जीन्स में वंशानुगत रूप से कुछ चीजें प्रवाहमान होती हैं जिसके कारण वह अपने अल्प या कुशाग्र बुद्धि के होने का आभास कराता है पर ऐसे तथ्यों को भी बच्चे की उचित अन्तः क्रिया और समाजीकरण से झुठलाया जा सकता है । बच्चों को लेकर समाज में यह विमर्श सतत चलते रहना भी चाहिए ताकि बच्चों को लेकर बनी बनाई खांचों में गढ़ी गई पारम्परिक धारणाएं टूटें और कुछ नई बातों को बच्चों के जीवन से जोड़ा जा सके।

रमेश शर्मा, 92 श्रीकुंज, रायगढ़ छ. ग.

टिप्पणियाँ

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च