सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पंकज स्वामी की कहानी गणितज्ञ, रश्मि शर्मा की कहानी : "और वही ख्वाहिश" देवेश पाथ सरिया की कहानी: लेनेट और वह तस्वीर , सोनल की कहानी चस्का पर कुछ टिप्पणियां

 ■पंकज स्वामी रचित एक नए कलेवर की कहानी "गणितज्ञ"

----------------------------------

पंकज स्वामी गम्भीर कथाकार हैं, पहल के सहायक संपादक भी रहे हैं। परिकथा जनवरी फरवरी २०२१ अंक में   उनकी कहानी "गणितज्ञ" पढ़ते हुए पाठकों को ऐसा महसूस हो सकता है कि यह कहानी बहुत सहज और सरल कहानी है।कई बार ऐसा भी लग सकता है कि यह कहानी है भी या नहीं। पर कहानी जब खत्म हो जाती है तब उसका असर हमारे भीतर धीरे धीरे होने लगता है। दरअसल कुछ कहानियां विमर्श की मांग करती हैं । कुछ कहानियों पर बौद्धिक हो जाने का आरोप भी मढ़ दिया जाता है। पर इन सबके बावजूद कहानी अपने डेस्टिनेशन पर जब पहुंचती है तो अपना समग्र प्रभाव मन पर छोड़ने लगती है। गणितज्ञ कहानी भी मेरी नजर में कुछ इसी किस्म की कहानी है जिसमें  गणितज्ञ और वैज्ञानिक परितोष कुमार के माध्यम से समाज के नजरिए को मापा गया है। समाज किस सतहीपन में जीता है यह कहानी उसे दमदारी से सामने रखती है।

आज का यह समाज परितोष कुमार जैसे महान बुद्धिजीवी, गणितज्ञ एवं वैज्ञानिक का सम्मान करना तो नहीं जानता पर उनके पुत्र रवि तोष कुमार जो कि एक प्रसिद्ध कोचिंग इंस्टिट्यूट के डायरेक्टर हैं, से इसलिए नजदीकियां रखने की इच्छा रखता है क्योंकि ऐसे संस्थानों में वह अपने बच्चों को भेज कर भविष्य के सुनहरे सपनों को साकार कर लेने की उम्मीद रखता है।

समाज के इस बाजारू दृष्टिकोण को कहानी में उद्धृत निम्न प्रसंगों के माध्यम से बेहतर ढंग से जाना समझा जा सकता है-- 

१.

"परितोष कुमार तो बहुत पहले गुजर चुके थे। बस औपचारिक घोषणा आज ही हुई है। उनकी मौत तो उस समय ही हो गई थी जब उनके कामों की समाज ने फिक्र नहीं की। समाज और परिवार को उनका काम समझ में नहीं आया । उनके काम को जानने समझने की असफल कोशिश तक नहीं की गई। दरअसल हमारे समाज को अपनी प्रतिभाओं की रचनाओं से कोई सरोकार नहीं है। समाज तो प्रतिभाहीनों को भी सिर पर बैठाने का आदी रहा है।"

२.

रवि तोष कुमार सोचने लगा... पागल हो जाना तीक्ष्ण प्रतिभा का द्योतक नहीं है, जैसा कि यह समाज समझता है। आदमी पागल इसलिए हो जाता है क्योंकि उसे समझने वाला, समाज में उसे कोई नहीं दिखता । उसके पिताजी यह समझते थे कि विज्ञान पढ़कर अवैज्ञानिकता की सेवा करने वाला और गणित पढ़ने के नाम पर पेट दर्द के बहाने बनाने वाला समाज अपढ़, कुपढ़ आलसी और ज्ञान भीरू समाज है। इस समाज में अपने बच्चे का परितोष कुमार होना किसी को स्वीकार्य नहीं है।

३.

रवि तोष कुमार सोचने लगा.. हमारा समाज गणित का मतलब लाभ हानि और ब्याज मापने तक समझना चाहता है । वह समझ रहा है कि शव यात्रा में जो भी है वह परितोष कुमार के सम्मान में नहीं बल्कि मैथ्स कोचिंग इंस्टिट्यूट के डायरेक्टर रवि तोष कुमार के साथ संबंध बताने के लिए जुटी है। रवि तोष कुमार ने सोचा कि ठीक ही है कि उसके पिता को मोक्ष मिल गया। उनके थिसिस शायद इस देश के खत्म होने तक इस समाज को समझ में ना आए। यह समाज श्रुति परंपरा का समाज है। उन्हें पीढ़ी दर पीढ़ी बताया जाता है कि कौन महान है और कौन नहीं। ऐसा समाज मूर्तियां गढ़ता है।  जीते जी और मरने के बाद बस माला पहनाता है। महान बनाता है। फर्क इतना है कि कोई जीते जी महानता को प्राप्त हो जाता है और कोई मरने के बाद। सत्ताएं बदलती हैं , पीढ़ी बदलती है, तो इस कहा सुनी में समाज के नायक भी बदल जाते हैं। एक चीज बस नहीं बदलती है, अपढ़ रहने की सामूहिक क्षमता।

नए कथ्य पर बुनी गई यह कहानी नए विमर्श की ओर ले जाने की कोशिश करती है। आज इस तरह की कहानियां लिखे जाने की सख्त जरूरत है। 


■देवेश पाथ सरिया की कहानी: लेनेट और वह तस्वीर 

--------------------------

देवेश एक अच्छे युवा कवि हैं।महीन दृष्टि और भाषा की कलात्मकता से जुड़े तमाम टूल्स का अपनी कविता में  बड़ी कुशलता के साथ वे उपयोग भी करते हैं।

हंस के मई 2022अंक में उनकी एक कहानी " लेनेट और वह तस्वीर " प्रकाशित है जो संभवतः उनकी पहली कहानी है ।

यह कहानी बहुत लंबी कहानी नहीं है पर इस कहानी को पढ़ते हुए एक अतिरिक्त कंसंट्रेशन की जरूरत महसूस होती है । एक युवक और एक युवती के बीच संवाद और उनके आसपास की दुनिया को स्थूल और सूक्ष्म रूप में प्रस्तुत करती हुई यह कहानी अपने कहानीपन, आसपास की घटनाओं की महीन बुनावट और चमत्कारिक रूप में बरती गई भाषायी कुशलता के कारण इसे पढ़ते चले जाने को मन में एक रुचि पैदा करती है।

कहानी के संवाद पेंटिंग्स पर केंद्रित चर्चा के माध्यम से आगे बढ़ते हैं ।

अक्सर ऐसा होता है कि हम अपने जीवन में कई बार अपरिचित लोगों से मिलते हैं, उनके साथ तमाम तरह की बातें होती हैं । इन बातों में तकनीक होता है, कला होती है साहित्य होता है । इन सब को लेकर हम संवाद करते हैं पर इस संवाद में व्यक्ति कहीं छूट जाता है ।

कहानी के कथ्य को लेकर कई डाइमेंशन्स हो सकते हैं पर कहानी का सूत्रधार जो एक युवक है वह लेनेट से मिलता तो है, पेंटिंग्स को लेकर उससे उसका  संवाद भी होता है । वे एक साथ जापान स्थित भारतीय रेस्त्रां में जाकर खाना भी खाते हैं पर युवक को अंत में यह एहसास होता है कि वह लेनेट को तो जानता ही नहीं है। दीवार में चिपकी हुई कोई तस्वीर है जिस पर एक लंबी चर्चा इस कहानी में है, जिसे की 2 घंटे में ही वहां की सत्ता के आदेश पर उतार दिया जाता है। युवक  उस शख्स के बारे में भी कुछ नहीं जानता जिसकी यह तस्वीर है। उस बारे में भी उसको कुछ पता नहीं कि आखिर सत्ता को कौन सी बात पसंद नहीं कि उस शख्स की तस्वीर को वहां से हटाया जाता है।

हमारे खुद के जीवन में भी इन चीजों को हम महसूस करते हैं । जीवन में आए हुए कितने लोगों के बारे में हम कुछ भी नहीं जानते पर उनके होते इस बात का एहसास हमें नहीं रहता । जब लोग छूट जाते हैं तब लगता है कि उनके बारे में हम कुछ नहीं जानते।

लेनेट को लेकर भी कहानी के  युवक का अनुभव कुछ इसी तरह का है जो आम लोगों के जीवन अनुभव से जाकर कहीं जुड़ जाता है। ऐसे अमूर्तन और सूक्ष्म विषय को कहानी के कथ्य के रूप में प्रस्तुत करना एक चुनौती भरा काम है पर सूक्ष्म घटनाओं को जोड़कर उनकी कुशल प्रस्तुति और संवादों की भाषायी कलात्मकता से देवेश ने इस चुनौती को आसान किया है। ऐसा भी लगता है कि उनकी कविता की साधना ने इस कहानी को लिखने में उनका साथ दिया है।


■रश्मि शर्मा की कहानी : "और वही ख्वाहिश"

---------------------------------


"और वही ख्वाहिश" रश्मि शर्मा की कहानी है जो कृति बहुमत के नवम्बर 2021 अंक में है।

आलोक और सत्या इस कहानी के दो ऐसे पात्र हैं जो कथा में मन के भीतर प्रेम की धूमिल होती इच्छाओं को अपने सीने में दबाए अपने रास्तों पर  विलग  हो चुके नायक नायिकाओं की तरह पाठकों को अपनी उपस्थिति का एहसास कराते हैं । जीवन की बड़ी-बड़ी आकांक्षाएं जो बाजार की उपज हैं,जीवन में प्रेम पर देखते देखते कब भारी पड़ने लग जाती हैं कि कहा नहीं जा सकता।आज के समय में युवक युवतियों  के जीवन की यह आम कहानी है कि प्रेम के बिछौने पर जो रिश्ते कायम हो सकते थे वे  रिश्ते भी इन बड़ी बड़ी आकांक्षाओं के बोझ तले जन्मने से पहले ही दम तोड़ देते हैं । सुख सुविधाएं, बड़ी-बड़ी आकांक्षाएं कभी भी प्रेम का विकल्प नहीं हो सकतीं। जीवन में वह समय भी आता है कि मन के भीतर अतृप्त आकांक्षाएं तो बची रह जाती हैं पर प्रेम छिटक कर जीवन से इतना दूर चला जाता है कि जीवन एक मरूभूमि में तब्दील हो जाता है। इस कहानी में भी एक शादीशुदा कुंठित और अवसाद ग्रस्त कथानायिका सत्या के साथ कुछ इसी तरह की बातें जुड़ी हुई हैं। वर्षों बाद आलोक की मुलाकात सत्या से जब उसके मायके में होती है तब सत्या की बातचीत और उसके व्यवहार में आए परिवर्तन से आलोक थोड़ा अचंभित होता है। 

"मुझे मोदी से प्यार है"  , "मुझे धोनी से प्यार है" इस तरह के कथन जब आलोक सत्या की जुबान से सुनता है तो उसे समझ में नहीं आता कि आखिर उसे हो क्या गया है? उटपटांग से लगने वाले इन कथनों को लेकर उसके मन में कई तरह के सवाल होते हैं। 

" क्या वह अपने शादीशुदा जीवन से खुश नहीं है?" सत्या से आलोक जब यह सवाल पूछता है तो सत्या उसके ऊपर बिफर पड़ती है। इस व्यवहार पर आलोक नाराज नहीं होता बल्कि उस पर उसे दया आने लगती है। वह तो यह सोच कर उससे मिलने आया था कि सत्या के जीवन में सब कुछ अच्छा होगा। पढ़ लिख कर वह अब तक एक बड़ा अधिकारी बन चुकी होगी। यह सब कुछ उसके मन में इसलिए बना रहता है क्योंकि सत्या की मूल छवि एक  महत्वाकांक्षी और ऊंची आकांक्षाओं वाली लड़की के रूप में उसके भीतर बनी हुई होती है।अरसे बाद, जीवन में बहुत बिखरी बिखरी, कुंठित और अवसादग्रस्त  सत्या से जब उसकी मुलाकात होती है तब भी सत्या के भीतर अतृप्त आकांक्षाओं की ध्वनि जब उसे सुनाई देने लगती है तो वह निराशा से भर उठता है। 

"मुझे मोदी से प्यार है"  , "मुझे धोनी से प्यार है"

सत्या के इन कथनों में मोदी और धोनी बाजार में चमक-दमक वाली बड़ी-बड़ी इच्छाओं, आकांक्षाओं के प्रतीक हैं जिनके प्रति जीवन में असफल और प्रेम से चुकी हुई नायिका का आकर्षण अब भी बरकरार है।अच्छी शैली और बेहतर बुनावट के साथ एक गम्भीर विमर्श की राह पकड़ती यह कहानी युवाओं के जीवन में बाजार से उपजी एक गम्भीर विडंबना की ओर इशारा करती है जिनके जीवन से प्रेम धीरे धीरे विलुप्त होता जा रहा है।


■सोनल की कहानी:  चस्का 

--------------------------


परिकथा मई जून 2021 अंक में प्रकाशित 'चस्का' कहानी के माध्यम से सोनल निम्न वर्ग में नासूर की तरह पसरती जा रही एक ऎसी समस्या को रेखांकित करती हैं जिस पर अमूमन लोगों की नजर जाते हुए भी  नहीं जाती।

आज का बाज़ार इतना लुभावना है कि वह हर आदमी को अपनी ओर आकर्षित करता है।क्या अमीर ,क्या गरीब .... हर आदमी आज उस जीवन को जीना चाहता है जिसमें श्रम न करना पड़े और अधिक से अधिक सुविधाओं को उठाया जा सके। आधुनिक खान पान, आधुनिक सुख सुविधाओं की तरफ आज की दौड़ ने निम्न वर्ग को इस तरह अपनी गिरफ्त में लिया है कि वे अपने परम्परागत श्रम मूल्यों को भूलने लगे हैं । उनकी दिशा उस तरफ है जो उन्हें नाकारा और बदहाली की ओर ले जाने के लिए पर्याप्त है।संसाधनों के अभाव के बावजूद आदमी को वह सब कुछ चाहिए जो एक साधन संपन्न आदमी की दुनियां में दृश्यमान हैं।चाहे इसके लिए अपने परम्परागत पारिवारिक मूल्यों को ही क्यों न छोड़ना पड़े। यही समस्या उन्हें एक दिन छोटे बड़े  अपराधों की ओर भी ले जाती है।

कहानी का पात्र राजेंद्र भी उसी निम्न वर्गीय समाज का प्रतिनिधित्व करता है । उसके सपने में गाँव की खेतीबाड़ी की जगह शहर की चकाचौंध है । खेती बाडी छोड़ गाँव से वह रोज सुबह अपनी साईकिल से खजुराहो शहर आता है और वहां घूम घूम कर पर्यटकों को अपनी बातों से लुभाता हुआ किताबें बेचता है । एक ऐसा काम जिसमें परिवार के गुजर बसर हो जाने की दूर दूर तक कोई उम्मीद नहीं । उसे हमेशा उस विदेशी पर्यटक का इन्तजार रहता है जिसने उसे अपने प्रवास पर साथ रखते हुए उसके भीतर उसी आमोद प्रमोद वाले जीवन को जीने का चस्का उत्पन्न कर दिया है।

मुझे लगता है कथा लेखिका ने जरूर अपने अनुभवों से इस कहानी को लिखा होगा।  

कहानी में उस पात्र के जीवन को करीब से देखने का वे आभास भी कराती हैं । उनके बीच के संवाद कहानी में बहुत रोचक हैं। कथा पढ़ते हुए उस मनः स्थिति से भी हमारा सामना होता है जब उस विदेशी पर्यटक के बिना भी वह पात्र किस तरह उस जीवन को जीने के लिए आतुर है |कहानी में  होटल के भीतर का दृश्य है, वहां घटित एक घटना से इस कहानी को देखने की हम कोशिश करें -

#'कुछ देर में राजेन्द्र उठा और हमारी टेबिल के पास से गुजरता हुआ सीधे कैफे के रिसेप्शन पर पहुँच गया। उसकी चाल और गंध बता रही थी कि वह नशे में है। ‘हम तुमाये संगे चलेंगे मोटरसाइकल से... आज हम साइकल नहीं लाये हैं.।’उसने रिसेप्शन पर खड़े एक कम उम्र लडके से अधिकार के साथ कहा। वह लड़का राजेन्द्र के गाँव का ही होगा।‘हाँ ठीक है, तुम जाओ बाहर अभी।’‘क्यों... काये जाएँ बाहर...’ राजेन्द्र एकाएक अकड़ सा गया।‘ तुमाओ बाप को है जे... ग्राहक हैं हम भी, यहीं डिनर करेंगे।’‘तुम जाओ बाहर... तुम ने ज्यादा पी लई है, राजू’ लड़के ने कुछ धीमी लेकिन चिढ़ भरी आवाज में कहा।‘नहीं जायेंगे।’तभी कैफे के गार्ड का सख्त हाथ राजेंद्र की गर्दन पर आ गया। गार्ड उसे बाहर की ओर खींचने लगा और राजेंद्र की निगाह मुझ पर पड़ी। मेडम जी, गुड इवनिंग...।वह फिर रिसेप्शन की और मुड़कर बोला, ‘जे मेडम जी ने हमें पैसा दए और हमने पी...तुमाये बाप की...।’ वह गालियाँ दे रहा था।मैं पशोपेश में पड़ गयी। लेकिन यह कहने से तो अपने को रोक नहीं सकी,‘छोड़ दो उसे... इस तरह गर्दन तो मत पकड़ो...।’गार्ड ने गर्दन छोड़कर उसका हाथ पकड ़लिया। मेरी तरफदारी से शायद राजेद्र कुछ होश में आया। वह रुंआसा हो गया, ‘मेडम जी, जे लोग बहुत बेईमान हैं स्कोट सर के साथ हम यहीं खाना खाते थे रोज...लंच... डिनर... तब हम बुरे नहीं लगे... हमारे साहब अभी जा साल आ नहीं पाये जासे... जब आयेंगे तो हम बतायें।

सस्ती शराब की गंध उड़ाता फटेहाल राजेन्द्र राजा कैफे की चमचमाती लाइटों में एक अजूबा पात्र लग रहा था। देशी-विदेशी आभिजात स्त्री पुरुष मुड़-मुड़कर यह तमाशा देख रहे थे। गार्ड भी मेरा लिहाज कब तक करता।‘चल हो गयी तेई कहानी... साहब को राग गाबो बंद कर...।’ उसने राजेन्द्र को बाहर ठेलते हुए कहा। राजेन्द्र ने इस बार विरोध नहीं किया। वह शर्ट की बाँह से आँसू पोछते हुए अपने आप बाहर चला गया। मैंने वेटर को बुलाकर कहा, ‘एक प्लेट पुलाव उसे पहुँचा दो, प्लीज।’गार्ड उसे फूड पेकेट देकर लौटा तो हमारी टेबिल के पास रुक गया। इस बार उसका स्वर सहानुभूति से भरा था,कहने लगा... मेडम जी कछु नई है जे अंग्रेज आत हैं इते, इन्हें मुँह लगा लेत हैं। साथ घुमाए... रेस्टोरेंट में खिलाएँ... सराब पिलायें... काये से के बिने कोई साथ चईयें।दो चार डालर में तो जे दिन भर साहब मेडम के पीछे डोलत फिरें... उनकी डाँट-मार खाएँ और जब बे सोरी कहें तो उनके गले लग जाएँ... उनके देस में र्कोइ मिलत नहीं है ऐसो उने...। गार्ड की वर्दी में मूँछों वाला वह प्रोढ़ आदमी एक गहरे अपनत्व से भरकर कहे जा रहा है... साहब तो लगा के चस्का चले जात हैं इने। फिर इनसे कोई काम बनत नइ है... ये बरबाद हो जात हैं,न जे खेती करें, न मजूरी... रोटी मिले ना मिले... बाल बच्चा पढ़ें न पढ़ें... चाहे बीबी भाग जाए। इनको तो सुबह से रात तक झई डोलने हैं ।'#

बहरहाल दृश्यों की स्वाभाविकता , अपनी साधारणता और रोचक शैली, साथ ही एक नए कथ्य की ओर ले जाती यह कथा मुझे हर नजरिये से अच्छी और रोचक लगी।

कहानियों की भीड़ में कोई कहानी अच्छी लगे, चाहे वह किसी भी रचनाकार की कहानी हो, उस पर विमर्श होना चाहिए।

रमेश शर्मा

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च