सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कहानी: एक छुटती मेट्रो, एक तस्वीर,एक लड़की -- परिधि शर्मा

कथाकार राजेंद्र दानी ,मुकेश वर्मा,प्रभुनारायण वर्मा के साथ मंच पर परिधि शर्मा 

कहानी: एक छुटती मेट्रो, एक तस्वीर,एक लड़की -- परिधि शर्मा


भी कभार बहुत बुरी लगने वाली कुछ चीजें अचानक बेहद अच्छी लगने लगती हैं। जैसे घुप्प अंधेरा ।

आज वह हॉस्पिटल के उस कमरे के बिस्तर पर अकेले अंधेरे में लेटा लेटा दुनिया की बहुत सी तिलस्मी शक्तियों का पर्दाफाश करने की कोशिश कर रहा था । अंधेरे के भीतर अंधेरा और उसके भीतर छिपे कई और अंधियारों के तिलस्मी चेहरे। प्रश्नों के भीतर प्रश्न ।उसकी नजरें दीवार के उस हिस्से पर जा गडीं जहां पर कमरे के रोशनदान से बरामदे के बल्ब की हल्की सी रोशनी पड़ रही थी। ठीक उसी जगह पर एक परछाई थी । वैसे तो वह परछाई बिस्तर के बगल की मेज पर रखी मिनरल वाटर की एक खाली बोतल की थी, पर फिलहाल उसे वह परछाई कुछ और ही नजर आ रही थी । शायद एक घोड़े की ।उसे लगा कि अभी गोली चलने की एक तेज आवाज आएगी 'धाँय' और वह घोड़ा सरपट दौड़ जाएगा। अपने पीछे धूल का गुबार छोड़ता हुआ।


अपनी पहली कहानी 'वजूद' के संपादक गीत चतुर्वेदी के साथ आयोजन में शामिल परिधि 

उसके दाहिनी जांघ में दर्द अभी बरकरार था ।कभी-कभी उसे लगता था कि यह दर्द उसके पूरे शरीर को एक बार में लील जाएगा । बेतरतीबी से।कुछ ही दिनों में डॉक्टर उसे हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर देंगे फिर वह बाहर होगा। खुली हवा में। इस कमरे से आजाद।

वह रो रही थी , जब आखरी बार उससे मुलाकात हुई थी। उसकी आंखें बड़ी बड़ी थीं और नजरें बेहद तेज । उसका माथा थोड़ा सा चौड़ा था और नाक नुकीली सी। उसका चेहरा गोल था और जब वह अपने होठों को रोते रोते भींच रही थी तब उसके दोनों गालों में गड्ढे पड़ रहे थे। उसने दुपट्टे से अपना सर ढक रखा था और उसकी आंसू भरी आंखें उसे एकटक देख रही थीं।

उन दोनों ने आपस में कुछ पका रखा था। एक प्रेम ज्वर। एक रिश्ते की डोर 'मुझे तुम्हारी फिक्र है' जैसी भावनाओं से गुंथा ।

'तुम चले जाओ' वह बुदबुदा रही थी। ये लोग तुमसे बहुत सारे सवाल जवाब करेंगे । तुम मुसीबत में पड़ सकते हो।

तिलस्म अपने पंख फैला रहा था और उसे ऐसा महसूस हो रहा था जैसे उसके ठीक पीछे कोई खड़ा हो, उस पर प्रहार करने को तैयार । उसने अपनी आंखें बंद कर ली। सहसा उसके कानों में एक आवाज पड़ी। एक बुदबुदाहट। 'उठो । जगदीश उठो ।जगदीश उठो।'

उसने आंखें खोल ली। कानों में अभी तक वही आवाज पड़ रही थी .. 'जगदीश उठो' मगर कमरे में कोई नहीं था।

समावर्तन के संपादक मुकेश वर्मा, त्रिलोक महावर, गीत चतुर्वेदी के साथ परिधि 

वह चीख पड़ा। उसके मुंह से निकला 'जय बजरंगबली।' वह आवाज आनी बंद हो गई । वह थोड़ी सी मशक्कत के बाद हल्का सा उठ बैठा । फिर उसने चारों तरफ नजरें घुमाई । एक गहरी चुप्पी। वहां कोई नहीं था। फिर वह निश्चिंत होकर सो गया।

अंधकार ने अपने डैनों को समेट लिया था। सुबह हो चुकी थी ।उसके अधेड़ पिता एक कांच के गिलास में चाय लेकर आ पहुंचे थे।

एक वार्ड बॉय की मदद से व्हील चेयर पर बैठा कर वे उसे गुसल खाने तक ले गए , फिर कांपते हाथों से उसे टूथब्रश और कोलगेट का एक ट्यूब थमाया।

जब वह मंजन कर रहा था तब झाग के गोलों के जमीन पर पड़ते ही उनकी चमक में उसे अपना चेहरा नजर आता, फिर वह ऊपर से नल चला देता और पूरा झाग पानी के साथ गटर में चला जाता। झाग के गोले सुंदर थे। कुछ सफेद, कुछ पारदर्शी । बिल्कुल जैस्मिन की आंखों की तरह। कुछ निश्चल ।कुछ सफेद। कुछ पारदर्शी।

जब उसने जैस्मिन को पहली बार देखा था तब उसके बाल गीले थे और चेहरा उजला उजला ।वह ऐसी लग रही थी जैसे बारिश में भीगी हीरोइन । 'मुझे तुम्हारी फिक्र है'... उसे अच्छे से याद है कि उनकी अंतिम मुलाकात में भी यह कहते हुए वह मुस्कुराई थी ।सिर्फ एक बार ।

विदाई के वक्त उन्होंने एक दूसरे को कोई खास तोहफा नहीं दिया था। सिवाय पिछले दो वर्षों से दुपहरियों की धूप चुरा चुरा कर पैदा की गई प्रेम की गर्माहट के।

सिवाय जिंदगी के रंगों की बचत कर कर के बुने गए सपनों के।

'तुम चले जाओ'

वह सचमुच चला गया था, जल्द वापस लौट आने के ख्याल के साथ। उस दिन मेट्रो ट्रेन में बड़ी खचपच थी। खड़े होने में भी थोड़ी सी मुश्किल हो रही थी, तभी उसका पर्स कहीं गिर गया था। जब उसने बहुत ढूंढा तब एक सीट के कोने में पड़ा मिला ।वह भीड़ को धक्का मारता हुआ पर्स तक जा पहुंचा। उसने जल्दी से पर्स खोला, पैसे सही सलामत थे । वह निश्चिंत हो गया ।एमजी रोड तक जाने के लिए जिस स्टेशन पर उसे उतरना था, वह स्टेशन आ गया था ।मेट्रो रुकी ।थोड़ी सी भीड़ के साथ वह भी बाहर निकला। मेट्रो चलने लगी।

श्रीकांत वर्मा सृजन पीठ के अध्यक्ष रामकुमार तिवारी द्वारा परिधि का  सम्मान 

अचानक उसे पूरा का पूरा सीन ब्लैक एंड वाइट सा लगने लगा । जैस्मिन की फोटो कहां गई? पर्स में नहीं थी ।फोटो मेट्रो में ही गिर गई थी और वह आगे बढ़ चुकी थी।

उन दिनों देश में दंगे भड़क रहे थे ।जाति, धर्म ,मजहब के नाम पर ।अखबारों के पहले पृष्ठ में बिछी लाशों की तस्वीरें! खून !सनसनी! बिखरती जिंदगानी की खबरें !

वह सब कुछ एक बार में समेट लेना चाहता था मगर उसकी गिरफ्त में कुछ भी ना आ सका ।सब कुछ बिखरना दरअसल ठीक-ठीक वहीं से शुरू हुआ था । वह तारीख उसे याद होते हुए भी याद नहीं आ रही थी । अब तक वह सोचता था कि उसे वह तारीख याद है पर आज जब उसने याद करने की कोशिश की तो वह भूल चुका था। उसे बौखलाहट होने लगी वैसे ही बौखलाहट जैसे कि आपको तब हो सकती है जब कुछ जरूरी लिखने के लिए आप अपने साथ एक कलम ले गए हों और एन वक्त पर जब आप उस का ढक्कन खोलें तो उसकी नीब टूटी हुई हो या की तब जब उसमें रिफिल ही ना हो या फिर उसकी स्याही सूख चुकी हो ।

'चिंता मत करो दोस्त जो होता है अच्छे के लिए ही होता है ।सब ठीक हो जाएगा' - डेविड ने ढाढस बंधाते हुए उस दिन कहा था जब वह पैकिंग कर रहा था।

'ठीक से पैक कर लो सब कुछ, देख लो कुछ छूट न जाए। मोबाइल का चार्जर निकाल कर रख लो बैग में।' कुछ छूट न जाए। छूट तो रहा था कुछ-कुछ। छुट्टी हुई मेट्रो। छुट्टी हुई एक तस्वीर। एक प्यारी सी लड़की ।

जो होता है अच्छे के लिए ही होता है, तो क्या इस देश में जो दंगे फसाद, खून खराबे, कत्ल वगैरह हो रहे हैं वह सब अच्छे के लिए ही हो रहे हैं ? वह प्रश्न भरी आंखों से डेविड को देखता तो है मगर उसकी मासूम मुस्कुराती नजरों को देख सिहर उठता है और फौरन अपनी नजरें फेर लेता है।

संगीत की धुन उसकी नसों के भीतर से गुजर कर झुनझुनाती हुईं तब तक उसे अपनी जकड़ में ला चुकी थीं। और उनके शिकंजे में कसा हुआ वह उनका गुलाम बन चुका था। संगीत तब तक एक नशा बन चुका था उसके लिए । यही वजह थी कि वह नियमित रूप से हर रात क्लब जाता था । जब उसके संगीत के गुलाम बन जाने की घटना घट ही रही थी उसी वक्त में एक और घटना घटी। किसी ने मिस्टर एके डिसूजा का कत्ल कर दिया था ।

'डॉक्टर साहब से बात हो गई है वह बोल दिए हैं घर ले जाना है तो ले जा सकते हो। बोलो चलना है क्या?" चाय ठंडी हो चुकी है ।

'जी चले चलते हैं ।अब का रुकना तो फिर, जब जाने का सिग्नल मिल ही गया तो , चलिए आज ही चलते हैं।' वह जल्द से जल्द उस कमरे से बाहर निकलना चाहता है। उसे याद है पिछली रात किसी ने उसके कानों में आवाज लगाई थी । उसे पक्का यकीन है कि वह कमरा भूतिया है। वह चला जाएगा आज ही । जितनी जल्दी हो सके।

वह अपने पिता को कातर नजरों से एकटक देखने लगा। वो अब थोड़ा झुक कर चलते हैं । बुढ़ापा उन पर हावी हो रहा है ।

डेविड उसका रूम मेट था । वह उसी के साथ-साथ बीए की पढ़ाई कर रहा था । कहने को तो वे दोनों पढ़ रहे थे पर उनकी असल पढ़ाई तो पत्राचार से हो रही थी। पढ़ते लिखते तो ठेंगा । बस जैसे-तैसे पास हो रहे थे। परीक्षा के एक दिन पहले बैठ जाते किताब पकड़ के । यूनिवर्सिटी वालों ने भी रहम खा रखा था उन पर । कभी फेल नहीं हुए। शुरुआत के दिनों में तो डेविड किसी बड़े सेठ का ड्राइवर था, पर इस काम में रिस्क था और पगार भी कम थी लिहाजा उसने इधर-उधर से जुगाड़ पानी करके एक बड़े से क्लब हाउस में होने वाली नाइट पार्टीज में डिस्को जॉकी का काम पा लिया ।

कुछ दिनों बाद उसी की सिफारिश पर जगदीश को भी डीजे का काम मिल गया। क्लब का नाम था डायमंड । वहां अक्सर रातों को महफिल जमती। जगह वही होती। संगीत का शोर भी उतना ही होता, बस लोगों के चेहरे बदलते रहते । पर एक चेहरा कभी नहीं बदला। वह चेहरा था क्लब के मालिक मिस्टर एंटनी के डिसूजा का । वह स्वभाव से हंसमुख थे और उनकी मूंछें घनी थीं। उनकी आंखें उम्र की बढ़त के साथ अपनी चमक खो रही थीं। और वह कोर्ट पेंट और सिर पर एक गोल हैट लगाए बॉलीवुडिया फिल्मों के विलेन की तरह लगते थे ।

जगदीश ने संगीत के शोर को अपना लिया। सीडी में कैद धुनों को हवा में आजाद करना उसका काम था, जिसे वह बखूबी करता । उसके काम से खुश होकर लोग देर रात तक थिरकते रहते । उसी महफ़िल में बड़े-बड़े लोग शामिल होते और आपस में कुछ खास बातें करते। कुछ खास सौदे। क्या आपका क्या मेरा । कितना आपका कितना मेरा । शराब की बोतलें । एक शाम आपके नाम। जगदीश ने अपने एक मित्र से माउथ ऑर्गन बजाना सीख लिया था । कभी कभार वह डेविड की अनुपस्थिति में जब कमरे में अकेला होता तब खालीपन और चुप्पी को खत्म करने के लिए माउथ ऑर्गन बजाता । उसे बजाना मशक्कत का काम था और उसे एक सुरीली धुन की लय में बजाना और भी मुश्किल काम था । उसने अभ्यास जारी रखा । इसी तरह एक बार वह माउथ ऑर्गन बजा रहा था कि उसके दिमाग में एक सवाल आया। धुन कहां से पैदा होती है और कहां जाकर खत्म होती है ?उसने अपनी बुद्धि के खदान में छान मारा तब उसे हल्का हल्का कुछ याद आया । दसवीं कक्षा में उसने शायद भौतिकी शास्त्र में पढ़ा था कि ध्वनि पैदा होती है एनर्जी से और माउथ ऑर्गन वाले केस में वह एनर्जी अपने अंदर से निकाल रहा है जो हवा में एक लहर पैदा कर रही है । उसी से ध्वनि का जन्म हो रहा है और यही ध्वनि हवा में तब तक तैरती रहेगी जब तक इसकी शक्ति याने की एनर्जी खत्म ना हो जाए । कितनी अजीब बात है , ध्वनि जैसी निर्जीव चीज का भी एक जीवन काल है । यह संपूर्ण जीवन भी तो एक धुन है चाहे जिस तरह से छेड़ दो, सुरीली या बेसुरी जैसी भी धुन पैदा कर दो । यह तो तुम्हारे कौशल पर निर्भर करता है। उस दिन डेविड चर्च गया था । वह संडे का दिन था। डेविड हर संडे चर्च जाया करता था। जाने क्या मांगता था परमेश्वर से। जगदीश तो जाने कितने दिनों से मंदिर नहीं गया था। बल्कि वह तो अपने जीवन में इतने कम बार मंदिर गया था कि वह अपनी उंगलियों में गिन सकता था कि वह कितनी बार मंदिर गया था । एक बार डेविड के कहने पर वह चर्च जरूर गया था । वहीं तो मिला था वह जैस्मीन से । वह इसाई थी । बेहद गोरी । उसके बाल गीले थे और चेहरा उजला उजला । वह ऐसी लग रही थी जैसे बारिश में भीगी हीरोइन । शायद वह तुरंत ही नहा धोकर , तैयार होकर सीधे चर्च आई थी । पता नहीं क्या मांग रही थी जिसस से । पता नहीं डेविड उस वक्त क्या मांग रहा था जिसस से । उस वक्त उसे यह भी पता नहीं था कि उसे क्या मांगना चाहिए था जिसस से। उसने जैस्मिन को नहीं मांगा ।

डेविड और जैस्मीन मित्र थे । वे एक दूसरे को काफी समय से जानते थे। उसकी पहचान जैस्मीन से उसी के जरिए हुई ।वे जल्द ही मित्र बन गए। अब वह अक्सर चर्च जाने लगा ।उसके भीतर कहीं एक सुकून था । दिल्ली जैसे बड़े शहर में कोई उनसे यह नहीं पूछेगा कि क्या वे एक ही मजहब के हैं। हां या ना। वे निश्चिंत होकर साथ-साथ चर्च से बाहर निकलते । साथ-साथ सड़क पार करते । साथ-साथ बस में धक्के खाते और साथ-साथ हंसते । वक्त बीतने लगा और उनकी खुशियां एक कहानी बन गयीं। ( कहानी आखिर होती क्या है ?जीवन का एक कतरा या संपूर्ण जीवन )

उन्होंने साथ-साथ इसी तरह से चलते रहने का वायदा नहीं किया एक दूसरे से कभी । साथ निभा पाना ही प्रेम नहीं होता । एक दूसरे की जिंदगियों से प्रेम के लम्हे चुरा लेना भी तो प्रेम की निशानी है। ऐसे लम्हे जिन्हें बाद के दिनों में शायद घर के कोने में महफूज रख दिया जाए इस जानकारी के साथ कि वह कोना लंबे समय तक महकता रहेगा।

"हिंदुत्व के बारे में तुम कितना जानते हो ? -जैस्मीन ने एक बार पूछ लिया था जगदीश से।

उसने कुछ सोच कर कहा,- 'ज्यादा कुछ नहीं, हां एक बात है हिंदुत्व का जन्म कब और कहां हुआ यह कोई नहीं जानता जबकि अगर तुम्हारे धर्म की बात कहूं तो वह तो ईसा के जन्म से शुरू हुआ था। ईशा का जन्म होना और फिर मृत्यु के बाद उनका ईश्वर को प्राप्त होना।'

'तुम सही हो' जैस्मीन ने अपने होंठ हल्के से भींच लिए। जब वह अपने होठों को भींचती थी तब उसके दोनों गालों में गड्ढे पड़ जाते ।

'लेकिन इसाईयत की कहानी वह नहीं है जिसमें इंसान ईश्वर बन जाता है, बल्कि यह वह कहानी है जिसमें ईश्वर इंसान बनकर आते हैं और पुनः ईश्वर बन जाते हैं। यह कहानी घोर यातना और कष्टों को सहकर महानता को प्राप्त होने की कहानी है और शायद ....! वह एक बार फिर अपने होठों को भींच लेती है सिर्फ कुछ पलों के लिए फिर अपने भवों को थोड़ा सिकोड़ कर कहती है, "शायद जो ईश्वर मां मरियम की कोख से इंसान बनकर पैदा हुए थे वो वही थे जिनसे हिंदुत्व जन्मा था , शायद ये वो ईश्वर हैं जिन्होंने हिंदू और इसाई तो क्या दुनिया के हर धर्म को जन्म दिया है।"

"तो क्या तुम यह मानती हो कि हिंदुत्व सबसे प्राचीन धर्म है ?"

"मैं नहीं मान सकती क्योंकि मुझे सच पता नहीं है ।"

वे शहर की गलियों में पैदल चलते चलते कभी किसी दुकान में घुसकर छोटी-मोटी खरीददारी कर लेते तो कभी बाजार में दुकानों की साज-सज्जा को टुकुर टुकुर निहारते हुए आगे निकल जाते । कभी किसी ठेले से गोलगप्पे खाते तो कभी बारिश में भीगते भीगते बस अड्डे तक जा पहुंचते ।

वक्त उनके हाथों से लगातार फिसल रहा था । जैस्मिन के पिता आगे की पढ़ाई के लिए इतने चिंतित नजर नहीं आते थे । किसी तरह उसे ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई पूरी कर लेने की छूट थी फिर अगर आगे कुछ अच्छा हुआ तो ठीक, नहीं तो शादी ।

उनका ग्रेजुएशन पूरा होने जा रहा था और समय की गाड़ी सरपट दौड़ रही थी। उन्हें इस तरह से मिलते हुए करीब दो वर्ष बीत चुके थे और उनकी बेफिक्री अब साथ छोड़ रही थी ।

डेविड ने आगे एमबीए करने का फैसला ले लिया था । क्लब हाउस में डीजे का काम उसने जगदीश से एक महीने पहले छोड़ा था । उसी बाद के एक महीने में बहुत कुछ बदल गया। एक कत्ल । क्लब के मालिक का। हालांकि बाद में असली कातिल पकड़ लिया गया था और जगदीश से कभी कोई सवाल जवाब करने नहीं आया पर फिर भी वह वक्त बहुत कशमकश में बीता । उसी बीच रिजल्ट आए और बीए की परीक्षा में पास होने के बाद जगदीश के पास अकेले काटने के लिए कई सूनी रातें थीं। क्योंकि रिजल्ट आने के बाद ठीक अगले दिन डेविड कुछ दिनों के लिए अपने घर चला गया। वह मध्य प्रदेश का रहने वाला था।

कत्ल की खबर आने के बाद रात की पार्टियां होनी बंद हो गई थीं, लिहाजा अब वहां जगदीश की कोई जरूरत नहीं थी । वह संगीत की गिरफ्त से बाहर आ चुका था और प्रतिमाह मिलने वाली पगार से भी। 8000 रुपये महीना। उसके पिताजी से उस दिन फोन पर बात हुई थी। उसकी अम्मा की तबीयत सही नहीं रहती। दीदी की शादी के बाद घर में अकेली हो गई थी।

'पढ़ाई लिखाई हो गई तो लौट आओ । का रखा है दिल्ली मुंबई में। इहहीं आ के रहो । इधर ही कहीं लग जाओ, नहीं तो यदि कोई सही जुगाड़ न लगे तो कोई दुकान डाल लियो ।"

जैस्मिन से सिर्फ इतना ही तो कहा था उसने लौटने से पहले "डिसूजा साहब का मर्डर एक बड़ी मिस्ट्री है, पुलिस को हर किसी पर शक है । मेरा यहां रुकना ठीक नहीं है जैस्मिन ! मुझे डर लगने लगा है यहां ! जाना होगा कुछ समय के लिए !"

उस शाम बारिश हो रही थी। उसने अपना सर दुपट्टे से ढक रखा था। बारिश की बूंदे उसकी आंखों में भी थीं।

वे लौट गए थे उस अंतिम मुलाकात के बाद । विपरीत दिशाओं में । वह भांप गया था कि उसके जीवन का एक चैप्टर क्लोज हो रहा था । वह उसी शाम मेट्रो पकड़ कर अपने रूम लौट रहा था । वहीं से तो चीजों के बिखरने की शुरुआत हुई थी । एक छुटती मेट्रो । एक तस्वीर । एक लड़की।

डेविड के घर से वापस लौट आने के एक दिन बाद ही तो उसने पैकिंग शुरू की थी । डेविड ने भी उसके साथ साथ अपनी पैकिंग शुरू कर दी थी। डेविड और जगदीश समझ रहे थे वक्त को । चीजें सदा एक ही नहीं रहतीं। हमारे अनुसार परिस्थितियां ढल नहीं सकतीं, हमको भी ढलना होगा उनके अनुरूप।

वह लौट ही तो रहा था अपने घर।

कुछ बीता वक्त और कुछ सामान।

इतना ही तो था उसके पास जिसे वह लेकर स्टेशन के लिए एक ऑटो में लादकर लौट रहा था जानी पहचानी गलियों में से होकर । जब सामने से आती कार से ऑटो की भिड़ंत हुई और ऑटो पलट कर एक ओर जा गिरी तब जगदीश की कोहनी को जमीन से एक जोर की ठोकर लगी। जब थोड़ा सा होश संभाला तब जाकर महसूस हुआ कि बायां पैर सुन्न पड़ चुका है। एक्सरे का रिजल्ट आया । दो हड्डियों में फैक्चर । एक दाएं हाथ की और एक बायीं टांग की । एक हुमेरस और एक टिबिया। प्लास्टर तो पिताजी के पहुंचने के बाद ही चढ़ सका।

डॉक्टर साहब का आश्वासन था कि सब कुछ ठीक हो जाएगा । बस हड्डियों को कुछ वक्त जोड़ने के लिए छोड़ दिया जाए । याने कि बेड रेस्ट। याने कि बहुत सारा अंधेरा। बहुत सारा तिलस्म। करने को कुछ नहीं ।

घर लौट आने के एक हफ्ते बाद की बात है । वह मां का सहारा लेकर शाम का कुछ वक्त खुली हवा में बिताने के लिए आंगन में बिछी खटिया में जा लेटा। उसकी एक टांग और एक हाथ पर प्लास्टर चढ़ा था। वह पीठ के बल लेटा था । उसकी आंखों के ठीक आगे खुला आसमान था। उसी वक्त उसे एक तारा नजर आया। नितांत अकेला । मानों समूचा ब्रह्मांड उसी का हो। मां बचपन में कहती थी कि एक अकेले तारे को देखना अशुभ होता है। वह तारे को लगातार एकटक देखता ही रह गया। वह वहीं आंगन में लेटा लेटा सो गया।

नींद में उसे बहुत सारे सपने आए। सपनों में एक लड़का था जो लट्टू चलाने की बहुत कोशिशें कर रहा था मगर हर बार वह रस्सी से लड्डू को जमीन में फेंकता और लट्टू बिना घूमे लुढ़क जाता ।

जैस्मिन दिल्ली की उन्हीं गलियों से होकर जा रही थी । वह खुश थी । बेहद खुश । वह सपने में अपना तोहफा वापस मांग रही थी । दो वर्षों से दुपहरियों की धूप चुरा चुरा कर पैदा की गई प्रेम की गर्माहट और जीवन के रंगों की बचत कर कर के बुने गए सपने ।

जैस्मिन के बारे में एक बात वह पक्के तौर पर जानता था। वह यह कि जैस्मिन जैसी गोरी इसाई लड़की उसने अपने जीवन में पहली बार देखी थी । इसके पहले उसने जितने भी क्रिश्चन लोगों को देखा था वे सब गहरे रंगों के थे । उसके मानस पटल में जेस्मिन एक अनोखी लड़की थी जो क्रिस्चियन भी थी और गोरी भी ।

आंगन में सुंदर सुंदर गुलाब के फूल खिले थे ।पिताजी को फूलों का बड़ा शौक जो था । जब वे शेव नहीं करवा पाते तब उनके गालों पर छोटी-छोटी सफेद दाढ़ियाँ ऊग आतीं जो उसे गुलाब के कांटों सी लगतीं। उनकी दुकान और खेत खलिहानों के साथ-साथ उनके मकान का आकार भी फलीभूत हो रहा था । वह एक मंजे हुए व्यापारी की तरह हर चीज में मुनाफा ढूंढते। फिलहाल अपनी सारी उर्जा वे अपने बेटे को लाइन पर लाने में लगाए हुए थे ।

बस यह एक काम हो जाए फिर सब ठीक ।

इस जमीनी हकीकत को उनका लड़का समझ रहा था। वह जानता था कि बस उसे एक काम करना है ।

पीछे की कुछ चीजों को अदृश्य कर देना है ।

कुछ घटनाओं के घटित होने के साक्ष्यों को झुठला देना है।

उसकी नींद टूट चुकी है । अंधकार छा रहा है। ऊपर आसमान में अब कई तारे उभर आए हैं। उसे अब घर में ऐसा कोना तलाशना है जहां कुछ चीजों को बहुत समय तक महकते रहने के लिए महफूज रख दिया जाए।

 

यह कहानी परिकथा मार्च-अप्रेल 2014 अंक में प्रकाशित हुई थी और 25 मई 2023 को बिलासपुर शहर में छत्तीसगढ़ संस्कृति परिषद् अधीन 'श्रीकांत वर्मा सृजन पीठ' के आयोजन में परिधि ने इसका पाठ किया था. 

 

परिचय  

सुश्री डॉ. परिधि शर्मा का जन्म 6 अगस्त 1992 को छत्तीसगढ़ के रायगढ़ में हुआ । विवाह उपरांत ओडिशा के मलकानगिरी में दन्त चिकित्सक के रूप में वे अपना निजी क्लिनिक अपने पति डॉ. नित्या नन्द के साथ संचालित कर रही हैं । वर्तमान में वे मास्टर ऑफ डेंटल सर्जरी MDS की छात्रा हैं ।

17 साल की उम्र में उनकी पहली कहानी 'वजूद' भास्कर रसरंग के 20.09.2009 अंक में गीत चतुर्वेदी के सम्पादन में प्रकाशित हुई थी । उसके पश्चात वागर्थ (मार्च 2010), समावर्तन (अक्टूबर 2011), परिकथा (जनवरी-फरवरी 2012), समावर्तन (फरवरी 2012), परिकथा मार्च-अप्रेल 2014 इत्यादि पत्रिकाओं के अंकों में  उनकी  कहानियाँ प्रकाशित हुईं ।

इसके अलावा पंद्रह साल की उम्र में लिखा गया उनका एक यात्रा संस्मरण 'आनंद वन में बाबा आमटे के साथ' मधुबन बुक्स द्वारा प्रकाशित हिन्दी पाठ्य पुस्तक वितान कक्षा सातवीं में शामिल है, जिसे सीबीएसई से जुड़े कई कान्वेंट स्कूल के बच्चे पढ़ते हैं.

 

-----

संपर्क:

डॉ. परिधि शर्मा

जुगल किशोर डेंटल क्लिनिक

आर के टावर, न्यू मेडिकल रोड़

मलकानगिरी (ओड़िसा)

मो.9752891078

 

 

 

टिप्पणियाँ

  1. श्रीकांत वर्मा सृजन पीठ में कहानी पाठ करके आपने रायगढ़ शहर का मान बढ़ाया है। बहुत सुंदर कहानी के लिए हार्दिक बधाई

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च