सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

परदेसी राम वर्मा की चर्चित कहानी : दीया न बाती

आज हम एक महत्वपूर्ण कथाकार परदेशी राम वर्मा जी पर चर्चा को केंद्रित करेंगे। 18 जुलाई 1947 को दुर्ग छत्तीसगढ़ के लिमतरा गांव में जन्मे परदेशी राम वर्मा देश के महत्वपूर्ण कथाकारों में से एक हैं ।वे पूर्व में सेना में भी रहे हैं और भिलाई स्टील प्लांट में भी उन्होंने काम किया है। रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर से मानद डी.लिट्. की उपाधि प्राप्त परदेशी राम वर्मा की अनेक किताबें प्रकाशित हुई हैं उनमें सात कथा संग्रह एवम तीन उपन्यास प्रमुख हैं । वे हिंदी और छत्तीसगढ़ी दोनों ही भाषाओं में सम गति से लेखन करते हैं ।वर्तमान में वे अगासदिया नामक त्रैमासिक पत्रिका के संपादक भी हैं।उनकी कहानियों की देशजता और जनवादी तेवर उन्हें प्रेमचंद की परंपरा के कहानीकार के रूप में स्थापित करता है।उनकी इस कहानी को हमने हंस के जुलाई 2019अंक से लिया है। सत्ता और कॉर्पोरेट तंत्र की मिलीभगत और उनके षड्यंत्र से गांव आज कैसे प्रभावित हैं  कहानी इसे आख्यान की तरह हुबहू सुनाती है । सारे दृश्य आंखों के सामने फिल्म की तरह चलने लगते हैं। ग्रामीणों को विकास का सपना दिखाकर उनकी जमीनों को छीनना आज का नया खेल है। इस खेल में विधायक, सांसद, मंत्री, संत्री इत्यादि सभी पूंजीवादी ताकतों का साथ देते आ रहे हैं और उन ग्रामीणों को जिनके माध्यम से वे चुनकर आते हैं , उन्हें ही बरगलाकर ठगने का काम कर रहे हैं। इस कहानी में दादी विवेक और विरोध का एक प्रतीक है । ऐसे प्रतीक  आज ग्रामीण समाज से गुम हो रहे हैं ।आज की सत्ता में बैठे लोग विरोध के इन स्वरों को कैसे मद्धम करते हैं इस कहानी में बहुत सहज ढंग से इसे उठाया गया है । विधायक दादी को शॉल ओढ़ाकर जिस तरह सम्मान करते हैं और उस सम्मान को पूरा ग्रामीण समाज सम्मान की नजर से देख कर खुश होता है, दादी को इसी बात का दुख है कि लोग आज एकदम बेसुध हैं। उनमें षड्यंत्रों को समझने का हुनर ही नहीं है।गांव के खेतों को बर्बाद करके पावर ग्रिड कारपोरेशन बिजली के बड़े-बड़े खंभे लगा देता है। गांव की गलियों  में भी खंभे लगते हैं पर उनमें बिजली नहीं आती।गांव में उजाले का जो सपना दिखाया गया होता है वह सच नहीं हो पाता इसलिए दादी इन खंभों पर पच्च से थूकती है और खेत में गड़े दैत्याकार खंभों के नीचे जाकर ओढ़ाए गए शॉल को जला देती है। खेत खलिहान सब बर्बाद हो जाने के बाद भी किसान के जीवन में ना दीया है न बाती है । बस अंधेरा ही अंधेरा। अपनी कहानी में परदेशी राम वर्मा इस बात को रखने में पूरी तरह कामयाब हुए हैं । उनकी कहानियों में ठेठ देशज शब्दों का प्रयोग इतनी स्वाभाविकता के साथ होता रहा है कि उनकी कहानियों की प्रभाव उत्पादकता बढ़ जाती है और पाठक उनकी कहानियों से जुड़ जाता है। 



दीया न बाती 

~~~~~~~~

बात बात में पचास और छप्पन का जिक्र आज भी इस क्षेत्र के लोग कर बैठते हैं । रामखेलावन की दादी छप्पन और पचास के बिना चार वाक्य भी नहीं बोल सकती। रामखेलावन के दोस्त ठठ्ठा दिल्लगी में तुक मिलाकर उसे छेड़ते हैं...

 'काम बुता म अगुवाती छप्पन पचास के नाती' 

काम के मामले में रामखेलावन अव्वल तो था ही, गांव भर में इसलिए यह तुकबंदी सबको जंचती भी थी । मित्रों को भी कभी कभार जिज्ञासा हो जाती कि आखिर यह छप्पन और पचास है क्या ? रामखेलावन के मित्र भी उसी की तरह छोटे किसान हैं चौथी पांचवी तक पढ़कर सब अपनी खेती संभालने लगे। सब गांव की रामायण मंडली के संगी भी हैं। रतिराम ने कहा कि 'रामखेलावन एकलख पूत सवालख नाती, ताके घर में दिया ना बाती'

 यह बात पंडित जी रावण के लिए कहते हैं अहंकार में डूबा रामायण सब कुछ होते हुए भी अंधकार में समा गया लेकिन तुम्हारा पचास और छप्पन क्या है। आजकल मोदी जी भी छप्पन इंच की छाती की बात कर रहे हैं। प्रियंका बहन अलग व्याख्या कर रही हैं कि देश चलाने के लिए छप्पन इंच की छाती नहीं दरियादिली चाहिए। भाई बात तो ठीक है छाती से मामला थोड़े ही ना सुलझता है। रामखेलावन को रति भाई की लंबी छलांग कभी अच्छी लगती है ।कभी वह झुंझला भी पड़ता है, उसने सूत्र रूप में समझाया कि रति भाई हमारी दादी हैं सियान डोकरी, तुम नहीं समझोगे ।

सुनो सन पचास में चकबंदी हुई दादाजी तो बीमार रहते थे दादी ने चकबंदी इंस्पेक्टर से कहा कि मेरे दो छोटे-छोटे बच्चे हैं मुझे गांव से लगी जमीन दो । इंस्पेक्टर ने कहा कि मंडलिन तुम्हारे पास पंद्रह एकड़ जमीन है, इधर-उधर बिखरी हुई है तुम्हारी जमीन, खेत एक जगह नहीं है, चकबंदी में अगर गांव के पास जमीन लोगी तो सात एकड़ मिलेगी नहीं तो रिंगनिखार में दूर ले लो पूरे पन्द्रह एकड़ एक जगह दे दूंगा ।सोच लो। दादी ने कह दिया कि साथ ही सही। गांव के पास चाहिए। जीने के लिए सात एकड़ बहुत है ।दो ही तो मेरे बेटे हैं कमा खा लेंगे ।रिंगनिखार दूर है मैं नहीं संभाल पाऊंगी ।इस तरह गांव के पास सात एकड़ जमीन मिली दादी को सन पचास की चकबंदी में । दाऊ लोगों के परिवारों ने तो भाठा चरागाह भरी तालाब जाने क्या कुछ लिखवा लिया अपने नाम, मगर कमजोर लोग इसी तरह ठगे गए ।वही सात एकड़ जमीन है जिस पर अब गाज गिर गई। दादी तो बहुत बूढ़ी हो गई हैं मगर चल फिर लेती हैं ।आज भी अपनी जमीन तक चल देती हैं ।गांव के पास ही जमीन है लेकिन दादी बिजली विभाग के नए तमाशे से बहुत दुखी हैं ।पावर ग्रिड कारपोरेशन ने बिना पूछे पांच सौ और सात सौ केवी का डबल सर्किट लाइन बिछाकर किसानों को बर्बाद करने का काम शुरू कर दिया है। दादी तो पगला ही गई है रोज शाम को रोती है कि अंग्रेज से भी बड़े दुश्मन हो गए देसी सरकार के हाकिम । अब क्या समझाऊं मैं।

 रतिराम को इस तरह पचास का मर्म तो समझ में आ गया मगर छप्पन अभी बचा था । बात हो रही थी कि लाठी टेकते मंगल वही आ डटे। सत्तर के ऊपर के मंगल ने बिना पूछे ही बता दिया कि संवत छप्पन में अकाल पड़ा था ।लोग दूसरे प्रांतों में रोजी मजदूरी करने गए थे वैसा अकाल फिर कभी नहीं पड़ा इसलिए अकाल दुकाल को हम छप्पन पड़ना भी कहते हैं । रतिराम को इन दो जानकारियों से खुशी तो हुई मगर उसने डोकरा मंगल को छेड़ते हुए कहा कि तुम्हारी छाती छप्पन इंच की है कि नहीं बाबा जी । मंगल ने उसकी टीमाली के जवाब में उसे गरियाते हुए कहा - साले हो छाती मजबूत चाहिए ।कमजोर छप्पन इंच से बेहतर है मजबूत छत्तीस इंच ।बाबाजी के जवाब से सब सदैव हंसते हुए निःशब्द हो जाते हैं। इस बार भी जीत बाबा मंगल की ही हुई 

रामखेलावन दोस्तों को विदा कर घर लौटने लगा । घर के भीतर से दादी के रोने की आवाज आ रही थी। वह दौड़कर घर के भीतर गया । घर में अंधेरा था। रामखेलावन ने अपनी पत्नी से पूछा क्या बात है ?बिजली चली गई है क्या। रामवती ने रोते हुए बताया कि दादी ने अपने हाथों से घर के सभी बल्ब तोड़कर पटक दिए हैं ।हाथ उनका कट भी गया है ।रोती हैं और कहती हैं कि आग लगे ऐसी रोशनी में ।सरकार जग अंधियार करने बिजली ला रही है । रामखेलावन ने दादी के पास जाकर देखा हाथ से खून बह रहा था। डेटॉल और रूई से रामखेलावन ने दादी के हाथ को साफ किया फिर पट्टी बांधते हुए उसने पूछा- दादी क्या हो गया ?उसे लगा कि दादी कहीं सचमुच पगला तो नहीं गई है ।दादी ने राम खिलावन को पोटार कर रोते हुए कहा -बेटा तुम्हारा दादा जल्दी चला गया। अपने बेटों को भी मैंने जल्दी खो दिया। मैं अभागन तुम्हारे सहारे देख रही हूं दुनिया। यह क्या आजकल खेतों में खम्भा गड़ गया खिलावन ? हम लोग तो बर्बाद हो गए बेटा । मेरे छोटे बेटे को खेत में काम करते हुए सांप ने काट लिया था। यह बिजली का बड़ा खम्भा सांप है बेटा ।बिजली का खंभा तुम्हें काटने के लिए खेत तक चला आया है।

 रामखेलावन  भी आसा हो गया । उसने अपने लड़के से कहा कि जाकर दो बल्ब ले आ। घर का अंधेरा तो भगा। दादी ने कहा बेटा जब तक खंभा नहीं हटेगा घर में बिजली नहीं जलेगी। अगर बिजली जली तो समझ लो मैं नहीं रहूंगी ।रामखेलावन डर सा गया। उसने अपनी पत्नी से कहा लालटेन को निकाल लो ।आज उसी से काम चलेगा। रामखेलावन दूसरे दिन सुबह गांव के सरपंच को लेकर खेत की ओर गया ।पावर ग्रिड कारपोरेशन के लोग 500 पावर का खंभा गाड़ने के बाद 700 पावर के लिए चार गड्ढा खोद चुके थे। दो गड्ढे तो रामखेलावन के खेत में पहले से ही थे ।दो और गड्ढे खोदे गए पड़ोसी रतीराम के खेत में । अभी वे खेत पहुंचे ही थे कि रतीराम अपने साथियों के साथ आ गया। सबने गड्ढा खोद चुके मजदूरों को ललकारा। काम रुक गया ।तब तक विभाग का अफसर भी आ चुका था ।उसने गाड़ी से उतरते हुए गांव वालों को धमकाया कि सीधे लाल बंगले की हवा खाओगे। जाओगे जेल ।यह राष्ट्र विरोधी काम है ।काम को रोको मत ,बिजली जरूरी है, देश की तरक्की जरूरी है ,देश की सभी जमीन सरकार की है ,तुम्हें मुआवजा मिल रहा है यही बहुत है, चले जाओ यहां से वरना फंसा दूंगा ।खेत से लौटकर गांव में सब सरपंच के घर एकत्र हो गए ।कुछ और लोग भी आ गए। गांव का पटवारी भी आ गया। गांव का कोतवाल भी खड़ा हो गया। रामखेलावन ने कहा कि सन् पचास में जब चकबंदी हुई तब दादी ने पन्द्रह एकड़ के बदले सात एकड़ जमीन गांव के पास मांग ली थी। अब आजकल पैंसठ साल बाद बिजली की नई मुसीबत आई है। मेरी दादी तो यह सब देख कर खाना पीना छोड़ चुकी हैं ।अब आप सब लोग न्याय करवा दीजिए । पांच सौ केवी का खंभा तो पहले ही खड़ा है ,यह सात सौ का नया खटराग आ गया है ।अब हमें नहीं देखना है यह खेल। जबरदस्ती सरकार क्यों खेत को बर्बाद कर रही है ।छाती पर चढ़कर खून पी रही है यह सरकार ।सरकार कहती है कि वह बिजली बेचेगी ।अरे पूंजीपतियों के हाथों बिकी  सरकार क्या बिजली बेचेगी , बेचेगी हमारी इज्जत ! 

गुस्साते हुए रतिराम ने कहा कि गड्ढे ऐसे खोद रहे हैं कि दो गड्ढों में ही आधा एकड़ खेत बिगड़ जाता है । ऊपर से पत्थर भी निकल रहा है ।आधा बांस का गड्ढा खोदते हैं। अंधेर है अब उस खेत में क्या होगा? ना नागर चलेगा ना बमखर। पानी भी गड्ढों में भरेगा ।जगह-जगह मिट्टी की ढेरी छोड़ कर आगे बढ़ जाते हैं। हम सब देख रहे हैं। पड़ोसी गांव के किसानों की दुर्दशा। कई लोग बिजली के खंभे के कारण गांव छोड़कर भाग गए ।कमाने खाने निकल गए। सरकार इसे बंद करे । पहले 500 पावर की लाइन आई वही बर्बाद करने के लिए काफी है ।अब 700 की लाइन के लिए जबरदस्ती कर रहे हैं ।अभी बात चल ही रही थी कि वही अफसर पुनः आ गया ।सरपंच ने उसको अपने पास बिठाकर गांव वालों की भावनाओं के बारे में बताया ।रास्ता बताने का आग्रह भी किया सरपंच ने। अफसर ने लंबी सांस लेते हुए कहा -- मैं ईमानपूर्वक बताता हूं आपको , मैं भी किसान का बेटा हूं मगर मेरी नौकरी कसाई की है। मैं कुछ नहीं कर सकता, कोई कुछ नहीं कर सकता, सरकार का हुक्म है ।विकास के लिए बिजली जरूरी है इसलिए यह खेल रुक नहीं सकता ।आप लोग मरिये मत ,समुद्र मंथन से निकले हलाहल को तो भगवान शंकर ने पी लिया था और दुनिया विनाश से बच गई थी। आज कोई हलाहल पीने के लिए तैयार नहीं है। हलाहल को अब समाज का गरीब तबका पिएगा और मरेगा तो जब मरोगे तब मरोगे अभी कानून को हाथ में मत लो। सरपंच और सभी लोग बिजली विभाग के साहब की बात से प्रभावित हो गए ।रामू ने पूछा किस गांव के हो बाबू ? साहब ने उलट कर पूछा-- क्यों भाई ऐसा क्या हो गया कि मैं गांव वाला लगने लगा। रामू ने कहा साहेब सहरिया मनखे ऐसी बात नहीं कर सकता ।पले बढ़े  हो गांव में तभी हमें सुहा रहे हो ।रामू की बात से सब चिंता भरे माहौल में भी हंस पड़े। 

साहब ने कहा आप लोगों ने ठीक पहचाना मैं भिलाई के गांव कुटेला भाटा का रहने वाला हूं ।अब तो हमारा गांव भिलाई कारखाने में समा गया है मगर एक समय था कि हमारा गांव 200 घरों का शानदार गांव था ।हमारे पिताजी बताते हैं कि दस तो तालाब थे गांव में ।घर घर कुआं था। आज भी हमारे गांव का पुराना मंदिर वहां खड़ा है। अब उसे बिहारी पंडितों ने कब्जे में कर लिया है ।खूब चढ़ावा चढ़ता है ।प्रचार के दम पर मंदिर कई गुना बड़ा बन गया है। कुछ लोगों की दुकान बनकर रह गया है मंदिर। मंदिर में चल रहा है व्यापार ।बाहर नारियल की दुकानें हैं भीतर लाल कपड़े और प्रसाद की दुकानें सज गई हैं ।रामू ने कहा -- साहिब जी हम भी जानते हैं ।हमारा ससुराल गांव था आमदी। अब उजड़ गया। हमारे ससुर बताते थे कि 1956 में ₹500 प्रति एकड़ मुआवजा मिला ।वहीं जमीन अब 5 करोड़ एकड़ में बिक रही है ।सरकार ने अनाप-शनाप जमीन पर कब्जा कर लिया। आज स्थानीय आदमी बसुन्दरा हो गया ।देशभर के लोग आकर घर वाले और दुकानदार हो गए, ऐसा कहीं हमारे साथ तो नहीं करने जा रहे हैं आप ?बिजली वाले साहब ने कहा- आप लोग दुख में जीने के आदी हैं ।पलायन यहां का चरित्र है ।घुड़क देने से लोग मूत मारते हैं ।लड़ना आपके स्वभाव में होता तो दूसरे प्रांत के नक्सली लोग आकर छत्तीसगढ़ के जंगलों की रक्षा क्यों करते ?

घर जाइए और फोकट में मिला चावल खाइए ।जो मुफ्त का खाएगा वह क्या अपनी जमीन बचा पाएगा? साहब की बात से सन्नाटा खिंच गया ।सब एक-दूसरे का मुंह ताकने लगे ।सरपंच ने कहा --सब बात के एक्केठन। लड़ो मत ।

होई है सोई जो राम रचि राखा ।अब आगे कुछ ना बोलो ना सोचो ना करो होने दो जो हो रहा है ।बात खत्म हो गई रामखेलावन के साथ सभी लोग चुपचाप सरपंच के घर से निकल गए ।भीतर ही भीतर धीरे-धीरे गांव सुलगने लगा ।आसपास के 20 गांव के किसान छटपटाने लगे ।खबर मुख्यमंत्री तक पहुंची ।क्षेत्रीय विधायक को बुलाकर उन्होंने डपटा। क्षेत्रीय विधायक राजनीतिज्ञ था। सामने चुनाव भी था ।विधायक सतर्क हो गया ।आग बुझाने का उसका अपना तरीका था ।

गांव के बाहर छोटा सा नाला है वहां गांव भर के पशु चरवाहे पशु लेकर चराने जाते हैं ।नाले के पास 40 एकड़ का चारागाह है छोटा सा जंगल ही कहिए ।पहले जंगल नहीं था। आजादी के बाद जब चकबंदी हुई तब गांव वालों ने आम महुआ बेल आंवले के पेड़ों का जंगल वहां खड़ा कर लिया। इमली के 25 ऐसे पेड़ है कि एक एक पेड़ से सैकड़ों बोरी इमली निकल आती है ।गंगा इमली के भी पेड़ लगे हैं ।नींबू के 20 पेड़ भी लगाए गए हैं ।किनारे-किनारे सौ पेड़ सागौन के भी लगे हैं ।

इस पूरे क्षेत्र में यह जंगल आजादी का जंगल कहलाता है ।यह नाम गांव के जागरूक पंडित गंगाप्रसाद ने दिया था। वे प्रतिवर्ष इस जंगल में 1 सप्ताह का भागवत प्रवचन भी करते थे ।

10 गांव के लोगों को न्योता देकर आजादी के जंगल में एक दिवसीय बैठक करने का निर्णय सरपंच ने विधायक के निर्देश पर लिया ।विधायक जी ने अपने राजनीतिक गुरु के कहने पर यह सम्मेलन रखवा दिया। खाना खर्चा चाय पानी सब विधायक जी की ओर से मिला ।बैठक रखी गई ।जंगल में ही भात दाल और तरकारी बनाकर हजारों लोगों को परोसा गया। पहली बार पानी के पाउच बांटे गए ।पोंगा लगा ।सामने चुनाव था, विधायक जी की टिकट पक्की थी। विधायक जी ने रामखेलावन और उसकी दादी को भी बुलवाया था। विधायक जी ने अपने हाथों से साल ओढ़ाकर दादी का सम्मान किया और कहा कि देश आजाद है, यह जंगल आजाद है, सबको अपनी बात कहने की आजादी है ।सरकार अपना काम करे।रोशनी लाने वाले लाएंगे। हम सब रोशनी के साथ रहे हैं और रहेंगे ।मुख्यमंत्री जी गरीबों के दाता हैं। वे विकास पुरुष हैं। धरती पर स्वर्ग उतारने के लिए जन्मे हैं। अंधकार का पक्ष हम नहीं लेंगे ।अंधकार को क्यों धिक्कारें? अच्छा है एक दीप जला दें। तो भाइयों अब तय हो गया कि दादी जी तथा आप सब ने रोशनी के खंभों के लिए हां कर दी है। चुनाव भर हो जाने दीजिए फिर देखिए विकास ।

यह नया खेल था ।चुनाव की तैयारी शुरू हो गई ।खंभों को खड़ा करने की तैयारी भी हो गई। काम तो भला क्या रुकता देखते ही देखते 700 पावर के खंभे भी खड़े हो गए। रामखेलावन की दादी को भी खबर लगी। रामखेलावन देख रहा था कि दादी गुमसुम रहती थी। दादी किसी से कुछ नहीं कहती थी ।गांव के लोग ही बेसुध थे तो भला बूढ़ी दादी की क्या बिसात ।एक पहर रात दादी लोटा लेकर दिशा मैदान के लिए निकल पड़ती थी। 

आज कुछ पहले ही सटर पटर करती हुई दादी निकली। घर के बाहर दादी ने देखा गलियों की बत्तियां नहीं जल रही थीं। खम्भे तो खड़े थे मगर कभी गलियों में रोशनी नहीं हो पाई ।दादी ने एक खंभे पर पच्च से थूक दिया ।धीरे-धीरे दादी अपने खेत की ओर निकल पड़ी ।जड़काले के दिन थे। गांव के कुत्ते अनावश्यक कभी नहीं भोंकते। वे अपने गांव के लोगों को पहचानते हैं। एक कुत्ता दादी के पीछे पीछे चल पड़ा। दादी के कंधे पर शॉल था जिसे विधायक ने उसे सम्मान पूर्वक ओढ़ाया था। दादी ने एक बार शॉल को नजर भर देखा। वह मुस्कुरा कर रह गई। दादी धीरे-धीरे आगे बढ़ी। खेत में पावर ग्रिड कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया का विराट खंभा राक्षस की तरह खड़ा था। दादी खंभे को ऊपर तक देखना भी नहीं चाहती थी ।चार पांव पर खड़े राक्षस नुमा खंभे को उसने फिर धरातल पर देखा। खंभे के कारण पूरा खेत बिगड़ गया था ।चार-पांवों से ही खंभे ने पूरे खेत को तबाह कर दिया था  ।खेत खेत न रहकर ऊसर जमीन की तरह निढाल पड़ा सांसें गिन रहा था ।दादी ने इसी खेत में दुबराज धान और खैरी चना की फसलों को बोकर मन भर काटा था। खेत की मेड़ों में अरहर की फसल देखते ही बनती थी। दादी को खेत की दुर्दशा देखकर रोना सा आया मगर पता नहीं क्यों वह ताली पीट कर हंसने लगी। साथ गए कुत्ते ने देखा दादी ने सम्मान में मिले शॉल को खंभे के नीचे रखकर आग के हवाले कर दिया और शॉलविहीन दादी सपाटे से घर की ओर लौट चली।

टिप्पणियाँ

  1. खम्भे तो खड़े थे मगर कभी गलियों में रोशनी नहीं हो पाई ।दादी ने एक खंभे पर पच्च से थूक दिया ...कहानी का यह कहन समकालीन समाज व व्यवस्था को आइना दिखाने के लिए पर्याप्त है। पर खम्भे लग रहे हैं तब कभी उनसे गलियाँ रोशन होंगी ।फिर इन उपक्रमों से हमारा जीवन भी रोशन होगा। यह उम्मीद तो हम कर ही सकते हैं।
    बधाई कहानीकार और प्रस्तोता को !

    रामनाथ साहू

    जवाब देंहटाएं
  2. परदेशी राम वर्मा की कहानी "दीया न बाती" पर आपकी सारगर्भित समीक्षा बहुत अच्छी लगी। परदेशी राम वर्मा जी छत्तीसगढ़ के बड़े कथाकारों में समादृत किये जाते रहे हैं। परदेशी राम वर्मा जी का लिखा गया
    उपन्यास "आवा" विभिन्न विश्वविद्यालयों के पाठ्यक्रमों में शामिल है। आपके माध्यम से 'दीया न बाती' (कहानी) पढ़ने को मिली, इसके लिए साधुवाद।

    जवाब देंहटाएं
  3. परदेशी राम वर्मा की कहानी "दीया न बाती" बहुत ही अच्छी कहानी है जो फणीश्वरनाथ नाथ रेणु लेखनी की स्मृति दिला गई।....परदेशी राम वर्मा जी की लेखनी ऐसी ही अनवरत चलती रहे।..साधुवाद...

    जवाब देंहटाएं
  4. परदेशी राम वर्मा की कहानी "दीया न बाती" बहुत ही अच्छी कहानी है जो फणीश्वरनाथ नाथ रेणु लेखनी की स्मृति दिला गई।....परदेशी राम वर्मा जी की लेखनी ऐसी ही अनवरत चलती रहे।..साधुवाद...

    जवाब देंहटाएं
  5. वरिष्ट साहित्यकार डा० परदेशी राम वर्मा जी की बेहतरीन कहानी।

    जवाब देंहटाएं
  6. सुंदर कथानक और भाषा शैली ‌
    आजादी के औद्योगिक विकास के नाम पर गाँव की कृषि संस्कृति को निगलती वृतांत चाहकर नहीं रोक सकने की बेबसी का मर्मान्तक वर्णन ।
    कथाकार डाॅ परदेसीराम वर्मा जी को बधाई।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च