सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अमिता प्रकाश की कहानी "रंगों की तलाश"



"इन रंगो में जीवन की परछाई नज़र आती है"

अमिता प्रकाश पहले से कहानियाँ लिख रही हैं . उत्तराखंड के पहाड़ी जीवन को उन्होंने करीब से देखा है . "पहाड़ के बादल" और "रंगों की तलाश" उनके  कहानी संग्रह हैं  . अमिता की कहानियां स्त्री जीवन की भीतरी दुनियां से गुजरतीं हुईं रूक-रूक कर पाठकों से संवाद करती हैं . इस रूकने में कई बार एक चुप्पी सी छाने लगती है जैसे कोई स्त्री रूक-रूक कर अपनी व्यथा व्यक्त कर रही हो . रंगों की तलाश कहानी में भी स्त्री जीवन के वे सारे अनुभव हैं जो गाहे-बगाहे पितृसत्तात्मक समाज में उसे तोहफे में मिलते रहे हैं . एक स्त्री अपने जीवन में उन रंगों की तलाश में रहती है जिनमें प्रेम, विश्वास और जीवन मूल्य घुले मिले हों . वह अपनी जीवन यात्रा में अपने सहयात्री से भी इन रंगों की उम्मीद करती है . जब उसके जीवन में ये उम्मीदें टूटती हैं तो वह किन मनः स्थितियों से गुजरती होगी, उसके विविध रंग कथानक के केनवास पर इस  कहानी में उभरते हैं . अमिता जी का अनुग्रह के इस मंच पर स्वागत है 


रंगों की तलाश

              

शाम गहरा रही थी। क्षितिज पर घिर आए बादलों की वजह से शाम के घिरने और उजाले के जाने के क्रम में थोड़ी शीघ्रता दिखी। विभा खिड़की के पास कुर्सी डालकर डूबते सूर्य, फिर उसकी किरणों के सिमटने, आकाश में फैलने वाली विभिन्न नीली-लाल आभाओं और फिर संध्या के निःशब्द पहुँचने का आनंद ले रही थी चाय की चुस्कियों के साथ...। यह उसकी दैनिक-चर्या का हिस्सा थी। उसे बचपन से ही शाम के ये सारे रंग मोहित करते रहे हैं। प्रकृति की यह कारीगरी उसे अपने मोह पाश में बाँध सी लेती है। नीले रंग के ही न जाने कितने शेड’... ऐसा लगता है मानो कलाकर बार-बार अपनी कूची को रंगो में डुबोकर कभी गाढ़े तो कभी हल्के रंगो को बनाने की कोशिश में लगा हो और किसी भी रंग से संतुष्ट न होकर बार-बार प्रयास कर रहा हो मनपसंद रंग को पाने का ।

               विभा को इन रंगो में जीवन की परछाई नज़र आती है।आखिर जीवन है ही क्या, इसी शाम के आसमां-सा चित्ताकर्षक और नितान्त अस्थिर। पलक झपकते ही पट के रंग बदल जाते हैं। आदमी जब तक किसी एक रंग को नज़रों में भरने की कोशिश करता है तब तक दूसरा ही रंग उभर आता है। वह चाहे या न चाहे एक अनजाना अपरिचित सा कलाकार जीवन-पट पर अपनी कूची चलाता रहता है।

               उसी कलाकार की ही तो इच्छा थी शायद कि एक भरे-पूरे सोलह सदस्यीय परिवार की विभा आज नितान्त अकेली थी। यह अकेलापन भी तो पलक झपकते ही आ खड़ा हुआ था। आ खड़ा हुआ था या फिर...?, अन्दर से ही एक आवाज़़ ने उसकी विचार श्रृंखला को अबाध और स्व अनुसार बहने से रोक डाला। एक सवाल खड़ा कर दिया ...। एक झंझावात! जो पिछले कई महीनों से उसके जीवन में चली  आ रही थी ...। ’’वह चला नहीं आया तुम खुद उसे लेकर आई हो’’ उसी आवाज़ ने फिर टोका।

               ’’हाँ मैं खुद ही उसे लाई हूँ’’ विभा जैसे बरस पड़ी...। मैं लाई हूँ क्योंकि इस शांति  के लिए मैं आँखें  नहीं मूँद सकती। और आँखें  मूँद भी लेती, तो क्या मेरे कान-दिमाग सब मुँद जाते, नहीं ना।

               कभी-कभी उसे लगता है, कि जीवन के इन रंगों के लिए किसी अज़नबी-अनजान चित्रकार को दोषी ठहराना उचित है क्या? आखिर किसी भी इंसान के जीवन में वही रंग तो आते हैं, जिन्हें वह सबसे ज्यादा पसन्द करता है। उसकी पसन्द नापसन्द ही तो उसके जीवन पट के रंगो को तय करती है। उसे भी तो हमेशा से लाल रंग पसन्द रहा है। सब कहते हैं, लाल रंग प्रतीक है- अग्नि तत्व का, भावों का, गर्मजोशी का, प्रेम का, ऊर्जा का, पैशन का, क्रोध, हिंसा और भूख का।

               और इस बात से वह कतई इन्कार नहीं कर सकती कि इस रंग ने उसके जीवन को आक्रान्त नहीं किया है। विभोर से उसके रिश्तों का आधार भी तो यही रंग था। प्रेम और पैशन में वह इस कदर रंगी कि उसने विभोर से मिलने के बाद कभी एक पल के लिए भी नहीं सोचा कि रूढ़िवादी इस समाज में जहाँ बेटियाँ आज भी सजीव न होकर परिवार की इज्जतहुआ करती हैं, जहां उसे प्राणिन मानकर सिर्फ एक भाव मान लिया जाता है वहाँ वह अपने में और विभोर के बीच की सामाजिक खाइयों को पाट नहीं पायेगी। उसका पैशन ही था कि ब्राम्हणों के परिवार में जन्मी गौर-वर्णीय, तीखे नैन-नक्स, गृहकार्य में दक्ष और सरकारी नौकरीशुदा लड़की ने एक वैश्य परिवार में जन्मे साधारण कद-काठी और सामान्य व्यवसायी से शादी कर ली। माता-पिता की धमकियों, चेतावनियों और आग्रहों को दरकिनार कर वह अपने चहेते लाल रंग में लिपटी पहुँच गई थी ससुराल।

               लेकिन ससुराल में पहुँचकर उसे पता चला कि दुनियाँ में एक ही रंग के सहारे जीवन नहीं जिया जा सकता। वह सतरंगी दुनिया थी या कहें कि सात रंगों के अतिरिक्त भी दुनिया में जितने रंग होते हैं या हो सकते हैं सभी तो साक्षात् आ गये थे उसके सामने। सास को भी सम्भवतः लाल रंग से ही प्रेम था, किन्तु यहाँ प्रेम, ऊर्जा और उत्साह के अतिरिक्त सब कुछ था पैशन, भूख क्रोध ऊष्णता। उसने स्वयं को समझाया कि आज जो लाल रंग उसके लिए प्रेम, और ऊर्जा है, कौन कह सकता कि सास की उम्र तक पहुँचते-पहुँचते उसके मायने उसके लिए भी न बदल जाएँ? ससुर, जेठ, जेठानी, देवर, देवरानी, ननद, बच्चे, नौकर और कुत्ते सब मिलाकर चौदह  लोग थे। या कहें कि सात रंग द्विगुणित होकर परिवार का निर्माण कर रहे थे तो गलत नहीं था। ख़ैर और रंगों से तो उसे ज्यादा मतलब कभी नहीं रहा लेकिन काले ने उसे हमेशा लुभाया था। लाल और काले का काम्बिनेशन हमेशा ही उसे आकर्षित करता रहा था। विभोर में उसे वही काम्बिनेशन मिला था, जिसे पाकर वह भाव-विभोर हो गई थी। यह तो विभा हमेशा से ही जानती थी कि सातों रंगों को पाना असम्भव है। दुनिया का शायद कोई चित्र ऐसा बना ही नहीं, जिसमें चित्रकार ने सातों रंग भरे हों। मात्र इन्द्रधनुष के चित्र को छोड़कर, लेकिन वह तो रिप्लिका मात्र है। प्रतिकृति एक यथार्थ की। किन्तु जीवन में प्रतिकृति कहाँ चलती है? जीवन तो यथार्थ है। आप उसे चाहे कटु कहें या मधुर!निर्भर करता है आप पर कि आपने उसे किस रंग से रंगा देखा, लाल रंग से या काले रंग से?

               खैर विभा के इस लाल-काले काम्बिनेशन में सब कुछ सामान्य चलता रहा। कई सालों तक कोई हलचल नहीं.....। हाँ शादी के दो साल बाद बिल्कुल सफेद रंग में नहाई सफेद परी सी इशिकाउन दोनों के जीवन में आ गई थी और जब से इशिका आई विभा को अपने लाल रंग की लालिमा और ऊष्णता में कमी सी महसूस होने लगी थी। संभवतः वह उस सफेदी का असर था जो इशिका उसके जीवन में लाई थी। इस सफेदी ने लाल को गुलाबी में बदल दिया था। अब विभा के जीवन में लाल रंग के फूलों की जगह गुलाबी रंगों ने ले ली थी। कुछ स्वाभाविक रूप से और कुछ जबरदस्ती। लड़कियों का मन पसंद रंग होता है गुलाबी। सभी का तो नहीं कहा जा सकता लेकिन बहुलता रहती है तो, सामान्यतः मान लिया जाता है। इशिका भी कुछ अलग नहीं थी, सामान्य बच्ची थी, इसलिए जैसे-जैसे उसकी उम्र बढ़ती कई सबकुछ गुलाबी रंग में रंगने लगा। पहले बिस्तर की चादरें, फिर उसके कमरों की दीवारें, पर्दे, टेडीज-गुड़ियाँ और सारे खिलौने वे जिनमें कहीं न कहीं गुलाबी रंग की आभा हो। गुलाबी रंग की कोमलता ने विभा को भी खींच लिया था अपनी ओर। अब उसमें भी वही मासूमियत,कोमलता और अल्हड़ता खिलने लगी थी जो गुलाबी रंग में होती है। लाल रंग की दृढ़ता कहीं धीरे-धीरे पीछे छूट सी रही थी।

               लेकिन मानव की मूल प्रकृति बदलती है क्या? क्या बदल पाती है ? वह चाहे भी तो, कहाँ बदल पाता है वह अपने मूल स्वभाव को ? अनायास असीम दुःख की अभिव्यक्ति जैसे अपनी ही मातृभाषा में होती है, वैसे ही कितना भी सुदृढ़ और सुसंस्कृत हो मानव, उद्वेगों के समय अपनी मूल प्रवृत्ति को ही व्यक्त करता है। इशिका के आने से विभा के लाल रंग में हल्कापन भले ही आया हो लेकिन लालिमा अपनी जगह कायम थी...। और विभोर?काले पर क्या कोई और रंग चढ़ सकता है ? कितनी ही कोशिश कर लो, लेकिन वह सोख लेता है सबको अपने में। इसी काले के आकर्षण ने ही तो निगल लिया था विभा की सभी प्रतिभाओं और क्षमताओं को। संयुक्त परिवार में इतना समय ही कहाँ मिल पाता है कि वह कुछ सोच पाती अपने शौक पूरे करने के बारे में ,  अपनी क्षमताओं के बारे में। शादी से पहले वह वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी में राष्ट्रीय स्तर पर प्रथम पुरस्कार पा चुकी थी।कितने ही राज्य-स्तरीय पुरस्कार पाई विभा ने कभी सोचा भी नहीं था कि एक दिन उसकी दुनिया में मात्र दो मकानों के चित्र रह जायेंगे। एक उसके अपने घर का, जिसके हर कमरे की अलग-अलग दीवारों पर अलग-अलग रंग थे। लेकिन उसके लिए उस घर में दो ही कमरे थे एक उसका बेडरूम और दूसरा किचन । छत पर जाकर किसी सुबह या शाम को स्क्रॉल  करते प्रकृति के रमणीय चित्र को देखना तो सपनों को पूरा करने जैसा हो गया था। हाँ बस गनीमत इतनी थी कि उसके अपने कमरे की खिड़की से शाम के लाल-नीले रंग अपनी आभा से उसे जीने का सहारा दिये रहते थे। दूसरा मकान था वह सरकारी जीर्ण-शीर्ण अज़ीब से पीले रंग में रंगी ऑफिस  की बिल्डिंग।इन मकानों की दीवारों से जूझती वह बस इशिकाके गुलाबीपन में ज़िन्दगी तलाशती आगे बढ़ रही थी कि अचानक दोनों ही रंग अपनी सम्पूर्ण वीभत्सता के साथ साकार हो उठे.......।

               उस दिन को वह कभी नहीं भूल सकती। ऑफिस में कन्डोलेंस की वजह से वह खुशी से चहकते कदमों से घर आ रही थी कि चलो आज दिन का खाना विभोर ओर इशिका के साथ नसीब होगा। परिवार के सभी लोग व्यस्त होंगे। नौकरीशुदा अपने ऑफिस में और बाकी बुआ के लड़के की शादी में जाने की तैयारियों में। वह भी जाने वाली थी विभोर व इशिका के साथ। इसलिए भी खुशी दुगुनी थी कि एक लम्बे अन्तराल के बाद वह दिन में अकेली होगी विभोर के साथ। और दिन की झपकी...सोचते ही विभा पर खुमारी-सी छाने लगी थी... उसकी सबसे अधिक चहेती सहेली थी दिन की झपकी, उसके गले में भी बाँहे डाल वह सुस्ता लेगी...। कभी-कभी कितनी छोटी-छोटी खुशियाँ कितनी बड़ी और अलभ्य लगने लगती हैं... सोचकर ही उसे आश्चर्य हुआ। आश्चर्य!सरप्राइज! यही तो वह विभोर और इशिका को देने वाली थी। इशिका के भोले चेहरे व शरारती आँखों में जो खुशी की लहर तैरेगी ... वह उसने अपने शरीर में महसूस की ।

               वह दबे कदमों से सीढ़ियां चढ़ने लगी... दरवाजा खुला था.. यही तो उसने चाहा था कि कॉलबेल न बजानी पड़े ...। आज तो सभी मनचाहा हो रहा था। उसके पैरों में जैसे पंख लग गये हों, बिल्कुल हल्के और बेआवाज़ वह उड़ी जा रही थी कि कमरे की दहलीज़ पर्दा खींचकर जैसे ही उसने अन्दर कदम रखा वहाँ जमीन कहाँ थी पैरों में पंख थे या पंखों से वह बँधी थी जो उसे जमीन से बहुत ऊपर शून्य में उठा ले गये थे.... अँधेरा, काला घना अँधेरा। चादर पर दो बिन्दु जैसे शरीर ....एक काला जिससे कुछ लाल सा रिस रहा था और दूसरा ? वह अंधकार में उड़ती गई काले घने अंधकार में.........

               जब होश आया पंख बिखर चुके थे, रंग बिखर रहे थे.... बस अब एक ही रंग बाकी बचा था लाल रंग ....... जो उसकी चादर पर फैला उसको मुँह चिढ़ा रहा था। यह उस पन्द्रह वर्षीय बच्ची के खून का रंग था, जो अपनी माँ के बदले यदा-कदा स्कूल न जाकर काम करने आ जाया करती थी। ऐसा अकसर तब होता जब रात भर उसका पिता शराब के नशे में उसकी माँ को नोंचता और नोंच-नोंच कर भी जब वह खत्म नहीं होती, तो अपनी मर्दानगी का अहसास दिलाने के लिए उसे पीटता। माँ सुबह नहीं उठ पाती तो अपनी इस श्यामवर्ण दुबली-पतली, तीखे नैन-नक्श वाली लड़की को भेज देती, जिसकी देह पर जवानी की कोंपलें फूटने की तैयारी कर रही थीं।

विभा ने देखा वह दीवार पर चिपकी थर-थर काँप रही थी... उसने सोचा ‘‘मेरे डर से ? या फिर जो तूफान इसके ऊपर से गुजर गया जिसने कोंपलों के फूटने से पहले ही नोंच डाला उसके डर से ? ’’

               ‘‘निरीह प्राणी’’ विभा के मन में क्रोध की जगह वात्सल्य और दया का एक सोता सा फूट पड़ा।उसने उसे अपनी ओर खींच कर छाती से लगा लिया। वह जिसकी पजामे में खून के छींटे और जांघों पर चिपचिपाहट अभी भी उसके अपने अस्तित्व को उसके लिए लिजलिजा बना रही थी, टूटी डाल की तरह सरसरा कर गिर पड़ी। तूफान की गरज-तड़क के बाद जो बादल बरसा... विभा के लिए उसे थामना मुश्किल हो गया। विभा उसे रोके भी तो कैसे ? क्या कहे ?

               कहने के लिए रह भी क्या गया था? बस मुश्किल से दो शब्द निकले उसके मुँह से, ‘‘शान्त हो जा’’ और वह  शान्त हो गई।यन्त्रवत् जैसे किसी ने स्विच ऑफ कर दिया हो।

               विभोर का कहीं पता नहीं था। विभा को इस बात ने बड़ा आहत किया। इतना कायर व्यक्ति! उसका पति कैसे हो सकता है? एक बार फिर लाल रंग अपनी पूर्ण तीव्रता और विस्तृता के साथ सजग हो उठा। वह उठी उसने सबसे पहले कामवाली को फोन किया कि उसकी लड़की आज से मेरी जिम्मेदारी है। विभा ने उसे अपने ऑफिस का पता भी दे दिया कि जब मन करे उससे वहाँ मिलने चली आये। इससे पहले कि कोई आए और दस तरह के सवाल जवाब करे वह इस घर की सीमा से बहुत दूर निकल जाना चाहती थी। आखिर उसका इस घर से सम्बन्ध ही क्या रह गया है ? जिस डोर से वह बंधी थी उसके तो रेशे तक हवा में शेष नहीं रह गये थे।

               लेकिन इशिका’ ? इस सम्बन्ध का एक परिणाम ....? इस बन्धन की एक गाँठ, उसका क्या करेगी ? प्रश्नों की झड़ी सी लगी थी जैसे सावन में बूंद बूंद गिरती बारिश की बूंदों की श्रृंखला ! अनवरत् प्रश्नों की झड़ी... शंकाएँ उमड़-घुमड़ रही थी लेकिन उसके पास समय अधिक नहीं था। पाँच बजे तक सभी लौटने लगते और फिर ऊँच-नीच समाज, घर, परिवार, इज्जत, औरत-जात, बच्ची का भविष्य और न जाने ऐसी कितनी सनातनी श्रृंखलाएँ उसको जकड़ लेतीं। हमेशा से औरत इन्हीं श्रृंखलाओं में तो जकड़ी रही है....। और फिर विभा झटके से उठी उसने अभी तक सरसराते पत्ते की तरह काँप रही उस लड़की का हाथ पकड़ा ....इशिका को गोद में लिया और चल पड़ी इस अनन्त आकाश में, फिर नये रंगों की तलाश में। वह जानती है कि औरत यदि अपने पर आ जाये तो दुनिया की कोई शक्ति उसे नया व बिल्कुल अलग चित्र बनाने से नहीं रोक सकती। अपने साथ दो नन्हीं जानों को लेकर एक नई स्क्रीन की तलाश में। विभा आज अकेली होकर भी अकेली नहीं है.... उसके साथ फिर से है उसका प्रिय लाल रंग !

---------------------------------------------------------


अमिता प्रकाश उत्तराखंड में रहते हुए सरकारी विद्यालय में अंग्रेजी अध्यापन का कार्य करती हैं । उनके अब तक दो कहानी संग्रह "रंगों की तलाश" और "पहाड़ के बादल" प्रकाशित हुए हैं। विभिन्न प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में उनकी कहानियां और कविताएं अब तक प्रकाशित होती आयी हैं। वे बच्चों के लिए भी कहानियां लिखती हैं और उनके लिए शैक्षिक सामग्री भी तैयार करती हैं। विभिन्न शैक्षिक और सामाजिक गतिविधियों में उनकी सहभागिता उल्लेखनीय है।

 संपर्क : amitaprakash32@yahoo.com

टिप्पणियाँ

  1. कितनी संवेदनशील कहानी। कितनी अच्छी तरह बुनी हुई। रंग के रेशे-रेशे में रिश्तों की चरमराहट द्रवित करने वाली। लेखिका को अनेकश बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर कहानी के लिए बधाई
    रविशंकर सिंह
    धनबाद बिहार

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर कहानी से आपने परिचित कराया। बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च