सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गजेंद्र रावत की कहानी : उड़न छू

गजेंद्र रावत की कहानी उड़न छू कोरोना काल के उस दहशतजदा माहौल को फिर से आंखों के सामने खींच लाती है जिसे अमूमन हम सभी अपने जीवन में घटित होते देखना नहीं चाहते। अम्मा-रुक्की का जीवन जिसमें एक दंपत्ति के सर्वहारा जीवन के बिंदास लम्हों के साथ साथ एक दहशतजदा संघर्ष भी है वह इस कहानी में दिखाई देता है। कोरोना काल में आम लोगों की पुलिस से लुका छिपी इसलिए भर नहीं होती थी कि वह मार पीट करती थी, बल्कि इसलिए भी होती थी कि वह जेब पर डाका डालने पर भी ऊतारू हो जाती थी। श्रमिक वर्ग में एक तो काम के अभाव में पैसों की तंगी , ऊपर से कहीं मेहनत से दो पैसे किसी तरह मिल जाएं तो रास्ते में पुलिस से उन पैसों को बचाकर घर तक ले आना कोरोना काल की एक बड़ी चुनौती हुआ करती थी। उस चुनौती को अम्मा ने कैसे स्वीकारा, कैसे जूतों में छिपाकर दो हजार रुपये का नोट उसका बच गया , कैसे मौका देखकर वह उड़न छू होकर घर पहुँच गया, सारी कथाएं यहां समाहित हैं।कहानी में एक लय भी है और पठनीयता भी।कहानी का अंत मन में बहुत उहापोह और कौतूहल पैदा करता है। बहरहाल पूरी कहानी का आनंद तो कहानी को पढ़कर ही लिया जा सकता है।

            
कहानी 'उड़न छू' : गजेन्द्र रावत


....एक तो महामारी ऊपर से कमबख्त लॉकडाउन ! जहां दुनिया-भर  की हालत पतली हो गई थी, वहीं उपजी परिस्थियों ने अम्बा को भीतर से तोड़कर रख दिया था। शुरुआत में ही वो टी॰वी॰ में देख रहा था....लॉकडाउन की अनिश्चितता में घबराकर उस जैसे सैकड़ों प्रवासी मजदूर शहर छोडकर चल पड़े अपने गाँव-देहात की ओर....पैदल-पैदल...उन्हें रास्ते की मुश्किलों के साथ पुलिस भी निर्ममता से पीट रही थी...ये सब देख कर वो कांप गया, बुरी तरह खौफ खा गया। उससे आगे देखा नहीं गया, टी॰वी॰ बंद कर दिया फिर कभी नहीं खोला। वैसे भी वो कैद था एक छोटी-सी चार-दीवारी में ! उदासी भरे समय में वो उन दिनों को याद कर रहा था जब उसका रिक्शा ताबड़-तोड़ चलता था....वो मैट्रो-स्टेशन से सवारियाँ उठाता और निकल पड़ता शहर को नापने...गली-कूचों में, बाज़ारों में और दिन भर सड़कों के बिछे जाल पर फिरकनी-सा घूमता था।...क्या शाही दिन थे वे ! जम के मेहनत करते, खूब पसीना बहाते और कमाते, कभी-कभार शाम ढले पव्वा भी मार लेते !...अब न कोई बात करने को रहा। यारों-दोस्तों की शक्ल देखे भी हफ्तों हो जाते हैं। न कोई काम रहा, सारे धंधे चौपट हो गये...दो जून रोटी भी मय्य्सर नहीं...बहुत बुरे दिन आ गये हैं....उसने सोचते-सोचते आँखें बंद कर ली....

            साथ की चारपाई पर रुक्की बैठी हुई थी, साँवली, मोहनी-सी ! कद-काठी, नैन-नक्श...पुछो मत ! मुफ़लिसी की कहीं कोई छाप नहीं थी उसके चेहरे पर !...बस नूर था ! वो लॉकडाउन से पहले आई एक्सपोर्ट की कमीजों पर बटन टांक रही थी, तीन दिन से इसी काम में जुटी हुई थी। वहीं बैठे-बैठे नीचे देखते हुए धीमे से बोली, “ पैसे-धेले तो सब बराबर हो गये हैं। ये कमीजें...कैसे करेंगे ? ”

            अम्बा ने बुझी निगाहों से रुक्की की ओर देखा लेकिन कहा कुछ नहीं। एक चुप्पी, उदासी और अशुभ की आशंका दोनों के बीच खिंच गई।

            “ फैक्ट्री की तीन पर्चियाँ इकट्ठी हो गई हैं...कुल जमा डेढ़ हज़ार तो होंगे ही। ” रुक्की फुसफुसाई, “ लेकिन जाओगे कैसे...मुआ लॉकडाउन चल रहा है...बीमारी से तो लड़ लेंगे मगर....सामान सारा खत्म हो गया है, ये देखो सब डिब्बे खाली हैं...”

             उसी जरा-सी जगह के कोने में सिमटा था सामान...गैस का सिलेंडर, चूल्हा, पतीली, दीवार से सटे दो-चार बर्तन और कुछ प्लास्टिक के खाली डिब्बे...यही थी रसोई।

            “ सब खाली ! ” यह सुनकर अम्बा के अन्दर एक अजीब सी सनसनी भर गई, भीतर उदासी और घनीभूत हो गई। वो सोचने लगा...घर में सब खत्म ! रूपये-पैसे... उसने एक लंबी सांस खींची और ताकत जुटाकर बोला, “ मैं जाऊंगा, पर्चीयाँ दे देना। ”

            “ मुझे डर लग रहा है !...हर तरफ तो पुलिस लगी हुई है...कैसे जाओगे ? ” रुक्की की आवाज कांप रही थी, वो सहमी हुई थी।

            “ डरने से क्या होगा ! ” उसने सिर हिलाया और फुसफुसाया, “ पटरी-पटरी चला जाऊंगा......कल तक हो जाएंगी सारी कमीजें ?........लाला से भी बात कर लेना फोन से......”

           “ हाँ हाँ मैं कर लूँगी। ” डर अभी भी रुक्की के दिलो-दिमाग पर काबिज था, वो अब अम्बा के बारे में सोच रही थी....कैसे जायेंगे ? हाय राम !

            पूरा दिन बोझिल, हताश और चिंता में बीता। रात भी पहले जैसी नहीं रही कि दिनभर के थके-मांदे शरीर को पड़ते ही नींद आ जाती थी लेकिन अब जागी आँखों में बुरे-बुरे ख्याल पीछा ही नहीं छोडते और अगर जरा देर आँखें बंद हो भी जाएँ तो सपनों में डर,छटपटहट और बैचेनी इस कदर बढ़ जाती है कि घबरा के नींद खुल जाती है। अनिद्रा और अवसाद दिमाग में जमता रहता।

            वे जैसे तैसे लेट तो गए, बत्ती बुझा दी मगर आँखों में नींद का नामोनिशान नहीं था।...वे लगातार करवटें बदल रहे थे। अम्बा नीचे लेटी रुक्की की ओर देखने लगा, वो दुबकी हुई थी।....वो सोचने लगा.....पहले हम कितना प्यार करते थे, कैसे कहती थी रुक्की...तुमसे तो बस रात-दिन यही करवा लो....फिर हंस देती थी...अब कहाँ गई वो हंसी...वो प्यार...आलिंगन... देर तक अम्बा की आँखों में विगत स्मृतियाँ उभरती रहीं। उसे ऐसा प्रतीत हो रहा था मानो ये सब गए जमाने की बातें हो।

            अम्बा सुबह-सुबह घर से निकल पड़ा, उसके मुंह पर मास्क और एक कंधे पर झोला लटक रहा था। फैक्ट्री मालिक के हाथों की बनी तीन पर्चीयां तथा उसका पता उसकी जेब में था। वो बस्ती के सँकरे रास्तों के जाल से गुजरता हुआ बाहर निकल आया। नजरें चौकन्नी और सावधान थी, चारों ओर देखते हुए उसने सामने के फ्लैटों की गलियाँ से जाना बेहतर समझा। दबे कदमों से बीचों-बीच आगे बढ़ता जा रहा था। फ्लैट पार हो गए तो कोठियाँ की कतारें शुरू हो गई। चारों तरफ सुनसान था। वो सड़कों पर आने से बच रहा था क्योंकि वहाँ पुलिस का पहरा होने की संभावना ज्यादा थी। कोठियाँ से बीच से गुजरता वो मेन सड़क तक पहुँच गया, जो मजबूरी थी, उसी को पार करने पर वो पटरी-पटरी जा पाता। उसने आड़ लेकर पहले सड़क के दोनों तरफ देखा।...हर ओर गहरी खामोशी फैली हुई थी। कहीं कोई ट्रैफिक नहीं था। दूर दूर तक आदमी न आदमी की जात !...एक तीखी सिहरन-सी उसके भीतर दौड़ गई। डर नई शक्ल अख़्तियार कर उसकी धड़कनों को बढ़ा रहा था। वो अपने घर से जितना दूर आ गया था, परेशानी और उलझनें उसी अनुपात में बढ़ती जा रही था। उसने एक बार फिर दोनों ओर देखा और दौड़ कर सड़क पार कर ली। सामने घने पेड़ों का छोटा-सा जंगल था वो पेड़ों के बीच से रास्ता बनाता रेल के ट्रैक पर पहुँच गया। पटरी की ऊँचाई चढ़ते हुए उसने दोनों ओर देखा, वहाँ सब खाली पड़ा था । उसने दाहिने से पटरी पकड़ ली और नाक की सीध में किनारे किनारे चलने लगा। घनी झाड़ियाँ के बीच से कभी सड़क का एक हिस्सा दिखाई दे जाता तो वो वहाँ पर अपनी चाल बढ़ा देता। सड़क की ओर से शोर सुनाई दिया, उसने झड़ियों के बीच से देखा सड़क पर पच्चीस-तीस की संख्या में पुलिस बल मोटरसाइकिलों पर सवार एक साथ निकल रहे थे।...मानो पूरी धरती पर उनका शासन चलता हो। अचानक अम्बा के मुंह से निकला, “पुलिस राज ! ” उसने डर से अपने मुंह पर हाथ रख लिया और उनके गुजरने तक सांस रोके झड़ियों की ओट में खड़ा रहा। कुछ और आगे जाकर अम्बा ने पटरी छोड़ दी।  उसे एक्सपोर्ट फैक्ट्री के मालिक का घर ढूँढने में अधिक परेशानी नहीं उठानी पड़ी। किस्मत अच्छी थी कि बिना किसी हील-हुज्जत के पर्चियाँ दी और पेमेंट मिल गई। बहुत दिनों बाद खुशी अम्बा के अंतरमन तक पहुंची थी। वो लौट गया, उसकी चाल में उमंग थी, फिर पटरी-पटरी हो लिया। वो अविराम चलता रहा। उसने बीच के फाटक से पहले झड़ियों के मध्य जगह बना कर सड़क की ओर देखा, वहाँ बस-स्टैंड का पिछला हिस्सा दिखाई दे रहा था, जहां कोई नहीं था। अपने पक्ष में परिस्थिति को पाकर वो सोचने लगा....रास्ता बदल लूँ...बस-स्टैंड के साथ के सब-वे से सड़क पार कर लूँगा....और आगे की बिल्डिंगों के बीचों-बीच से सीधा घर...आसान हो जाएगा...

            पक्का निश्चय करने के लिए अम्बा ने फिर एक बार झाड़ियों से बस-स्टैंड की ओर देखा और हिम्मत जुटाते हुये उस ओर कदम बढ़ा दिये। बस स्टैंड के सामने पहुंचा तो हक्का-बक्का रह गया, उसकी घिग्घी बांध गई। तीन पुलिस वालों ने एक लड़के को स्टैंड के भीतर मुर्गा बना रखा था। उसे देखते ही वे उस पर झपटे और घेरा बनाकर छप्पर के नीचे ले आये।

            अम्बा को टी॰वी॰ पर देखे मजदूरों की पिटाई के सीन याद आने लगे...

            “ कहाँ जा रहा है ? ” एक सिपाही ने पूछा और दूर से दो डंडे उसकी टांगों पर जड़ दिये। वो तिलमिला गया और दर्द से चीख उठा।

            दूसरा सिपाही डंडे से इशारा करते हुए बोला, “ स्साले सारे देश में लॉकडाउन चल रहा है और तू...चल मुर्गा बन जा। ”

            वो चुप खड़ा रहा।

            “ अबे मुर्गा क्यों नहीं बनता ! ” सभी सिपाही उससे दूरी बनाए हाथों में डंडे लिए खड़े थे।

            “ नहीं बनूँगा...” अम्बा अभी भी अपनी दर्द वाली जगह को मसल रहा था।

            वे तीनों इस तरह साफ-साफ हुक्म की अवेहलना पर लाल-पीले हो गए। गुस्से में एक ने अम्बा की दूसरी टांग पर लठियाँ चला दी।

            “ चल स्साले जेबें उलटी कर...” दूसरा सिपाई लाठी से उसे ठेलते हुए बोला।

            वो चुप खड़ा रहा।

            तीसरा सिपाही जो अब तक खामोश खड़ा था, अंधाधुंध उस पर लाठियाँ मारने लगा, “ स्साले समझता क्या है अपने आप को ! ”

            अंबा भीषण दर्द से चिल्लाता रहा और सिर को बाजुओं में छिपा कर बचाने की कोशिश करता रहा।

            “ चल जेबें उलट। ”

            उसने पतलून की दोनों जेबें उलट दी, वे खाली थी।

            “ ऊपर वाली तेरा बाप दिखाएगा। ”

            वे तीनों महामारी उन तक आने के डर से दूर खड़े थे।

            उसने ऊपर वाली जेब भी दिखा दी, वो भी खाली थी।

            “ कंगला साला ! अकड़ ऐसे रहा है जैसे लाखों रुपए लेकर चलता हो। ” वह सिपाही चिढ़ कर बोला, “ चल मुर्गा बन। ”

            स्टैंड के किनारे जो लड़का मुर्गा बना हुआ था उसने कानों पर से पकड़ ढीली छोड़ दी थी। वो सिपाहियों की गतिविधियों पर नज़र रखे हुए था।

            उन तीनों ने अम्बा पर घेरा डाल लिया था। उनमें से एक सिपाही बोला, “ अंदर की जेब दिखा...”

          पहले वो चुप खड़ा रहा फिर धीरे से बोला, “ अंदर कोई जेब नहीं है। ”

            “ मैं सब जानता हूँ स्सालों तुम्हें ! रहता कहाँ है तू ? ”

            “ बी-ब्लॉक की झुग्गियों में...”

            “ झुग्गियों में ! फिर यहाँ कहाँ मर रहा है ? ”

            वो चुप रहा।

            “ तुम स्साले झुग्गी वाले महामारी फैला रहे हो....अब तो तू मुर्गा बन जा बस। ”

            अचानक ही एक अजीब-सी अफरा- तफरी मच गई। स्टैंड के कोने में मुर्गा बना हुआ लड़का सब-वे की तरफ भाग खड़ा हुआ। तीनों सिपाहियों ने आव देखा न ताव उसको पकड़ने पीछे भाग पड़े।

            अम्बा के लिए गोल्डन चांस था।.....उसने देर नहीं की, भाग पड़ा विपरीत दिशा में रेल की पटरी की ओर.....

            वो पटरी-पटरी कुछ दूर तक तेजी से भागा फिर चलने लगा। वो अभी भी बार-बार पीछे देख रहा था कि कहीं कोई आ तो नहीं रहा। धीरे-धीरे वो आश्वस्त होता चला गया। अब उसकी चाल में जीत का गर्व और दो हज़ार के नोट की गर्मी थी। दर्द के बावजूद एक उमंग उसके भीतर करवटें ले रही थी....वो चलता जा रहा था और सोच रहा था......रुक्की को बताएगा......पुलिस को चकमा दिया..... दो हज़ार का नोट उसके जूते में है......वे तीनों के तीनों फुददू, साले भाग लिए लड़के के पीछे.....वो मन ही मन हँसा। एक ऊर्जा और विश्वास उसके भीतर जागने लगा। उसने आकाश की ओर देखा, सूरज सिर पर था। उसे याद आया अभी सड़क भी पार करनी है और रुक्की को बहुत सारी बातें बतानी हैं.....डेढ़ हज़ार के बदले दो हज़ार दे दिये हैं, अच्छा आदमी है लाला.......और हाँ सबसे जरूरी बात, अगर उड़न छू का चांस नहीं मिला होता, मैं तो फंस गया था, भला हो उस लड़के का...

            ......और उसने तेजी पकड़ ली।     

°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°                          

                                            गजेन्द्र रावत

                                            डब्ल्यू॰पी॰- 33सी,

                                            पीतम पुरा,

                                            दिल्ली-110034

                                            मों॰-9971017136°°

       Email~ rawatgsdm@gmail.com

टिप्पणियाँ

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च