सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कहानी : खोटे सिक्के , परिधि शर्मा

  • परिधि उन कथा लेखिकाओं  में से एक हैं जिनके पास अपनी खुद की  एक कहन शैली है |  एक शिल्प है |गीत चतुर्वेदी ने अपने सम्पादन में जब परिधि की  पहली कहानी "वजूद"  भास्कर रसरंग २०.०९.२००९ अंक  में प्रकाशित की  तो उसकी उम्र महज सत्रह साल थी | उसके बाद समावर्तन के सम्पादक मुकेश वर्मा ने परिधि की दो कहानियां "नीला आसमान" और "एक साधारण आदमी की मौत" प्रकाशित की | वागर्थ में विजय बहादुर सिंह ने अपने सम्पादन में एक कहानी "तोहफा" छापा तो परिधि की कहानियों पर बहुतों की नजर गई | उसके बाद परिकथा के सम्पादक शंकर ने परिधि की एक कहानी उम्मीद  नवलेखन अंक में प्रकाशित की | तत्पश्चात परिकथा में ही युवा रचना के नाम से परिधि की एक और कहानी  " एक छुटती मेट्रो एक तस्वीर एक लड़की"   इंदिरा दांगी , मजकूर आलम और कैलाश वानखेड़े जैसे प्रतिभाशाली युवा कथाकारों की कहानियों के साथ प्रकाशित हुई | यद्यपि छोटी उम्र के कारण  परिधि की एकाध कहानियों में कथ्य के स्तर पर वह प्रौढ़ता न मिले पर शिल्प और कहन शैली के कारण पाठकों ने उनकी कहानियों को पसंद किया | अपनी दन्त चिकित्सा की पढाई की व्यस्तता की वजह से बहुत दिनों तक लेखन से दूर रहने के कारण  परिधि की दो  साल पुरानी  एक अप्रकाशित कहानी यहाँ हम प्रकाशित कर रहे हैं |
 
͐͐गुल्लकों को उसने बार-बार हिला-हिला कर देखा | सभी गुल्लक वजनी थे और आवाज भी कम कर रहे थे, जिससे उनके भरे होने का संकेत मिल रहा था | किशन को थोड़ी सी  खुशी जरुर हुई कि चलो, कुछ तो अच्छा हाथ लगा, यही सही पांच भरे हुए गुल्लक और ओ भी बड़े आकार के......सोचते-सोचते उसकी आँखों के सामने तुलसी माँ का चेहरा घुमने लगा और वह मुस्कराकर रह गया .      
"अरे उनको फोड़ो मत, अभी रहने दो उन्हें यूँ ही," पीछे से राधा की आवाज आई तो किशन ने मुड़ कर देखा|
        वह तैयार खड़ी थी | उसने लाल रंग की सिल्क की साड़ी पहन रखी थी जिस पर भूरे पत्तों के प्रिंट लगभग सब तरफ बने हुए थे | आज उसने सजने-सँवरने में काफी वक्त लगाया था | मायके जो जाना था उसे | किशन को स्टेशन तक उसे छोड़ने जाना था | रास्ते भर वह गुल्लकों के बारे में ही कुछ न कुछ सोचता रहा | स्टेशन आया | गाड़ी आयी | राधा का रिजर्वेशन एयर कंडीशन बोगी में था | वह उसे उसकी सीट पर बिठा ट्रेन से नीचे उतर गया | कुछ देर बाद ट्रेन जाने लगी |
   धड़-धड़ का शोर उसके पूरे दीमाग में भर गया और वह कुछ देर तक वहीं खड़ा रहा | ट्रेन चली गयी| राधा को लेकर | उसे अब सीधे ऑफिस  जाना था | वर्क लोड बहुत था और  छुट्टियां  एक भी नहीं | बॉस एक बार नौकरी से निकालने की धमकी दे चुका था | उसके मन में आया कि काश सारी समस्याएं एक गुब्बारे की तरह होतीं | फिर ओ आकार में चाहे जितनी भी बड़ी हो जातीं , बस एक बार सुई चुभो दो और फट्ट.....!
   रास्ते भर उसे गाड़ी चलाने में दिक्कतें आती रहीं क्योकि चुनाव का मौसम था और प्रचार-प्रसार में लोग बाग़ सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे थे | नारे लगाने की आवाजें, बैनर्स, झंडे , लाउडस्पीकरों में तरह-तरह के अनाउंसमेंट वगैरह-वगैरह | यह देश भक्ति का सैलाब था , जो हर पांच साल में जरुर उमड़ता है| पर इस बार भारत की राजनीति ने एक खतरनाक मोड़ ले लिया था | हर पार्टी खुद को बेहतर प्रदर्शित कर रही थी लेकिन विश्वास किस पर किया जाए यह एक जटिल प्रश्न था | इस बीच आकाश में काले बादल छाए  रहे | बारिश की फुहारों के साथ बाग़-बगीचों में सुन्दर-सुन्दर फुल खिल आए | अभी तो मार्च का महीना था, फिर भी आकस्मिक बारिश में पूरा शहर नहा रहा था | एक रात खूब बारिश हुई | उसकी अगली सुबह किशन ऑफिस  पहुंचा | ऑफिस  के पीछे वाले हिस्से में गाडी पार्क करने वाले हिस्से से थोड़ी दूर एक छोटा सा लॉन  था | लॉन  के एक कोने में एक लकड़ी का डंडा पड़ा हुआ था | डंडे से उसे एक कहानी याद आयी जिसमें चोरी के इल्जाम में फंसे एक बेकसूर ग्रामीण को पुलिसवालों ने पीट-पीट कर अधमरा कर दिया था | ये उन दिनों की कहानी थी जब देश के बड़े-बड़े शहरों में भूख हड़ताल और अनशन जोरों पर थे मगर उन दिनों भी उसी देश के छोटे-छोटे शहरों में लोग हर रोज एक नयी उमंग के साथ सुबह-सुबह सोकर उठते और दिन ढलते ही निराश और निर्जीव होकर फिर से सो जाते | वह उसी तरह निराश और निर्जीव होकर ऑफिस से लौटा था | टी. वी. आन  किया तो एक व्यक्ति सामने खड़ा मुस्करा रहा था | फिर उस व्यक्ति ने एक बिस्कुट खाया और वह मेंढक बन गया | पांच मिनट के बाद जब बिस्कुट का असर ख़त्म हुआ तो वह फिर से आदमी बन गया | उसने फिर से एक और  बिस्कुट खाया | इस बार वो एक गधा बन कर ढेंचू-ढेंचू करने लगा | चेनल बदल दिया गया | अब कि बार पैराशूट पकड़ कर एक व्यक्ति हवा में उड़ रहा था | जब वह उड़ रहा होगा तब शायद उसे धरती की कहानी कम और हवा की कहानी ज्यादा सच लगी होगी | एक और बार चेनल बदल दिया गया | शेयर बाजार से जुडी ख़बरें बताई जा रही थीं | डालर के सामने रूपये की हैसियत का आकलन किया जा रहा था | इसी सन्दर्भ में राजनैतिक पार्टियां पानी पी-पीकर एक दूसरे को कोस रही थीं | उसी वक्त किशन  को गुल्लकों की याद आयी | उसने टी. वी. बंद कर दिया |
   "बूढ़ा तो बस में बैठ गया मगर बुढ़िया भीड़-भाड़ की वजह से बस में चढ़ ही नहीं पायी | बस चली गयी | बूढ़ा भी चला गया | बुढ़िया पीछे छूट गयी...........!" ये उन्हीं गुल्लकों से जुड़ी कहानी थी |
" दो तीन महीनों के बाद तुम्हारे पिता हरिद्वार गए ......वहां उन्हें वह बुढ़िया मिल गयी ...!"----   तुलसी माँ के कहे ये शब्द लगभग याद हैं उसे | ये शब्द किसी जादू से कम नहीं हैं और बहुत शोर करते हैं | ट्रेन की धड़-धड़ की आवाज से भी ज्यादा | ट्रेन राधा को ले गयी थी अपने साथ | करीब सप्ताह भर बीत गए | कहानी के ये पात्र दरअसल गाँव के एक बुजुर्ग दम्पति थे जिनके बहु-बेटे उन्हें एक झोपड़ी में मरने को छोड़ गए थे | किशन  के पिता को लोग गाँव में सेठजी कहा करते थे | सेठजी को इस दम्पति से बहुत लगाव था | वे उन्हें रोज दो वक्त का भोजन दे आते | कभी जरुरत पड़ने पर उनके लिए दवा-दारु का भी इंतजाम कर दिया करते | सेठ जी को ईश्वर पर बड़ी आस्था थी | भजन-कीर्तन में उनका बड़ा मन लगा रहता | घर में पूजा-पाठ, यज्ञ, वगैरह जब-तब करवाते रहते | मांस-मछली को कभी हाथ न लगाते| एक बार गाँव से कुछ लोग हरिद्वार जाने वाले थे | जाने वालों में महिलाएं और पुरुष दोनों शामिल थे | सेठजी का बड़ा मन हुआ हरिद्वार जाने का | परन्तु काम की व्यस्तता ने उन्हें रोक दिया | तब उनके मन में एक विचार आया और उन्होंने काफी सोच-विचार कर बृद्ध दम्पति को गाँव वालों के साथ  हरिद्वार भेजने का निर्णय लिया | एक बस में सभी जाने वाले सवार हो गए | बृद्ध दम्पति को भी बस में बैठाने के बाद सेठजी वापस आ गए |
  करीब दस-पंद्रह दिनों के बाद जब वे सभी वापस आए तब बुड्ढा अकेला वापस लौटा | उसे अकेला देख सेठजी ने बुढ़िया के बारे में पूछा | बुड्ढा मौन रहा | कई बार पूछे जाने पर उसने धीरे से कहा ...." बुढ़िया तो मर गयी !" इस बात पर अमल कर लिया गया | सेठजी ने संतोष किया कि उनकी वजह से एक बूढी औरत हरिद्वार की पावन धरती पर मरी | उन्होंने पूरी शिद्दत के साथ सारे क्रिया-कर्म निपटाए |
     उसके बाद बूढा झोपड़ी में अकेला पड़ा रहता | खटिया में लेटे-लेटे वह कभी झोपड़ी  के कोने में बने मिट्टी के चूल्हे को ताकता रहता तो कभी दरवाजे के बाहर के दृश्य को निहारता रहता | कभी-कभार उसे लगता कि चूल्हा गायब हो रहा है और सामने के दृश्य ओझल हो रहे हैं तो वह डरकर अपनी आँखें बंद कर लेता | उसे भूत-प्रेतों पर विश्वास था | लोगों के कहने के अनुसार उसकी  परदादी ने एक बार एक राक्षस को देखा था जो तालाब से मछलियाँ चुन-चुन कर खा रहा था |
   करीब दो महीने बाद सेठजी सेठानी जी को लेकर हरिद्वार गए | वहां एक भयानक घटना उनके साथ घटित हुई | जिस बुढ़िया का सारा क्रिया-कर्म वे स्वयं अपने हाथों से निपटा चुके थे, वही बुढ़िया भागती हुई उनके समक्ष आ खड़ी हुई | वे भयभीत हो गए | कहीं वह कोई भूतनी तो नहीं ? या उसी तरह के चेहरे की कोई भिखारन ! मगर वह सेठजी के आगे गिड़गिड़ाने लगी | वह उन्हें अपना सारा दुखड़ा सुनाने लगी |
   हैरान परेशान हो चुके सेठजी को जब अंत में सारा माजरा समझ में आया तब वे बुढ़िया को अपने साथ वापस ले आए  | जब बूढ़े ने उसे देखा तो वह बिलख-बिलख कर रोने लगा | उसके बाद की बातें अधिक महत्त्व की नहीं हैं | हां इतना जरुर है कि कुछ समय बाद उस  बुजुर्ग दम्पति का देहावसान हो गया | बूढ़े की मृत्यु पहले हुई | उसके कुछ दिनों बाद मरते वक्त बुढ़िया ने सेठजी के प्रति अपनी कृतज्ञता जताने के लिए सिक्कों से भरे पांच गुल्लक उन्हें उपहार में दिए जिन्हें वह एक जमाने से सिक्कों से भरती आ रही थी सेठजी ने गुल्लकों को नहीं फोड़ा | वे सभी एक संदूक में संभालकर रख दिए गए |
  उन गुल्लकों से कभी सिक्के निकाले गए या नहीं, यह किशन  को नहीं पता, मगर गुल्लकों को देखकर पता चलता था कि वे बेहद पुराने हो चुके हैं | वह छिपाकर उन्हें अपने साथ कपड़ों में लपेट कर ले आया था | जाने कैसा अजीब सा मोह हो गया था उसे उन गुल्लकों से | आजकल नोटों की गड्डियां एक साथ देखने को तो मिल जाती हैं, मगर ढेर सारे सिक्कों की अलग-अलग ढेरियाँ देख पाना मुश्किल है | ऐसा लगता है जैसे सारे सिक्के बाजार से लगातार गायब हो रहे हैं | एक बार एक दुकानदार के पास उसने खूब सारे सिक्के देखे | तब उसे एहसास हुआ कि सारे सिक्के व्यापारी अपनी जेबों में घुसा लेते  हैं और कोई सामान खरीदने पर यदि पांच-छह रूपये बच जाएँ तो पैसे लौटाने के बजाए कोई छोटा-मोटा सामान या टॉफ़ी  थमा देते हैं | यही हाल ट्रेनों के टिकट काउंटरों का भी है | वहां तो बदले में कोई सामान भी नहीं दिया जाता, बल्कि बचा हुआ पैसा हजम कर लिया जाता है |
   मौसम में अजीब किस्म के बदलाव आ रहे थे | पहले बारिश | फिर उमस | फिर गर्मी | उस पर चुनावी बुखार और सिर चढ़कर ढोल बजाती महंगाई |
    क्या कुछ नहीं था किशन  के जीवन में ? एक किलो प्याज के दाम से लेकर सड़कों पर घटी दुर्घटनाओं की ख़बरें, ट्रेन के इन्तजार से लेकर सर्दी-जुकाम से भिड़ना, कभी किसी दोस्त के घर पार्टी तो कभी असुरक्षा का भय |
   ऑफिस  के आस-पास की सड़कें बदहाल थीं | बारिश ने वहां कीचड़ भर दिए थे | देखकर लगता था जैसे वह सड़क कभी एक बहुत सुन्दर और गोरी लड़की रही होगी जिसके चेहरे पर तेज़ाब छिड़क दिया गया होगा और फिर उसकी मुलायम त्वचा उबड़-खाबड़ हो गयी होगी |
  राधा अभी तक मायके से लौटी नहीं थी | उसने फोन पर बताया कि उसकी माँ की तबियत और ज्यादा बिगड़ गयी है | डॉक्टर ने न जाने कितने तरह के टेस्ट करवाने को बोला था | दवाईयों की संख्या बढ़ती जा रही थी और माँ दिनोंदिन पतली होती जा रही थी | डॉक्टर उन्हें वैसे ही चूस रहा था जैसे कोई छोटा बच्चा आइसक्रीम ख़त्म हो जाने के बाद भी उसकी डंडी को चूसता रहता है |
    खबर सुनने के बाद किशन  को अपनी खुद की जिन्दगी अधमरी सी लगने लगी | उसे जीने के लिए थोड़ी ताकत की जरुरत महसूस हुई | वह उठकर किचन में गया | वहां से ग्लूकोस पाउडर और पानी का घोल बनाकर एक गिलास में ले आया | वह और राधा ज्यादातर गिलास से ही पानी पीते थे | लोटे में भरकर पानी तो उन्होंने जाने कब से नहीं पीया था | बचपन में एक बार किशन  के नन्हें पाँव में तांबे का एक भारी लोटा गिर गया था, जिसकी वजह से उसे बहुत दर्द हुआ और पाँव भी सूज गया | उसकी तुलसी माँ याने उसकी दादी ने जब देखा तो बहुत दुखी हुई और उसके पाँव में हल्दी का लेप लगाने लगी | हल्दी के लेप से सुजन और दर्द कम तो हो गया और धीरे-धीरे गायब भी हो गया लेकिन फिर किशन  को उस तांबे के लोटे से बेहद डर लगने लगा | एक दिन किसी ने वह लोटा चुरा लिया | तब से किशन  गिलास में ही पानी पीता है |
   गर्मी फिर बढ़ गयी | वह कई दिनों से एक चारपहिया वाहन खरीदने की फिराक में है जिसमें ए.सी. लगा हो | उसके पिता की कार पुरानी हो चुकी थी और वह गाँव में थी | गाँव बहुत दूर था | उत्तर की ओर | वह दक्षिण में एक कमरे में एक सोफे के ऊपर बैठा था | आज उसने बेमन से खुद के लिए खाना पकाया था | अचार खाने की इच्छा थी लेकिन घर में अचार नहीं था | गाँव से लाया आंवले का मुरब्बा भी ख़त्म हो गया था | माँ आम का अचार बहुत अच्छा बनाया करती थी कभी! लेकिन अब उन्हें भजन-कीर्तन से फुर्सत नहीं रहता | लगता है जैसे अब उन्हें सांसारिकता का मोह नहीं सताता | पिता तो अब भी काम में व्यस्त रखते हैं खुद को |
       पहले किशन सोचा करता था कि वह बड़ा होकर फलाँ बनेगा | पर अब सोचता है , क्या फर्क पड़ता है यदि वह डॉक्टर बने , नेता बने  या बड़ा प्रशासनिक अधिकारी...... अब जीवन का मकसद तो अंततः लोगों को चूसकर पैसे इकठ्ठा करना भर रह  गया है  | वह इस राह पर चलना नहीं चाहता था इसलिए वह मान चुका था कि जीवन में जो कुछ है वही सही है |
      एक रात वह यह सोचकर सोया था कि वह कभी न कभी चाँद पर कदम जरुर रखेगा | उसी रात उसे सपना आया कि उसके सारे बाल गुलाबी रंग के हो गए हैं | अगली सुबह उठकर जब उसने अपने काले बालों को आईने में देखा तो लगा सपने देखना इतना बुरा भी नहीं......!
   उसके बाल बहुत छोटे-छोटे हैं | कंघी करना बहुत आसान है | उसे हमेशा लगता है कि राधा के लिए कंघी करना एक मुश्किल काम है क्योंकि उसके बाल लम्बे और घने हैं | उन्हें संवारने में वक्त लगता है और वह कभी-कभार ऑफिस के लिए देरी होने पर बाल संवारते हुए खींझ उठती है | उसके कई लम्बे बाल झड़कर घर का फर्श भी गंदा करते रहते हैं , शैम्पू भी वह बहुत लगाती है | पिछली बार जब किशन  ने एक मॉसक्यूटो क्वायल खरीदा था तब बचे हुए पैसों का दुकानदार ने शैम्पू दे दिया था | चिल्हर की कमी थी | किशन  की जिन्दगी में चिल्हर की मांग बढ़ रही थी | उसने तय किया कि वह एक गुल्लक जरुर फोड़ेगा | मॉसक्यूटो क्वायल बेअसर रहा | मच्छर अब उससे नहीं मरते | उसे लगा राजनीति बदल रही है, देश बदल रहा है, लोग बदल रहे हैं इसलिए अब मच्छर भी बदल रहे हैं |
       किशन ने कमरे की आलमीरा में गुल्लकों को रख दिया था | उसने सभी गुल्लकों को बारी-बारी से अपने हाथ में लेकर उलट-पलट कर देखा | आज उनमें से किसी एक के फूटने की बारी थी | पर सवाल यह था कि उन पाँचों में से किसे फोड़ा जाए | यह तो चुनाव में खड़ी पार्टियों में से किसी एक को चुनकर वोट देने से भी अधिक जटिल प्रक्रिया थी | भारत में इन दिनों एक नयी पार्टी उभर आयी है | पुरानी पार्टियां भी खुद को मजबूत करने में लग गयी हैं | सभी खुद को "मैं सर्वश्रेष्ठ, सर्वशक्तिमान और आम जनता का मित्र " बताने में भीड़े हैं | ऐसे में किसी भी पार्टी का जीत जाना अब राम भरोसे और जनता भरोसे है |
  सोचते-सोचते वह गुल्लकों को उलटता-पुलटता रहा | अनिर्णय और उहापोह की स्थिति में अचानक एक गुल्लक उसके हाँथ से छूटकर जमीन से जा टकराया और फूट गया | किशन  के हाथ थोड़ी देर के लिए हवा में ही लटके रह गए | फिर वह जमीन पर बैठकर सिक्के बीनने लगा | सबसे पहले उसके हाँथ जो सिक्का लगा वह तांबे का था | फिर उसने दूसरा सिक्का टटोला | वह एक दस पैसे का सिक्का निकला | इस तरह कुछ सिक्के तांबे के, कुछ चवन्नी के, तो कुछ अठन्नी के, कुछ दस पैसे के तो कुछ बीस पैसे के | एक और दो रूपये के सिक्के गिने-चुने ही थे उनमें, जो काम के थे |
   वह वहीं जमीन पर पालथी मारकर बैठ गया | क्या किया जाए आखिर अब इन खोटे सिक्कों का ? ये सिक्के तो बाजार में चलेंगे भी नहीं ....लगभग सारे के सारे खोटे! किसी काम के नहीं !
   अप्रेल के महीने की तपिश बढ़ गयी थी | केशरिया झंडा हाथों में लिए सड़कों को जाम करने वाली भीड़ के साथ-साथ  रामनवमी और हनुमान जयन्ती का शोर अब थम चुका था | विभिन्न पार्टियों के चुनाव प्रचार में लगे आवारा और मवाली किस्म के लड़कों की फौज फिर से बेरोजगार होकर किसी आने वाले चुनाव का इन्तजार करती सी  दीख  रही थी | अचानक किशन को लगा कि उसने वोट देकर गलत पार्टी चुन ली | रात हो चुकी थी | किशन को अब स्नान करने जाना था | सुबह वाला स्नान | प्रायश्चित स्वरूप मन को शुद्ध करने के लिए|

                                                                                 

टिप्पणियाँ

  1. परिधि शर्मा की कहानी'खोटे सिक्के'से चार दफा रूबरू हुआ. जीवन और जगत की गहरी पड़ताल करती यह कहानी भाव एवं भाषा-शिल्प के दृष्टिकोण से ताजगी लिए हुए है.युगीन यथार्थ को रोचक ढंग से व्यक्त करने में परिधि सफल हुई है. परिधि में अनंत संभावनाएं हैं..अशेष शुभकामनायें परिधि को.

    जवाब देंहटाएं
  2. कहानी अच्छी लगी। गुल्लक के बहाने राजनीति के खोटे सिक्कों को लेकर कहानी बड़ी बात कहती है। कहानी की क़िस्सागोई और भाषा शिल्प आकर्षित करती है। लेखिका को हार्दिक बधाई

    अखिलेश
    भोपाल मध्यप्रदेश

    जवाब देंहटाएं
  3. परिधि की यह कहानी पढ़ते हुए हिंदी कथा साहित्य की इस प्रतिभा से प्रभावित हूँ ! इस बढ़ती पौध को बहुत बधाई और शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
  4. राजनीति के खोटे सिक्कों के ऊपर कथा लेखिका परिधि ने कमाल की कहानी लिखी है | परिधि को दिल से बधाई |

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इन्हें भी पढ़ते चलें...

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

जीवन के उबड़ खाबड़ रास्तों की पहचान करातीं कहानियाँ

जीवन के उबड़ खाबड़ रास्तों की पहचान करातीं कहानियाँ ■सुधा ओम ढींगरा का सद्यः प्रकाशित कहानी संग्रह चलो फिर से शुरू करें ■रमेश शर्मा  -------------------------------------- सुधा ओम ढींगरा का सद्यः प्रकाशित कहानी संग्रह ‘चलो फिर से शुरू करें’ पाठकों तक पहुंचने के बाद चर्चा में है। संग्रह की कहानियाँ भारतीय अप्रवासी जीवन को जिस संवेदना और प्रतिबद्धता के साथ अभिव्यक्त करती हैं वह यहां उल्लेखनीय है। संग्रह की कहानियाँ अप्रवासी भारतीय जीवन के स्थूल और सूक्ष्म परिवेश को मूर्त और अमूर्त दोनों ही रूपों में बड़ी तरलता के साथ इस तरह प्रस्तुत करती हैं कि उनके दृश्य आंखों के सामने बनते हुए दिखाई पड़ते हैं। हमें यहां रहकर लगता है कि विदेशों में ,  खासकर अमेरिका जैसे विकसित देशों में अप्रवासी भारतीय परिवार बहुत खुश और सुखी होते हैं,  पर सुधा जी अपनी कहानियों में इस धारणा को तोड़ती हुई नजर आती हैं। वास्तव में दुनिया के किसी भी कोने में जीवन यापन करने वाले लोगों के जीवन में सुख-दुख और संघर्ष का होना अवश्य संभावित है । वे अपनी कहानियों के माध्यम से वहां के जीवन की सच्चाइयों से हमें रूबरू करवाती हैं। संग्रह

गजेंद्र रावत की कहानी : उड़न छू

गजेंद्र रावत की कहानी उड़न छू कोरोना काल के उस दहशतजदा माहौल को फिर से आंखों के सामने खींच लाती है जिसे अमूमन हम सभी अपने जीवन में घटित होते देखना नहीं चाहते। अम्मा-रुक्की का जीवन जिसमें एक दंपत्ति के सर्वहारा जीवन के बिंदास लम्हों के साथ साथ एक दहशतजदा संघर्ष भी है वह इस कहानी में दिखाई देता है। कोरोना काल में आम लोगों की पुलिस से लुका छिपी इसलिए भर नहीं होती थी कि वह मार पीट करती थी, बल्कि इसलिए भी होती थी कि वह जेब पर डाका डालने पर भी ऊतारू हो जाती थी। श्रमिक वर्ग में एक तो काम के अभाव में पैसों की तंगी , ऊपर से कहीं मेहनत से दो पैसे किसी तरह मिल जाएं तो रास्ते में पुलिस से उन पैसों को बचाकर घर तक ले आना कोरोना काल की एक बड़ी चुनौती हुआ करती थी। उस चुनौती को अम्मा ने कैसे स्वीकारा, कैसे जूतों में छिपाकर दो हजार रुपये का नोट उसका बच गया , कैसे मौका देखकर वह उड़न छू होकर घर पहुँच गया, सारी कथाएं यहां समाहित हैं।कहानी में एक लय भी है और पठनीयता भी।कहानी का अंत मन में बहुत उहापोह और कौतूहल पैदा करता है। बहरहाल पूरी कहानी का आनंद तो कहानी को पढ़कर ही लिया जा सकता है।              कहानी '

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च

आज है डॉक्टर बलदेव की जन्म जयंती: अपना विपुल साहित्य छोड़ जाने वाले डॉक्टर बलदेव की सामाजिक सरोकारिता के कारण भी लोग उन्हें याद करते हैं

आज 27 मई को डॉ बलदेव की जन्म जयंती है। भले ही उन्हें गए लगभग 6 वर्ष बीत चुके हैं पर उनका लिखा साहित्य उनकी मौजूदगी का जीवंत आभास कराता है।  संचार के विभिन्न माध्यमों के जरिये उन्हें याद किये जाने का क्रम अनवरत जारी है। उनके पाठकों , उनके चाहने वालों  की ओर से उन्हें इस तरह याद किया जाना ही उनकी जीवंत उपस्थिति को दर्शाता है। किसी लेखक की असल पूंजी उसका लिखा हुआ साहित्य ही होता है , यह साहित्य ही उसे अमर करता है। साहित्य को भूत और वर्तमान के बीच सेतु की तरह भी हम देखते हैं और इस तरह देखने से ही डॉक्टर बलदेव की मौजूदगी कभी हमारे बीच से जाती नहीं।  साहित्य का विपुल संसार छोड़ गए डॉ बलदेव न केवल एक वरिष्ठ और प्रभावशाली लेखक थे बल्कि लेखक होने के साथ-साथ उनका एक सामाजिक सरोकार भी था। लोगों के साथ उनके जीवंत संबंध भी हुआ करते थे। दीन दुखियों के प्रति उनमें दया, करुणा, प्रेम की भावना भी प्रबल हुआ करती थी । वे अपने इन गुणों को विरासत में छोड़कर भी गए हैं । उनकी स्मृति को और भी जीवंत बनाने के लिए उनके सुपुत्र बसन्त राघव और पुत्रवधु ऋतु ने पहाड़ मंदिर के निकट स्थित बृद्ध आश्रम में जाकर लगभग 60 की