सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बंधु पुष्कर की कविताएं

बंधु पुष्कर की कविताएं , इधर  युवाओं द्वारा रची जा रही कविताओं से थोड़ी भिन्नता लिए हुए सामने आती हैं।ये कविताएँ भिन्न इस अर्थ में हैं कि इनमें बदलते समय के साथ बह जाने की आकुलता नहीं दिखाई देती। उनकी कविताओं में अपने समय को ठहरकर देखने का न केवल संयम है बल्कि इस संयम में भाव और विचार की सम्यक जुगलबंदी भी है। पूरी दुनिया में आज जीवन के जरूरी मूल्यों को पीछे छोड़कर बाज़ारू समय के साथ भागने की एक होड़ सी मची है। ऐसे समय में भी जीवन के परंपरागत मूल्यों की पहचान कराने के साथ साथ बन्धु पुष्कर की कविताएं उन्हें बचाए रखने का आग्रह करती हैं। 'मेरे शहर के लड़के पतंगबाज़ नहीं रहे' जैसी उनकी कविता इन्हीं संदर्भों को स्थापित करती है। प्रेम को नई तरह से देखने का नज़रिया भी एक वैचारिक तरलता के साथ उनकी कविताओं में विद्यमान है।  इन कविताओं में जीवन एवं इतिहास बोध भी दबे पांव आते हैं और एक जीवंत सा संवाद स्थापित करते हैं। बंधु पुष्कर की इन कविताओं को पढ़कर जीवन में बहुत पीछे छूट गयी चीजों की स्मृतियां मन के भीतर चलकर भी आने लगती हैं और एक हलचल सी मचाती हैं। एक कोमल सी वैचारिक तरलता होते हुए भी इन कविताओं में समय और समाज की अव्यवस्था के विरूद्ध एक प्रखर विरोध का स्वर भी सुनाई पड़ता है जो  कविता का एक जरुरी धर्म भी है। यह कहना कि बंधु पुष्कर के भीतर आगत का एक संभावनाशील कवि बैठा है, अतिशयोक्ति नहीं होगी। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए मन में यह बात हमारे भीतर ध्वनित भी होने लगती है।

तो आईए इस बार बन्धु पुष्कर की कविताओं से आपका परिचय करवाते हैं-


मेरे शहर के लड़के कभी पतंगबाज नही रहे

______________________

बांस-बबूल और बरगद के झुरमुठों से भरे जंगल बीच

कोयल-मैना और गौरैय्यों की आवाज़ को सुरक्षित रखते 

मेरे शहर के लड़के कभी पतंगबाज नही रहे

जीवन की डोर दूसरों के हाथ में दिए

उनके इशारों पर आकाश में उड़ना उन्होंने नहीं सीखा

पेंच लड़ाकर, डोर काट देने का हुनर भी उन्हें कभी नहीं आया

जैसे गले मिल घोंप दिया जाता हो कोई खंजर – चुपके से।


सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने पर

शीत के प्रभाव को कम करता 

बादलों के खुलने का समय है यह 'मध्य-जनवरी' का,

गुलाबी सर्दी को चीरती हुई रोशनदान से आती पीली धूप का,

यह सरसों के फूलों में सूरज के खिलने का समय है।


ठंडी-ठंडी फर्श पर गुनगुनी धूप पड़ने के बाद –

बिटिया दौड़ती दूर तक नाज़ुक पैरों से।

मां ने बनाया है आज –

तिल-गुड़ का लड्डू,

नए पिसान का चिला और दूध-फरा।

कोठे में बंधी गाय रंभा रही है आज सुबह ही से 

शायद बाहर धूप में आना चाहती हो

शायद! सभी आना चाहते हों ?

इस तरह हमने इस्तकबाल किया है नए साल का


सुना है –

महानगरों में 'पतंगबाजी' की एक प्रतियोगिता होती है?

आकाश में उड़ते हुए छोटे-विमान सरीखे पतंग को कांट देने वाला जीतता इस खेल में ?

मिलते हैं कई पुरस्कार 

आते हैं बड़े-बड़े नेता-अभिनेता उन आयोजनों में

पर उनके कारीगर हैं पूर्णतः महरूम इनसे – अभी तक।


जबकि 

मेरे शहर के घर, जंगलों से बनते हैं 

उन घरों में चूल्हे जंगलों से जलते हैं,

मेरे शहर की बिजली भी जंगलों से आती है,

और मेरे शहर का प्रेम भी जंगलों में लिखा जाता है।

इसके अलावा इन जंगलों के एक अतिरिक्त फाँस का प्रयोग भी चुभता है मुझे

इन पतंगों में त्रिकोण लगी काड़ियां, उन्हीं जंगलों से आती  हैं

जो तुम्हारे लिए है यह एक शौकिया खेल मात्र।


कबूतरों और बगुलों ने अपने पूर्वजों को याद करते हुए–

शोक माह मनाया है इस वर्ष– पहली बार !


इसके उलट मेरे शहर में एक भी पतंग दिखती नहीं क्यों? अब।

शायद–

कांच से बने मांजों के 'मौत का फंदा' बन जाने का खतरा हो,

पड़ोस का बच्चा मुख्य उंगली गँवा बैठा था पिछली दफ़ा,

मेरे आंगन में हर रोज़ आता कबूतर पंख फड़फड़ाता फॅंसा रहा बिजली के तारों पर 

और चूता रहा उसके चोंच से खून कई दिनों तक

पश्चिम और उत्तर के लोगों ने इसे जाने क्यों मौत का खेल बना दिया

नाज़ुक-सी उँगलियों में जानलेवा तार फंसा दिया

जंगलों के खिलाफ़ घुसपैठ की संस्कृति का असर है ये–

जान जोखिम में डाल पतंग लूटने को खेल बना दिया।


पतंग के आकार में हर शाम यहां बगुलों का एक झुंड

पास के मैदान से टाऽ..टाऽ.. करता हुआ जाता है।

मेरे शहर के लड़कों का खेल कबड्डी है, फुटबॉल है, हॉकी है।

उन्होंने धनुष चलाया, तलवार उठाई, भाला फेंके

पर मेरे शहर के लड़के कभी पतंगबाज नहीं रहे।


प्रेम में होते हुए

____________

प्रेम करते हुए इंसान को

सब कुछ कह देना चाहिए

सब कुछ लिख देना चाहिए

छोटी-से-छोटी चीज़ भी नहीं चाहिए छोड़नी

रखना चाहिए सबकुछ विस्तार से अपनी स्मृति में।


मसलन –

आज मेरे गमले से गुलाब की एक कली निकल आई है।

या

मेरी बालकनी में सुबह एक कबूतर आया था।

यहाँ तक कि 

मैने आज चाय बनाई।

पता नहीं, इसमें बताने जैसा क्या है

पर, इतनी सामान्य-सी घटना भी वह बता देना चाहता है।


अपनी खुशियों का साहचर्य बना लेना

या

किसी की गहन भावनाओं का साक्षी हो जाना

गेहूँ की बालियों को छूते हुए

सरसों के खेतों के बीच से आते राजकुमार की कल्पना से अधिक रूमानी होता है।


प्रेम करते हुए इंसान 

महाकाव्य रच सकता है,

शिलाओं का सेतु बांध सकता है।

तो

ताजमहल बनाकर कर सकता है उसे दुनिया के हवाले

तो कहीं

पहाड़ का सीना चीरकर उससे निकाल सकता है रास्ता।


मुमकिन है –

प्रेम में इंसान कर्ता होकर नहीं रहता।


प्रेम में होते हुए इंसान को किसी का डर नहीं होता

न तो दीवारों के चुन जाने का,

न ही ताबूत में दफन हो जाने का,

न तो विश्व की महान शक्ति उसका कुछ कर सकती है

और न कोई आपदा उसे निगल ही सकती है।


डर होता है तो बस

साथ पकड़ कर चलने वाले हाथों के छूट जाने का

जिस्म-ओ-जान के अलग होने का।


प्रेम में होते हुए इंसान

इस दुनिया मे रहकर भी

बुन लेता अपने लिए एक अलग दुनिया

हो जाता है सबके अनुकूल

ये सृष्टि लगने लगती है और.. और.. 

सहज! सुन्दर! सत्य!

आसान नहीं है यूँ तुष्ट हो जाना कहीं भी 

अंजुरी भर पानी ही से


किसी कवि ने कहा था –

प्रेम में होते हुए इंसान को सब कुछ कह देना चाहिए।

सब कुछ…

यहाँ तक कि किसी और से प्रेम होने वाली बात भी नहीं चाहिए छुपानी

इससे रिश्ते कमज़ोर नहीं होते

यदि होतें हैं ? तो समझ लीजिए

उसे और मजबूत होने की ज़रूरत है।


निजी अनुभूति 

____________

लोगों में बेहतर होने की बढ़ती ख्वाहिशों के बीच

नहीं चाहता कोई बेहतरी खुद की

अच्छा होना एक सामाजिक दबाव जैसा लगता है

और किसी किस्म के दबाव में नहीं 

पहचाना जाना चाहता खुद का झूठा चरित्र।


कोमल हाथों से तालियाँ पीटते व

मासूम अधरों से मुसलसल जयकारें लगाते 

सड़कों पर भक्तिगीत गाते लोगों को देखकर

उनमें शामिल न होना

ख़ुद के अधर्मी घोषित होने के लिए पर्याप्त है इन दिनों

तिस पर कोई टिप्पणी लिंचिंग के लिए उतनी ही काफ़ी 


देह में उठती जुम्बिश एक छलावा है।

बाहर बिकती जाहिलियत का जवाब -

बस मौन रहकर देता हूँ सभ्य! होने के अभिनय के साथ।

ईमान की कीमत नीलाम होती है बाजार में

जिसे देख, हृदय में पसरे सन्नाटे के सिवा ख़ामोशी के कोई दूसरी ज़बान नहीं सूझती।


दुचित्ते व्यवहार को झेलकर हर वहम-शाम में 

जादुई शब्दजाल द्वारा फँस जाता हूँ – हमेशा।

वैसे वक्त अपने उन तजुर्बों को दोहराया जाना जरूरी हो जाता है जिसने जिंदगी का सलीका सिखाया

जीवन में कुदरती करिश्माओं पर यकीन करने जैसी मिथक को तोड़कर

जब मैंने चुनी थी अपनी निजी अनुभूति।


जीने की खातिर दो वक्त की रोटी या 

हथेली पर दिनभर की रोज़ी रख दी जाने पर 

हुक्मरानों के गुणगान में कसीदे लिखना

बनाता है तुम्हे देश का सच्चा नागरिक और

अपनी निष्ठा किसी मठ पर बनाए रखना घोषित करता हो सच्चा देशभक्त।


मुँह में ज़बान रखते हुए भी शांत रहने का हुनर आ गया है।

समझौतापरस्त दुनिया ने सीखा दी है

आँखों-देखी हाल के बयान खातिर

किसी जासूस भाषा में न कहना 

न ही किसी तकनीकी हाथ से लिखना।


सवाल करने के एवज में अपनी अगली पीढ़ियों के भविष्य का भय 

सालता है अंदर तक।

खूबसूरत शाम की दिलफरेब दास्तान सुनाने नहीं सूझता कोई शब्द ! 


ज़िंदा रहने के बदले में झूठा विनयगान अब मेरे बस में नहीं।


मीन कथा

(हरण की गई एक कमसिन लड़की की कहानी)

______________________________

पुराणों में सुना था –

दुनिया को बचाने 'विष्णु ने मत्स्यावतार लिया’

जिससे राजा का अस्तित्व और प्रजा की लाचारी भी बची रही।

साथ-ही बचा रहा बड़ी मछली द्वारा छोटी मछली को खाए जाने का मत्स्य न्याय!

नक्षत्रों की ज्योतिषाई भाषा में "मीन को एक राशि" बताकर मिथक गढ़ा गया

जिसका स्वामी गुरु अर्थात 'ब्रहस्पति' को बताया गया

मानों सोलह साल की एक कन्या ब्याह दी गई हो किसी अधेड़ पुरुष से।


एक कमसिन मीन! के जोबन की मादकता देख राजा उस पर मुग्ध हो गया।

अपनी ओर आती समुद्र की लहरों को वक्र-काटती 

उसकी देह सुंदर आकार में ढल चुकी थी,

उसमे कांति आ चुकी थी।

तब मदहोश राजा ने समुद्र को अपनी जागीर समझ बिछाया जाल।

एक रोज़ उसने समुद्र से पकड़ ले आयी वो खूबसूरत मछली

राजकमल चौधरी के शब्द में "मरी हुई मछली" – ज़िंदा देह में। 


जिसे देखकर एक आशिक मिजाज़ कवि ने कहा –

'आँखों में नमक इस कदर समाया है तुम्हारे

जैसे घुला हो पूरे सागर भर में नीला रंग

मछलियां पीती हैं जिससे साॅंसे

और हर बुलबुले के साथ छोड़ती हैं अपनी जादुई गंध इस असीम आकाश में'।


लोभ और छल का व्यवसाय करती इस दुनिया ने 

खुद ही, दुनिया होने की एकमात्र खूबसूरती को नष्ट कर दिया है–

कि इस परिधि से बाहर निकलना मर जाना है उसके लिए।

अब प्रशंसा और पुरस्कार रूपी चारा लटका है चारों ओर

किसी दशक के महान कवि ने कहा था -

"मुझसे प्रेम करो जैसे मछलियां लहरों से करती हैं ... जिनमें वह फॅंसने नहीं आतीं"

ये वाक्य उस रूमानी कवि की 

रम्य कल्पनाओं और आह्लादित क्रीडाओं की ऊब चुकी पंक्ति के सिवा कुछ भी नहीं।


इसी तरह बचपन में एक गीत सुना था–"मछली जल की रानी है"

आज महसूस कर रहा हूं – हर रानी पर केवल राजा का हक होता है।


अब लोग मछलियां नही फांसते केवल भक्षण और व्यापार खातिर

फांसते हैं।

उससे खेलने के लिए भी

जो सबसे खूबसूरत और आकर्षक होती है

मछवार का पहला शिकार भी वही होती है

जैसे 'खूबसूरत होने का श्राप' मिला हो किसी ऋषि द्वारा।


शो-केस नुमा सुंदर काँच के घड़े में जलप्लावन करती वो युवा मछली

पूरब-से-पश्चिम, एक छोर-से-दूसरी छोर जल-क्रीड़ा करती हुई गाती है प्रेम गीत।

नीचे से उठती जो पानी को चीरते हुए अचानक

मानों ब्रह्मांड के उस पार जाना चाहती हो – एक ही छलांग में।

बेबसी ओढ़ सो जाती हर रात,

ख़ामोशी झलकती उसकी आंखो में हमेशा।

थक चुका उसका साहस अब कमज़ोर पड़ने लगा था।

कोने में दुबक सोचने लगती कभी-कभी – 

शीशमहल रूपी इस कफ़स को चूर कर देने की कोई जादुई युक्ति...


राजा लेता हर शाम उसकी ख़बर –

देख-रेख और तीमारदारी को लगी थी कई सेविकाएँ।

वहीं,

राजा का बेटा देखता मछली की हर आहट को बड़ी गौर से, ताकता!

घण्टों बातें करता अनुराग की, खुद के जल्दी युवा होने की, उसे दुल्हन बनाने की

या बन जाने की खुद एक मछली।

दिन-रात, सुबह-ओ-शाम रखता ख्याल

बचाता उसे हर शिकारी नज़र से।

दूर रखता अश्लील ज़हनियत से।

सपने देखता साथ हवाओं में तैरने के, 

उसकी मुक्ति के –


लेकिन सबब ये हुआ 

कि आँखों से क्रंदन गान सुनाती-सुनाती वो युवा मछली

एक दिन मर गई

(या मार दी गई, उसपर राजकुमार का प्रेम बढ़ता देखकर)।

राजमहल में पसरा चारों ओर सन्नाटा

शोक से राजकुमार एकदम बेहाल-व्याकुल-बेचैन

मृष्क्लान देह , हृदय गति अतितेज, तपती-देह 

सूझता न कुछ भी।


एक रोज़ राजा फिर निकला सज-धज कर पूरी सेना के साथ–

अपनी वासना मिटाने।

राजकुमार का मन बहलाने

उसने पहले ही 

कई जगह और, उस जैसा कोई फांसने! 

चारा छोड़ रखा था।


प्रेम का अनुवाद नहीं होता

_____________________

तुम्हारी भाषा में संगीत सुनते 

नहीं पड़ती अब मुझे किसी अनुवाद की जरूरत

भाषाओं का स्पर्श इस कदर शामिल है मुझमें

कि

अगला अंतरा मुझे ला खड़ा कर देता है वहीं

जिसे बुना गया होगा किसी हिज़्र-याद में तिरस्कृत नदी किनारे

लघु उपमनों से बांधकर

जो मेरी आँखों से कभी देखा न गया।


प्रियमईना! प्रेम का अनुवाद नहीं होता

न ही इसके लिए गढ़ी गई कोई परिभाषा

भावनाओं का विनिमय ही पर्याप्त सुकून दे जाता है

'पंडुगू' की एक शाम 'संध्या गीत' के दौरान जुड़ों में बंधे हरसिंगार के फूलों के साथ जब देखा था तुम्हारी पहली प्रस्तुति

सुना था पहली बार मधुर संगीत किसी अनजान आवाज़ में

तभी से उन शब्दों का प्रयोजन हृदय में उतरता चला गया।


'बथुकम्मा' पर तालियाँ बजाते चारों ओर वृत्ताकार पथ पर घूमना

मानों पृथ्वी को चारों ओर से बांध रही हो, किसी आपदा या महामारी से बचाने।

उसी वक्त जाना –

तुम्हारा होना एक सफाकत का होना है

जिसमें शिरकत के लिए नहीं चाहिए कोई तहज़ीब, कोई अदब 

एकमात्र शर्त है बस इंसान होना ।


'बोन्नालु' पर्व में परंपराओं से पटे अनुष्ठान व आयोजन की 

भौगोलिक सीमाऍं भी न रोक सकी

हमारा सहज मिलन

निर्दोष आँखों में सपने लिए मैं दौड़ता चला आया तुम्हारी मंजिल 

परंतु जाति के इस मनुवादी श्राप ने ला खड़ा कर दिया हमें

नदी के दोनों छोरों पर


बचपन में अपने एक टीचर से सुना था कि

'स्नेह बड़ों से मिलता है और समानधर्मा से प्यार’

तोड़ते हुए इस नियम को तुम गढ़ती रही एक नई परिभाषा।

सुई से टाककर तुमने मेरी शर्ट पर बनाया था एक “दीया” और “गुलाब”

जिस पर खीजते हुए नाराज़ होकर तुमने, 

मुझपर मज़ाक बनाने का लगाया था आरोप।


प्रियमईना!

प्रेम में शब्द और प्रतीक नहीं रखते अपने अस्तित्व का संकुचित अर्थ

गवाही देते हैं –

मौसमों का, हाथों के कारीगरी का, आँखों से बहती ऊष्मा का

जिन्हें पहचानना मेरे लिए आसान न था।


तुम्हारे मुख से निकले एक-एक शब्द का मैंने वही अर्थ ग्रहण किया 

जो ऋषि पावुलुरी मल्लानक ने रचा था।

मैंने तुम्हारे शब्द नही, 

उनका भाव जाना।

सच!

मैंने तुम्हारी कविता नहीं,

कविता का कारण पहचाना।


प्रियमईना! याद रखना 

तुम्हारे चले जाने पर तुम्हारे गाये गीत और ध्वनि

मैं अपनी बंद पेटी से निकालकर

लिखूँगा एक किताब जिसके मुख्य पृष्ठ पर होगा

तुम्हारा बनाया वही दीया और गुलाब

(सदैव रौशन होते रहने और हमेशा फूल की तरह खिलते रहने)


तुम्हारी भाषा में रचे एक-एक उपमान

मैंने उसी तरह महसूस किया जैसे तुमने कहा–

भरोसा रखना रसम में भीगी हुई मेरी उंगलियां 

हू-ब-हू अपने गुजरे समय का बखान लिख देगी। 

कह देगी वो कथा जो एक सांस में पूरी गायी जा सके।

वो स्मृति जिससे एक सुंदर तस्वीर उकेरी जा सके।


प्रियमईना! 

प्रेम का अनुवाद नहीं होता।


हो जाता है

_____________

कम किताबें पढ़कर भी

सोचते-सोचते चिन्तक होने लगता है इंसान

जो दूर खड़ंजे के रास्ते नंगे पांव सर में ढोए कुल्हाड़ी-खुरपी

आते मज़दूरों को देखकर 

घंटों ! रात की साजिश के बारे में सोचता है।


जूते के लेस और 

गले में टाई बांधना सीख लेता है वो नादान भी

जिसकी माँ नहीं होती,

माँ नहीं होती जिसकी वो लड़की भी

झुंझलाकर साड़ी की आंचल एक छोर लटकाए 

ससुराल में सलीके से खाना परोसते-परोसते

एक दिन कुशल गृहिणी बन जाती है।


पुराणों में वर्णित हत्याओं की ओर मुड़-मुड़ देखकर

और बेअर्थ ऋचाऍं रटते-रटते 

एक बालक पंडिताई पर शक करते हुए,

खुद को कोसकर 

इंसानियत की कौम में शामिल हो जाता है।


चींटियों को ऊँचाई से गिरकर

बार-बार चढ़ते, देखते-देखते

रेलवे की तैयारी करते विद्यार्थी को 

कभी हार न मानने की सलाह भी मिल ही जाती है


उसी तरह

हाथ थामे किसी की याद में महसूस करते हुए नरमी,

सुनसान सड़कों पर चलते हुए धीरे-धीरे 

कोई लड़की प्रेमिका हो जाती है।


इन दिनों

_________

माॅं के मूक हाथों का स्पर्श 

महाकाव्य-सा वृहद प्यार लिए

मुझे ख़ुद को रचने की शक्ति दे रहा है…


दुनिया के सभी धर्मग्रंथो व मज़हबी इल्मों की बदहज़मी से गुज़रकर मैं शुक्रिया अदा करता हूॅं

उन तमाम किताबों का 

जिन्होंने तुम्हे खूबसूरत बनाए रखने में बड़ी भूमिका निभाई।


जीवन की तिहाई जितनी आयु में जब

दिन भर की उदासी-ओ-बेचैनी के बाद

बिस्तर के हवाले होने से पहले

दवाई के ये दो-ख़ुराक  

एक मज़बूर नौजवान द्वारा महाजन से लिए कर्ज़ का, ब्याज सहित वापसी के रईस अंदाज में 

खुद को मेरे मुॅंह पर दे मारते हैं 

जिन पर किसी मासूम हाथों के स्पर्श का हक था।


दिन, शाम और रात की सीमा को

अपने पैरों तले कुचलकर

गुमटी पर मिलें चार दोस्तों की हँसीं साथ लिए 

घर की चौखट पर खड़ा 

तुम्हारा नाम बुदबुदाता मैं अतीत में जा रहा हूं–

गालों पर निर्बाध गति से लिया तुम्हारा चुम्बन अब तक जवां है।

हाथों में लहरता लाल झंडा तुम्हे कितना खूबसूरत बनाता रहा है

जो मेरे लिए सबसे बड़ा सुकून था।

आकाश की ओर ऊर्ध्वाधर तनी तुम्हारी मुट्ठी, मुझे हमेशा निडर बनाती रही

और देती रही मेरे ज़िंदा रहने का सबूत भी। 


लेकिन

इन दिनों 

हृदय को बेचैन करता परत-दर-परत मेरी ओर बढ़ता अंधेरा

भयानक भविष्य का एक विकराल सत्य लगता है।

जिसपर मैं कुछ दिनों की मोहलत पाकर सांसों की ज़मानत पे जैसे-तैसे ज़िंदा हूॅं। 

जुल्मतों के इस निर्जन मौसम में ऊबासी के साथ

हर सुबह, रात पर विजय की तरह

अब मैं अपनी मौत का इंतजार कर रहा हूॅं।


जबकि माॅं के मूक हाथों का स्पर्श

एक महाकाव्य-सा वृहद प्यार लिए

मुझे पुकार रहा है…

©

बन्धु पुष्कर 

स्नातक एवं परस्नातक काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से, पी.एच. डी.  हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी से जारी है 

पता - room- K WING 204, NRS Hostal, North Campus, HCU, HYDERABAD

TELANGANA 500046

Mo.no. 6392302395


 

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च