सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रमेश शर्मा की कहानी : 'अपने अपने हिस्से का गाँव'

 


रमेश शर्मा की कहानी : 'अपने अपने हिस्से का गाँव'

---------------------------------------------

रिटायर्ड आई.ए.एस ऑफिसर प्रताप मिश्र का ओहदा जितना बड़ा रहा है उनके जीवन की कथा उतनी ही छोटी है। प्रताप मिश्र के पिता गाँव के मालगुजार स्व.लवकुश मिश्र का एक समय गाँव में साठ एकड़ से ऊपर जमीन थी । इतनी ज्यादा जमीनों के मालिक होकर भी उनके पिता ने उन्हें सिविल सर्विस की नौकरी की तैयारी के सिलसिले में जब शहर भेजा तो उन्हें इस बात का आभास नहीं था कि एक दिन उनका बेटा शहर का होकर ही रह जाएगा । पिताओं के सपने बड़े होते हैं पर वे बड़े सपने सच होकर एक दिन पिता और बेटों के बीच दीवार बनकर खड़े हो जाते हैं । सिविल सर्विस की तैयारी करते-करते शहर में उनके तीन साल कब गुजर गए उन्हें पता ही नहीं चला । तीन साल बाद दूसरे अटेम्प्ट में जब सिविल सर्विस के तहत उनकी पोस्टिंग हुई तो उन्हें ओड़िसा के भुवनेश्वर जैसे बड़े शहर में काम करने का अवसर मिला। काम तो पता नहीं उन्होंने क्या किया, पर इस अवसर को उन्होंने भुनाया खूब ! फिर ओड़िसा के कई शहरों में घूमते-घामते आईएएस की नौकरी में ठाट से उनके दिन निकलते चले गए । समय बदला और समय के साथ नब्बे के दशक में कॉर्पोरेट युग का एक नए रूप में अभ्युदय हुआ । इस नए कॉर्पोरेट युग में गाँवों में कई तरह के बदलाव आये। किसानों की जमीनें बड़े पैमाने पर सरकार की ओर से अधिग्रहित की जाने लगीं और उसे मिट्टी के मोल उद्योगपतियों को दान में दिया जाने लगा। सरकारी लूट के इस खेल में कलेक्टर होने के नाते प्रताप मिश्र की भी बड़ी भूमिका रही । प्रताप मिश्र को कभी इस बात का एहसास नहीं हुआ कि गाँव की जिन्दगी अब किस दिशा की ओर जाने लगी है। जमीनों के अधिग्रहण इत्यादि को अगर छोड़ दें तो कलेक्टरी करते हुए भी उन्होंने गाँव के दौरे कम ही किये । कभी किसी गाँव में उन्हें जाना भी पड़ा, तो उनके मातहत अधिकारियों ने उन्हें ऐसा घेर कर रखा कि लोगों के असल जीवन के चित्र कभी उन तक पहुँच ही नहीं सके। निचले कर्मचारियों से प्रशासन के पास जिस तरह की सतही जानकारियाँ पहुंचा करती हैं , उन्हीं सतही जानकारियों के भरोसे उन्होंने अपनी नौकरी की पूरी उम्र गुजार दी। तब भी गौर करने वाली बात यह रही कि उन्हें उनकी अच्छी प्रशासनिक क्षमता के नाम पर सरकार की ओर से कई बार पुरस्कार भी मिला और उन्होंने उस पुरस्कार को लपककर हथिया लेने से कभी गुरेज नहीं किया। गाँव के होकर भी उन्होंने गाँव के भले के लिए कभी कुछ किया हो, उन्हें बिलकुल याद नहीं ।

अब गाँव में उनका कोई नहीं, बस एक घर है और उसके चारों तरफ बड़ा सा एक फॉर्म हाउस । उन सबकी देखभाल गाँव के साधारण छोटे किसान रामनाथ के भरोसे छोड़कर अब तक वे निश्चिन्त रहे हैं । कमाई का आधा हिस्सा ईमानदारी से उन्हें अब तक वह भेजता रहा है। प्रताप मिश्र का बेटा भी आज भुवनेश्वर शहर में डॉक्टर है और एक बड़े नर्सिंग होम का मालिक। समय की मांग के अनुरूप गाँव की चालीस एकड़ जमीनें चार करोड़ में बेचकर उन्होंने उसे बेटे के नर्सिंग होम में ही इन्वेस्ट कर दिया था।

नौकरी के आखरी दिनों में उनकी सोच ऎसी बनती रही जैसे वे रिटायर्ड होते ही निष्फिक्र हो जाना चाहते हैं, पर दुनियादार मनुष्य के जीवन में चिंताएं अपने आप चलकर न आएं, ऐसा कभी संभव नहीं। चार माह पूर्व गाँव से अचानक उन्हें खबर मिली थी कि उनके फॉर्म हॉउस का देखभाल करने वाला रामनाथ हार्ट अटैक से अचानक चल बसा।

उन्हें रिटायर हुए अभी माह भर भी नहीं हुए हैं कि ये समस्या अब उनके जीवन में चलकर आ गयी। उनके डॉक्टर बेटे के पास साँस लेने की फुर्सत नहीं कि उससे जाकर पूछ सकें आगे कि अब गाँव की जमीनों और फॉर्म हॉउस का क्या करें ? जो भी करना है अब उन्हें ही करना है। वह दिन भी अब नहीं रहा कि मातहत कर्मचारियों या नौकरों को आदेश देकर उनसे वे हुकुम बजवा सकें।

‘‘अब तो मुझे ही गाँव जाना पड़ेगा‘‘- पत्नी से उन्होंने जब कहा तो उनकी पत्नी की मुख मुद्रा के भूगोल की आकृति एकदम बदलकर वक्राकार रेखाओं की तरह टेढ़ी मेढ़ी होने लगी और चेहरा देखने में एकदम अप्रिय सा हो गया। प्रताप मिश्र भांप गए कि उनकी पत्नी की रूचि गाँव की ओर एक कदम भी चलने की नहीं रह गयी है । पत्नी तो जाएगी नहीं , मुझे सचमुच अकेले ही गाँव जाना पड़ेगा, उनके भीतर की बात सच का आकार लेने लगी ।पत्नी के मना कर देने के बाद गाँव की यात्रा के लिए वे अपने आपको मानसिक रूप से तैयार करने लगे ।

उन्हें हिचक होने लगी कि गाँव के साधारण लोगों से वे कैसे संवाद करेंगे । भूतपूर्व होकर भी उनके भीतर आईएएस के रुतबे का भूत पूरी तरह अभी उतरा नहीं था। वे सोचने लगे .. आखिर उनके पिता का जीवन तो गाँव में सबके बीच रहकर ही बीत गया, पर उनके पुत्र को उन लोगों से संवाद करने में इतनी हिचक क्यों हो रही ?‘

मनुष्य का ओहदा उसके भीतर मौजूद अच्छी चीजों को दीमकों की तरह चर देता है धीरे धीरे! जीवन में अच्छी चीजों को वे कहाँ फेंक आये , आज अगर इसकी पड़ताल हो तो पूर्व आई.ए.एस. प्रताप मिश्र को समझ में ही नहीं आएगा कि दरअसल अच्छी चीजें होती क्या हैं ? अगर उनके जीवन में अच्छी चीजों की आवाजाही कभी रही भी हो तो वे उन्हें कब और कहाँ छोड़ आए हैं ,उन्हें इसका आभास तक नहीं ।

उनकी डिक्शनरी में प्रधान मंत्री, मुख्य मंत्री, मंत्री इत्यादि लोगों के आगे पीछे घूमना और उनकी हुकुम बजाना ही अच्छी चीजों की श्रेणी में आता रहा है । उन्होंने यह कभी नहीं जाना कि कोई फरियादी आए तो उसकी समस्या का समाधान करना किस श्रेणी में आता है । अगर उन्हें इन चीजों की चिंता होती या पहचान होती तो वे इन्हें जानने की कोशिश भी करते , फरियादियों को खाली हाथ उनके दरबार से कभी लौटना नहीं पड़ता । अब तक उन्हें बस एक ही चीज का ध्यान रहा कि किस तरह शासन की नजर में चढ़े रहें और उसका अप्रत्यक्ष लाभ उठाएं । 

रिटायरमेंट पश्चात अब उनके जीवन का वह दौर नहीं रहा। उस दौर के बीत जाने के बाद जीवन की हकीकतें सामने आकर उनसे बेहिचक टकराने लगी हैं । आखिर कोई कब तक बचे इन चीजों से । कभी न कभी तो आदमी को असहज करने वाली परिस्थितियों का सामना करना ही पड़ता है।

गाँव पहुँचने में अभी दो घंटे का रास्ता और बाकी है । उनकी कार सड़क पर सरपट भाग रही है । सामने ड्राईवर बैठा है और प्रताप मिश्र पीछे की सीट पर अकेले चुपचाप विराजमान हैं। उन्हें इस बात से अभी भी परहेज है या हो सकता है संकोच है कि सामने आकर ड्राईवर के बगल वाली सीट पर बैठ जाएं और उससे कुछ बोल बतिया लें ।

अफसर रहते जो आदतें पड़ी रहती हैं उसे बदलने में बहुत समय चाहिए । दंभ की गोद में अपना अधिकाँश समय गुजारे हुए एक मनुष्य को एक साधारण सहज मनुष्य में बदलने के लिए सचमुच बहुत समय लगता है। कई बार उसके जीवन में इतना समय रहता ही नहीं कि वह ऐसा कोई परिवर्तन देख सके । इस परिवर्तन को देखना भी बहुत दुखदायी होता है उसके लिए । यह दुःख झेलने से पहले ही वह दुनिया से कूच कर जाता है । ये बातें कितनी अजीब सी लगती हैं कि दुनिया से कूच कर जाना तो पसंद है पर सहज, सरल, सामान्य मनुष्य में बदलना मनुष्य को पसंद नहीं।

क्या प्रताप मिश्र अपने को बदल पाएंगे या वे भी ....? यह सवाल अभी अधर में है । उनकी कार गाँव के मुहाने तक अभी पहुंची नहीं कि पत्नी का फोन आने लगा है। केऊटी पहुंचिले? ( कहाँ पहुंचे हैं?)

गाँ आसिला णी ( गाँव आ गया ) - पत्नी को आहिस्ता जवाब देते हुए गाँव में अपने घर का रास्ता वे ड्राईवर को बताने लगते हैं ।

उनका गाँव भी बदलाव की जद में है, यहाँ आकर कोई भी इस बात को स्वीकारने से मना नहीं करेगा । गाँव में सड़क किनारे दुकानें खुल गयी हैं । लडके पान की दुकानों के सामने मोबाईल लिए खड़े हैं और उनकी नजर इन्स्ताग्राम में चल रहे अश्लील किस्म के रील्स पर टिकी है । पान , गुटका और पाउच की खपत दूसरी जगहों की तरह इस गाँव में भी अधिक है । इस गाँव के दृश्य प्रताप मिश्र की आँखों में शहर के निचले मोहल्लों के दृश्यों की तरह दिखाई पड़ रहे हैं ।

उनके घर के पास ही एक आयुर्वेद के डॉक्टर की क्लिनिक दिखाई दे रही है, जहाँ एक साइन बोर्ड शोभायमान है - डॉ. पुरंदर कलिता, बी.ए.एम.एस. । गाँव में किसी डॉक्टर की उपस्थिति से प्रताप मिश्र चकित हैं । उनके मन में इस बात के लिए तर्क वितर्क चल रहा है कि अगर ये आयुर्वेद की जगह एलोपेथी का एम.बी.बी.एस. डिग्री धारी चिकित्सक होता तो क्या गाँव में रहता ? उनके हिसाब से एम.बी.बी.एस. डिग्री धारी चिकित्सक को शहर में ही होना चाहिए ।

यहाँ रोक दूँ सर ? पूछते-पूछते ड्राईवर गाड़ी की स्पीड एकदम दस पर ले आया है ।

हाँ हाँ ..यहीं रोको।‘ -प्रताप मिश्र की आवाज में अब भी एक रोब दाब है ।

घर कम है बल्कि यह फॉर्म हाउस ज्यादा है । बाहर एक बड़ा सा गेट शोभायमान है । गेट पर एक चमकता हुआ साइन बोर्ड लगा है , जिस पर गोल्डन कलर में शब्द उभरे हुए हैं ‘‘मिश्र फॉर्म हाउस‘‘ । प्रताप मिश्र साइन बोर्ड को देखकर फूले नहीं समा रहे हैं । रामनाथ बड़ा काम का आदमी था‘ - वे मन ही मन सोच ही रहे हैं कि इतने में एक युवक गेट के बाहर आकर उन्हें नमस्ते सर!कहकर सावधान की स्थिति में खड़ा हो गया है ।

तुम रामनाथ के बेटे ही हो न ?

‘‘जी सर !‘‘

‘‘तुम्हीं गए थे यूक्रेन मेडिकल की पढ़ाई करने ?‘‘

‘‘जी!‘‘

जी कहते हुए युवक के चेहरे के भाव इस तरह बदल रहे हैं जैसे अचानक उसे बिजली का करेंट छू गया हो। पर वह अपने को संभालते हुए कह रहा है..... चलिए सर अन्दर कमरे में , मैं आपका सामान ले चलता हूँ ।

गेट के अन्दर कार पार्किंग के लिए शेड लगा हुआ है । कुछ दूर पर तीन कमरे हैं जिनमें एक कमरा ऐसा है जिसमें वो सारी सुविधाएं हैं जो एक लक्जरी जीवन जीने वाले आदमी को चाहिए । कमी रह गयी है तो बस रामनाथ की जिसने इस कमरे को सजाने संवारने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

आदमी कितना भी रोब दाब वाला हो, जीवन में कभी कभार तो उसे धरती पर पाँव टिकाकर खड़ा होना ही पड़ता है । धरती को यूं ही माँ की संज्ञा नहीं मिली है , जब आदमी धरती के निकट आता है तो धरती अपने भीतर संचित थोड़ी सी संवेदना उसे उपहार में दे देती है । यहाँ आकर प्रताप मिश्र का दिल भी रामनाथ के परिवार के लिए अब थोड़ा पसीजने लगा है । फॉर्म हाउस के चारों तरफ की भौगोलिक संरचना जितनी आकर्षक है उसका अंदाजा शहर में बैठकर नहीं लगाया जा सकता । वर्षों बाद जब इसे अपनी आँखों से वे देख रहे हैं तो रामनाथ की स्मृति उन्हें असहज करने लगी है ।

लड़का सारा सामान कोने वाले कमरे में रख आया है जो स्पेशली मिश्र परिवार के लिए रिजर्व रहता है । यह कमरा तभी खुलता है जब उनके परिवार से कभी कोई थोड़ी देर के लिए गाँव आता है । हाँ इसकी साफ सफाई बराबर होती रहती है । आज तो प्रताप मिश्र और उनके ड्राईवर के लिए भोजन की व्यवस्था रामनाथ के परिवार को ही करनी पड़ेगी । परिवार में भी अब कौन है ... बस रामनाथ की पत्नी और उनका बेटा !

आप क्या लेंगे सर !... चाय या नींबू पानी ? लड़का पास आकर अदब से पूछने लगा

तीन कप चाय के लिए कह दो और तुम मेरे पास आकर बैठो । मैं शाम को ही लौट जाऊँगा इसके पहले मुझे तुमसे कुछ जरूरी बातें करनी है ।

जी सर !‘ - लड़का हुकुम बजाते हुए फॉर्म हाउस के भीतर ही थोड़ी दूर पर बने एक कमरे की ओर गया और अपनी माँ से तीन कप चाय के लिए कहकर वापस लौट आया ।

उसके आते ही प्रताप मिश्र सामने की एक खाली कुर्सी पर उसे बैठने के लिए इशारा करने लगे ।

वह सकुचाते हुए बैठ तो गया पर उसकी नजर उनकी ओर न होकर नीचे जमीन पर टिक गयी।

तुम्हारे पिता के जाने के बाद तुमने आगे क्या सोचा है ?‘

मिश्र जी की बातों का जवाब देने के पहले ही उसका चेहरा रुआंसा होने लगा, मानो वह किसी प्रश्न का उत्तर देने की हालत में न हो ।

मैंने जानकारी ली थी उस समय , रामनाथ को शायद हार्ट अटैक आया था ।

वह अब भी चुप रहा ।

इस बीच ड्राईवर ही तीन कप चाय लेकर आ गया ।

लो चाय पियो‘- प्रताप मिश्र लड़के को सहज करने के लिए प्यार से कहने लगे।

उन दोनों को चाय की कप थमाकर ड्राईवर अपनी चाय की कप लेकर दूर में स्थित एक पेड़ की छाँव तले बैठ गया और चाय की चुस्कियों का आनंद लेने लगा ।

जीवन में कोई दुःख न हो तो चाय की चुस्कियां भी कितनी सुखकर होती हैं । हरेक चुस्की के साथ आदमी के चेहरे पर लौटती ताजगी उसकी खुशी की गवाह बनने लगती है ।

समय के एक ही काल खंड में यहाँ तीन लोग चाय पी रहे थे पर तीनों के चेहरे पर एक समान ताजगी को ढूँढ़ पाना संभव न था । जब तक दुनिया में दुःख और तकलीफें हैं,एकसाथ यह कभी संभव भी न होगा । लड़का चाय की चुस्कियां लेते हुए भी उदास था ।

वैसे हुआ क्या था रामनाथ को ?‘ मिश्र जी ने धीरे से पूछ लिया

लड़के को समझ में ही नहीं आ रहा था कि वह किस तरह सारी बातें उन्हें बताए ।

जब भी वह कुछ कहने की कोशिश करता उसका गला रूंध जाता।

इस बीच वह उठकर अपनी माँ के पास गया और वहां से जब लौटा तो उसके हाथ में एक डायरी थी।

आकर वह फिर से प्रताप मिश्र के सामने बैठ गया । उसकी आँखों में आंसू थे और उसका चेहरा थोड़ा और उदास हो गया था।

उसने अपने हाथ में रखी डायरी प्रताप मिश्र की ओर बढ़ा दी और चुपचाप जमीन की ओर अपनी नजरें झुका कर शांत बैठ गया ।

प्रताप मिश्र को लड़के की गतिविधि अबूझ पहेली की तरह लगने लगी। उन्होंने डायरी को पलटना शुरू ही किया था कि उनकी नजर पहले पन्ने पर पड़ी -

यूक्रेन जाकर मेडिकल की पढाई करने का निर्णय मेरे जीवन की सबसे बड़ी गलती साबित हुई। पिता जी ने हिम्मत करके मुझे भेजा क्योंकि उस समय एक डॉलर की कीमत 45 रूपये के बराबर थी । उन्होंने सोचा था कि बेटा डॉक्टर बन जाएगा तो उनके दिन सुधर जाएंगे। इसी इच्छा में साल भर की आय से सालाना तीन लाख के आसपास का खर्चा जुगाड़ने की हिम्मत उन्होंने कर ली और मैं यूक्रेन चला गया । हालाँकि तीन लाख की यह रकम भी उनकी पहुँच से दूर ही थी पर खींच तानकर उन्होंने यह सब किया । दो तीन साल तो ज्यादा असर नहीं पडा पर जब डॉलर की कीमत अचानक बढ़ने लगी और रूपया गिरकर 75 से 80 रूपये एक डॉलर के बराबर होने लगा तो अचानक पिता जी पर आर्थिक बोझ दूना हो गया । वे बुरी तरह रूपया और डॉलर के चक्रव्यूह में फंस गए। उनका हेल्थ गिरने लगा था। रात में उन्हें नींद न आने की बीमारी ने पकड़ लिया । कई बार हाई बीपी के कारण उन्हें चक्कर आने लगा था । माँ ने मुझे यह सब कभी बताया नहीं । पैसे की व्यवस्था न हो सकी तो पिता ने एक दिन सारी जमीनें बेचकर पैसे का इंतजाम करवाया । मैं अभागा इन सबसे बेखबर यूक्रेन की धरती पर डॉक्टर बनने के सपने बुनता रहा।

प्रताप मिश्र पन्ने पलटने लगे ...

आगे जो लिखा था उसे पढ़कर प्रताप मिश्र का दिल पसीज गया ।

मैंने सोचा था इस बार छुट्टी पर देश लौटूंगा तो पिता के लिए एक विदेशी कुर्ता और माँ के लिए कुछ आर्टिफिसियल गहने लेकर आऊंगा । यूक्रेन में ये चीजें बहुत सस्ती मिलती हैं । पर सोची हुई चीजें कहाँ हो पाती हैं जीवन में , उनकी जगह कुछ ऐसा होने लगता है जैसे कि सब कुछ खत्म होने की कहानियाँ लिखी जाने की शुरूवात होने को हो । मेरे साथ यहाँ यही हुआ । यूक्रेन पर किसी की बुरी नजर क्या पड़ी मेरे जीवन में ही ग्रहण लग गया । रूस के निरंतर हमलों ने भारत से गए मेडिकल स्टूडेंट को भी नहीं बख्शा। मेरी अच्छी दोस्त नीलिमा को मैंने अपनी आँखों के सामने तड़प तड़प कर मरते हुए देखा । हम बहुत बेबस थे। कहीं से कोई सहायता की उम्मीद नहीं थी । हमने अपनी सरकार से भी उम्मीद खो दी थी। काफी दिन हमें यूक्रेन में संघर्ष करना पड़ा । हम बंकरों में छुप छुप कर यहां वहां भागते रहे। कई कई दिनों तक हमें भूखा रहना पड़ता था। लगभग सब कुछ खत्म हो जाने के बाद हमारी सरकार ने हमारे लौटने के बारे में सोचा और फिर एक दिन गिरते पड़ते मैं किसी तरह दिल्ली पहुंच गया। मेरे जेब में दिल्ली से यहाँ घर तक आने को भी पैसे नहीं थे। उस दिन भूखे प्यासे बिना टिकट जब मैंने रेलगाड़ी में यात्रा की तब भी मुझे यही लग रहा था कि जीवन में मुझसे इतनी बड़ी गलती कैसे हो गयी? लौटते समय ट्रेन में कई लोगों ने मुझ पर तंज भी कसा- देश में नहीं है क्या मेडिकल कॉलेज जो विदेश भाग कर गए थे?‘

किसी ने यह तक कह दिया कि ये सब देशद्रोही हैं।

मैं उन्हें कैसे कहता कि मेडिकल शिक्षा पर यहां माफियाओं का राज है। कैसे कहता कि यहां के प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन लेने के लिए कम से कम एक करोड़ रुपया चाहिए जो हमारे बस की बात नहीं । कैसे बताता कि सरकार ने समुचित मात्रा में सरकारी मेडिकल कॉलेज खोलने पर कभी भी ध्यान नहीं दिया।

उनकी बातें उस वक्त मुझे बहुत पीड़ा पहुंचा रही थीं पर मैं उनकी बातें सुनकर चुप ही रह गया।

प्रताप मिश्र को यह पढ़कर बड़ा धक्का लगा। उन्होंने स्वयं अपने बेटे का एडमिशन एक करोड़ रुपया देकर प्राइवेट मेडिकल कॉलेज में करवाया था।

प्रताप मिश्र आगे की पंक्तियाँ पढ़ते हुए चेतना शून्य होने लगे.....

‘‘मैं अभागा उस दिन जब थका मांदा घर पहुंचा तो घर में रोना धोना शुरू था ।

मेरे घर पहुँचते ही किसी ने मुझसे कहा कि ... योर फादर इस नो मोर ! उनका बीपी पहले ही बढ़ा हुआ था, यूक्रेन में गोली बारी से मेडिकल छात्रों के मरने की खबरों ने उन्हें और दहशत में ला दिया । तुमसे संपर्क न हो पाने की वजह से उनका बीपी एकदम हाई होता जा रहा था । दवाईयां काम नहीं आ रही थीं और आज सुबह ही वे हार्ट अटैक से चल बसे ......!

उफ ! मैंने अपने पिता को अपने ही हाथों मार दिया ।‘‘

प्रताप मिश्र आगे और पढ़ नहीं सके । रूपये की गिरती कीमत और डॉलर की बढ़ती कीमत, जिसे उन्होंने सोशल मीडिया पर पढ़कर हमेशा मजाक का ही बिषय समझा , उसकी कथा इतनी भयावह भी हो सकती है, उसका अंदाजा उन्हें आज हुआ। डायरी में लिखी गयी पंक्तियों ने , देश में लिखी गयी रुपये और डॉलर की कथा की पोल खोल कर उनके सामने रख दी थी।

उनका मन स्वयं को धिक्कारने लगा । इतने बड़े आदमी होकर भी उन्होंने कभी किसी के लिए क्यों कुछ नहीं किया। रूपये की कीमत गिराने से लेकर विदेश गए बच्चों की कोई सहायता न कर पाने का दोषी आखिर कौन है? इसके लिए सरकार की नीतियाँ अगर दोषी हैं, तो सरकार के अंग होने के नाते क्या वे इसके दोषी नहीं हैं ?

सरकारी माल उड़ाने के सिवा उन्होंने अपने 40 साल की नौकरी में कोई दूसरा अच्छा काम किया होता, तो आज इस अपराध बोध से वे बचे रह जाते । अपराध बोध से बचने के लिए , उन्होंने याद करने का भरसक प्रयास किया कि कोई तो ऐसा किया हुआ नेक काम, छोटा मोटा ही सही , उन्हें बचाने के लिए स्मृति से निकल कर आए, पर जितने भी किये हुए काम याद आए सबने उन्हें अपराध बोध के अंधे कुएँ में धकेलने का ही काम किया।

ठण्ड का समय था फिर भी उनका शरीर पसीने से भीगा हुआ था। उनके चेहरे पर भी पसीने की बूँदें उभर आयी थीं । लड़के का ध्यान अचानक उनकी तरफ गया तो वह दौड़कर एक ग्लास पानी ले आया ।

आप ठीक तो हैं सर ? आपको इतना पसीना क्यों आ रहा है ?पानी पी लीजिए सर !‘-लड़के ने उनके कंधे पर अपने हाथ रखकर उन्हें जब छुआ तो लगा जैसे कि रामनाथ ने मालिक कहते हुए उन्हें सहारा दिया है ।

तुम मेरे साथ शहर चलोगे ? नर्सिंग होम की मैनेजरी संभालोगे?‘- थोड़ा अपने को संभाल कर प्रताप मिश्र ने प्यार से लड़के की तरफ देखते हुए जब कहा तो लड़के ने झट से जवाब दिया- नहीं सर ! मैं अब यह गाँव छोड़कर कहीं नहीं जाऊँगा।

तब तो फिर रामनाथ का पूरा काम अब तुम यहीं संभालो ! सारे संसाधन तो यहाँ हैं ही , अपने पिता की तरह लगन से काम करोगे तो फॉर्म हाउस से ही हर महीने पचास हजार से अधिक की कमाई हो जाएगी। ट्वेंटी परसेंट रख रखाव का खर्च निकाल कर थर्टी परसेंट हमारे हिस्से भेज देना, बाकी फिफ्टी परसेंट तुम्हारा!

जी सर कहते हुए लड़के के चेहरे पर जो संतोष का भाव उभरा, उसने थोड़ी देर पहले प्रताप मिश्र के भीतर जन्मे अपराधबोध को कुछ हद तक हल्का कर दिया ।

 

 

---------------------------------------------------- 

92 श्रीकुंज, बोईरदादर , रायगढ़ (छत्तीसगढ़) पिन 496001 मो.7722975017

 

 

टिप्पणियाँ

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च