सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जैसे किसी हत्यारे ने प्रेम की हत्या कर दी हो : रमेश शर्मा की कहानी

 


टिप्प..! टिप्प..! टिप्प..! झिन्गूरों की स्वर लहरियों के बीच खपरैल की छप्पर से रिस रिस कर फर्श पर जगह जगह रखीं बाल्टियों में गिरती, बारिश की बूंदों की आवाजें, उसकी नींद में खलल डाल रहीं थीं। आवाज की तीव्रता से लगा उसे, कि बाहर तेज बारिश हो रही है । सारी बाल्टियों के जल्दी भर जाने के अंदेशे ने ही उसकी नींद पतली कर दी । नींद में उसे कई बार गुस्सा भी आया , पर अचानक उसे लगा कि गुस्सा करने के लिए भी तो आदमी की एक हैसियत होनी चाहिए । वह आखिर गुस्सा करे भी तो किस पर करे? .... अपने घर की खपरैलों वाली छप्पर पर गुस्सा करे? चाहकर भी जिसकी मरम्मत वह पिछले दो बरस से नहीं करा सका है और फिर भी वह उसे आसरा देती आ रही। इन मूक बाल्टियों पर वह गुस्सा करे? जो बारिश के आते ही घर की फर्श पर जगह जगह दरबानों की तरह खड़ी होकर फर्श को तरबतर होने से बचाती आ रहीं । इन बेजान सी चीजों पर गुस्से को लेकर ही उसे कुछ अजीब सा लगा ।

इस एहसास ने उसकी बांह पकड़ उसे पिछले दिनों की ओर अपने साथ दौड़ने पर मजबूर कर दिया। वह दौड़ता गया...दौड़ता गया । दौड़ते दौड़ते उसकी मुलाकात उसके स्कूल के दिनों से हुई । स्कूल के दिनों के साथ रामनाथ मास्टर जी का चेहरा अचानक उसके सामने आ गया। उस चेहरे में ऐसा क्या था कि उनका चेहरा उसे आज भी अच्छा लगा । चेहरे के पीछे-पीछे फिर उनकी कहानी चलकर आ गयी । रामनाथ मास्टर जी को प्राचार्य ने एक दिन जमकर डांट दिया था , वे कक्षा में आते हुए कुछ उखड़े-उखड़े से लग रहे थे । आते ही उन्होंने बच्चों को डांटना डपटना शुरू कर दिया । वे अमूमन बच्चों से इस तरह का व्यवहार करते ही नहीं थे । उनका अप्रत्याशित व्यवहार देखकर बच्चे भी सहम गए थे, पर उसने हिम्मत करके उस दिन उनसे पूछ ही लिया था ---- क्या बात है मास्टर जी ! आज आप बहुत गुस्से में हैं?‘

सुनकर वे अचानक उस पर बिफर पड़े --  क्या मुझे गुस्सा नहीं आ सकता बेटा ? मुझसे हमेशा प्यार और दुलार की उम्मीद ही क्यों करते हो ?‘ ऐसा कहते हुए उनकी आँखों की कोर गीली हो उठीं, जिसे बाकी बच्चे भले न ताड़ सके हों पर उसने करीब से महसूस कर लिया ।बच्चे रामनाथ मास्टर जी की पूंजी थे , मात्र वही भर तो उनकी हैसियत थी , इसलिए उन्होंने बच्चों को डांट दिया होगा । ऐसा करते हुए शायद उनका अशांत मन शांत भी हो गया हो । आखिर गुस्से को बाहर जाने के लिए कोई न कोई रास्ता तो चाहिए । उसके पास तो वह रास्ता भी नहीं था । वह आखिर किसे डांटे ? किस पर गुस्सा करके अपने मन को शांत करे ? यह उसके लिए जीवन में एक अनसुलझा सवाल रह गया था । इस तरह सोचते सोचते फिर वह स्कूल के दिनों का हाथ छोड़ थोड़ा आगे दौड़ा तो उसे एक तालाब मिल गया  । तालाब की मेड़ पर हरे भरे पेड़ मिले । तालाब का जल एकदम काला था । वहां मछलियों की उछल कूद देखकर उसका मन हुआ कि उनके संग वह भी उछल कूद कर ले । फिर वह अचानक पानी में कूद गया । उसे तैरना तो आता नहीं था । तैर न पाने की वजह से उसकी सांस जब फूलने लगी, तो उसकी माँ, जो पास ही खड़ी किसी से बतिया रही थी, दौड़ी दौड़ी आयी और पानी में कूद कर उसने उसकी जान बचायी।

 हे भगवान्! आज तूने ही मेरे बच्चे को बचा लिया !

का बेटवा तेरा बचपना आखिर कब जाएगा?‘ माँ ईश्वर पर अटूट आस्था रखने वाली एक निपट घरेलू और उदार स्त्री थी । माँ के शब्द उसके कानों में गूंजने लगे। वह आगे और दौड़ न सका । उसकी दौड़ वहीं थम गयी । वह पुनः अपनी जगह लौट आया । उस गूंज को अक्सर वह आज भी सुनता है । उसे लगा आज वह कितना अकेला है । समय की खाइयों में हर रोज वह डूब रहा है, पर बचाने वाला अब कोई नहीं ! उसे लगता है माँ जाते जाते उसका बचपना भी साथ ले गयी ताकि वह ऎसी गलतियां ना करे । माएं जाते जाते भी बच्चों के सुरक्षा के प्रबंध कर जाती हैं शायदअपनी माँ को लेकर वह देर तक यही सोचता रहा । 

बारिश के साथ साथ बिजली की कड़कड़ाहट से अचानक उसकी नींद टूट गयी । छप्पर से होकर बारिश की रिसती बूंदों से जब बाल्टियां भरने को आ गयीं तब वह भरी बाल्टियों को बाहर सड़क पर खाली कर आया । ऐसा करके उसे लगा जैसे वह भी भीतर से कुछ देर के लिए हल्का हो उठा है, जैसे उसके भीतर भी हर वक्त कुछ न कुछ भरता रहता है रिसने के लिए । बाल्टियों के फिर से भर जाने तक तो शायद सुबह ही हो जाए, यह सोचकर ही उसे फिर से नींद आने लगी । रात घनी थी और मोहल्ला एकदम सुनसान । झींगुरों की आवाजें टिप्प टिप्प की आवाजों के साथ मिलकर उसे अब थपकियाँ सी देने लगीं । वह निश्चिन्त होकर सो गया और सपनों की दुनियां में विचरण करने लगा ।

इनदिनों देश में सपने दिखाए जाने की धूम मची थी । कहीं स्मार्ट सिटी तो कहीं बुलेट ट्रेन के सपनों की धूम । इन सपनों को लेकर लोगों की दीवानगी इस कदर थी कि वे आगे पीछे अब सोचना ही नहीं चाहते थे । उनके लिए जैसे सपना ही सच था । देश के लाखों लोगों की तरह वह भी अब मान चुका था कि सपनों में विचरना भी कोई बुरी बात नहीं । इससे कुछ मिले न मिले , थोड़ा शुकून तो आदमी को मिल ही जाता है । वैसे भी देश की आर्थिक परिस्थितियाँ अब इस कदर बिगड़ चुकी थीं कि शुकून पाने के बहुत कम रास्ते उसके जीवन में शेष बचे थे, और ठीक उसी वक्त सपनों का यह सुनहला रास्ता जब देश में मीडिया और सरकार की मिली भगत से लांच हुआ तो आम लोगों की तरह उसने भी अनजाने यह राह पकड़ ली । आदमी जिस काम को चाहकर भी जीवन में नहीं कर पाता, सपने उसे भी मनचाहा कर लेने की छूट दे देते हैं । उसे सपने में अचानक लगा कि जिस लड़की को वह दिलो जान से चाहता है, और वास्तविक जीवन में जो उससे बहुत दूर जा चुकी है,  वह लड़की भी उसके बहुत करीब आ गयी है और उसे बेइन्तहा प्यार करने लगी है ।अपने जिस घर को मरम्मत कर  एक नया रूप देने की वह हमेशा सोचता आ रहा ,  वह भी एकदम नया बनकर उसके सामने तैयार खड़ा है । न वहां टिप्प टिप्प की आवाजें हैं , न झिन्गूरों का कोई शोर बाहर से भीतर झाँक रहा । जैसे उसके जीवन में सबकुछ चाक चौबंद हो उठा है । एकदम व्यवस्थित ! माँ जो लम्बे समय तक केंसर से जूझती हुई उसे हमेशा के लिए छोड़ गयी, सपने में वह भी उसकी पीठ सहलाती, उसे प्यार करती हुई मिली । जीवन में हमेशा के लिए बिखरी-बिखरी चीजें सपने में एक साथ जमा होकर उसके बहुत नजदीक आती हुईं लगीं । और अंततः नींद में जिस जगह आकर उसे सबसे अधिक शुकून महसूस होने लगा, ठीक उसी जगह का , झरोखे के उस पार से आती सूरज की रोशनी ने देखते ही देखते अतिक्रमण कर लिया । उसे इस बात का ठीक ठीक अनुभव था कि सपनों के बाहर भी जीवन में शुकून का अंत इसी तरह होता है । उसकी नींद टूट गयी । अचानक उसे झटका लगा और वह हड़बड़ाकर जाग गया । सुबह के सात बज चुके थे । बारिश थम चुकी थी । घर का फर्श सूखा था । पानी से भरी हुई बाल्टियों पर अचानक उसे प्यार आ गया । सबसे बुरे दिनों में साथ रहने वाली चीजें जीवन में सबसे प्यारी लगने लगती हैं, उस वक्त उसके भीतर ये बातें चुपके से चलकर आयीं और सपनों की दुनियां से उसे बाहर ले गयीं ।

आज बारिश न हो तो अच्छा है  यह सोचते हुए दांतों पर ब्रश करते-करते बरामदे में टंगे आईने में वह खुद के चेहरे को निहारने लगा । इनदिनों उसका चेहरा कितना काला पड़ता जा रहा है, आईना नहीं देखता तो यह बात उसके जेहन में नहीं आती । क्या फर्क पड़ता है आदमी का चेहरा गोरा रहे या काला पड़ जाए । जीवन में तकलीफें चेहरे का रंग देखकर भला थोड़ी आती होंगी ? चेहरे का रंग थोड़ा गोरा रहे , कभी यह बात भी उसके लिए मायने रखा करती थी, जब माँ जिंदा थी । उन दिनों उसके पास फेयरनेश क्रीम भी हुआ करते थे । उन दिनों वह एक लड़की के प्रेम में भी पड़ा हुआ था । फिर समय बदला और चेहरे के साथ साथ दिन भी धीरे धीरे काले होते गए । धीरे-धीरे ऎसी बातें खुद-बखुद उसकी दुनियां से विदा होती गयीं । माँ गयी , फिर एकाएक नौकरी भी गयी , नौकरी जाने से उसके साथ साथ जीवन में किसी लड़की से मिला बचाखुचा प्रेम भी चला गया । मानों जीवन में जैसे सबकुछ के, एक साथ विदा होने का समय आ गया हो ।

मुंह धोते-धोते अचानक उसे याद आया कि लाला को आज उसे रूपये भी चुकाने हैं । आज नहीं दिया तो हो सकता है शाम तक वह धमक आए ।

जो भी थोड़ा बहुत तुम्हारे पास है, चुकता कर दो बेटा !ये लाला भी अजीब जीव है, जब देखो फोन पर तकादा मारता रहता है, नहीं समझता कि आदमी की हालत इस देश में अभी फिलहाल कुछ चुका पाने की नहीं है । समय बदलने का इन्तजार भी वह नहीं कर सकता । 

कई बार बुरा समय, आदमी की साफ नीयत में भी छेद कर देता है । वह किसी तरह कर्ज के  बोझ से मुक्त तो होना चाहता है पर मुक्ति का रास्ता कई बार आदमी को द्वंद के भंवर में ले जाकर डुबोने लगता है । कई बार उसे भी लगता कि वह अजीब उलझनों में फंस गया है, और फिर वह लाला को लेकर झुंझला उठता। 

अमूमन वह सुबह टीवी नहीं देखता पर उसे जब कोफ्त सी हुई तो उसने सुबह सुबह टीवी ऑन कर लिया । एक न्यूज चेनल खुला तो वहां घड़ी घड़ी जादूगर जैसे लोग आने जाने लगे । उनकी जुबान जादू दिखाने वाले जादूगरों से कितनी मिलती जुलती लगी उसे । एक ने कहा  इस संकट काल में हो जाओ मालामाल ! इधर राहत की घंटी बजेगी और कुछ दिनों में ही लोगों की तकलीफें फुर्र..अ..अ !

तो उसके पेरेलल बैठा दूसरा एंकर थोड़ा लाउड होकर लगभग चिल्लाने  लगा बीस लाख करोड़ .... हाँ जी हाँ... बीस लाख करोड़ !

इस देश के लोगों को पिछले सत्तर सालों में इससे पहले ऎसी राहत न कभी मिली है, न कोई दूसरी सरकार कभी  यह दे पाएगी!पहला वाला फिर सुर अलापने लगा ।  मीडिया में जो भी बातें कही जातीं न जाने क्यों उसे सच की तरह ही लगतीं। एक उम्मीद लिए वह जी रहा था इसलिए उनकी बातें सच की तरह ही उस तक पहुँचने लगीं । उसे लगा .. क्या पता , हो सकता है अब की बार यह सच ही हो !

काश ! राहत की बारिश का एक छोटा सा हिस्सा , उसके घर के छप्पर से रिसकर उसकी किस्मत की बाल्टी में आ टपकेवह अनमने भाव से सोचने लगा ।  

इस बीच एक विज्ञापन अचानक बज उठा । कुछ समय के लिए जादूगर से लगने वाले लोग स्क्रीन से अदृश्य हो गए।  

उनकी जगह स्क्रीन पर बिस्किट खाते कुछ नंग धडंग बच्चे नाचने लगे और बेकग्राउंड में गाना बजने लगा खुशहाल बच्चे होंगे... खुशहाल भारत होगा, टन टना टन टन...  यह देखकर थोड़ी देर के लिए उसे अच्छा लगा । फिर  विज्ञापन खत्म होते होते अचानक सारे नंग धडंग बच्चे सूटेड बूटेड हो गए । उनके हाथों में महंगे स्मार्ट फोन आ गए और वे फर्राटे से अंग्रेजी में बातें करने लगे । गाना फिर बज उठा खुशहाल बच्चे होंगे , खुशहाल भारत होगा, टन टना टन टन... !चमत्कार से भरा यह दृश्य देख उसे बड़ा मजा आया ।  

बिस्किट से खुशी का आखिर क्या सम्बन्ध हो सकता है? इस पर वह सोचता, इससे पहले ही टीवी स्क्रीन पर जुबानी जादूगर फिर आ गए और अपने स्वर और हाव भाव का जादू फिर दिखाने लगे--  

इस संकट काल में हो जाओ मालामाल ! इधर राहत की घंटी बजेगी और कुछ दिनों में ही लोगों की तकलीफें फुर्र..अ..अ !

बीस लाख करोड़ .... हाँ जी हाँ... बीस लाख करोड़

यह जादुई संख्यां उसके दिमाग पर लगातार चोंट करने लगी । क्या पता उसके भी दिन बहुर जाएं । संभव है वह लाला के कर्ज से भी मुक्त हो जाए । एक सपना उसके भीतर फिर पलने लगा, पर यह सपना इस बार नींद में नहीं बल्कि उसने जागते हुए देखा ।

कुछ हो न हो उस वक्त एक आशा का संचार उसकी रक्त वाहिनियों में दौड़ गया । उसे लगा जैसे भीतर जो जमा था, उससे वह फिर थोड़ा खाली होकर हल्का हुआ है ।  ब्रश करने के बाद वह कीचन की ओर मुड़ गया। वहां कतारों में रखे तमाम डिब्बों को उसने गौर से देखना आरम्भ किया । एक डिब्बे की तलहटी पर चीनी लगभग पाव भर ही बची रह गयी थी । दूसरे डिब्बे में चायपत्ती लगभग खत्म होने को थी । उसे ऐसा लगा जैसे कतारों में रखे खाली डिब्बे, उससे शिकायत करने लगे हों ।  उसके पास जादू दिखाने का कोई हुनर नहीं था , होता तो वह भी  इन खाली डिब्बों को उनके भर उठने का सपना दिखाकर संतुष्ट कर देता । अचानक इन डिब्बों में उसे देश के लोगों के चेहरे नजर आने लगे जिन्हें टीवी के जादूगर आसानी से रिझा लेते हैं । उसे विज्ञापन की याद हो आयी और उसकी इच्छा बिस्किट खाने को हुई पर बिस्किट का डिब्बा एकदम खाली होकर ढनढना रहा था । फिलहाल उस वक्त वह खुशहाल भारत का हिस्सा नहीं बन सका और उसने सिर्फ काली चाय से ही अपनी इच्छा को शांत किया । उसके जीवन में इच्छाएं अधिक नहीं थीं, इसलिए अधूरी इच्छाओं की कोई लम्बी कतार भी नहीं थी। पर जो थीं उनके पूरे होने की गुंजाईश का उसे इन्तजार था ।

आज आसमान साफ था । सड़क पर लोगों की आवाजाही बढ़ गयी थी । वह जिस जगह खड़ा था वहां से विशालकाय मॉल की दीवारों पर लगे फिल्मों के आदमकद पोस्टर आते जाते लोगों को रिझा रहे थे । आपस में लिपटे हीरो-हिरोइन की तस्वीर न चाह कर भी आखिर उसकी आँखों में तैर ही गयी । उसे कोई फिल्म देखे भी तो एक अरसा हो गया था ।

अगर इस तस्वीर में हीरो की जगह वह ले भी ले, तो हिरोइन की जगह तो खाली ही रह जाएगी !‘ - जीवन में अधूरी रह गयी इच्छाओं में से उपजी एक अजीब सी इच्छा  ने उस पोस्टर को लेकर उसके जेहन में कुछ देर के लिए तरंगें सी पैदा कर दी, पर ठहरे हुए जल में तरंगें आखिर कब तक टिकतीं । अंततः बिना कोई ऊर्जा खपाए इन तस्वीरों को पीछे छोड़ वह फिर आगे बढ़ गया ।

आज उसे उसके मेनेजर मिस्टर नीरव के बताये ठिकाने पर भी जाना था । उसकी छोटी बच्ची को हफ्ते में एक दिन, घर पर पढ़ा देने का उनका आग्रह वह टाल नहीं सका था । यद्यपि पैसे लेने देने की कोई बात नहीं हुई थी पर उसे लग रहा था कि हजार दो हजार तो उसे मिल ही जाएंगे । उसके जीवन में इनदिनों यूं भी पैसों की अहमियत बढ़ती जा रही थी।

रास्ते भर कई दृश्यों से टकराते हुए वह पहली बार इस ठिकाने पर पहुंचा था । घर क्या था, वह तो एक आलीशान बंगला था । उसने गेट के भीतर जाने को कॉल बेल दबाया ही था कि उसका सामना वाचमेन से हुआ ।

क्या काम है? वाचमेन ने बड़ी रूखाई से जब पूछा तो उसने इतना भर कहा कि बच्ची को पढ़ाने आया हूँ, साहब का संदेशा है ।

सुनकर वाचमेन थोड़ा  नरम हुआ और बिना किसी भूमिका के दौड़ते हुए भीतर चला गया ।

वाच मेन जब बाहर आया तो अकेला नहीं था , इस बार उसके साथ एक सुन्दर और सुशील सी महिला बाहर आई । वह उससे बोली कुछ नहीं पर उसके चेहरे पर एक प्रसन्नता का भाव संवाद की शक्ल में उभर आया । उसके हिसाब से यह महिला संभवतः मिसेज नीरव ही रही होगी पर कुछ जानने समझने के लिए उसने ज्यादा दिमाग लगाने से अपने आपको रोका और चुपचाप उसके पीछे-पीछे चल पड़ा। कोने में एक सुन्दर से कमरे में सजे गद्देदार सोफे में उसे ले जाकर बिठाया गया। रूम फ्रेशनर की भीनी भीनी खूशबू से उसके भीतर एक ताजगी पैदा हुई और उसे उसकी थकान जाने जैसी लगी । सीलन भरे कमरों में जीवन गुजारते हुए किसी खूशबू से एक अरसे बाद उसका सामना हुआ था । उसे यहाँ शुकून मिल रहा था। उसकी नजरें दीवारों पर टंगे सुन्दर सुन्दर स्टेच्यू पर ठहर गयीं । मोनालिसा की दुःख और खुशी मिश्रित एक तस्वीर भी वहां दिखी जिसे एकटक वह देखता रहा ।

वह कमरे में टंगी तस्वीरों में खोया हुआ था कि इसी बीच एक सर्वेंट उसे चाय और पानी सर्व कर चली गयी। एकबारगी उसे महसूस हुआ कि दूर परदे की ओट से मिसेस नीरव उसे गौर से वाच कर रही हैं। ऐसा करना उसे अस्वाभाविक नहीं लगा। संभव है वह उनकी बच्ची का ट्यूटर बनकर आया है तो एक जिज्ञासा उनमें चलकर आयी हो‘ - वह यही सोचता रहा, कि इसी बीच एक आठ साल की प्यारी सी बच्ची उसके पास आकर एकदम चुप सी बैठ गयी। बच्चों से बातचीत करने का उसके पास यूं तो कोई अनुभव नहीं था पर वह पहले अक्सर सोचता रहा था कि एक दिन वह एक प्यारी सी बच्ची को इस दुनियां में लेकर आएगा। नौकरी के साथ प्रेमिका के छूट जाने से  उसके भीतर की यह इच्छा जो अब कहीं गुम हो चुकी थी, उस इच्छा के एहसास भर ने न जाने कहाँ से उसके भीतर संवाद की वह कला पैदा कर दी थी कि वह बच्ची से जल्द ही घुल मिल गया। इस बीच उसने कई बार महसूस किया कि मिसेस नीरव पर्दे की ओट से उसे देखे ही जा रही हैं । 

जब जाने का समय हुआ तो बच्ची की माँ सामने आकर भी चुप ही रही, उसकी जगह बच्ची बोल पड़ी मास्टर जी आप कल फिर आओगे न ?‘

उसकी बातें सुन वह मिसेस नीरव की ओर ताकने लगा जो उसके सामने खड़ी उसे एकटक अब भी देख ही रही थीं । उन्हें देखकर उसे लगा कि नजरों में भी संवाद की एक भाषा होती है । उन्हें शायद मालूम था कि हफ्ते में केवल विकली ऑफ के दिन ही उसे आना है । वह चाहता था कि मिसेज नीरव कुछ कहें पर वह न जाने क्यों चुप ही रहीं । अपने जीवन में चुप्पियों की गूंज को अक्सर वह सुनता आया है इसलिए अब उसे चुप्पियाँ नहीं डरातीं। चुप्पियों की जगह यद्यपि जाते जाते उनके चेहरे पर विदा का भाव जरूर था जो उसे शुकून दे गया । 

वह लौट आया । उसे यह अटपटा लगा कि मिस्टर नीरव एक बार भी उससे आकर मुखातिब नहीं हुए । वह घर में कहीं दिखे भी नहीं ! यह बात उसके मन में आई तो जरूर, पर उसे लगा कि किसी का किसी से मिलना जरूरी तभी तक है जब उसे जरूरी समझा भी जाए । हो सकता है मिस्टर नीरव ने उससे मिलना जरूरी न समझा हो । हो सकता है आज वे कहीं बाहर ही गए हों। हो सकता है उन्होंने कोई दूसरी शादी ही कर ली हो और अब अलग रहते हुए बच्ची की जिम्मेदारी निभाने के लिए उन्होंने यह व्यवस्था कर रखी हो । आज के समय में आदमी के जीवन में कुछ भी संभव था, पर उसके लिए ये सारे गैर जरूरी सवाल थे । यूं भी उसके जीवन में सवालों की कोई कमी तो थी नहीं कि गैर जरूरी सवालों को वह अपने साथ लादता फिरे । 

वह उनके घर हर हफ्ते नियमित आने जाने लगा ।  उसे मेनेजर साहब से इसके बदले पैसे भी देर सबेर मिलने लगे, पर  उसके मन के भीतर चलकर आए सवालों का कुंहासा धीरे धीरे घना होता गया । मिस्टर नीरव घर पर आखिर कभी दीखते क्यों नहीं ? यह सवाल अंततः उसके जीवन की दीवारों पर न चाहते हुए भी टंग गया ।

उसे क्या? कोई दीखे चाहे न दीखे , उसे अपना काम करके चले आना है!वह जानता था कि इस सवाल से उसके जीवन का कोई बावस्ता नहीं है फिर भी यह सवाल अब उसे भीतर से परेशान करने लगा था । पर इन सबके बावजूद उसे यह अच्छा लगने लगा था कि कम तनख्वाह की तंगी के बाद यहाँ आकर उसे कुछ अतिरिक्त पैसे मिलने लगे हैं जिससे वह लाला का कर्ज अब अदा कर सकता है ।  

आज आसमान साफ था । बारिश की संभावना न के बराबर थी । नहा धो लेने के बाद आईने में आज उसने अपना चेहरा फिर देखा,  उसे लगा... काला पड़ जाने के बावजूद उसका चेहरा उतना भी बुरा नहीं । तैयार होते होते अचानक फिर उसे लाला की याद हो आयी । वह तो कुछ दिनों से उसे भूल ही गया था ।

आखिर वह आ क्यों नहीं रहा ? इतने दिनों तक तो उसे तकादे के लिए आ ही जाना था।वह सोचते सोचते घर से निकला ही था कि अचानक उसका सेलफोन बज उठा

जी! आज आप आ रहे हैं न?‘ एक सुरीली सी जनानी आवाज सुनकर वह कुछ देर के लिए अकचकाया पर अपने को सँभालते हुए वह पूछ बैठा-

जी ! आपको मैं पहचान नहीं पाया ! आप कहाँ आने की बात कर रही हैं ?‘ - उसके इतना कहने भर से उधर से फोन डिस्कनेक्ट कर दिया गया।

आखिर कौन महिला रही होगी ? आज तो ट्यूशन का भी दिन नहीं कि मिसेज नीरव उसे आने की बात कहें । और फिर वे उसे फोन क्यों करेंगीं , वह तो नियत दिन और समय पर खुद बखुद वहां  पहुँच ही जाता है । फिर उसे शक हुआ कि उसके प्रति कहीं मिसेस नीरव की रूचि तो नहीं जाग गयी?‘- एक अजीब सा मानसिक असंतुलन  उसके भीतर कुछ देर के लिए घर करने लगा । आखिर कौन होगी भला ? उसने उसी नम्बर पर दोबारा संपर्क करने की बहुत कोशिश की पर हर बार आउट ऑफ कवरेज एरिया सुनकर वह निराश हो उठा । आखिर कौन होगी भला ? यह सवाल उसे मथता ही रहा । सोचते-सोचते वह घर से निकल अब सड़क पर आ गया । उसे ऑफिस के लिए देर हो रही थी । वह तेज चलते-चलते बस स्टेंड तक पहुँच गया । बस में आज भीड़ नहीं थी । वह आराम से बस के कोने वाली सीट पर बैठ गया । उसकी नजर बगल की सीट पर रखी एक अखबार पर पड़ी । संभव है कोई यात्री पढ़ने के बाद उसे छोड़ गया हो । वह इत्मीनान से उसके पन्ने पलटने लगा । दूसरा पन्ना वह पलटा ही था कि तीसरे पन्ने की एक तस्वीर पर उसकी नजर गयी । अरे यह तो लाला की तस्वीर है ! समाचार में लिखा था ...व्यापारी को व्यापार में भारी नुकसान हो रहा था , कर्ज में वह डूब गया था, और परेशान होकर उसने आत्महत्या कर ली !

खबर पढ़कर उसे एक झटका सा लगा । छिः! सरकारें भला किसी को क्या राहत दे पाएंगी !टीवी पर जादूगरों द्वारा चिल्ला चिल्ला कर कही जाने वाली बीस लाख करोड़ की बातें उस वक्त उसे पूरी तरह झूठ का पुलिंदा लगीं ।

तो उस फोन काल का सम्बन्ध कहीं लाला की मौत से तो नहीं  ? वह जनानी आवाज आखिर किसकी हो सकती है ? कहीं उनकी बेटी संघमित्रा की तो नहीं? अगर वह संघमित्रा ही है तो उसका नम्बर आखिर उसे कहाँ से मिला होगा ? जीवन में जगह-जगह ऊग आए सवालों के साथ अनगिनत सवाल फिर उसके भीतर उपजने लगे । सवाल उसे पिछले दिनों की ओर घसीटते हुए ले गए । उसे आश्चर्य हुआ कि जीवन में पीछे छूट गयी बहुत प्रिय आवाजों को भी पहचानने की क्षमता अब उसमें नहीं रही !

अखबार पलटते पलटते चौथे पन्ने पर उसे लाला की तस्वीर फिर दिखी । संघमित्रा की ओर से अपने पिता के द्वादश कर्म पर शामिल होने के निवेदन ने उसे विचलित सा कर दिया।उसने ट्रू कालर में उस नम्बर को चेक किया । वह संघमित्रा का ही नम्बर था । अपने जीवन से विदा हुए प्रेम को वह भीतर से महसूस करने लगा । वह वहां जाए या नहीं जाए?‘ इस सवाल के भीतर जीवन में गुम हो चुकी मीठी-मीठी आवाजों के शोर ने, उसे सपनों की दुनियां से खदेड़कर जीवन की सबसे सख्त जमीन पर लाकर पटक दिया था !

अफसोस हुआ कि वह  लाला का कर्ज भी उनके जीवित रहते नहीं चुका पाया । इस बीच उसके भीतर से लगातार आवाजें उठने लगीं कि उसे वहां जरूर जाना चाहिए... ! 

बस की सीट पर पीठ को टिकाकर उस वक्त उसने आँखें मूंद ली । जीवन के सबसे असमंजस भरे दिनों की गिरफ्त में आकर वह बुझे मन से सोचने लगा- उसकी नियत कभी कर्ज न चुकाने की रही ही नहीं, सो लाला का कर्ज न चुका पाने का दोषी वह कदापि नहीं है ! उसका दोषी तो यह देश है, जिसने उसकी अच्छी भली नौकरी छीन ली, और फिर नौकरी क्या गयी उसके जीवन का प्रेम ही छीन गया।

बस की सीट पर बैठे बैठे आत्मलीन होकर अपने से ही वह बातें करता रहा - अगर वह, वहां नहीं गया तो उस लड़की के प्रेम का कर्ज न चुका पाने का आजीवन दोषी जरूर होगा, जिसके लिए वह अपने को कभी माफ नहीं कर पाएगा

उसे हमेशा लगता रहा कि उसकी नौकरी उन दिनों न गयी होती तो लाला अपनी बेटी  संघमित्रा का हाथ उसके हाथों में जरूर सौंप देता,पर सरकार के तमाम गलत फैसलों की वजह से आर्थिक मंदी ने देश को पीछे धकेला और अनगिनत लोगों के साथ उसकी भी नौकरी चली गयी । कोई बाप किसी बेरोजगार के साथ अपनी बेटी का ब्याह भला कैसे करता? लाला को यह रिश्ता असुरक्षित लगा , उसे भी लगने लगा कि वह संघमित्रा के साथ न्याय नहीं कर पाएगा । फिर समय बीतने के साथ संघमित्रा की शादी कहीं और हो गयी । यह सबकुछ कितना दुखद था उसके लिए ।

नियत तारीख को वह वहां गया और लौट भी आया। वहां से  लौटने के बाद न जाने उसे क्यों लगने लगा था कि उसके हिस्से का प्रेम, अब उसके हिस्से का बिलकुल नहीं रहा । जीवन में सपने और हकीकतों के अंतर की महीन परतों के बीच अक्सर उसे रह-रहकर महसूस होता रहा कि जैसे इस मुल्क के किसी हत्यारे ने उसके प्रेम की हत्या कर  दी हो ।       

----------------------------------------------------

 

92 श्रीकुंज , बोईरदादर, रायगढ़ छत्तीसगढ़   

टिप्पणियाँ

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च