सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आदित्य अभिनव की कहानी: गोधूलि aditya abhinav ki kahani godhuli

आदित्य अभिनव की कहानियों ने हाल के वर्षों में पाठकों का ध्यान अपनी ओर खींचा है। उनकी कई कहानियां प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में इन दिनों प्रकाशित भी हुई हैं।

यहां ली गई उनकी कहानी "गोधूलि" मध्यवर्गीय परिवारों में व्याप्त परंपरागत समस्याओं की ओर पाठकों का ध्यान आकर्षित करती है।ज्यादातर मध्यवर्गीय परिवारों में बुजुर्गों का जीवन बहुत ऊबड़ खाबड़ भरे रास्तों से होकर गुजरता है।कई बार पीढ़ियों के बीच सामंजस्य का अभाव चरम पर होता है। इतना कि उनके बीच रिश्तों के लिए कोई स्पेस ही नहीं बचा रह जाता।अलगाव ही एक मात्र रास्ता रह जाता है। खासकर वे बुजुर्ग जो पत्नी के गुजर जाने के बाद अपने जीवन में बहुत अकेले हो चुके होते हैं , उनके जीवन की गाड़ी पटरी से उतरने लग जाती है।इस कहानी में अमरकांत भी ऐसे ही बुजुर्ग हैं जो अकेलेपन का दंश झेलते हुए बहु बेटे के साथ किसी तरह जीवन की गाड़ी को खींच कर ले जा रहे हैं। पर उसे आगे और खींच कर ले जाना संभव नहीं लग रहा।

जीवन की गाड़ी को पटरी पर लाने के लिए कई बार मनुष्य को लगभग अस्वीकार्य रास्तों पर भी चलना पड़ता है। जीवन में आपसी प्यार , समर्पण और संवेदना का प्रवेश कई बार समाज में अस्वीकार्य रास्तों के जरिये भी होता है जो अंततः मनुष्य के जीवन का सहारा बन जाते हैं।

अमरकांत बाबू अपने जीवन के उत्तरार्ध में जिन रास्तों को पकड़ते हुए अपने त्रास भरे जीवन को पटरी पर ले आने की कोशिश करते हैं,  वह रास्ता मध्यवर्गीय समाज में लगभग अस्वीकार्यता का रास्ता है। इस संदर्भ में यह कहानी एक नई बहस की ओर हमें ले जाती है । कहानी में एक गहरा संदेश यह भी है कि जीवन आपसी समर्पण, प्यार और संवेदना के बिना नहीं चल सकता। इन जीवन तत्वों की प्राप्ति के लिए कई बार मनुष्य को वर्जनाओं की दीवारों को लांघना भी पड़ता है।



 गोधूलि

-----------

     अमरकांत बाबू  अभी-अभी मोर्निंग वॉक से आए थे। उन्होंने अपने मकान के अहाते में कदम रखा ही था कि उन्हें एक गेंदा का पौधा गिरा हुआ दिखाई दिया। वे पौधे के ऊपर मिट्टी डालकर सीधा खड़ा कर रहे थे कि बगल के कमरे से बहू अंकिता की आवाज सुनकर ठिठक गए। 

“ देखो  शशि !  मुझसे अब ये सब नहीं होगा - - -- ।‘’ 

“आखिर हुआ क्या ?’’

“ हूँह ---  -- हुआ क्या -- - - मुझसे मत पूछो- - - - बस - - - बहुत -- - हो गया - - - - अब इस घर में यदि तुम्हारे पिता जी रहेंगे तो मैं नहीं रहूँगी - - -- एक तो सुबह उठते ही जानवर की तरह पिल पड़ो काम पर - - - किचेन- - - नाश्ता - - - खाना - - - बच्चों को स्कूल के लिए तैयार करना - - - - फिर भागे-भागे 10 बजे तक बैंक पहुँचो - - - बैंक में मरो - - - - पाँच बजे तक -- - - चुसे हुए नींबू की भाँति घर आओ तो -- - - महाराज जी बैठे हैं गार्डेन में ठाट से चेयर लगा कर तीन चार दोस्तों के साथ - - - चल रही है गप्पबाजी -- - - - नेहा - - - जरा मम्मी को बोलना पाँच कप चाय बनाए - - - - -  अच्छा तो क्या बोल रहे थे श्रीवास्तव  जी - - - - - - वाह भई वाह - - जैसे हम तो मशीन ठहरे- - - - हमें तो आराम चाहिए ही नही - - - - ।‘’ 

“ अकी ! वे हमारे पिता जी हैं , आखिर इस उम्र में अब कहाँ जायेंगे।‘’ 

“ चाहे जहाँ भी जाएं अब - - यहाँ मैं नहीं - - - - - ।‘’ 

“ अरे भई -- - अकी ! तुम समझा करो आखिर 48 हजार पेंशन भी तो आता है उनका।‘’ 

“ 48 हजार पेंशन-- - नहीं चाहिए उनका एक भी रुपया हमें - - - बस चैन चाहिए - - - चैन - - - - - चैन की जिंदगी -- - -   वैसे भी दिनभर जब देखो तब खाँसते ही रहते हैं   कहीं दीपू और नेहा को कहीं कुछ हो गया तो - - - नहीं - - -- बा -- - बा - - नहीं ! भगवान् बचाए  ऐसे मुसीबत से, मैं हाथ जोड़ती हूँ  भाई- - - अब - - बस - - - बहुत हो गया।‘’ 

“मेरी बात सुनो, अकी ! भला इस बुढ़ापे में -- - - - और कुछ नहीं तो उनके बुढ़ापे का तो ख्याल करो - - - -अकी !  डियर - - समझो तुम ।‘’ 

“ बुढ़ापा - - तुम बुढ़ापे की बात करते हो - - - हूँह - - - अकड़ देखी है तुमने -- -  और  बातें तो सुनो - - - वही अफसरी अंदाज - - परसों  की ही बात है। मेरे बॉस आए थे चाय पर - - - आ गए अपने अफसरी ठाट में - - - लगे फेकनें- - - मैं - - सड़गुजा में फ़ोरेस्ट ऑफीसर था  तो  इस  स्मगलर को पकड़ा -- - - तो उस स्मगलर को काउण्टर किया -- - ये किया तो वो किया -- - पका दिया उनको सुना सुना कर। कल ही बॉस कह रहे थे कि आपके ससुर भी खूब हाँकते हैं - -- - तुम ही बोलो भला मैं क्या कहती ?  अरे - - भई - - बूढ़ा गए हो तो बूढ़े की तरह रहो - - - लेकिन ये काहे को मानेंगे - -  - अभी भी शौक सब वही है - - ठाठ-बाट-रुआब वही है - - - मैं कोई नौकरानी नहीं हूँ  - -- - - -बता दे रही हूँ - - - यदि तुम नहीं बोलोगे तो - - - मैं ही साफ-साफ कह दूँगी कि जहाँगीराबाद वाले मकान में चले जाएं-- - बाप-दादे का पुराना मकान है - - अभी तो कोई  किरायादार भी नहीं लगा है।‘’ 

“ अकी ! प्लीज तुम समझने का प्रयास करो, आखिर इस उम्र में  पिताजी अकेले भला कैसे रहेंगे, माँ होती तो बात कुछ और थी ।‘’ 

“ शशि ! तुम भी न  - - अजीब प्राणी हो - - तो ठीक है लादे रहो सिर  पर बोझा - - - -अरे भई - - रास्ते निकालने से ही तो रास्ता निकलता है - - - खाना ही बनाना है न -- - तो ठीक कर दो -- बाई - - दोनो टाइम आकर खाना बना दिया करेगी। रहें वही  - -करें अड्डाबाजी -- - - - मैं तो हार मान गई - -ना - - रे बा—बा ना मैं तो हाथ जोड़ती हूँ - - छोड़ें हमे रहने दें चैन से –- - - मुक्ति दें हमें  - -मुक्ति- - - । ‘’ बहु अंकिता ने इतने जोर से हाथ जोड़ा कि उसकी आवाज गार्डेन तक सुनाई पड़ी। 

“ अकी ! - - - - ।‘’ शशि भूषण कुछ बोले उसके पहले ही पैर पटकते हुए अंकिता किचेन में चली गई।

                 अमरकांत बाबू की स्थिति उस  कटे हुए वृक्ष की तरह थी जो कुल्हाड़ी के अब एक ही प्रहार से गिरने वाला हो। उन्होंने किसी तरह अपने आप को सम्भाला। वे चुपचाप अपनी कोठरी में आ, कुर्सी पर धम्म से बैठ गए। उनका सिर चकराने लगा। उनकी आँखें बंद हो गईं ....... 

“ शशि के पापा ! आप इस तरह सुबह-सुबह क्यों सो रहे हैं ?’’   उलाहना भरा मृदुल स्वर था।

“ अच्छा तो आप - - - बहू की बातों पर सोच रहे हैं - - - मैं कहती थी न कि आपकी यह ठाठ-बाट – लाटसाहिबी मेरे तक ही है। मेरी आँखें बंद हुईं कि आपका यहाँ दो दिन भी गुजारा नहीं -- - - -।‘’ 

“ अरे - -  शशि के पापा  ! आप इस तरह तो टूटने वाले पुरुष नहीं हैं फिर आप इतना  मायूस - - - उदास- -- टूट गए - - - चलिए उठिए --  -  थोड़ा घुम-फिर आईए -- - आप तो पक्का लोहा हैं - - - इस तरह कच्चा  मत बनिए - - - ।‘’  

       अमरकांत बाबू ने अपने बाँये  कंधे पर चिर परिचित स्नेहिल स्पर्श का अनुभव किया । उन्होंने अपने  दाहिने हाथ से उस कोमल हथेली को पकड़ने का प्रयास किया , लेकिन वह हथेली वहाँ नहीं थी। उन्होंने सिर को झटकते हुए अपनी आँखें खोली। तीन माह पहले दिवंगत हुई पत्नी सुमित्रा का फ्रेम किया हुआ फोटो सामने टेबुल पर मुस्कुरा रहा था। उन्होंने अपने ऑफिस ले जाने वाले बैग जिसमें वे सारे जरुरी कागजात रखते थे, में उस फोटो को डाला और धीरे-से कमरे से बाहर निकल गए। एक क्षण के लिए ठिठके और भरपूर निगाह से पूरे मकान को देखा, फिर तेजी से डग भरते हुए चल दिए।   

          अमरकांत बाबू का इकलौता बेटा शशिभूषण आइ. आइ. टी.  खड़गपुर से बी. टेक.( आइ. टी. ) करने के बाद भोपाल में ही मल्टी नेशनल कम्पनी मे प्रोग्रामर है और उसकी पत्नी अंकिता वहीं केनरा बैंक में क्लर्क। दो साल पहले ही रिटायरमेंट के बाद वे यहाँ आए थे। उन्हें  इस बात की खुशी थी कि उनका बेटा उनके ही गृह नगर में जॉब पाया है। उनके बाप-दादे का पुश्तैनी मकान भी था भोपाल के जहाँगीराबाद मुहल्ले में, लेकिन बेटे ने एक डुप्लेक्श अरेरा कॉलोनी पॉश एरिया में खरीद लिया था जिसका आधा अमाउण्ट उन्होंने ही दिया था। पत्नी सुमित्रा गठिया से लाचार हो गई थी। वह पैतालिस की उम्र में मीनोपोज के बाद से ही दिन-ब-दिन अस्वस्थ होती चली गई थी। अस्वस्थता के बाद भी वह उनके जीवन का बहुत बड़ा सहारा थी। उनके हर हिटलरशाही फरमान को पूरा करने की  हरसंभव कोशिश करती। भोपाल में अकेले रहकर बेटे की पढाई –लिखाई सम्भाला,U नहीं तो वे कहाँ --- - यह सब कर पाते --- सतपुड़ा, बालाघाट , शहडोल और झाबुआ की जंगलों में रहते हुए। 

     सड़क के किनारे वे एक स्थिर गति से चल रहे थे लेकिन उनका दिल-दिमाग बड़ी तेजी से चल रहा था ......... निर्मला - - - हाँ - - - - निर्मला ही नाम बताया था उसने। पहली बार जब उन्हें  वह मिली थी,  कहा था  इंदौर की हूँ ’। उसके नम्बर का एस. एम. एस.   आया था। एक मित्र के मित्र ने भेजा था। एमाउण्ट पहले ही चेक से पेमेंट हो चुका था। पहली बार नौ हजार एक रात का। वे चिनार पार्क के मुख्य द्वार पर उसका इंतजार कर रहे थे। गर्मी के दिन -- - शाम के सात बज रहे थे - -सूरज डूबने वाला था। वह कैब से उतरी और उनके सामने आकर खड़ी हो गई। उसने सलीके-से साड़ी पहन रखा था , दोनों कलाइयों में लाल-लाल चुड़ियाँ थीं , गले में मंगलसूत्र लटक रहा था। कोई शादी-शुदा महिला है -- - उससे बात करने की हिम्मत उन्हें नहीं हुई थी। लगभग पाँच मिनट तक चुप्पी बनी रही। फिर उसने कहा “ आप मिस्टर  अमरकांत - - -- ? 

“ हाँ-- - हाँ - - - मैं   --- मिस्टर अमरकांत- - - - - ?’’  

“ --- - मैं - - -निर्मला - - -‘’  कहते हुए  वह मुस्कुराई । फिर उसने कहा “ चलें --- --।‘’ 

   होटल वे दोनों पति-पत्नी के रूप में पहुँचे थे। कमरे की चाभी लेकर आगे-आगे चल रहे होटल बॉय को भी संदेह नहीं हुआ था। कमरे में पहुँचने के बाद वे अटैच्ड बाथरूम में फ्रेश होने चले गए थे। फ्रेश होकर जब बाहर आए तो उन्होंने देखा -- - - उसका दूसरा ही रूप - - --झीनी-झीनी नाइटी में उसका मादक रूप झलक रहा था - - - अंग-अंग से कामुकता टपक रही थी - -  मदभरी नशीली आँखों से प्रणय की मदिरा छलक रही थी - - -  पारदर्शी अंतर्वस्त्र की मनमोहकता बरबस अपनी ओर खींच रही थी - - । वे उसे एकटक हो देखते रह गए थे। उसका शादी-शुदा सद्गृहस्थिन वाला रूप कहाँ चला गया ?  उसकी इस छवि को देखकर वे हैरान हो गए थे। उन्होंने कमरे का दरवाजा बंद कर दिया। 

   वह मोबाइल पर बात कर रही थी 

“ माँ  !  तुम समय पर दवा ले लेना ,  आज मैं बिजनेस टूर के कारण नहीं आ पाऊँगी ।‘’ 

“ हाँ – हाँ – ठीक – ठीक - -- - अच्छा - - माँ – अपना ध्यान रखना -- -गुड नाइट ।‘’  कहते हुए उसने मोबाइल साइलेंट पर डाल दिया था। 


     हर तीसरे-चौथे महीने उन्हें अपने मित्र के मित्र की आवश्यकता पड़ती थी। संयोग ऐसा हुआ कि छ: बार के ट्रीप में चार बार वही यानी निर्मला ही आई थी। इस तरह धीरे-धीरे  निर्मला से उनका लगाव-सा हो गया । दूसरे के साथ उनके मन के तार नहीं जुड़ पाते थे । निर्मला में कुछ ऐसा था जो उन्हें अपनी ओर खींचता था । एक बार उन्होंने निर्मला से पूछा “ तुम्हें तो एक रात के आठ-नौ  हजार मिल जाते हैं - - - चलो  यह भी  ठीक है।‘’ 

निर्मला ने कहा था “ क्या कहते हैं - -  सर - - ! मुझे तो प्रत्येक ग्राहक से दो हजार से ढाई हजार ही मिलता है । ’’  

  इसके बाद से उन्होंने निर्मला को डायरेक्ट कॉल करना शुरु कर दिया था।

   एक रात  होटल में -- - दो बज रहे होंगे ।  उनकी नींद खुली  तो देखा कि निर्मला बैठी हुई है और उनके चेहरे को एकटक निहार रही है - - - - । ‘’ वे उठकर बैठ गए थे। 

“ क्या- - - —देख रही हो  ? ‘’ 

“ कुछ नहीं - - - बस यूँ -- - ही -- -।‘’ 

“ अच्छा - - एक बात पूछूँ - -- बताओगी  ?’’ 

“ हाँ – पूछिए - -- ।‘’ 

“ क्या  तुम्हें किसी की बहन , बीवी  और माँ बनने की इच्छा नहीं होती ? ‘’ 

“ अमर बाबू  ! बहन बनने का नसीब किसी कॉल गर्ल के पास नहीं होता - -- बस बीवी बनने का  छोटा-सा सपना होता है - - - वह सपना भी कुछ बरसों तक आँखों में रहकर खुद ही मर जाता है - - -   जब बीवी ही नहीं बनी तो -- - - फिर माँ बनने का सपना - - - तो - --- - -।‘’ उसने लम्बी आह भरते हुए कहा। 


      निर्मला ने उन्हें एक नजर सिर से पैर तक देखा “ अमर बाबू  ! दुनिया हमें बाजारू औरत समझती है - - - हाँ   बाजारू - - - पर बाजारू औरत के मन में भी कभी ऐसी हूक  उठती है कि उसका कोई हो - - - कोई अपना जिसे वह निकट से महसूस कर सके -- - -  खैर   छोड़िए - - - आप – सोइए - - - सुबह जल्दी निकल चलना है  -- -।‘’ कहते हुए उसने चादर तान ली। 

           अमरकांत बाबू द्वारिकापुरी कॉलनी के राम मंदिर चौराहा से चौथी गली के तीसरे मकान के सामने खड़े हो गए। सी- 32 -- -हाँ -- - -  यही तो बताया था निर्मला ने । पुराने ढंग का मकान - -- मकान के आगे छ: फीट का रोड था।  दरवाजे से दो फीट की दूरी पर से ही नाला बह रहा था। बहुत दिनों से साफ नहीं किए जाने के कारण नाले का कीचड़ काला पड़ गया था। मच्छर भिनभिना रहे थे। दो मिनट तक वे दरवाजे पर खड़े रहे । मच्छरों ने हमला बोल दिया। तीन-चार बार उनका हाथ मच्छरों को मारने के लिए घुटनों के नीचे तक जा चुका था। उन्होंने दरवाजा खटखटाया -- - - कुछ भी आवाज नहीं आई। थोड़ी देर बाद फिर से दरवाजा खटखटाया -- - -

“ कौन  ? - - - निर्मला -- - - दवा मिल गयी - - बेटी - - - ?’’ एक हल्की काँपती आवाज सुनाई दी। 

     दरवाजा भीतर से खुला हुआ था । वे धीरे से भीतर आ गए । 

“ बड़ी देर कर दी - - - बेटी -- - ।‘’ 

“ मैं - -  ।‘’ 

“ मैं  - - कौन - - ?’’ 

“ मैं -- -- मैं - -निर्मला का दोस्त हूँ - - - मिलने आया हूँ - - ।‘’ 

    वे कमरे से आ रही आवाज की तरफ बढ़े।  पुरानी-टूटी चारपाई पर एक वृद्धा पड़ी हुई थी। ऐसा लगता था मानो वह महीनों से बीमार हो - - शरीर के नाम पर  हड्डी की ठठरी  मात्र - - आँखें कोटरों से झाँक रही थीं - - - सफेद बाल उलझ कर गंदी-मटमैली  लटें बनी हुई - - गाल सूज  गए थे - - -चेहरा अजीब डरावना लग रहा था। उन्हें  लगा चारपाई पर पड़ी  यह मौत से कुछ ही कदम दूर है ।‘’ 

‘ बैठो - - बेटा ---  - क्या नाम है तुम्हारा ? ‘’ उसने धीरे से कराहते हुए कहा । 

“ अमरकांत - - - आंटी     -- अमर - - कांत - - - ।‘’ 

“  चलो – अच्छा हुआ - - -तुम आए  इससे मिलने।  अब कोई नहीं आता - -बेटा --  इससे मिलने – -जब से इसकी कम्पनी को नुकसान  हुआ है - - -घाटे में चल रही है -  - ।‘’ 

“ क्या - - - - क्या कह रही हैं  -- - आंटी  - - आप ? ‘’ 

“ अरे -- - बेटा - - तुम तो सब जानते ही होगे - - -निर्मला सेल्स एक्जेक्युटीव है --- लेकिन अब तो कम्पनी ही बंद होने के कगार पर है - -- भला - - क्या करे - - वह भी -- -! यदि  इसकी शादी हो गई होती - -तो मुझे चिंता नहीं  होती - - --बेटा - - ।‘’ 

“  शादी - - ?’’ 

“ हाँ - - - बेटा - - !  निर्मला की शादी- - अरे – कौन-सी ज्यादा उम्र हो गई है मेरी बेटी की -- -- - आजकल  तो 30-32 की उम्र में  शादी ही होती है लड़के-लड़ड़ियों की - - - ।‘’ 

“ सो तो ठीक है आंटी - - - लेकिन - - निर्मला की उम्र  तो - - - लगभग- - - ।‘’ 

“ अच्छा – बेटा - - - तुम्हारी नजर में कोई लड़का है तो - -बात चलाओ - - -मैं -- - मरने से पहले - - उसकी शादी - - - ।‘’ कहते ही वह बेहोश हो गई। 

           वे जाने के लिए खड़े ही हुए थे कि दरवाजे पर किसी के आने की आहट हुई । निर्मला हाथ में झोला लिए अंदर आ गई थी । 

“ अमर बाबू  ! आप - - - ? निर्मला के स्वर मे आश्चर्य था । 

“ हाँ  - - - निर्मला  !  बहुत दिन हो गए थे - - - सोचा मिल लूँ -- - तुमसे - - अच्छा  बताओ - - कैसी हो ?’’ 

“ बस ठीक हूँ - - - ।‘’ उसके स्वर में ढेर सारा दर्द उभर आया था। 

“ आप माँ से मिले हैं क्या -- ? 

“ हाँ - - - मैं आया था तो - - आंटी जगी हुई थी -- - - लेकिन अब लगता है वे बेहोश हो गई हैं ।‘’ 


“ सही कह रहे हैं आप - - -  पता नहीं कब बेहोश हो जाए - - - कब होश में आ जाए - - - - माँ- - - - - कभी-कभी तो हप्तों बेहोश पड़ी रहती है ---   ।‘’ 

“  क्या कह रही थी -- - ?’’ 

“ तुम्हारी शादी की बात कर रही थी - - - कह रही थी - - कोई लड़का - - - - ।‘’ 

“ क्या कहें - - अमर बाबू !  माँ को  बस मेरी शादी की चिंता लगी हुई है।  जब भी होश में आती है - - वही राग - - - शादी - - शादी   -- - शादी - - -  - - अब आप ही बताइए मुझ बावन-तिरपन  साल की बुढ़िया से कौन शादी करेगा - - मिनोपोज हुए भी छ: साल हो गए हैं -- - - और उसे है कि  शादी - - - शादी - --   अमर बाबू - - कुछ लड़कियों की किस्मत में शादी का लाल जोड़ा नहीं होता है - -- हाँ - - - सपने में जरूर अपने को दुल्हन के रूप में सँजी-धजी देखती हूँ - - - देखती हूँ  कोई  मेरी मांग में सिंदूर भर रहा है - - - उसके साथ पवित्र अग्नि के सात फेरे ले रही हूँ - - - पर  नींद खुलते ही - - - - खैर छोड़िए - - -अमर बाबू -- - अब क्या रखा है इन बातों में - -- - ।‘’ भीतर की उमड़ती पीड़ा से उसका स्वर काँपने लगा था। 

“ जानते हैं -- - अमर बाबू ! डॉक्टर ने कहा है कि कोई ग्रंथि इनके अंदर है जो इन्हें न जीने दे रही है , न मरने -- - ।‘’ वह अपनी रौ में बोले जा रही थी।  

“ अमर बाबू !  आपसे  तो कुछ छुपा नहीं है। आप तो मुझे पिछले बीस साल से जानते हैं।  वो भी एक समय था - - मेरे एक कॉल पर  एक साथ कई एजेंट दौड़े चले आते थे । अब उन्हीं एजेंटों ने मेरा नम्बर ब्लॉक कर दिया है। अब तो – माँ यदि होश में होती है तो ऑफिस कह कर जाती हूँ - - - और - - पचास--- - - सौ - - भी कोई दे दे  - - तो - - तैयार- - - -- - - -  ।   माँ तो  खैर आज नहीं तो कल चली जायेगी - - - मैं - -अपने आगे की सोचती हूँ - - - - क्या होगा मेरा  ? -- - कैसे  कटेगी  यह जिंदगी - - - ?’’ उसने  अपने चेहरे को दोनों हाथों से ढक लिया। 

       “ चलो - - आंटी  के पास - - - ।‘’  अमरकांत बाबू ने उसे हाथ पकड़कर उठाया। 

वे चारपाई के सामने खड़े हो गए । 

“आंटी-- ! ‘’ 

“ हाँ - - हाँ - - - बेटा  !  - बोलो - -- - लड़का मिल गया क्या ? ‘’ वह बड़बड़ाई -- - उनकी बंद आँखों की पलकें उठीं और गिरीं। 

“ हाँ -- - आंटी ! मिल गया है लड़का - - - ।‘’ 

“ कहाँ - - है - - ले आओ – न ।‘’ होठ थरथराये । 

“ आंटी ! सामने मेरी तरफ देखिए -- - ।‘’ कोटरों में धँसी आँखें चमक उठी। सिर हल्का-सा ऊपर उठा। 

“ आंटी !  मैं अमरकांत सक्सेना आपकी बेटी निर्मला से विवाह करूँगा । क्या आप अपनी बेटी का हाथ मुझे देंगी ? ‘’ 

“ हाँ - - हाँ - - हाँ - -  बेटा - -- हाँ - - -- ।‘’ कहते हुए आवेश में उसने दोनों बाँहें फैलाकर उठने की कोशिश की ।  उठती गर्दन और फैलती बाँहें धम्म से चारपाई पर गिर पड़ीं । सिर एक तरफ लटक गया। 

        आज अमरकांत बाबू को घर से गए छठा दिन था। शशिभूषण सुबह गेट से न्यूज पेपर लेकर आ रहे थे तब देखा कि लेटर बॉक्स में एक पीला लिफाफा पड़ा है। लेटर बॉक्स खोला - - अरे - -यह तो विवाह का निमंत्रण कार्ड है। पीले रंग के लिफाफे में निमंत्रण पत्र के साथ एक पत्र भी था । लिखावट पिता जी की थी - - - 

प्रिय बेटे ,  

     सदा खुश रहो 

          तुम्हारी माँ  ठीक कहा करती थी कि ये ठसक जब तक मैं हूँ तभी तक है। मेरे नहीं रहने पर आपका एक दिन भी गुजारा इस घर में नहीं हो सकेगा । खैर  , तुम्हारी पत्नी ने तो सुमित्रा के मरने के बाद तीन महीनें तक मेरी सनक को झेला। बेटे - - - मैंने तुझे हर खुशी दी है। अब इस गोधूलि बेला में मैं तुम्हें दु:खी नहीं देख सकता -- - - वो भी अपनी वजह से -- - - इसलिए मैं तुम्हारा घर छोड़कर आ गया हूँ अपने पैतृक घर । अपने साथ वहाँ से एक ही चीज लाया हूँ , वह है सुमित्रा की फोटो। बेटे- - -  तुम चिंतित मत होना, नहीं तो मेरे साथ-साथ तुम्हारी स्वर्गीय माँ भी दु:खी होगी।  तुम्हारी माँ की तरह मेरा ख्याल तो कोई नहीं कर सकता,  फिर भी मैं और निर्मला कोशिश करेंगे एक दूसरे को सम्भालने की। सदा खुश रहना -- - प्रसन्न रहना-- -बहु और बच्चों को खुश रखना। तुम्हें  , बहु अंकिता  ,पोते दीपू और पोती  नेहा को ढेर सारा प्यार और आशीर्वाद- - - - !

                                                        तुम्हारा पिता 

                                                          अमरकांत 


 निमंत्रण पत्र पर छपा था ---

                Amarkaant 

                                        Weds 

                                                     Nirmala 

                     

                            ----------------------


      

जीवन परिचय

----------------- 

नाम – आदित्य अभिनव  उर्फ डॉ. चुम्मन प्रसाद श्रीवास्तव                               जन्म तिथि - 30 जून ,1970जन्म स्थान – ग्राम – भटगाई , जिला – छपरा( सारण ) , बिहार – 841424

प्रकशित पुस्तकें –

शोध प्रबंध – ‘’ प्रपत्तिपरक गीतों की परम्परा और निराला के प्रपत्तिपरक गीत ‘’ ( 2012)

कहानी संग्रह - ‘ रुका न पंछी पिंजरे में ’ ( 2022 ) न्यू वर्ल्ड पब्लिकेशन ,  नई दिल्ली

‘मजबूर’ ( 2023 ) ए. आर. पब्लिकेशन , नई दिल्ली

काव्य संग्रह – ‘सृजन के गीत ’ ( 2018 ) , ब्लू रोज प्रकाशन , नई दिल्ली

“ सृजन संगी ‘’ ( साँझा काव्य संकलन ) ( प्रकाशन वर्ष 2006) ,

“हाँ ! मैं मज़दूर हूँ ‘’ ( साझा काव्य संग्रह) ( प्रकाशन वर्ष 2020 )

 “ अंकुर अनंत का ”( 2022)  लोक रंजन प्रकाशन , प्रयागराज 

 आलोचना  - ‘ भक्त कवि निराला ’ ( प्रकाशनाधीन )  

संपादित पुस्तक –

“समकालीन हिन्दी की श्रेष्ठ कहानियाँ ‘’ (2022 ) न्यू वर्ल्ड पब्लिकेशन, नई दिल्ली

“ विश्व की श्रेष्ठ कहनियाँ ‘’  ( 2022)  एकेडेमिक बुक्स इंडिया , नई दिल्ली

समीक्षात्मक आलेख – “ वैदिक एवं उपनिषद् साहित्य और निराला’’ (2013) ,  “

विशिष्टाद्वैत और निराला ‘’ (2013),  “ निराला के भक्ति पर तुलसी का प्रभाव ‘’ (2014),  “

प्रपत्ति : अर्थ और स्वरूप ‘’ (2014) , “ शांकर वेदांत और निराला ‘’ (2014) , 

“ शमशेर की कविता : अतियथार्थवादी रूप में’’ (2015) , “ निराला के प्रपत्तिपरक गीतों के दार्शनिक

आधार ‘’(2015) , “ पारसी थियेटर का भारत में नया स्वरूप ‘’ (2015) , “ भूमण्डलीकरण ,

भारतीय किसान और हिंदी साहित्य ‘’ (2015) , “ उसने कहा था : एक कालजयी कहानी ‘’

(2016) , “ सूर साहित्य में लोक गीत और लोक नृत्य ‘’ (2018) ,

“ दिनकर के काव्य में क्रांति और विद्रोह का स्वर ‘’ (2019) ,” दिनकर के काव्य में सर्प

बिम्ब ‘’ (2020)  ,  “ पौराणिक नगर : शोणितपुर’’  ( 2020) , “ आचार्य महावीर प्रसाद

 द्विवेदी और निराला ‘’ (2021) , “ अपने अपने अजनबी : पुनरावलोकन’’ (2021) , “

 असगर वजाहत : प्रेमचंद और मंटो का सुखद मिश्रण ‘’ ( 2022) ,     “ विश्व क्षितिज 

पर हिंदी ‘’ ( 2022)  , “ प्रेमचंद और राष्ट्रीय आंदोलन ‘’ ( 2022 ), “ दौड़ते , भागते ,

 दम तोड़ते मनुष्य की त्रासदी : रेस ‘’ ( 2022) , “गाँधी और संघ ‘’ ( 2022) , “ जीवन 

समर की अंतर्कथा: समर ‘’  (2022)  आदि

एकांकी - ‘पुनर्विवाह ’ ( 2022) 

रचनात्मक उपलब्धियाँ-  

‘ परिकथा ’,  ‘आजकल’ ,  ‘पाखी’ ,‘ लमही ’ , ‘ कथादेश ‘ , ‘गगनांचल’,

 ‘ स्पर्श’ , ‘ विश्वगाथा ’ , ‘ सुसंभाव्य ’, ’सेतु( पीट्सवर्ग, अमेरिका) , ‘ साहित्यसुधा ‘, ‘ अनुसंधान’ ,

अनुशीलन’ , ‘ विपाशा’ , ‘हस्ताक्षर’ , सहित्यकुंज’ ‘ प्राची ’ ‘ साहित्यप्रभा’ , ‘सत्राची ’ ,  ‘दूसरा मत ’

, ‘ परिंदे’,  ‘ विभोम स्वर ’ ‘ स्पर्शी ’ , ‘सुसंभाव्य’ , ‘ संवदिया’  ‘गुलमोहर ’ , ‘ई-कल्पना ’ , ‘ नव

 किरण ’ , ‘ नव निकष ’ , ‘रचना उत्सव ’  आदि विभिन्न राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय पत्र –पत्रिकाओं मे रचनाएँ प्रकाशित।

आकाशवाणी – बीकानेर , जोधपुर और गोरखपुर से कविता का प्रसारण

दूरदर्शन – मारवाड़ समाचार , जोधपुर से कविता का प्रसारण

सम्पादन सहयोग – “ मानव को शांति कहाँ ‘’ (मासिक पत्रिका) (2004- 2008 तक उप

संपादक )

आयोजन सचिव – “ महामारी ,आपदा और साहित्य ‘’ पर एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय वेविनार

( 13 जून 2020) ( आयोजक - भवंस मेह्ता महाविद्यालय, भरवारी, उत्तर प्रदेश )

व्याख्यान – 1.  “ सिनेमा और साँझी विरासत ‘’ (14 जुलाई 2020 ) वाड़.मय पत्रिका,    अलीगढ़ और विकास प्रकाशन ,कानपुर के संयुक्त तत्वाधान में ।

         2.  “ रामधारी सिंह ‘दिनकर’ और उनका काव्य ‘’( 30 सितम्बर , 2021)  अखिल भारतीय सरदार पटेल सेवा संस्थान , प्रयागराज 

सम्मान – साहित्योदय सम्मान (2020) , लक्ष्यभेद श्रम सेवी सम्मान(2020)

वर्तमान पता - आदित्य अभिनव उर्फ डॉ. चुम्मन प्रसाद श्रीवास्तव

सहायक आचार्य (हिंदी)

भवंस मेहता महाविद्यालय , भरवारी

कौशाम्बी (उ. प्र. ) पिन – 212201 मोबाइल 7767041429 , 7972465770

ई –मेल chummanp2@gmail.com

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च