सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भीष्म साहनी : जीवन की आस्था के अलहदा रचनाकार Bhishan Sahani Jivan ki aashtha ke alahada rachnakar

सन 1988 का वह दौर था जब मैं किरोड़ीमल शासकीय महाविद्यालय रायगढ़ में एम.एस-सी.प्रीवियस का छात्र था ।अपने गाँव जुर्डा, जो रायगढ़ शहर से लगभग आठ किलोमीटर दूर है, वहां से रोज कॉलेज अपनी साइकिल से आता-जाता था । गणित बिषय का छात्र होने के बावजूद मुझे साहित्य से गहरा लगाव था , स्कूली जीवन से ही पाठ्यपुस्तक की कहानियों के जरिये पढ़ने की अभिरूचि पैदा हो चुकी थी । कादम्बिनी, साप्ताहिक हिन्दुस्तान जैसी पत्रिकाएँ कभी-कभार मेरी  पहुँच के भीतर हो जाया करती थीं , विद्यार्थी जीवन में अभावों के बावजूद कभी-कभार जेब खर्च के पैसों से इन्हें खरीदकर भी पढ़ लेता था ।उन दिनों रायगढ़ रेलवे स्टेशन इसलिए भी जाता था कि व्हीलर में रखी पत्र-पत्रिकाओं को देख सकूं । कई बार इच्छा होती थी कि कुछ पत्रिकाएँ , किताबें खरीदूं पर जेब में पैसे नहीं होते थे और मैं मायूस होकर लौट आता था । इसके बावजूद मेरे भीतर कहीं एक दबी हुई इच्छा रह गई थी कि अक्सर मैं वहां जाता रहा । इस जाने में एक उम्मीद थी जो वहां रखी किताबों में मुझे नजर आती थी । मेरे गाँव में उन्हीं दिनों पंचायत में एक ब्लेक एंड व्हाईट टीवी सरकार की ओर से उपलब्ध करवाई गयी थी जो पंचायत भवन में लगी थी जिसमें दूरदर्शन के धारावाहिकों को बड़े चाव से गाँव के लोग एक साथ बैठकर देखा करते थे । 

यह गाँव में एक तरह से दूरदर्शन युग की शुरूवात थी जिसमें रामायण और महाभारत जैसे धारावाहिक धूम मचाये हुए थे । उन्हीं दिनों मुझे तमस धारावाहिक देखने का अवसर मिला । भीष्म साहनी की किसी रचना को इस तरह देखे-समझे जाने का मेरे जीवन में यह पहला अवसर था। उनकी तमस धारावाहिक के बहुत से एपिसोड देख लेने के बाद उनकी रचनाओं को पढने-समझने को लेकर मेरे मन में गहरी दिलचस्पी उत्पन्न हो चुकी थी ।उसी समय यहाँ-वहाँ उनकी रचनाओं को खोजना मैंने शुरू किया । वह संचार प्रौद्योगिकी का युग नहीं था कि कोई मनचाही रचना हम नेट पर खोजकर पढ़ लें, गाँव में रहते हुए किताबों की दुनियां में मेरी वैसी कोई पहुँच भी नहीं थी कि मैं उनकी रचनाओं को जुटाकर पढ़ पाता, हाँ उस समय यहाँ-वहाँ तलाश  करने के बाद उनकी एक रचना चीफ की दावत पढने का मौका मुझे जरूर मिला । सच कहूँ तो इस कहानी को पढ़ने के बाद मेरे मन में कई तरह के सवाल उठने शुरू हुए थे। मन के भीतर की छटपटाहट सघन हो उठी थी।क्या ऐसा भी हो सकता है कि घर में माँ की हैसियत किसी फटी-पुरानी बदरंग वस्तु जैसी हो जाय जिसे किसी बाहरी व्यक्ति की नजर में छुपाने के लिए हमें उसे छुपानी पड़े ? यह एक ऐसा सवाल था जो मुझे परेशान किए जा रहा था ।इस सवाल को लेकर मेरी बेचैनी स्थायी हो गई थी और यही बेचैनी, मनुष्यता से परिचय कराने वाले भीष्म साहनी जैसे बड़े लेखक से जुड़ने का एक बड़ा कारण बनी । उन दिनों कहानी या उपन्यास को लेकर कोई शास्त्रीय समझ न होते हुए भी मुझे यह लगने लगा था कि भीष्म साहनी की रचनाओं में कोई तो ऎसी बात है जो मन को भीतर तक छू रही है।बिना नागा किए तमस के धारावाहिक लगातार मैं देखता रहा। बाईस-तेईस साल की उम्र में अगर यह समझ बनी कि धर्म के नाम पर दंगे होते हैं और उन दंगों के पीछे राजनीतिक षड्यंत्र एक बड़ा कारण होता है तो इस समझ के पीछे भीष्म साहनी की कालजयी रचना तमस ही थी जिसे देखकर जीवन की एक बड़ी सच्चाई से मेरा साक्षात्कार हुआ, जो अब तक एक रोशनी की तरह काम आ रही है। 1947 में देश आजाद हुआ, भारत-पाक विभाजन की त्रासदी से भी लोग जूझने लगे । हिन्दू मुस्लिम दंगों की विभीषिका के दृश्यों की गवाही हम बने । तमस इसी दंगे को लेकर लिखी गई औपन्यासिक रचना है जिसमें राजनीतिक षड्यंत्रों को भीष्म साहनी ने बड़े सहज ढंग से इस तरह लिख दिया है कि किसी युवा के भटके हुए राजनीतिक दर्शन को पटरी पर लाने का सामर्थ्य अपनी सघनता में इस रचना में विद्यमान है । भीष्म साहनी के प्रति पाठकीय झुकाव का एक कारण यह भी रहा । उन दिनों कादम्बिनी में सम्पादक राजेन्द्र अवस्थी कालचक्र नाम से एक स्तम्भ लिखते थे , मुझे लगता था कि यह महत्वपूर्ण स्तम्भ है और मैं बड़े चाव से उसे पढ़ता भी था । यह उस समय की बात थी जब मैं भीष्म साहनी की किसी रचना से परिचित नहीं हुआ था , प्रेम चंद की छुट-पुट कहानियाँ (ईदगाह वगेरह)ही पढ़ सका था ।भीष्म साहनी की तमस और चीफ की दावत को जानने समझने के बाद कालचक्र का वह स्तम्भ मुझे व्यर्थ लगने लगा। सच कहूँ तो एक तरह के भटकाव से मैं बच गया और भीष्म साहनी की रचनाओं ने मुझे एक दिशा दी। उन जैसे रचनाकार के चमत्कारिक व्यक्तित्व से तमस रचना पर केन्द्रित धारावाहिक के माध्यम से ही मेरा आरंभिक परिचय हुआ था । उनके बारे में ,उनकी रचनाओं के बारे में जानने की इच्छा फिर प्रबल होने लगी और इस दिशा में फिर मैं आगे बढ़ता गया ।भीष्म साहनी जैसे रचनाकार को पढ़ने, जानने-समझने की ललक के कारण मैं यहाँ-वहाँ की लाइब्रेरी में जाने लगा। संयोग से किसी पत्रिका में उनकी कहानी वांगचू मिल गई। इसे पढने के बाद एक कच्ची समझ एक पकी हुई समझ में तब्दील होना शुरू हुई । प्रेमचंद को बचपन से पढ़ते रहने के बाद उसी धारा के किसी रचनाकार से मिलना जीवन में कुछ मिलने  जैसा लगने लगा । वांगचू एक ऐसे चीनी बौद्ध भिक्षु की व्यथा कथा है जिसे भारत देश की आबोहवा ,यहाँ की संस्कृति, यहाँ के लोग  हमेशा आकर्षित करते रहे । उसकी निखालिस इच्छा यहाँ रहकर उन संस्कृतियों का अध्ययन करना ही रही जिनमें सदियों से मानवता और शान्ति के स्वरों को साफ़ साफ़ सुने जाने का आग्रह मिलता है । ऐसे लोग दो देशों के बीच मानवता और शान्ति को स्थापित करने में सेतु की भूमिका निभा सकते हैं पर त्रासदी यह है कि पूरी दुनियां में ऐसे लोग आज संदेह की नजर से अधिक देखे जाने लगे हैं । चीनी बौद्ध भिक्षु वांगचू का कुछ दिनों के लिए भारत से अपने देश चीन की यात्रा करना और वहां मन न लगने के बाद पुनः उसका भारत लौट आना उसके लिए मुसीबत का सबब बन गया और उसके उपर जासूस होने का संदेह इस कदर बढ़ गया कि उस पर हमारे देश की पुलिस नजर रखने लगी । उसे तरह तरह से प्रताड़ित किया जाने लगा।उसके अब तक लिखे गए बौद्धिक दस्तावेज जिसे अपनी असल पूंजी अब तक वह समझता था , जिसमें उसकी धडकनें बसती थीं और सिर्फ उसके लिए ही जिसने अपना देश छोडकर भारत में रहना पसंद किया ,उन दस्तावेजों से भरे सन्दूक को भी पुलिस जब जब्त कर ले गयी और बहुत दिनों बाद काफी संघर्ष उपरान्त जब उन दस्तावेजों के अधिकांश हिस्से उसे नहीं मिल सके तो वह निराश हो गया । अंततः यही निराशा उसकी मृत्यु का कारण बनी । इस कहानी को पढकर आखिर किसका दिल न पसीजे ? किसके  भीतर इस व्यवस्था को लेकर आक्रोश उत्पन्न न हो?अफ़सोस कि इस व्यवस्था की विभीषिकाएँ अन्तराष्ट्रीय स्तर पर आज सभी देशों में और घनीभूत हुई हैं जिसे भीष्म साहनी आज से पचास साल पहले इस कहानी के माध्यम से कह गए । जब मैं इस कहानी को उन दिनों पहली बार पढ़ा तो प्रथम पाठ में एक पाठक की अपरिपक्व समझ की वजह से कुछ बातें छूट सी गयीं ।मैं उन बातों को समझने के लिए कहानी को दोबारा पढ़ने का प्रयास किया । कहानी तिबारा भी पढ़ने की मांग करने लगी । अन्ततः सारी बातें उस समय के युवा मन में समाने लगीं और लगने लगा कि भीष्म जी ही वह लेखक हैं जो मेरे प्रिय लेखक हो सकते हैं ।किसी लेखक का किसी पाठक के लिए प्रिय लेखक हो जाना वह प्रस्थान बिंदु है जहां से जीवन को जानने-बूझने की आकांक्षा और अधिक बलवती होने लगती है । भीष्म साहनी की रचनाओं को खोज खोज कर पढ़ने का फायदा यह हुआ कि मुझे दूसरे कथाकारों की कहानियां भी पढ़ने को मिलीं । मैं कमलेश्वर की कहानी चप्पल को पढ़ा , यशपाल की कहानी पर्दा को पढ़ा ,जैनेन्द्र कुमार की कहानी अपना अपना भाग्य को पढ़ा, निर्मल वर्मा की कहानी लवर्स को पढ़ा , अमृता प्रीतम की कहानी यह कहानी नहीं को पढ़ा और धीरे धीरे यह सिलसिला आगे बढ़ता गया । विभिन्न रचनाकारों की अनेक कहानियां  पढ़ लेने के बाद भी सहजता , संप्रेषणीयता ,मानवीय संवेदना के स्तर पर कहानी का जैसा स्वाद मुझे भीष्म जी की कहानियों में मिला वैसा स्वाद दूसरे लेखकों की अनेक श्रेष्ठ कहानियों को पढ़ लेने के बाद भी मुझे नहीं मिल सका । इस दरमियाँन तीन-चार वर्षों में मैंने भीष्म जी की कई कहानियाँ पढ़ लीं जिनमें गुलेलबाज लडका , चीलें , मुर्गी की कीमत , बाप बेटा , अमृतसर आ गया है , झूमर , दो गौरैय्या, त्रास, मरने से पहले, खिलौने , खून का रिश्ता इत्यादि प्रमुख हैं । जिस विसंगति या अंतर्विरोध को लेकर भीष्म जी की कहानियाँ सामने आती हैं वह मात्र व्यक्ति की स्थिति का अंतर्विरोध न होकर उसके आसपास के सामाजिक जीवन के अंतर्विरोध के रूप में उसके व्यक्तिगत जीवन में लक्षित होते हुए दृश्यमान होता है।

मैं यहाँ कहानी को लेकर भीष्म जी के लिखे विचारों को साझा करना जरूरी समझता हूँ क्योंकि इसके माध्यम से किसी लेखक को और भली भांति हम समझ सकते हैं।अपनी किताब "मेरी प्रिय कहानियां" में एक जगह भीष्म जी स्वयं लिखते हैं -

 कहानी की मूल प्रेरणा जीवन से ही मिलती है। कहीं न कहीं, कोई जाना-पहचाना पात्र, कोई वास्तविक घटना, उसकी तय में रहते हैं। पूर्णत: कल्पना की उपज कहानी नहीं होती, कम से कम मेरा ऐसा ही अनुभव है, जिंदगी ही आपको कहानियों के लिए कच्ची सामग्री जुटाती है, जहाँ हम समझते हैं कि कहानी हमने मात्र अपनी ‘सोच’ में से निकाली है, वहाँ भी उसे किसी न किसी रूप में जीवन का ही कोई संस्कार अथवा प्रभाव अथवा अनुभव का कोई निष्कर्ष उत्प्रेरित कर रहा होता है। पर जहाँ कहानी का पूरा ताना-बाना काल्पनिक हो, जो मात्र कल्पना के सहारे लिखी जाए, वहाँ कहानी के चूल अक्सर ढीले ही होते हैं, ऐसा मैंने पाया है। दृष्टान्त कथाओं की बात अलग है, वहाँ कहानी की समूची परिकल्पना ही विभिन्न स्तर पर होती है।मैं नहीं मानता कि कहानी मात्र आत्माभिव्यक्ति के लिए लिखी जाती है। सचेत रूप से, किसी लक्ष्य को लेकर भले ही उसे न लिखा जाता हो, परन्तु कला उस साझे जीवन की ही उपज होती है जो हम अपने समाज में अन्य लोगों के साथ मिलकर जीते हैं। कला हज़ारों तन्तुओं के साथ उस जीवन के साथ जुड़ी रहती है। जिस प्रकार का जन्म, मात्र लेखक के मस्तिष्क से नहीं होता, वैसे ही कहानी की उपादेयता भी मात्र लेखक के लिए नहीं होती। लेखक भले ही मर-खप जाए, पर उसकी कहानी जिन्दा रह सकती है, वह इसलिए कि वह कुछ कहती है जिसके साथ मानव समाज का सरोकार होता है। चेखव की कहानियाँ, सात समंदर पार बैठे लोग पढ़ते हैं, उनमें रस लेते हैं तो इसलिए कि वे हमें कुछ कहती हैं, हमारे सामने जीवन का कोई अन्तर्द्वन्द्व उघड़कर सामने आता है। साहित्य सामाजिक जीवन की ही उपज होती है, और समाज के लिए ही उसकी सार्थकता भी  होती है। लेखक के लिए यह अनुभूति भी बड़ी सन्तोषजनक होती है कि वह कहाँ पर जीवन की गहराई में उतर पाया है, मात्र छिछले पानी में ही नहीं लोटता रहा, कहीं जीवन के गहरे अन्तर्द्वन्द्व को पकड़ पाया है। उस अन्तर्विरोध को, जो हर युग और काल में समाज के अन्दर पाए जाने वाले संघर्ष की पहचान कराता है, उन शक्तियों की भी जो समाज को आगे ले जाने में सक्रिय हैं, इस अन्तर्विरोध को पकड़ पाना कहानी लेखक के लिए एक उपलब्धि के समान होता है। कहानी का सबसे बड़ा गुण मेरी नज़र में, उसकी प्रामाणिकता ही है, उसके अन्दर छिपी सच्चाई में जो हमें जिन्दगी के किसी पहलू की सही पहचान कराती है। और यह प्रामाणिकता उसमें तभी आती है जब वह जीवन के अन्तर्द्वन्द्वों से जुड़ती है। तभी वह जीवन के यथार्थ को पकड़ पाती है। कहानी का रूप-सौष्ठव, उसकी संरचना, उसके सभी शैलीगत गुण, इस एक गुण के बिना निरर्थक हो जाते हैं। कहानी ज़िन्दगी पर सही बैठे, यही सबसे बड़ी माँग हम कहानी से करते हैं। इसी कारण हम किसी प्रकार के बनावटीपन को स्वीकार नहीं करते-भले ही वह शब्दाडम्बर के रूप में सामने आए, अथवा ऐसे निष्कर्षों के रूप में जो लेखक की मान्यताओं का तो संकेत करते हैं, पर जो कहानी में खप कर उसका स्वाभाविक अंग बनकर सामने नहीं आते।

जब भीष्म जी की इन कही गई बातों को मैं पढ़ता हूँ तो उनके भीतर की दुनियां से थोड़ा और ठीक ढंग से परिचित हो पाता हूँ । लगता है उन जैसा सादगी पसंद और ईमानदार आदमी ही समाज के लिए कुछ ऐसा रच जाता है जिससे समाज को एक दिशा मिलती है , अँधेरे छंटने लगते हैं । आज हम जिस समाज में जी रहे हैं वहां षड्यंत्र की इतनी कलाबाजियां हैं कि मनुष्य के लिए कुछ भी तय कर पाना मुश्किल है । आसपास में घटित होने वाली हर घटना जिस रूप में दिखाई देती है वास्तव में उस रूप में वह न होकर एक छद्म लिए हुए होती है जिसे देख पाना संभव नहीं , उसे तो भीष्म साहनी जैसे कालजयी लेखक ही देख पाते हैं और अपनी रचना में उसे पिरोकर समाज को आगाह करते हैं । साम्प्रदायिकता के किले को तमस, और अमृतसर आ गया है जैसी रचनाओं के माध्यम से ढहाना भीष्म जैसे रचनाकार के लिए ही संभव है ।एक सहज सरल इंसान जिसकी भाषा पंजाबी हो , जो विश्वविद्यालय में अंग्रेजी पढ़ाता हो, वह हिन्दी समाज को अपनी रचनाओं के माध्यम से इस तरह समृद्ध करे , मेरे लिए यह भी किसी चमत्कार से कम नहीं । 8 अगस्त 1915 को जन्मे और 11 जुलाई 2003 को इस दुनियां से विदा हुए भीष्म साहनी के शताब्दी वर्ष को गुजरे अभी कुछ वर्ष ही हुए हैं। शताब्दी वर्ष में हिन्दी समाज ने उन्हें जिस शिद्दत से याद किया वह उनकी प्रासंगिकता को नए रूप में परिभाषित करता है । साहित्य की पत्र पत्रिकाओं ने जिस तरह उन पर केन्द्रित अंकों का प्रकाशन किया वह भी उनकी श्रेष्ठता और विश्वसनीयता प्रमाणित करने के लिए पर्याप्त है, इस कड़ी में परिकथा पत्रिका का उन पर केन्द्रित अंक उनको बारम्बार पढ़े जाने और चर्चा किए जाने की मांग करता है । 

अपने जीवन काल में इप्टा और प्रगतिशील लेखक संघ को संगठन के स्तर पर मजबूत करने की उनकी कोशिशें भी मेरी नजर में कम महवपूर्ण नहीं है। उनका यह प्रयास भी एक उदाहरण प्रस्तुत करता है कि एक लेखक को जमीनी स्तर पर भी एक्टिविस्ट के रूप में अपनी भूमिका अदा करने की जरूरत है ।

रचनाकार भीष्म साहनी होने का अर्थ मेरी नजर में सिर्फ एक रचनाकार होना ही नहीं है बल्कि जीवन के प्रति आस्था जगाने वाला एक सीधा सच्चा इंसान भी होना है जो धर्म और सम्प्रदायवाद से परे रहकर मनुष्य को मनुष्य की नजर से देखे , उससे प्रेम करे । मनुष्यता को उसकी समग्रता में देखना और रचना ही शायद भीष्म साहनी होना है । भीष्म साहनी आज भी मुझे शनै: शनै: अँधेरे की गिरफ्त में जा रहे समय में एक प्रकाश पूंज की तरह लगते हैं ।

रमेश शर्मा

( पत्रिका 'गांव के लोग' अंक जन-फर-मार्च 2018 से साभार )

---------------------

भीष्म साहनी जी का जीवन परिचय । Biography of Bhishm Sahani

जन्म: भीष्म साहनी जी का जन्म सन 8 अगस्त1915 में रावलपिंडी (अब पाकिस्तान) में हुआ।

मृत्यु: साहनी जी की मृत्यु सन 11 जुलाई 2003 में हुई।


शिक्षा। Education 

उनकी प्रारंभिक शिक्षा घर में हुई। उन्होंने उर्दू और अंग्रेजी का अध्यापन स्कूल में किया। गवर्नमेंट कॉलेज लाहौर से उन्होंने अंग्रेजी साहित्य में M.A. किया। पंजाब विश्वविद्यालय से पीएच.डी. की उपाधि प्राप्त की।

भीष्म साहनी जी का जीवन इतिहास: Life history of Bhishm Sahani

देश विभाजन से पूर्व उन्होंने व्यापार के साथ-साथ अध्यापन का कार्य भी किया। विभाजन के बाद उन्होंने  पत्रकारिता के साथ साथ इप्टा की नाटक मंडली में काम किया। मुंबई में बेरोजगार के दौर से भी गुजरे, फिर अंबाला के एक कॉलेज में तथा खालसा कॉलेज अमृतसर में अध्यापन का कार्य भी किया। 7 वर्ष विदेशी भाषा प्रकाशन गृह मास्को में अनुवादक के पद पर कार्यरत रहे। वे प्रगतिशील लेखक संघ तथा एफ्रो एशियाई लेखक संघ से भी संबद्ध रहें।


साहनी जी का साहित्यिक योगदान ।  Contribution of Bhishm Sahani to Indian Literature  

तमस उपन्यास के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित। उनके साहित्यिक अवदान के लिए हिंदी अकादमी दिल्ली ने उन्हें शलाका सम्मान से सम्मानित किया।

साहनी जी की प्रमुख कृतियां: Famous Books of Bhishm Sahani

कहानी संग्रह: भाग्य रेखा, पहला पाठ, भटकती राख, पटरियां, वांड्चू, शोभायात्रा, निशाचर, डायन।

उपन्यास: झरोखे, कड़ियां, तमस, बसंती, मय्यादास की माड़ी, नीलू नीलिमा निलोफर, कुंतो।

नाटक: माधवी, हानूश, कबिरा खड़ा बाजार में, मुआवजे।

बाल उपयोगी कहानी: गुलेल का खेल।

प्रमुख कृतियों की विशेषता: उनकी भाषा में उर्दू शब्दों का प्रयोग विषय को आत्मीय और सम्प्रेषण युक्त बनाता है। छोटे-छोटे वाक्यों का प्रयोग एवम संवादों का वर्णन कहानी के कथ्य को प्रभावी एवं रोचक बनाते हैं।

टिप्पणियाँ

  1. भीष्म साहनी पर बहुत दिल से, बहुत शोध परक ढंग से लिखा गया आलेख मुझे बहुत पसंद आया। वांगचू कहानी पर टिप्पणी बहुत शानदार और स्तरीय है। धन्यवाद अनुग्रह।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपका शोधपरक आलेख पढ़कर मुझे यशस्वी कथाकार भीष्म साहनी जी की सरलता व अहंशून्यता की याद हो आयी। चरित्र अभिनेता ए.के हंगल जी के साथ उनकी यादें जुड़ी हुई हैं। भीष्म साहनी एक ऐसे रचनाकार थे जिन पर जितना भी लिखा जाए कम है, क्योंकि वे एक बहुमुखी प्रतिभा के इंसान थे, लेखक, कथाकार, अनुवादक,सामाजिक कार्यकर्ता, अभिनय, और इन सबसे बड़कर एक नेक दिल इंसान। मुझे याद है वह अविस्मरणीय दो दिन । प्रगतिशील लेखक संघ के तत्वावधान में बिलासपुर में दो दिवसीय कार्यक्रम हुआ था, पापा जी के साथ मैं भी गया था। भीष्म साहनी एवं ए.के .हंगल के साथ अग्रसेन भवन में भोजन का अवसर हो या भाऊ समर्थ जैसे चित्रकार की एकल प्रर्दशनी या फिर सरकारी हाईस्कूल का वह प्रांगड़ जिसमें छत्तीसगढ़ की ख्याति प्राप्त लोकगायिका स्व.श्रीमती सूरूज बाई खांडे की प्रस्तुति हम साथ थे। दूसरे दिन रात में किसी हाईस्कूल के प्रांगण में लोकगायिका सूरज बाईं खाण्डे का कार्यक्रम था मुझे याद है भोपाल के वरिष्ठ साहित्यकार कमला प्रसाद पांडेय मंच का संचालन कर रहे थे। मंच में दो प्लास्टिक की कुर्सियों में भीष्म साहनी एवं ए.के.हंगल मंचस्थ थे, सबसे पहले मैंने पं. मुकुटधर पांडेय जी की दो किताबें उन्हें भेंट स्वरूप दिया। ए.के. हंगल ने गले लगाते हुए मुझसे कहा था "जाते समय मैं रास्ते में इसे जरूर पढूंगा"! फिर सूरुज बाईं खांडे का कार्यक्रम शुरू हुआ । लोकगायिका की कला से प्रभावित होकर दोनों विभूतियां उसी मंच के एक कोने में नीचे उखरु बैठ गए थे , मुझे सुखद आश्चर्य हुआ।
    दूसरी बार भीष्म साहनी जी के रायगढ़ प्रवास के समय नटवर हाईस्कूल व मुकुटधर पांडेय जी का निवास स्थान भला कैसे भुलाया जा सकता है। मार्क्स वादी विचारक होते हुए भी उन्होंने अपनी रचनाओं में मानवीय मूल्यों को ही प्रमुखता के साथ रखा। वे सच्चे अर्थों में यथार्थवादी कथाकार व लेखक थे , जिन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से भारतीय संस्कृति, समाज व राजनीति से उपजे संघर्षों को , जीवन मूल्यों को, मनुष्य के अन्तर्द्वन्द् को प्रगतिशील विचारधारा के साथ जोड़कर देखने की कोशिश की है। अगर मैं कहूँ कि भीषम साहनी मुंशी प्रेमचंद की परम्परा के कथाकारों में एक हैं तो गलत न होगा।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत सारगर्भित संस्मरण के साथ भीष्म जी को इस तरह आपने याद किया कि लिखना सार्थक लग रहा है। शुक्रिया बसंत भाई

      हटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च