सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

युवा पीढ़ी के कथा संसार में ग्रामीण लोक जीवन की उपस्थिति

 

भारत हमेशा से गाँवों का देश रहा है, जहां की अस्सी प्रतिशत आबादी ग्रामीण लोक जीवन से सम्बद्ध रही है । प्रेमचन्द युगीन हिन्दी कहानियों पर जब हमारी नजर जाती है तो इसी ग्रामीण लोकजीवन की गहरी छाया वहां हम देख पाते हैं । आर्थिक उदारीकरण के उपरान्त समय के साथ सभ्यता और


संस्कृति के उलट फेर ने जब एक नए बाजार को जन्म दिया तब उसका गहरा प्रभाव भारत के गाँवों की आबादी पर भी पड़ा और वे निपट शहरीकरण की चपेट में आने लगे । पूंजीवादी तंत्र और सत्ता ने मिलकर जब गाँवों को तहस-नहस करना शुरू किया तब गाँवों का स्वरूप बिगड़ने लगा । किसानों की जमीनें छीनी जाने लगीं और खेती की जगह पर कल कारखानों का कब्जा होने लगा । ज्यादातर गाँव, कस्बों और शहरों में विलीन होते चले गए और उनका अस्तित्व धीरे-धीरे एक तरह से खत्म सा होने लगा। हिन्दी कहानी पर भी उसका प्रभाव स्पष्ट दिखने लगा । अस्सी और नब्बे के दशक की हिन्दी कहानियों को देखें, खासकर तत्कालीन युवा कहानी विशेषांकों को जो कि रविन्द्र कालिया जी के संपादन में पाठकों तक आए , तो यह बात स्पष्ट तौर पर उभरकर सामने आती है कि हिंदी कहानी से ग्रामीण लोक जीवन अदृश्य सा होने लगा । अगर वह कैलाश बनवासी जैसे कुछेक कहानीकारों की कहानियों में बचा भी रहा तो ऐसा नहीं लगा कि वह बचा रह गया है । उसकी जगह एकाएक, एक बाजारू महानगरीय जीवन ने ले लिया । पर ईक्कीसवीं सदी के वर्तमान दशक की हिन्दी कहानियों को देखने-पढ़ने के बाद ऐसा लगता है कि हिंदी कहानी का इतिहास फिर से अपने को दोहराने लगा है। ग्रामीण लोक जीवन का वह दौर धीरे-धीरे ही सही, पर फिर से अपने वजूद के साथ हिन्दी कहानी में लौटने लगा है । कुछ भी कहा जाए , गाँव इस देश की आत्मा में बसे हैं । उनकी प्रासंगिकता कभी खत्म नहीं होगी । कोरोना काल में हमने इसे घटते हुए भी देखा है । जब देश के तमाम कल कारखाने , दुकानें , मॉल्स इत्यादि बंद हो गए तब गाँव के किसानों की सब्जियां, अन्न सहित उनके अन्य कृषि उत्पादनों ने देश की अर्थ व्यवस्था को सहारा दिया । देश के सारे मजदूर गाँव की ओर लौटने लगे और गाँवों
  ने ही उन्हें पनाह दिया ।
 
 

इक्कीसवीं सदी के वर्तमान दशक की युवतम पीढ़ी में विगत पाँच-सात वर्षों में कहानी लेखन के क्षेत्र में जो नाम मेरी नजर में उभर कर आए हैं उनमें शेखर मल्लिक , संदीप मील , सत्यनारायण पटेल , मनीष वैद्य , सीमा शर्मा , श्रद्धा थवाईत , हुश्न तबस्सुम निहाँ, नीरज वर्मा , सरिता कुमारी , सिनीवाली शर्मा, इंदिरा दांगी , डॉ.परिधि शर्मा, रश्मि शर्मा, प्रज्ञा रोहिणी, भूमिका द्विवेदी अश्क, अमिता नीरव इत्यादि प्रमुख हैं । 

इस युवतम पीढ़ी के कथाकारों द्वारा लिखी गयी कुछ कहानियों पर चर्चा के माध्यम से इस निष्कर्ष पर पहुँचने में हमें आसानी होगी कि बाजारू भूमंडलीकरण और निपट शहरीकरण के इस दौर में भी क्या इनकी कहानियों में आज भी ग्रामीण जीवन या लोक जीवन की चिंताएं शेष हैं? या फिर इस युवतम पीढ़ी के कहानीकारों की कहानियों में भी शहरीकरण से जन्मे महानगरीय जीवन की गहरी छाया है | इस क्रम में सबसे पहले युवा कथा लेखिका रश्मि शर्मा की कहानी "चार आने की खुशी( परिकथा मार्च-अप्रेल 2020 ) को चर्चा के केंद्र में मैं ले रहा हूँ | इस कहानी में एक पात्र है 'बड़ा' । बड़ा यानी बड़ी माँ । एक उम्रदराज विधवा ब्राह्मणी औरत जिसकी कोई संतान नहीं और वह अपने देवर देवरानी के परिवार के साथ रहती आई है । साथ रहते हुए भी एकदम अकेले,एक झोपड़ी में अलग-थलग रहती थीं बड़ा। व्यवहार से थोड़ी कर्कश जिसे वे छुपाने की कोशिश भी नहीं करतीं थीं।उन्हें एक ही आदत थी कि वे चाय बहुत पीती थीं । बिना दूध और ज्यादा चीनी वाली चाय सुड़क सुड़क कर पीते हुए देखना कहानी की सूत्रधार (लेखिका) को अच्छा लगता था।

एकदम लोक रंग में रचा पगा था उनका जीवन।

सूत्रधार ने इस पात्र के बारे में एक जगह लिखा है-

"बहुत कम कपड़े थे उनके पास । जो भी थे रंगहीन । विधवाओं के वस्त्र ऐसे ही हुआ करते हैं गांव में । पति की मृत्यु के साथ ही सारे रंग उनके जीवन से चले जाते हैं । यह कहना सही होगा कि जीवन ही चला जाता है । बस यादें रह जाती हैं। वह कपड़े पहने पहने नहातीं । कुएं के लट्ठ कुंड से ठंडा पानी खींचकर निकालतीं और बाल्टी से वहीं खुद पर उड़ेलती जातीं। उन्हें देखकर मेरा भी मन होता कि ऐसे ही नहाऊं पर मां ने नहाने नहीं दिया कभी वैसे।"

बड़ा के पास बकरियां थीं जिन्हें वह चराने जातीं। एक छोटी सी मगर मजबूत छड़ी उनके हाथ में हमेशा मौजूद रहती ।सुबह एक बार जंगल से लौट आने के बाद वह गांव में बकरियां छोड़ देतीं और घर से लगे गोबर लिपे पिंडे पर बाहर बैठी रहती ।

शायद यह उनका शौक था, शायद उनकी जरूरत या शायद मजबूरी।

सूत्रधार (लेखिका) ने कई जगह इस पात्र को लेकर बड़ा दिलचस्प वर्णन किया है कि बड़ा जो है अपने झोपड़ी में रखे दो चार बर्तन को बहुत रगड़ रगड़ कर मांजती । एकदम साफ चमकदार बर्तन।

बड़ा के पास कुएं के अगल-बगल में बाड़ी थी जहां पुदीने के पत्ते उगते थे। साग भाजी ऊगा करती थी। बड़ा के बाड़ी में सीताफल के पेड़ होते थे जहां पके फलों को देखकर सूत्रधार(लेखिका)और उसकी सहेली मनु का मन उन्हें खाने को होता था पर बड़ा से वे बहुत डरती थीं।

लेखिका ने एक जगह जिक्र किया है कि उसकी पसंद की चीजें बढ़ा के कब्जे में थी और वह उन्हें बड़ा से नहीं ले पाती थीं ।

एक बार बड़ा ने लेखिका और उसकी सहेली को अपने पास बुलाकर बड़े प्रेम से कहा था कि क्या उन्हें शरीफा चाहिए ? फिर बड़ा ने चुपके से कहा कि इसके बदले उन्हें चवन्नी देनी पड़ेगी। दोनों सहेलियां अपने घरों से चवन्नी लाकर शरीफा खरीद लेती थीं। बड़ा उन्हें कहती थी कि शरीफा को छुपा कर ले जाना । बड़ा ऐसा क्यों कहतीं थीं उन्हें उनदिनों समझ में नहीं आता था । यह काम वर्षों होता रहा जब तक बड़ा जिंदा रहीं। अपने बचपन में लेखिका और उसकी सहेली मनु अपने पड़ोस की बड़ा को इस तरह देखा करतीं थीं। उनके अनुभव बहुत निराले थे। बड़ा में लोक जीवन के सभी रंग, राग द्वेष, कर्कशता के पीछे प्रेम का छुपा हुआ रूप इत्यादि सब कुछ था जिसे दोनों सहेलियां महसूस करती हुई बड़ी हुई थीं ।

कहानी में एक जगह लेखिका लिखती हैं- "बड़ा अकेली थी । विधवा होने के बाद उनके देवर देवरानी ने उनकी जमीन की लालच में उन्हें आजीवन खाना कपड़ा देना स्वीकार किया था । एक कोने में पड़ी दो वक्त की रोटी निगल कर अपने मरने का इंतजार कर रही बड़ा को सिर्फ एक ही शौक था - चाय का। अपने उस शौक के लिए वे देवरानी या किसी अन्य के आगे हाथ नहीं फैलाना चाहती थी। छुपाकर बेचे गए शरीफे और अनाज से मिलने वाले वह कुछ पैसे ही उनके अपने थे जिससे वे चाय पत्ती और चीनी खरीदा करती थी।"

फिर बड़ा इस दुनिया से चली गई। एक स्वाभिमानी पात्र बड़ा। दोनों सहेलियां भी बड़ी हो गईं। बरसों बाद जब कहानी की सूत्रधार (लेखिका) गांव के अपने घर में बैठी हुई थीं तो उसे बड़ा का घर याद आया , बड़ा बहुत याद आई, पर वहां सब कुछ बदल चुका था। ना बड़ा की वह बाड़ी बची थी ना वहां शरीफे से लदे हुए पेड़ बचे थे। उस जगह अब मोबाइल के टावर लग गए थे ।उसके देवर देवरानी ने बड़ा का सब कुछ बेच दिया था ।अब वे सारे दृश्य बदल गए थे। शरीफा खरीद कर खाने की वह जो चार आने की खुशी थी वह बड़ा के जाने के बाद अब कहीं गुम हो चुकी थी। यह कहानी मूल रूप में ग्रामीण लोक जीवन और वहां के बदलते समाज के बाजारू विमर्श की कहानी है |

 

परिकथा जनवरी-फरवरी 2018 अंक में छपी सीमा शर्मा की कहानी "उसी पीपल के नीचे" ग्रामीण लोक जीवन में महिला शोषण की उस सच्चाई को सामने रखती है जो न केवल भयावह है बल्कि उसके साथ-साथ दिनोंदिन समाज के गर्त में जाने का संकेत भी है । इस कहानी को पढ़कर प्रेमचंद का युग याद आने लगता है | दाऊ साहेब,सुखबीर बाबू, पंडित और कालिया जो इस कहानी के सामंती और रसूखदार खल पात्र हैं ऐसे पात्रों की संख्या दिनोंदिन ग्रामीण समाज में बढ़ती जा रही है । राजनीति में डलुआ जैसे लोग इन पात्रों के लिए टूल्स की तरह हैं जिनके माध्यम से कजरी जैसी भोली भाली स्त्रियों के शोषण के द्वार खुलते हैं । शोषण के रास्ते कजरी से होकर सत्तू जैसी भोली भाली लड़कियों तक भी पहुंच चुके हैं । ये सामंती खल पात्र सत्तू जैसी छोटी-छोटी बच्चियों को भी नोचने में पीछे नहीं और जब कजरी जैसी स्त्रियां उसका प्रतिरोध करती हैं तो ये मिलकर संगठित षडयंत्र रचते हुए उन्हें ही कटघरे में ले आते हैं । अपराध तो वे ही करते हैं पर उनके द्वारा षड्यंत्र पूर्वक कजरी जैसी स्त्रियां ही हत्यारिन और डायन साबित कर दी जाती हैं । सामाजिक न्याय व्यवस्था भी उनके विरुद्ध खड़ी हो जाती है और डलवा जैसा पात्र जो कजरी का पति है वह भी इस क्रूर न्याय व्यवस्था के दबाव में न चाह कर भी कजरी को सजा देने के लिए अभिशप्त है ।उसकी आड़ में आज की सामाजिक व्यवस्था कजरी जैसी स्त्रियों का, न्याय के नाम पर लिंचिंग कर देती है ।डलुवा तो बस एक टूल्स है जिसे विधायक बनने का सिर्फ सपना दिखाया जाता है और उस सपने के माध्यम से राजनीति अपना हवस मिटाती है। आज समाज का वह हिस्सा जो दमित है, शोषित है , उसे सपने दिखाने का काम आज की राजनीति कर रही है और उसके मायाजाल में दमित वर्ग अपना अस्तित्व खो रहा है । कहानी में जिस तरह डलुवा अपनी पत्नी कजरी और बेटी सत्तू को खो देता है वह आज की राजनीतिक व्यवस्था में एक भयावह दृश्य है जो इस कहानी में दिखाई पड़ता है। सीमा शर्मा की ज्यादातर कहानियाँ लोक जीवन का ही प्रतिनिधित्व करती हैं, इसका उदाहरण दुनियां इनदिनों में प्रकाशित उनकी कहानी "तीन का पहाड़ा और गटर" है जिसमें एक दलित युवक की दारूण कथा को जगह मिली है, जो मैला ढोने के अपने परम्परागत काम से बाहर निकल कर पढ़ना लिखना चाहता है पर उसके आसपास की दुनियां और उसके आसपास मौजूद उच्च वर्ग का नजरिया सर्वथा इसके प्रतिकूल है | उनकी अन्य कहानियाँ भेड़ियों का पोषम्मा( कथादेश) चरित्र प्रमाण पत्र(कथाक्रम जनवरी-मार्च 2020),रोशनी (इन्द्रप्रस्थ भारती), चिलगोजे का तेल(परिकथा )इत्यादि यद्यपि स्त्री विमर्श की कहानियाँ हैं पर इनमें से ज्यादातर कहानियों में ग्रामीण लोक जीवन की उपस्थिति भी समानांतर रूप में शिद्दत से विद्यमान है |

 

वर्तमान दशक के महत्वपूर्ण युवा कथाकार मनीष वैद्य के अब तक दो कहानी संग्रह टुकड़े टुकड़े धूप और फुगाटी का जूता प्रकाशित हो चुके हैं | उनकी कई कहानियों में ग्रामीण लोक जीवन की गूँज सुनाई पड़ती है | ग्रामीण जीवन में आए बदलाव के दर्द को प्रेम की स्मृतियों के माध्यम से अपनी कहानी 'खिरनी' में बड़ी तरलता के साथ जिस तरह वे प्रस्तुत करते हैं वह पाठकों को द्रवित करता है | ग्राम्य जीवन और विगत के प्रति आस्था का भाव जिस तरह इस कहानी के सुन्दर संवादों में जीवंत होकर आता है वह हमें बांध लेता है |

 

28 वर्ष उम्र की डॉ.परिधि शर्मा की कहानियाँ.. उम्मीद ( परिकथा नवलेखन 2012 ),एक साधारण आदमी की मौत (समावर्तन फरवरी 2012 ) तोहफा (वागर्थ मार्च 2010) नीला आसमान (समावर्तन अक्टूबर 2011) इत्यादि में आम आदमी का दुःख दर्द शिद्दत से मौजूद है | यद्यपि उन्होंने भी कुछ कहानियाँ मसलन "एक छूटती मेट्रो एक तस्वीर एक लड़की" (परिकथा मार्च अप्रेल 2014) वजूद ( भास्कर रसरंग 20 सितंबर 2009) महिला विमर्श जैसे बिषयों को लेकर लिखी हैं, फिर भी उनकी कहानियों ने उस दायरे को दूर तक लांघा है | समावर्तन में प्रकाशित 'नीला आसमान' कहानी की बात करें तो यह कहानी निपट शहरीकरण की चपेट में आए एक संवेदनशील ग्रामीण मनुष्य के आत्मरूदन की कहानी है जो अपने गाँव को, गाँव में छूट गए अपने परिवार को याद करते-करते अपना जीवन शहर में गुजारता है  | जीवन-स्मृतियों के विविध रंगों के जरिये मार्मिक रूप में अपनी पूरी संवेदना और बचपन की वास्तविकताओं से गुम्फित घटनाओं के माध्यम से यह कहानी उस आत्मरूदन को जिस तरह बयाँ करती है, वह ध्यातब्य है | शहरीकरण और उद्योगों के चलते ग्रामीण किसानों की जीवन-स्थितियों में आ रही गिरावट की ओर भी यह कहानी हल्के से संकेत करती हुई आगे बढ़ती है | इस कहानी में रिश्तों को पुनः पुनः टटोलने और उसे बचा लेने की एक मार्मिक अपील भी भीतर ही भीतर प्रतिध्वनित होती है|

 

इसी क्रम में युवा कथा लेखिका श्रद्धा थवाईत की कहानी "हवा में फड़फड़ाती चिट्ठी", की बात करें तो यह कहानी अभय और सरू जैसे नवदम्पतियों की ऎसी दुनियां से हमें जोड़ती है जो बनते-बनते अचानक कहीं खो जाती है | अभय और सरू की इस दुनियां में , उड़ान भरती आकांक्षाएँ , रोमानियत और निजी भावनाओं का एक शोर तो है पर यह शोर थोड़ा सुरीला है | ऎसी दुनियाएं कई बार इस धरती पर ऊग आए नक्सलवाद और गोली बारूद के आतंक की अतिवादिता से नष्ट होती रही हैं | नक्सल मोर्चे पर गए सैनिक अभय के शहीद हो जाने के उपरान्त अवशेष में बची उन जैसे युवाओं की लिखी चिट्ठियाँ सरू जैसी उनकी नवविवाहित पत्नियों के हाथों में बस फड़फड़ाती ही रह जाती हैं | उनके सारे सपने , सारी आकांक्षाएं अचानक ध्वस्त हो जाती हैं ।यह कहानी प्रेम की धरती पर जन्मती है और अतिवादी हिंसा से उपजे उन सवालों के साथ खत्म होती है जिसके उत्तर खोजे जाने अभी शेष हैं | प्रेम के माध्यम से नक्सलवादी हिंसा की विभीषिका को सामने रखती यह कहानी वर्तमान में ग्रामीण लोक जीवन से जुड़ी एक विकराल समस्या को सामने रखती है जो छत्तीसगढ़ के बस्तर इलाके एवं उसके चारों तरफ पसरा हुआ है | नया ज्ञानोदय कहानी विशेषांक अगस्त 2019 में प्रकाशित श्रद्धा की कहानी 'बसेरा' छत्तीसगढ़ के बस्तर के ग्रामीण क्षेत्रों में हाथियों की समस्या से जूझ रहे आदिवासियों की भीषण समस्या को पूरे मर्म और संवेदना के साथ प्रस्तुत करते हुए पाठकों को लोक जीवन के करीब ले जाती है|

 

सिनीवाली शर्मा उन युवा महिला कथाकारों में से हैं जिनकी सभी कहानियाँ ग्रामीण पृष्ठभूमि पर ही बुनी गयी हैं | गाँव के लोक जीवन में महिलाओं से जुड़ी समस्याओं के अलावा वे अन्य ज्वलंत बिषयों को इस तरह उठाते हैं कि लोक जीवन की त्रासदियाँ फिल्म के दृश्यों की तरह चलने लगती हैं | परिकथा नवलेखन अंक में प्रकाशित उनकी कहानी 'हंस अकेला रोया' विपिन नामक एक ऐसे किसान की कहानी है जिसके शिक्षक पिता की लम्बी बीमारी उपरान्त मृत्यु हो चुकी है | लोगों की नजर में बाहर से संपन्न दिखता विपिन का यह परिवार पिता की लम्बी बीमारी के चलते आर्थिक परेशानी में आ चुका है पर पिता के क्रिया कर्म में कर्मकांडी लोग उनका भावनात्मक शोषण करके उन्हें इस तरह लूटने पर आमादा हैं कि विपिन की हालत उस हंस की तरह हो गयी है जो अकेले रोने को अभिशप्त है | समाज के असल चरित्र को उजागर करती यह कहानी पाठकों के सामने एक बड़ा सवाल उठाती है | सिनीवाली की 'उस पार' 'महादान' एवं 'नियति' जैसी कहानियाँ यद्यपि महिला विमर्श पर केन्द्रित हैं पर उन्होंने कहानी के कंटेंट के दायरों को व्यापक ही किया है |

 

शेखर मल्लिक वर्तमान दशक में युवतम पीढ़ी के प्रतिभा संपन्न कथाकार हैं | उनके दो कहानी संग्रह और एक उपन्यास प्रकाशित हो चुके हैं| लोक जीवन उनकी कहानियों में सघनता के साथ आता है | परिकथा (मार्च अप्रेल 2011 युवा कहानी-3) में प्रकाशित उनकी कहानी डायनमारी पढ़कर इस बात से पूरी तरह आश्वस्त हुआ जा सकता है कि हिन्दी कहानी का असली मुकाम ग्रामीण लोक जीवन की कथा गाथा के बिना आज भी अधूरा है |डीह (गाँव) के संथाली लोक जीवन की सामाजिक बुराईयों को उघाड़ती यह कथा वहां की सामन्ती पुरूष प्रधान समाज व्यवस्था पर न केवल चोंट करती है बल्कि महिलाओं की दारूण स्थिति का भी चित्रण करती है | मोगा जैसे शराबी और अकर्मण्य पुरूष की पत्नी गुनिया की चिंता यह है कि किसी तरह बारिश के मौसम में खेतों की जुताई हो जाय तो खेती से साल भर का खर्च निकल सके | वह कई बार पति मोगा से विनती भी करती है कि वह इस काम को करे, पर मोगा जैसा शराबी आदमी जिसे शराब में पैसे उड़ाने और नशे में धुत्त पड़े रहने से फुर्सत नहीं है वह भला ऐसा क्यों करे , इसलिए गुस्से में गुनिया को वह लातों से मारता है | अंततः अपने बच्चों के भूख की चिंता में डूबी उनकी माँ गुनिया एक दिन भोर होने से पहले बूढ़े बैल को लेकर खेतों में हल चलाती है और वहां के संथाली समाज की नजर में यह उसका सबसे बड़ा अपराध हो जाता है, कि उसने औरत होकर खेतों में हल चलाया जो कि उस समाज में पूरी तरह वर्जित है | डीह में यह कहकर उसकी प्रताड़ना का दौर शुरू होता है कि औरत के हल चलाने से देवी माँ अप्रसन्न हो जाएगी और पूरा गाँव उसकी सजा भुगतेगा |वह सबकी नजर में डायन ठहरा दी जाती है | पूरा गाँव तमाशबीन हो जाता है | सजा के बतौर गुनिया को एक बैल के साथ हल में बांधकर खेंतों की जुताई होने लगती है | लोग उसे कोड़े मारते हैं | पेड़ से बाँध देते हैं | फिर मुर्गा भात के लिए मोगा को बुलाकर जुर्माना लगाया जाता है | प्रधान और बैगा जैसे पात्र इस कहानी में जिस तरह अत्यंत क्रूर पात्र की तरह उभरते हैं उसे देख पढ़ कर रोंगटे खड़े हो जाते हैं | डीह के ग्रामीण समाज का अंधविश्वास और उसकी काली सच्चाईयों को उभारती यह कहानी यह बताती है कि डायन होने का आरोप लगाकर औरत को किस तरह आज भी प्रताड़ित किया जाता है |

 

 

इसी क्रम में संदीप मील युवा पीढ़ी के उन गिने-चुने कथाकारों में से हैं जिन की कहानियां ग्रामीण परिवेश के रचाव में मुखर हैं और वहां की घटनाओं को अपने सही स्वरूप में सामने लाने की दिशा में एक संवाहक की भूमिका में खरी उतरती हैं । परिकथा में प्रकाशित उनकी एक कहानी "किश्तों की मौत' की चर्चा मैं यहाँ करना चाहूँगा | यह कहानी भी गांव के परिवेश पर बुनी गई है, पर यह ग्रामीण परिवेश बाजार और शहरीकरण के प्रभाव के चलते रिश्तों के धरातल पर एक भुरभुरी जमीन में तब्दील होता जा रहा है । उसी तब्दीली को संदीप अपनी इस कहानी में उठाते हैं । समाज में स्त्री के प्रति उपेक्षा का जो अमूर्तन भाव है, वह कितना भयावह है, उस भयावह अमूर्तन भाव को संदीप ने मूर्ति के बरक्स अपनी कहानी में दिखाने की जो कोशिश की है वह उल्लेखनीय है । मूर्ति जो मृत्यु का प्रतीक है ,और अपनी ही मृत्यु के इस प्रतीक को देख देख कर मृत्यु की प्रतीक्षा करना सचमुच बहुत पीड़ादायक है।

"इनसान खुद नहीं मरता, दूसरे लोग मार देते हैं।"

दरअसल ये दूसरे लोग कौन हैं? क्या यह दूसरा, उचित नामक पात्र है जो दृश्य को अपनी आंखों से देख रहा है और देख कर उसे तकलीफ हो रही है | जाकर रुकमा को वह छू भी रहा है और छूते ही वह गिर कर मर जा रही है । या ये दूसरे लोग उस रुकमा के बेटे हैं जो किस्तों में उसे जीते जी मार रहे हैं, पर उनकी नजर में आरोपी वह उचित है जो संवेदना की धरती पर अब भी काबिज है ।

दरअसल " इन दूसरे लोगों" की यह पहचान ही अमूर्तन है और उस अमूर्तन को यह कहानी रचती है । पर अब भी वह अमूर्तन न्याय की नजर से कभी देखी नहीं जाती वह भी ऐसे समाज में जो आस्था रूपी अमूर्तन पर विश्वास करता है और उस अमूर्तन को कई बार न्याय की नजर से भी देखे जाने की कोशिश हुई है । यह कहानी ग्रामीण समाज में व्याप्त कुछ ऐसी ही बुराइयों , चालबाजियों पर सवाल उठाती है |

 

 

ग्रामीण लोकजीवन को अपनी कहानियों में रचकर जिन युवा कहानीकारों ने प्रेमचन्द युगीन कहानी आन्दोलन को ईक्कीसवीं सदी के वर्तमान दशक में भी गति दी है, उनमें सत्यनारायण पटेल एक अग्रणी नाम है | उनके दो कहानी संग्रह 'काफिर बिजूका उर्फ़ इब्लीस' और 'तीतर फांद' चर्चा में रहे हैं | उनका एक उपन्यास 'गाँव भीतर गाँव; भी ग्रामीण लोक जीवन पर बुना गया प्रभावी उपन्यास है |

सत्यनारायण की कहानियों में लोककथा के तत्व अपने सघन रूप में विद्यमान हैं  | लोकजीवन में आसपास के नदी, पहाड़, पशु, पक्षी भी शामिल हैं | नृशंस शहरीकरण से उपजे स्त्री-पुरुष की उत्तर आधुनिक समस्याओं को चिका और चिकी पक्षियों के माध्यम से काफ़िर बिजूका उर्फ़ इब्लीस संग्रह में संग्रहित कहानी "एक था चिका एक थी चिकी" में चित्रित किया गया है | कथा नायिका अपनी भगिनी और भतीजे को चिका और चिकी पक्षियों की कहानी सुनाती है और अंत में वह खुद चिकी पक्षी के एक जगह बंधक होकर रह  जाने के दर्द से अपने दर्द को जोडकर महसूस करा पाने में कामयाब हो जाती है | एक जगह बंद कमरे में औरत के बंधक हो जाने की यह व्यथा पाठकों तक बखूबी इसलिए भी संप्रेषित हुई है क्योंकि सत्यनारायण अपनी ठेठ देशज शब्दों और वाचिक शैली के प्रभाव उत्पादक तत्वों का बखूबी स्तेमाल कर पाने में कामयाब हुए हैं| आज विकास की अवधारणा को महानगरों में चमचमाती सड़कों ,पुल-पुलियों और वहां की चकाचौंध से ही अंतर्संबंधित कर दिया गया है , जबकि गाँव के गाँव आज भी सड़क, पुलिया ,बिजली जैसी बुनियादी आवश्कताओं से वंचित हैं | सत्यनारायण पटेल के इसी संग्रह में संग्रहित कहानी "घट्टी वाली माई की पुलिया" कहानी में घट्टी वाली माई इस अव्यवस्था के दंश को भोगी हुई वह लोक नायिका है जो बाढ़ के दिनों में नदी पर पुल न होने की वजह से अपने पति, जिसको सांप ने डस लिया है, को इलाज के लिए गाँव के बाहर नहीं ले जा सकती और उसे खो देती है | सत्ता के बहरेपन से उपजी बुनियादी आवश्यकताओं का अभाव लोकजीवन को कई बार त्रासद स्थितियों में पहुंचा देता है , किसी को खो देने जैसी यही त्रासदपूर्ण घटना कई बार घट्टी वाली माई जैसे लोकजीवन के पात्रों के भीतर प्रेम को नये रूप में सृजित कर देती है और यह प्रेम लोकजीवन की अपनी सांगठनिक ताकत बन जाती है जो उनसे खुद ब खुद ऐसा काम करवा लेती है जिसे सत्ता प्रतिष्ठान हमेशा उपेक्षित करते आए हैं | घट्टी वाली माई द्वारा निर्मित पुलिया लोकजीवन की उसी ताकत की मिशाल है जो सत्ता को कई बार आइना दिखाने का काम भी करती है जिसे सत्यनारायण अपनी कहानी में संजीदगी से रच पाने में कामयाब हुए हैं |

 

 

युवा पीढ़ी के कथाकारों में हुश्न तबस्सुम निहाँ भी वर्तमान दशक में एक उभरता हुआ नाम है जिनकी कहानियों में गाँव का लोक जीवन दृश्यमान है | उनके दो कहानी संग्रह 'नीले पंखों वाली लडकियां' और 'नर्गिस फिर नहीं आएगी' प्रकाशित हुए हैं | परिकथा जनवरी-फरवरी 2019 में प्रकाशित उनकी कहानी 'परीक्षा' ग्रामीण परिवेश से जुड़ी नय्या नामक उस लड़की की कहानी है जिसे किशोरावस्था में मासिक धर्म की अनभिज्ञता के कारण गलतफहमियों के चलते विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है | वह हिजड़ी के रूप में स्कूली जीवन से ही गाँव में नाहक ही बदनाम हो जाती है और स्कूल जाना छोड़ देती है | उसका ब्याह तय होता है फिर बाद में उसके ससुराल वाले उसके हिजड़ी होने की खबर सुनकर आपत्ति उठाते हैं | फिर किसी तरह उसके मासिक धर्म की परीक्षा उसके ससुराल से आये महिलाओं द्वारा की जाती है | इस परीक्षा में तो वह पास हो जाती है पर यह परीक्षा उसके लिए यातना से कम नहीं होती | ग्रामीण समाज में इस तरह की भ्रांतियां , अफवाहें आज भी विद्यमान हैं जिसे इस कहानी में चित्रित किया गया है |

 

दिब्या विजय , नीरज वर्मा , प्रज्ञा रोहिणी , सरिता कुमारी, इंदिरा दांगी, अमिता नीरव और भूमिका द्विवेदी अश्क  भी वर्तमान दशक के प्रतिभा संपन्न युवा कथाकार हैं | उनकी कहानियों में यद्यपि ग्रामीण जनजीवन के चित्र सघन रूप में दृश्यमान नहीं हैं पर उसके बावजूद इनमें से ज्यादातर रचनाकारों की कहानियों में आम जनजीवन से जुड़े सर्वहारा पात्रों की उपस्थिति हमें आश्वस्त करती है | लोक जीवन किसी न किसी रूप में इनकी कहानियों में आता है | नीरज वर्मा की कहानी पत्थर , प्रज्ञा रोहिणी की कहानी 'फ्रेम' और  'सीताओं की देहरी' में लोक जीवन से जुड़े पात्रों का दर्द हम महसूस कर सकते हैं |

 

दिव्या विजय की एक कहानी 'यारेगार' जो नया ज्ञानोदय के कहानी विशेषांक अगस्त 2019 में आयी थी| यह कहानी पूरी तरह लोकजीवन पर केन्द्रित है | एक बर्बर शासन के साए में लोग भयग्रस्त होकर जीने को अभिशप्त हैं | जहां बच्चों के पतंग उड़ाने जैसी बालसुलभ गतिविधियों पर भी पूरी तरह बंदिश है और पकड़े जाने पर मृत्यु तक की सजा मुक़र्रर है |

 

युवा लेखिका सरिता कुमारी की कहानियाँ भी आम जनजीवन से रची-पगी हैं | नया ज्ञानोदय कहानी विशेषांक अगस्त 2019 में प्रकाशित उनकी एक कहानी 'ज़मीर' की चर्चा मैं यहाँ करना चाहूँगा| यह कहानी आरिफ नामक एक ऐसे पात्र पर बुनी गयी है जो राजस्थान के रेगिस्तानी टूरिस्ट इलाकों में पर्यटकों को ऊंट की सवारी कराता है | कम पढ़ा लिखा यह आरिफ अपने व्यवहार और बातचीत से हंसमुख और पढ़ा लिखा लगता है| उसे जीवन का वह व्यवहारिक अनुभव हासिल है जो आमतौर पर स्कूल या महाविद्यालयों से प्राप्त नहीं हो पाता| वह अपने जीवन में सीमित संसाधनों के बावजूद संतुष्ट है क्योंकि उसे इस बात का इल्म है कि व्यक्ति कितना भी धन अर्जित कर ले उसे जीवन में हर समय संशाधनों की कमी महसूस होती है | इसे लेकर उसका नजरिया इतना स्पष्ट है कि वह अपने टूरिस्ट से अलग से बख्शीश नहीं माँगता न ही देने पर कभी लेता है | उसका जमीर इस बात के लिए गवाही नहीं देता कि वह ऐसा गलत कदम उठाए | अंत में जब उसके दो महिला टूरिस्ट उसकी बच्ची के बर्थ डे के नाम पर बख्शीश में एक हजार रूपये यह जानते हुए भी कि वह नहीं लेगा , आग्रह पूर्वक खुश होकर उसे देने का प्रयास करते हैं तो वह बड़ी विनम्रता से यह कहकर टाल देता है कि अगर आपको देना ही है तो कल घर आकर उसी के हाथों में दीजिए | वह ऐसा इसलिए कहता है क्योंकि बातचीत के दौरान उसे पता रहता है कि ये महिला टूरिस्ट कल तक यहाँ रूकेंगी नहीं| आरिफ इस कहानी का इतना कल्चर्ड पात्र है कि वह अपने टूरिस्टों का दिल दुखाना भी नहीं चाहता, इसलिए चालाकी से वह उनसे पूछता है... " मेडम क्या आपके पास टॉफियाँ होंगी ?" टूरिस्ट जब  ख़ुशी खुशी टॉफियाँ निकालती हैं तो उनमें से यह कहकर वह एक टॉफी रख लेता है कि यह उसकी बेटी के लिए बर्थ डे गिफ्ट है |उसके इस व्यवहार से महिला टूरिस्ट चकित होकर रह जाती हैं और वे अपने स्वयं के जीवन की कमियों की ओर झाँकने से भी नहीं बच पातीं |

 

ईक्कीसवीं सदी के वर्तमान दशक में उभरे इन युवा कथाकारों की कहानियों पर चर्चा उपरान्त यह बात आश्वस्त होकर कही जा सकती है कि कहानी धीरे धीरे फिर से गाँवों की ओर , लोकजीवन की ओर लौट रही है और कहानी का इतिहास अपने को दोहराने की शुरूवात कर चुका है |

 

----------------------------------------------------------------------------------------------------------

92 श्रीकुंज , बोईरदादर, रायगढ़ (छत्तीसगढ़) पिन-496001

मो. 9752685148

email : rameshbaba.2010@gmail.com  

 

 

 

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च