सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गजेन्द्र रावत की कहानी फंगस




गजेन्द्र रावत लम्बे समय से कहानियाँ लिख रहे हैं । उनकी कहानियों में जीवन से जुड़ी वो छोटी-छोटी बातें अचानक दृश्यमान हो उठती हैं जिनमें मनुष्य की भीतरी दुनियां की परतें उधड़कर सामने आती हैं । ऐसा लगता है जैसे मनुष्य देखते-देखते भीतर से नंगा हो उठा है । पद प्रतिष्ठा के सहारे ही जीवन की नैय्या को पार लगाने वाला आदमी पद के जाते ही किस तरह भीतर से कुंठित होकर मृत हो जाता है इस कहानी में गजेन्द्र उसे शिद्दत से उठाते हैं । रिटायर होने के बाद भी आई.ए.एस. जैसे ओहदे से मिली बुरी आदतें आदमी का पीछा नहीं छोड़तीं और इन्हीं बुरी आदतों के चलते उसकी कुंठा उसे भीतर से गलाने लगती है जैसे उसकी समूची मनुष्यता पर फफूंद चढ़ गयी हो । गजेन्द्र जी की कई कहानियों को पढ़ने के बाद लगा कि उनकी कहानियों पर सघन रूप में बातचीत होनी चाहिए । गजेन्द्र जी का अनुग्रह के इस मंच पर स्वागत है । 

उनकी आंखों पर भारी-मोटा चश्मा था। चश्में के बाहर से दोनों आँखें काँच की छोटी-छोटी डिब्बियों में बंद पानी के बुलबुले-सी कांपती प्रतीत होती थी। जरूर उन्हें किसी  की भी आकृति धुंधली, टिमटिमाती-सी दिखाई देती होगी ?बस अनुमान भर हो पाता होगा सामने वाले की शख्सियत और नैन-नक्श का !.........मगर वे ध्वनि, रंग और जिस्म की गंध से आँकते होंगे रूप-सौंदर्य,नजाकत और अदाओं की बारीकियों को।.....पर उन्हें तब गजब की समझ हासिल हो जाती जब किसी हसीना के गोरे मरमरी हाथों को छू लेने का मौका लग जाता।

       एक खासियत थी उनमें, उनका निचला होंठ अक्सर कुछ यूं अनियंत्रित हो जाता कि बंद अवस्था में भी भीतर का तरल दोनों कोनो से बहकर ठुड्डी तक पहुँच जाता। इसीलिए वे हर वक्त एक मुट्ठी में टिशू पेपर दबाए रहते और जब देखो होठों के कोने रगड़-रगड़ कर साफ करते रहते।
      हाँ, एक और बात, उनकी आवाज में अजीब-सी लड़खड़ाहट थी और उसे छिपाने का एक कारगर तरीका भी उन्होंने इजात कर लिया था। वे बोलते वक्त वाक्य के तीन-चार टुकड़े कर देते और फिर बड़े ही सधे हुए अंदाज़ में दंभ के साथ दोहराते, मैं,मैं ......... कैबिनेट सेक्रेटरी........हूँ ........रिटायर्ड़ ! ’’ वे नजरों को सामने वाले के चेहरे पर फोकस करते हुए फिर बोलते, वी॰ आई॰......... पी॰ वार्ड में ........दाखिल हूँ। ’’ फिर पलभर चुप रहते लेकिन सुनने वाले कि प्रतिक्रिया से पहले ही कह देते,“ मैं एम....के.....श्रीवास्तव .........तुम मिथलेश कहो ! ’’
     कोई भी होता उनकी तरफ देखता और सोचता, ......बुजुर्ग है........बेचारा ! .......वी॰ आई॰ पी॰ वार्ड में है .......नाम कैसे लें ! ......बहुत सोच-विचार कर मि॰ मिथलेश कह पाता या मौका पाकर इधर-उधर हो जाता।   
      आज दोपहर के खाने के बाद एक-डेढ़ बजे ही मि॰ मिथिलेश सो गये थे। अभी घंटे भर ही सोये होंगे कि कैजुल्टी से रोने-पिटने कि डरावनी आवाजों ने उनकी नींद खोल दी। मुंह से निकली सप-सप कि अजीब ध्वनि के साथ उन्होंने बड़े ही बेशऊर ढंग से हथेली को कसकर होंटों पर रगड़ दिया। इस प्रक्रिया में उनका हाथ चिपचिपे तरल से सन गया। उनकी ठुड्डी अभी भी करवट सोते हुए रिसे थूक से गीली थी। अचानक नींद खुलने से उनकी धड़कने तेजी से चल रही थी। नींद कि खुमारी के बाबजूद विस्मय भरी उनकी आँखों की पुतलियाँ कमरे में हर तरफ घूम रही थी और दोनों हाथ होंट, ठुड्डी और जबड़ों पर चल रहे थे। दरअसल वे कमरे के बाहर से उठती चिखों से सहम गये थे। थोड़ी देर तक बेचैनी बनी रही फिर कहीं जाकर तेज चलती साँसे सामान्य हो पाई। कुछ देर बाद वे उल्टा हाथ बढ़ाकर चश्मा आँखों पर रखते हुए बड़बड़ाए, ये स्साला.... कौन....रो रहा ...है ?” हाथ का सहारा लेकर ऊंचे खिसक कर बैठ गये, तकिये के नीचे हाथ डालकर मोबाएल में टाइम देखते हुए फुसफुसाए, पौने तीन .... इतना.... पर.... वो....होगी ! कहीं भी जाने का मन नहीं था पर न जाने कौन सा अदृश्य दबाव चैन नहीं लेने दे रहा था। बेचेनी बरबस हूक-सी उठ रही थी और यहाँ से निकालने के लिये उकसा रही थी। आखिर रहा नहीं गया। उन्होंने माधव को पुकारा, वो नहीं आया। देर तक घंटी बजाई फिर कहीं जाकर वो आया और दरवाजे पर खड़ा होकर बोला, हूँ ....
      माधव यूं तो सेक्युर्टी गार्ड था, अस्पताल के आफ़िसरों ने उसे मि॰ मिथिलेश वी॰ आई॰ पी॰ मरीज के लिए रख छोड़ा था। वही उनके सभी काम देखा करता था। नर्सस रूम से तो कभी-कभी कोई बुखार, ब्लड-प्रैशर देखने आ जाता था।  
      चलना है.......! मि॰ मिथिलेश बोले।
      कहाँ चलना है ?” खीजकर माधव बोला।
      किचन.......में !
      कुछ काम है क्या ?.......वहाँ तो छुट्टी हो चुकी होगी।
      नहीं......अभी तो......तीन.... वे धीमे से बोले।
      कोने में पड़ी व्हीलचेयर को खींच कर बैड से सटा कर माधव सोचने लगा……. बुड्ढा छोटी-छोटी लड़कियों से मिलने की कोशिश करता है .......स्साला.......ठरकी !
      मि॰ मिथलेश को बैठाकर बड़े ही बेमन से माधव व्हीलचेयर को धकेलने लगा। केजुयल्टी के सामने अभी भी रोने-चिल्लाने का शोर बना हुआ था। आगे पहुँच कर व्हीलचेयर और माधव की चप्पलों की ध्वनि एक लय के साथ आती रही। वे दोनों चुप थे। इस चुप्पी का फायदा उठाते हुए मि॰ मिथलेश किचन में हुई पिछली मुलाक़ात की याद में खो गए...........शीशे के बने कमरे से शैफाली बाहर आई थी। उजली सफ़ेद पोशाक में, मानों परी हो ! गंभीर लेकिन मृदुल आवाज़ में वो बोली थी, अरे, अरे आगे कहाँ जा रहे हो .........आगे किचन है !’’
      माधव ने वहील चेयर रोक दी थी।
      मि॰ मिथलेश टिशू पेपर से होंठ साफ करते हुए बोले थे, मैं वी॰ आई॰ पी॰........ वार्ड में........हूँ। ’’
     वो तल्ख होकर बोली थी, वी॰ आई॰ पी॰ .........?’’
     हाँ, मैं वी॰ आई॰ पी॰ ....... पेशेंट हूँ .....’’ मि॰ मिथलेश ने अपनी आँखें उसके गोरे चेहरे पर स्थिर कर दी थी।
        पर, आगे कहाँ जा रहे हो ? ’’
        मैं दरअसल ........आप ही से ....... ’’
        क्या बात है ? ’’
        मैं देखना चाहता था जो किचिन चला रही है ........इतना उम्दा खाना .........  वो कैसी ........होगी ? ’’ उन्होंने महीन शब्दजाल बुनना शुरू कर दिया था ।
        मैं, मैं ..... ’’
        अरे यह क्या ? तुम्हारे हाथ में ये ओडिनरी सा मोबाइल ? ......ये .....तुम पर ......शोभा नहीं देता । ’’
        बड़ी हैरानी से शैफाली उन्हें देखती रही ।
        मि॰ मिथलेश जेब से मोबाइल निकालते हुए बोले, ये देखो ........ सैमसंग .......यहाँ आओ .......मैं रिटायर्ड़ कैबिनेट सेक्रेटरी ......हूँ ...क्या नाम है ....तुम्हारा ? ’’
        शैफाली के गालों पर लाली तैर गई थी। उसने सिर झुका लिया कुछ देर चुप रहने के बाद धीमे से बोली थी, शैफाली ! ’’
        ब्यूटीफुल ! .....मेरी भतीजी का......नाम....भी...... शैफाली है ! ’’

        ........तभी एक खटके के साथ वहील चेयर रुक गई। माधव का तल्ख संवाद सुनाई दिया, लो आ गई किचिन ! ’’
       इतने भर से यादों का सिलसिला टूट गया।
       सामने काँच का पारदर्शी कमरा था एकदम खाली ! एक नाउम्मीदी-सी उनके चेहरे पर फैल गई। चश्मे के भीतर आँखों में कंपन शुरू हो गया।
      माधव वहील चेयर से हटकर दीवार के सहारे खड़ा था। ........ यहाँ तो कोई नहीं है ! ’’ वो रूखा-सा बड़बड़ाया, मैंने तो पहले ही कहा था .......’’
      देख अंदर ......कमरे में होगा कोई ? .......जा ....भीतर जा ! ’’
      ...... ये खपती मानने वाला नहीं है .......माधव ने सोचा और धीरे से कदम उठाया लेकिन फिर झिझककर रुक गया।
     अबे, जा न......
     माधव थोड़ा और आगे बढ़ा और फिर खड़ा हो गया, कहना क्या है ?”
     बस, तू.....बाहर ......बुला ले !
     माधव भीतर चला गया। 
     मि॰ मिथलेश व्हीलचेयर पर बैठे-बैठे होंठों पर चमक रहे तरल को साफ करने लगे।
........भीतर है शायद ! उन्होंने सोचा।
     थोड़ी ही देर में माधव बाहर आ गया और वहील चेयर के साथ खड़ा होकर धीमे से बोला, बिजी है, काम कर रही है .....’’
       बस, दो मिनट .......बोल जा ! ’’ मि॰ मिथलेश की आवाज में थिरकन स्पष्ट महसूस हो रही थी।
      मैडम, काम कर रही हैं .......मैं, मैं ...... ’’ माधव का सिर न में हिलता रहा।
      दो मिनट .....’’ उन्होंने उँगलियों से दो का इशारा भी किया।
      पैर पटकता हुआ माधव काँच के कमरे से जुड़े कमरे के भीतर चला गया।थोड़ी ही देर में माधव फिर चुप-चाप आकर बाहर दीवार के सहारे खड़ा हो गया। मि॰ मिथलेश इस से पहले कुछ सवाल करते सामने से शैफाली को आता देख चुप हो गए।
     मैं थोड़ी बिज़ी हूँ .....’’ शैफाली बाहर पहुँचकर बोली। उसने हल्का गुलाबी सूट पहना हुआ था जिसके रिफ्लेकशन से उसका रंग भी गुलाबी हुआ जा रहा था।
    मि॰ मिथलेश हैरान रह गए। क्षणभर के लिए वे सब भूल गए। बस सम्मोहित से उसे देखते रह गए। फिर कुछ संभलकर बोले, अब भी कुछ कर रही हो ? ’’
    पिछले दिसंबर में मेरी सात दिन की सेलेरी कट गई थी ....बस उसे ही रिलीज़ करवाने के लिए एप्लिकेशन लिख रही थी ......’’ शैफाली के हाथ में अभी भी पेन था और चेहरे पर उठकर आने की झुंझलाहट शेष थी।
    बस ....इतनी सी ..... बात ! ......कौन ....करेगा .....रिलीज़ ......? ’’
    अकाउंट ऑफिस से लगेगी ! ’’ 
    तो तुम्हारा ... काम ....हुआ समझो ....... ’’
    वो कैसे ? ’’ शैफाली विस्मित-सी वहील चेयर में बैठे मि॰ मिथलेश का चेहरा देखने लगी।
    अरे तुम्हारा, एम॰ एस॰ ........मेरा काम ........मना नहीं .....कर सकता ...... मैं ........ कैबिनेट सेक्रेटरी ...... सेवनटी वन के बैच का .....आई॰ ए॰ एस॰ हूँ। ......मैं कह दूंगा ..... बस ..... काफी है ......फिकर मत ....करो ....हमने देश चलाया है .....ये तो एक मामूली बात है। ’’
    एप्लिकेशन ? ’’
    हाँ .....दे दो......मुझे..... मैं अकाउंट ऑफिस में मिल लूँगा ’’ कुछ देर मि॰ मिथलेश उसके चेहरे की तरफ देखते रहे फिर दोबारा बोले, अब तो थोड़ी देर बात कर लो .......तुम ....अपना हाथ दिखा रही थी न ?.....मैंने कीरो ..... को पढ़ा है .......’’
    नहीं, नहीं अभी तो बिल्कुल टाइम नहीं है ! .......सिस्टर डेनिसन का फोन आया था .......कैब आ गई होगी, क्या टाइम हुआ होगा ? ’’ शैफाली चारों ओर देखती हुई बोली।
    .....अभी ....तो ....’’ मि॰ मिथलेश हकलाते हुए बस इतना ही बोल पाए। 
    अचानक ही सामने की सीढ़ियाँ उतरते हुए सिस्टर डेनिसन उनके पास तक आ पहुंची और बोली, क्यों शैफी आज चलना नहीं है ......? ’’
    नहीं सिस्टर .......चलो चलो ! ’’ शैफाली भीतर बैग लेने चली गई।
    सिस्टर ने माधव को दीवार से सटे देखा तो बोली, तू यहाँ क्या कर रहा है ? ’’
    सिस्टर इनको लाया हूँ .......’’
    सिस्टर मैं ....वी॰ आई॰ पी॰ ...पेशेंट हूँ ....’’ मि॰ मिथलेश धीरे-धीरे दोहराने लगे थे पर जैसे ही शैफाली कंधे पर बैग टाँगे आई तो सिस्टर डेनिसन बाहर जाने वाले कॉरीडोर में तेजी से बिना कुछ सुने आगे बढ़ गई।
    किचिन से उठती रोटियाँ सिकने की खुशबू कॉरीडोर के अंत तक उनका पीछा करती रही।
    मि॰ मिथलेश ने टिशू पेपर से होठों को साफ किया। उनके चेहरे पर निराशा फैल गई। कुछ देर वे बिना हिले-डुले सिर झुकाकर बैठे रहे। थोड़ी देर में माधव चुपचाप वहील चेयर को धकेलता हुआ वी॰ आई॰ पी॰ रूम की तरफ चल दिया।

    इधर, कैब में बैठते ही सिस्टर डेनिसन बोली, वहील चेयर पर कौन था ? ’’
    वो ! .....यहाँ दाखिल है। ’’
    हाँ, मैं जानती हूँ पर तुम्हारे यहाँ क्यों आया था ? ’’ सिस्टर डेनिसन का स्वर सख्त था।
    बस ऐसे ही .....
    नहीं, नहीं शैफी तुम नहीं जानती पहले हम एक फ़ीमेल स्टाफ इसके पास भेजते थे उसने हमें बताया कि बहुत ऊट-पटांग बोलता है, बात-बात पर हाथ पकड़ लेता है ..... फिर जाके ये सिक्यूरिटी गार्ड को इसकी देख-रेख पर लगाया है। .....ये तो बहुत ही ..... सिस्टर डेनिसन कैब में ही धीरे-धीरे उसके कान में बोले जा रही थी।
    शैफाली हैरान-सी उनकी तरफ देखते हुए बोली, ....पर कहता तो बेटी-बेटी है !
   यही वो स्टाफ कह रही थी कि पहले तो बेटी-बेटी करता है.....ठीक नहीं है बुड्ढा ! सिस्टर बोली।
    वे दोनों गंभीर और चुप हो गई। बाकी सवारियाँ थोड़ी देर तक उनकी तरफ देखती रही फिर अपने में व्यस्त हो गई। अब कैब सड़क पर तेजी से दौड़ रही थी।

    मि॰ मिथलेश की अजीब सनक के कारण माधव को दोपहर में उन्हें वहील चेयर पर अगले तीन दिन तक लगातार किचिन तक लाना पड़ा। तीनों ही दिन शैफी बाहर नहीं आई। हर बार वहील चेयर लौटा लानी पड़ी।
    मि॰ मिथलेश के लिए यह घटनाक्रम बेहद हैरानी और आक्रोश पैदा करने वाला था। उन्हें बहुत ठेस पहुंची। ......वी॰ आई॰ पी॰ ......के ....साथ .....ये सुलूक ! ....एक अदनी-सी .....डाएटीशियन ......ये हिम्मत ! ढेरों ऐसी बातें मि॰ मिथलेश के दिमाग में कौंधने लगी। उन्होंने निश्चय किया ....मैं भी छोडूंगा नहीं .....नौकरी करना .....सिखा....दूंगा ....तू अभी ......ब्यूरोक्रेट की ...पावर नहीं ...जानती ....तूने किससे ....पंगा .......लिया है ?
      उसी शाम मि॰ मिथलेश बड़े ही उद्दिग्न बेड पर बैठे थे। हवा में ठंडक थी लिहाजा कंबल ओढ़ लिया था। वहीं माधव भी बेड से सटे पेशेंट लॉकर को साफ कर रहा था। फलों के छिलके, कागज और गंदी स्ट्रौ उसने एक पोलीथिन में इकट्ठे कर लिए, लॉकर की सतह पर उसने पुराना अखबार बिछा दिया और उसपर कोका-कोला की बोतल, काँच के दो गिलास और चश्में का कवर करीने से रख दिया।
      कमरे के बाहर खाने की ट्रॉली की आवाज़ सुनकर मि॰ मिथलेश का ध्यान बंटा, वे माधव की तरफ घूमते हुए बोले, जा देख .....क्या है ...आज ?”
      लॉकर के पास से माधव ने गिलास, कटोरी और प्लेट ली और बेड की परिक्रमा करता हुआ कमरे के बाहर चला गया। थोड़ी देर में लौटा तो उसके हाथ में प्लेट पर रखा एक उबला अंडा, कटोरी भर सब्जी, तीन चपाती और एक सेब था। उसने प्लेट पेशेंट लॉकर के ऊपर रख दी।
     ये क्या है ?” मि॰ मिथलेश थोड़ा-सा आश्चर्य चकित होकर सेब को अपने हाथ में उठाते हुए बोले।
     सेब और क्या ! माधव इस अप्रत्याशित प्रश्न से खीजकर बोला।
     मि॰ मिथलेश थोड़ी देर सेब को उँगलियों में फंसा कर अपने चहरे के सामने घुमाते रहे फिर मुस्करा कर बोले, ताज़ा सेब !.....इसे लो ....नीचे लॉकर में रख दो ।’’
      नीचे ! फल है खा लीजिये । माधव चकित-सा उनकी तरफ देखता रहा।
      हाँ, हाँ.....नीचे रख दो .....बंद कर दो... उनकी आवाज में झल्लाहट थी।
      माधव ने मुंह बनाकर सेब को लॉकर के भीतर लुड़का दिया और गुस्से से ढक्कन बंद कर दिया।

      चार दिन बाद सर्जरी के डॉक्टर उनकी रिपोर्ट्स देखकर बोल गये कि कल दोपहर बाद डिस्चार्ज ले लेना, अभी शुगर बढ़ी हुई है खैर कंट्रोल हो जाएगी तो नई रिपोर्ट के साथ हफ्ते भर बाद दिखा देना। जब से डॉक्टर ने डिस्चार्ज के लिए कहा था तभी से मि॰ मिथलेश को हड़बड़ी लग गई भई, माधव.....सब बांध ले......नीचे, ऊपर .....देख कुछ रह न जाय।.....हाँ, नीचे लॉकर ....में सेब रखा था न,....निकाल तो उसे।
      क्या ?” माधव के मुंह से निकला और यह कहते-कहते वो बेड के पास ही बैठ गया। वो भूल चुका था। वो लॉकर के भीतर रखे सेब को बाहर ले आया, ओ हो ! ये तो सड़ रहा है !
      हाँ दिखा, दिखा ?” मिथलेश बोला।
        माधव ने सेब उनके हाथ में दे दिया। वे फिर उस बासी सेब को उँगलियों पर घुमाते-घुमाते बोले, ये ठीक है.....एक तरफ फंगस दूसरी तरफ पिलपिला।’’
       नीचे बैठे माधव ने संदिग्ध होकर उसकी तरफ देखा तो उसके मुंह से हैं ’’ की ध्वनि बाहर आई, आँखों में एक आश्चर्य उभर आया।
      कल एम॰ एस॰ के पास चलेंगे......ठीक है ! मद्धम-सी आवाज़ में मि॰ मिथलेश बोले, इसे अंदर ही रख दे।’’
      फैंक दूँ , सड़ गया है ........
     नहीं, नहीं भई......काम का है किचन से आया है न।’’
     माधव ने सेब लॉकर के भीतर लुढ़का दिया और बड़बड़ाया ! भला ये किस काम का ?”.........फिर किचन से आया है......पर सोचने लगा।
     अगले दिन वहील चेयर पर बैठ कर वे माधव से बोले, चल भई एम॰ एस॰ ऑफिस।’’
     माधव वहील चेयर धकेलता कमरे के बाहर आ गया तो मि॰ मिथलेश बोले, रुक रुक......लॉकर में रखा सेब तो ले आ.......
     सेब ! अब ?......” वो भीतर चला गया। थोड़ी देर में एक छोटा-सा लिफाफा हाथ में ले आया और बिना कुछ कहे व्हीलचेयर को धकेलने लगा।
    सुपरिटेंडेंट के कमरे में पूर्व केबिनेट सेक्रेटरी ने बड़ी शालीनता से कहना शुरू किया, सुपरिटेंडेंट साहब, आपका अस्पताल बहुत अच्छा है,…… सभी डिपार्टमेन्ट एवन हैं....सिर्फ किचिन को छोड़कर......
      क्यों सेक्रेटरी साहब, क्या हो गया है किचन को ?”
      एक बात बताइये.... क्या फंगस लगा फल.... किसी भी मरीज...... के लिए फायदेमंद हो सकता है ?.....वो भी मेरे जैसे... बूढ़े मरीज के लिए.... जिसका शुगर.... इतना हाई रहता हो..... बड़े ही तयशुदा ढंग से मि॰ मिथलेश ने कहा।
     ये क्या फरमा रहे हैं आप ?” आश्चर्यजनक तरीके से सुपरिन्टेंडेंट ने कहा।
     कल शाम किचन से.....मेरे लिए फंगस लगा....एक सेब भेजा गया....वो मैंने आपको दिखाने..... के लिए रखा है।’’
     कहाँ है दिखाओ.....मैं सस्पेंड करूंगा जो भी जिम्मेदार होगा.....’’ एम॰ एस॰ बोला।
    मि॰ मिथलेश ने बाहर आवाज़ दी, माधव,……वो सेब एम॰ एस॰ साहब को.... दिखाना जरा।......वो वही लड़की है डॉक्टर साहब ......क्या नाम था उसका......शैफाली !’’
     माधव भीतर आया और लिफाफे से सेब निकालकर सुपरिन्टेंडेंट साहब के हाथ में देकर बाहर चला गया।
     सुपरिन्टेंडेंट ने उंगलियों पर सेब को घुमाया और हँसते हुए कहा, सेक्रेटरी साहब आप को बड़ी गलतफहमी हुई है ये तो ताज़ा सेब है......कम से कम डेढ़ सौ रुपए किलो का सेब है......लीजिये खाइये इसे......
     ताज़ा ! दिखाना ! मि॰ मिथलेश ने सेब अपने हाथों में लिया तो दंग रह गए, सेब एकदम ताज़ा था, उन्होंने पुकारा, माधव ! ’’
     माधव भीतर नहीं आया।
     सेब मि॰ मिथलेश के हाथ में था, आश्चर्य, झेंप और खीज उनके चेहरे पर। वे किंकर्तव्यविमूढ़ होकर आँखों की पुतलियाँ इधर-उधर घुमाने लगे। हड़बड़ी में होठों से बहते तरल को टिशू पेपर से रगड़ने लगे और फिर  वहील चेयर को  स्वयं हाथ से  घुमाते हुए बाहर की तरफ निकलते-निकलते मुंह ही मुंह में बड़बड़ाए, स्साले...... छोटे लोग !
  
     सुपरिन्टेंडेंट बड़ी हैरानी से व्हीलचेयर को बाहर जाता देखता रहा।

परिचय 
----------------
गजेन्द्र रावत
जन्म 25 अक्टूबर 1958 (उत्तराखंड)
विज्ञान स्नातक
प्रकाशन (तीन कहानी संग्रह)
  1. बारिश ठंड और वह
  2. धुआँ-धुआँ तथा अन्य कहानियाँ
  3. लकीर
हिन्दी की सभी साहित्यिक पत्रिकाओं में निरंतर कहानियों का प्रकाशन
पुरस्कार – कथादेश अखिल भारतीय लघुकथा पुरस्कार 2009॰
संप्रति  स्वतन्त्र लेखन
संपर्क डब्ल्यू ॰ पी॰ 33 सी, पीतम पुरा, दिल्ली-110034
मो॰ 09971017136 


                                      

                   

टिप्पणियाँ

इन्हें भी पढ़ते चलें...

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन /छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया

समर कैंप के प्रथम दिवस स्वामी आत्मानंद शा. चक्रधर नगर स्कूल में बैंकिंग साक्षरता पर हुआ आयोजन/ छात्र-छात्राओं को ग्रामीण बैंक चक्रधर नगर का भ्रमण करवाया गया रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर केम्प का आयोजन 20 मई को प्रारम्भ हुआ। विद्यालय प्रबंधन की ओर से प्रथम दिवस बैंकिंग साक्षरता पर कार्यक्रम रखा गया था। विद्यालय प्राचार्य के आग्रह पर आयोजन के प्रथम दिवस स्टेट बैंक के सेवा निवृत अधिकारी प्रमोद शराफ एवं स्टेट बैंक के वित्तीय साक्षरता काउंसलर राजकुमार शर्मा उपस्थित हुए।बैंकिंग साक्षरता को लेकर बुनियादी जानकारियों के साथ दोनों ही अधिकारियों ने बच्चों से सार्थक संवाद किया। उन्होंने विस्तारपूर्वक बैंक से जुड़े कार्यों की सिलसिलेवार जानकारी दी। बैंक में किस तरह पैसे जमा किये जाते हैं, किस तरह पैसे निकाले जाते हैं, किस तरह इनके फॉर्म भरे जाते हैं, कितनी प्रकार की खाताएं बैंक में खोली जा सकती हैं , बैंक के लेनदेन में किस तरह की सावधानियां रखनी चाहिए,  इन सारी बातों पर अधिकारियों की ओर से बहुत महत्वपूर्ण संवाद स्थापित किये गए । छात्र-छात्राओं से ज

कौन हैं ओमा द अक और इनदिनों क्यों चर्चा में हैं।

आज अनुग्रह के पाठकों से हम ऐसे शख्स का परिचय कराने जा रहे हैं जो इन दिनों देश के बुद्धिजीवियों के बीच खासा चर्चे में हैं। आखिर उनकी चर्चा क्यों हो रही है इसको जानने के लिए इस आलेख को पढ़ा जाना जरूरी है। किताब: महंगी कविता, कीमत पच्चीस हजार रूपये  आध्यात्मिक विचारक ओमा द अक् का जन्म भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में हुआ। महिलाओं सा चेहरा और महिलाओं जैसी आवाज के कारण इनको सुनते हुए या देखते हुए भ्रम होता है जबकि वे एक पुरुष संत हैं । ये शुरू से ही क्रान्तिकारी विचारधारा के रहे हैं । अपने बचपन से ही शास्त्रों और पुराणों का अध्ययन प्रारम्भ करने वाले ओमा द अक विज्ञान और ज्योतिष में भी गहन रुचि रखते हैं। इन्हें पारम्परिक शिक्षा पद्धति (स्कूली शिक्षा) में कभी भी रुचि नहीं रही ।  इन्होंने बी. ए. प्रथम वर्ष उत्तीर्ण करने के पश्चात ही पढ़ाई छोड़ दी किन्तु उनका पढ़ना-लिखना कभी नहीं छूटा। वे हज़ारों कविताएँ, सैकड़ों लेख, कुछ कहानियाँ और नाटक भी लिख चुके हैं। हिन्दी और उर्दू में  उनकी लिखी अनेक रचनाएँ  हैं जिनमें से कुछ एक देश-विदेश की कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। ओमा द अक ने

समर केम्प में चक्रधरनगर स्कूल के बच्चों ने संगीत और गायकी का लिया आनंद / प्रसिद्ध युवा बांसुरी वादक विकास तिवारी ने दी अपनी प्रस्तुति

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 27 मई को बांसुरी वादक विकास कुमार तिवारी ने अपनी प्रस्तुति दी।  संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथि विकास कुमार तिवारी का परिचय कराया साथ ही उन्हें संबोधन एवं अपनी सांगीतिक प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया। शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े प्रधान पाठक विकास कुमार तिवारी ने शिक्षा एवं संगीत के क्षेत्र में अपने अनुभवों को साझा किया । संगीत जैसी कला की बारीकियों का जीवन में क्या महत्व है इस पर उन्होनें कुछ बातें रखीं। उन्होंने बांसुरी वादन की कुछ बेहतरीन प्रस्तुतियां  दीं जिसका बच्चों ने आनंद उठाया। कुछ बच्चों ने समर केम्प पर फीडबैक भी दिया। इस अवसर पर प्राचार्य राजेश डेनियल ने बच्चों एवं स्टॉफ को संबोधित करते हुए कहा कि यह सत्र हमारे लिए उपलब्धियों भरा रहा। न केवल विद्यालय में अच्छे परीक्षा परिणाम आए बल्कि अन्य गतिविधियों में भी वर्षभर यहां के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। समर कैंप भी हमारे लिए एक उपलब्धियों भरा यादगार आयोजन है जिसमें अनेक प्रकार की गतिव

युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल एवं हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन सर ने बच्चों को किया संबोधित। समर केम्प के बच्चों को दोनों ने दिए जीवन में आगे बढ़ने के टिप्स

रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप में हैंडराइटिंग स्पेशलिस्ट जीआर देवांगन एवं युवा मोटिवेशनल स्पीकर प्रतिची पटेल का आगमन हुआ।  प्रतिची पटेल का सम्बोधन सर्वप्रथम विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ़ ने दोनों अतिथियों का परिचय विद्यालय के छात्र-छात्राओं से करवाया। इस अवसर पर जीआर देवांगन ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि छात्रों की हैंड राइटिंग अगर सुंदर हो तो उन्हें परीक्षाओं में इसका लाभ मिलता है। मूल्यांकन कर्ता इससे प्रभावित होते हैं । जी आर देवांगन हैंड राइटिंग स्पेशलिस्ट हैंडराइटिंग से बच्चों के व्यक्तित्व का पता चलता है । इस दिशा में थोड़ी सी मेहनत से बच्चे अपना हैंडराइटिंग सुधार सकते हैं। हां यह जरूर है कि इसके लिए उन्हें सतत अभ्यास और मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। उन्हें कर्सिव राइटिंग को लेकर बच्चों को बहुत से उपयोगी टिप्स भी दिए और सवाल जवाब के माध्यम से बच्चों ने बहुत सी बातें उनसे सीखीं। आयोजन में पधारे दूसरे अतिथि वक्ता युवा मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में ख्यात, हाल ही में सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम उत्तीर्ण प्रतिची

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके /शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन

पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के बताए तरीके शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर में समर कैंप के तहत किया गया प्रायोगिक प्रदर्शन रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में पुलिस एवं अग्निशमन विभाग के अधिकारियों ने आग पर काबू पाने के विभिन्न तरीकों का  बच्चों के समक्ष प्रायोगिक प्रदर्शन किया। संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ ने सर्वप्रथम समस्त अधिकारियों का स्कूली बच्चों से परिचय करवाया।   अग्निशमन सेवा से जुड़े अधिकारी खलखो सर ने इस अवसर पर सिलिंडर में आग लग जाने की स्थिति में किस तरह अपना बचाव किया जाए और आग लगने से आस पड़ोस को कैसे बचाए रखें , इस संबंध में बहुत ही अच्छे तरीके से जानकारी दी और अग्निशमन से जुड़े विभिन्न यंत्रों का उपयोग करने की विधि भी  उन्होंने बताई। उनके साथी जावेद सिंह एवं अन्य अधिकारियों ने भी उनका सहयोग किया। बच्चों ने स्वयं डेमोंसट्रेशन करके भी आग पर काबू पाने की विधियों का उपयोग किया। दैनिक जीवन में काम आने वाली ये जानकारियां बहुत ही सारगर्भित रहीं। इस डेमोंसट्रेशन को स्टॉफ के सभी सदस्

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा /स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया

समर केम्प का दूसरा दिन 'तारे जमीं पर' फिल्म के प्रदर्शन और व्यावसायिक कैंपस के भ्रमण पर केंद्रित रहा स्वामी आत्मानंद शा. उच्चतर मा. विद्यालय चक्रधर नगर के छात्रों ने अपना अनुभव साझा किया रायगढ़ । स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के द्वितीय दिवस का आयोजन हुआ। सर्वप्रथम संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार शराफ द्वारा बच्चों को संबोधित किया गया। उन्होंने शिक्षाप्रद फिल्मों को लेकर बच्चों को बहुत सारी जानकारियां प्रदान कीं। उसके बाद शिक्षक स्टाफ राजा राम सरल और के पी देवांगन के तकनीकी सहयोग से प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को बड़े पर्दे पर 'तारे जमीं पर' नामक फिल्म दिखाई गई। यह फिल्म मूलतः बच्चों के मनोविज्ञान पर केंद्रित है । इस फिल्म का बच्चों ने खूब आनंद लिया। इस फिल्म को लेकर शालेय परिवार की शिक्षिकाओं नायर मेडम, वसुंधरा पांडेय मेडम, भगत मेडम, कनक मेडम एवम शारदा प्रधान ने बच्चों से बातचीत की एवं उनके विचार भी जानने का प्रयास किया। इस अवसर पर बच्चों की ओर से कीर्ति यादव,कशिश डनसेना,बरखा तम्बोली,मुस्कान नामदेव ने फ़िल्म को ल

कथा कहानी के नाम रहा समर कैंप का आखिरी दिन /बच्चों ने केम्प के अनुभवों पर साझा किया अपना फीडबैक

रायगढ़।स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में 10 दिवसीय समर कैंप का आयोजन 30 मई को संपन्न हुआ।  पहला सत्र कहानी सुनने सुनाने और उस पर सवाल जवाब का सत्र था। पहले सत्र में व्याख्याता रमेश शर्मा द्वारा बच्चों के लिए लिखी गईं नौ में से चुनी हुईं अपनी तीन कहानियाँ मीठा जादूगर, गणित की दुनिया और नोटबुक, जिसे विशेष तौर पर स्कूल शिक्षा विभाग एससीईआरटी रायपुर द्वारा बच्चों के लिए ही  प्रकाशित किया गया है, पढ़कर सुनाई गईं। इन कहानियों को सुनाने के बाद उन्होंने बच्चों से कई सवाल जवाब किये जिनके उत्तर बच्चों की ओर से दिए गए। बच्चों के उत्तर सुनकर उपस्थित छात्र छात्राओं एवं शिक्षक शिक्षिकाओं को यह महसूस हुआ कि बच्चों ने इन कहानियों को कई डाइमेंशन से समझने की कोशिश की है और उसे अपने जीवन से जोड़कर भी देखने का प्रयास किया है। कहानी सुनाने और सुनने की इस प्रक्रिया में बच्चों ने यह स्वीकार किया कि कहानी कला संप्रेषण की एक सशक्त विधा है और  इसके माध्यम से बहुत सी बातें रोचक ढंग से सीखी जा सकती हैं। इस अवसर पर कहानी लिखने की कला पर भी बातचीत हुई। इसी क्रम में व्याख्याता रश्मि

डॉ मनीष बेरीवाल ने सीपीआर पर और पीएस खोडियार ने कला एवं जीवन कौशल के अन्तर्सम्बन्धों को लेकर बच्चों से अपनी बातें साझा करीं। चक्रधर नगर स्कूल के समर केम्प में उनके व्याख्यान हुए

चक्रधर नगर स्कूल के समर कैंप में बच्चों को डॉक्टर मनीष बेरीवाल एवं रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार ने संबोधित किया    रायगढ़। स्वामी आत्मानंद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चक्रधर नगर रायगढ़ में समर कैंप के तहत 24 मई को रिटायर्ड प्राचार्य पी.एस. खोडियार एवं डॉ मनीष बेरीवाल का अतिथि वक्ता के रूप में आगमन हुआ।कार्यक्रम के आरंभ में संस्था के प्रभारी प्राचार्य अनिल कुमार  शराफ ने छात्र-छात्राओं से आगन्तुक अतिथियों का परिचय कराया एवम उन्हें संबोधन हेतु आमंत्रित किया।पहले क्रम पर  खोडियार सर ने  ललित कला एवं जीवन कौशल को लेकर बच्चों को संबोधित किया। अच्छी शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ जीवन को किस तरह आसान और सुंदर बनाया जाए , इस राह में ललित कलाओं का क्या योगदान है,  जीवन जीना भी किस तरह एक कला है , समाज में कैसे अपने लिए हम एक सम्मानित स्थान बना सकते हैं, इन प्रश्नों को लेकर उन्होंने बहुत विस्तार पूर्वक अपने अनुभवों के माध्यम से महत्वपूर्ण बातें विद्यार्थियों के बीच साझा किया। दूसरे क्रम पर समर कैंप के अतिथि डॉ मनीष बेरीवाल ने बच्चों को संबोधित किया।उन्होंने सीपीआर के संबंध में विस्तार पूर्

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं

समकालीन कविता और युवा कवयित्री ममता जयंत की कविताएं दिल्ली निवासी ममता जयंत लंबे समय से कविताएं लिख रही हैं। उनकी कविताओं को पढ़ते हुए यह बात कही जा सकती है कि उनकी कविताओं में विचार अपनी जगह पहले बनाते हैं फिर कविता के लिए जरूरी विभिन्न कलाएं, जिनमें भाषा, बिम्ब और शिल्प शामिल हैं, धीरे-धीरे जगह तलाशती हुईं कविताओं के साथ जुड़ती जाती हैं। यह शायद इसलिए भी है कि वे पेशे से अध्यापिका हैं और बच्चों से रोज का उनका वैचारिक संवाद है। यह कहा जाए कि बच्चों की इस संगत में हर दिन जीवन के किसी न किसी कटु यथार्थ से वे टकराती हैं तो यह कोई अतिशयोक्ति भरा कथन नहीं है। जीवन के यथार्थ से यह टकराहट कई बार किसी कवि को भीतर से रूखा बनाकर भाषिक रूप में आक्रोशित भी कर सकता है । ममता जयंत की कविताओं में इस आक्रोश को जगह-जगह उभरते हुए महसूसा जा सकता है। यह बात ध्यातव्य है कि इस आक्रोश में एक तरलता और मुलायमियत है। इसमें कहीं हिंसा का भाव नहीं है बल्कि उद्दात्त मानवीय संवेदना के भाव की पीड़ा को यह आक्रोश सामने रखता है । नीचे कविता की कुछ पंक्तियों को देखिए, ये पंक्तियाँ उसी आक्रोश की संवाहक हैं - सोचना!  सोचना

अख़्तर आज़ाद की कहानी लकड़बग्घा और तरुण भटनागर की कहानी ज़ख्मेकुहन पर टिप्पणियाँ

जीवन में ऐसी परिस्थितियां भी आती होंगी कि जिसकी कल्पना नहीं की जा सकती। (हंस जुलाई 2023 अंक में अख्तर आजाद की कहानी लकड़बग्घा पढ़ने के बाद एक टिप्पणी) -------------------------------------- हंस जुलाई 2023 अंक में कहानी लकड़बग्घा पढ़कर एक बेचैनी सी महसूस होने लगी। लॉकडाउन में मजदूरों के हजारों किलोमीटर की त्रासदपूर्ण यात्रा की कहानियां फिर से तरोताजा हो गईं। दास्तान ए कमेटी के सामने जितने भी दर्द भरी कहानियां हैं, पीड़ित लोगों द्वारा सुनाई जा रही हैं। उन्हीं दर्द भरी कहानियों में से एक कहानी यहां दृश्यमान होती है। मजदूर,उसकी गर्भवती पत्नी,पाँच साल और दो साल के दो बच्चे और उन सबकी एक हजार किलोमीटर की पैदल यात्रा। कहानी की बुनावट इन्हीं पात्रों के इर्दगिर्द है। शुरुआत की उनकी यात्रा तो कुछ ठीक-ठाक चलती है। दोनों पति पत्नी एक एक बच्चे को अपनी पीठ पर लादे चल पड़ते हैं पर धीरे-धीरे परिस्थितियां इतनी भयावह होती जाती हैं कि गर्भवती पत्नी के लिए बच्चे का बोझ उठाकर आगे चलना बहुत कठिन हो जाता है। मजदूर अगर बड़े बच्चे का बोझ उठा भी ले तो उसकी पत्नी छोटे बच्चे का बोझ उठाकर चलने में पूरी तरह असमर्थ हो च